लाइफस्टाइल में ये बदलाव करके अपनी नसों की सेहत सुधारें

दिसम्बर 28, 2018
अपने कार्डियोवैस्कुलर स्वास्थ्य और सरकुलेशन को बेहतर बनाए रखने के लिए, जब भी हो सके, तो अपने पैरों को ऊपर उठायें। आप सोते समय तकिए का इस्तेमाल करके भी उन्हें ऊपर उठाये रख सकते हैं।

आपकी नसों की सेहत का अच्छा होना स्वस्थ जीवन की बुनियाद माना जाता है।

एक पल के लिए कल्पना करें, आपका सर्कुलेटरी सिस्टम बहुत ही मुश्किल अंदरूनी हाई-वे है जो अनगिनत नसों और धमनियों से बना है।

इस हाई-वे पर आपके जीवन के लिए ज़रूरी सभी तरह के पोषक तत्वों और ऑक्सीजन को लाया और ले जाया जाता है।

अगर कुछ गड़बड़ हो जाए, आपकी नसें सख्त हो जाएं या खून के जमने से आपके सर्कुलेशन में समस्या होने लगे, तो जिन्दगी खतरे में पड़ सकती है।

इन अंदरूनी “सड़कों” पर होने वाली सबसे आम समस्या पेरिफेरल वैस्क्युलर रोग की होती है।

आज हम आपको उन छोटी-छोटी खराबियों और रुकावटों के बारे में बताना चाहते हैं जो आपके दिल से दूर पाई जाने वाली नसों और धमनियों में हो सकती हैं।

उदाहरण के लिए, नसों की एक बहुत ही आम बीमारी वेरिकोस वेंस है, जिसको होने से रोकना और उसके इलाज़ के बारे में जानना बहुत ज़रूरी है।

हालाँकि अगर आप पहले से ही फ्लेबाइटिस या नसों से जुड़ी किसी दूसरी बीमारी का सामना कर रहे हैं, तो भविष्य में खून के थक्कों को बनने से रोकने के लिए किसी डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिये।

अगर आपके परिवार में वेरीकोस वेंस या स्पाइडर वेंस की जेनेटिक समस्या है, या आपको पहले से ही यह तकलीफ है तो अपनी नसों के स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए इन साधारण बातों का ध्यान रखना अच्छा होगा।

नसों की सेहत सुधारने के लिए आज ही शुरू करें

एक दिन में आप कितने घंटे खड़े रहते हैं? कभी-कभी ज्यादा काम की वजह से आपको कुर्सी पर देर तक बैठे रहना पड़ सकता है।

हालांकि, काम के समय के अलावा, दुनिया भर में कई चीज़े हैं जो आपके दिल को एक्टिवेट करती हैं।

एक सुस्त जिंदगी, आपके खाने की पसंद, गर्भावस्था और आपके जेनेटिक फैक्टर्स से यह पता लगाया जा सकता है कि आपको वेरीकोस वेंस की समस्या होगी या नहीं।

अच्छी बात यह है कि अगर कोशिश करें तो आप इन्हें होने से रोक सकते है या इनका बढ़ना रोक सकते हैं। आपको यह एहसास होना ज़रूरी है कि, कभी-कभी छोटे-छोटे बदलाव वास्तव में आपकी जिंदगी को बेहतर बना सकते हैं।

इन छोटी-छोटी बातों पर ध्यान दें

1. सुबह और सोने से पहले अपने पैरों को ठंडे पानी से धोएं

इसमें कोई शक नहीं कि आप ऐसा ही करते हैं: हर रोज़ सुबह और शाम नहाने की आदत बना लें, यह आदत आपके पैरों की सर्कुलेशन में सुधार करने और नसों की सेहत सुधारने का एक अच्छा ज़रिया बन सकती है।

इसे ठीक से करने के लिये, आपको चाहिए:

  • 5 से 6 सेकंड के लिए अपने पैरों को गुनगुने पानी में छोड़ दें।
  • फिर अगले 6 सेकंड पैरों को ठंडे पानी में रहने दें
  • दोनों पैरों पर ऐसा करें और इस हिस्से में सर्कुलेशन को तेज़ करने के लिए हमेशा इस पर ठंडे पानी की बौछार करके ख़त्म करें।

इसे भी पढ़ें: वेरीकोस वेंस से छुटकारा पाने के लिए आजमाएं ये 3 प्राकृतिक इलाज

2. नाश्ते में टमाटर का सूप

लाइफस्टाइल में ये बदलाव करके अपनी नसों की सेहत सुधारें: टमाटर का सूप

टमाटर के बीज में एंटीकोगलेंट गुण होते हैं जो आपके ब्लड फ्लो को सुधारते हैं। इसका पूरा फायदा उठाने के लिए आप दो चीजें कर सकते हैं:

  • कुछ मिनटों के लिए वेरीकोस वेंस या स्पाइडर वेंस वाली जगह पर टमाटर के पौधे की पत्तियों को लगायें।
  • जैसे ही पैरों में खुजली या जलन शुरू हो, पत्तों को हटा कर पैरों को ठंडे पानी से धो दें।
  • एक स्वादिष्ट खाने के साथ अपने दिन की शुरुआत करनी हो तो आपके लिए एक गिलास नेचुरल टोमैटो सूप से बेहतर कुछ नहीं हो सकता है।
  • यह न भूलें कि टमाटर में बहुत कम कैलोरी होती है, इसके साथ ही यह एक नेचुरल ड्यूरेटिक भी है जो मेटाबोलिज्म को बढाता है और फैट बर्न करने में मदद करता है।
  • नेचुरल टमाटर का सूप आपके शरीर से उन सभी ज़हरीले फ्लूड और टॉक्सिंन को ख़त्म करता है जिनकी वजह से शरीर में सूजन होती है और आप भारीपन और थकान महसूस करते हैं।

3. एलोवेरा और शहद की मदद से सर्कुलेशन को बढ़ाना और भारीपन को ख़त्म करना

नसों की सेहत सुधारें: एलोवेरा जूस

अपनी नसों की सेहत को बनाये रखने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप एलोवेरा और शहद से बने प्राकृतिक नुस्खे का रोजाना इस्तेमाल करें।

यह कॉम्बिनेशन आपके वेरीकोस वेंस में होने वाली सूजन को कम करेगा।

इसके आलावा, अगर आप रोजाना इसे लेते हैं तो यह आपके भारीपन और सूजन को दूर करने के लिए आपके ब्लड फ्लो में सुधार करेगा।

जरूरी चीजें

  • 1 चम्मच शहद (25 ग्राम)
  • 1 चम्मच एलोवेरा जैल (15 ग्राम)
  • 1 कप पानी (200 मिलीलीटर)

तैयार करने की विधि

  • आपको बस पानी को गरम करके उसमें एलोवेरा जेल और शहद मिलाना है।
  • इसे अच्छी तरह मिलाएं और हर रोज़ खाने के बाद इसे पियें।

इसे भी पढ़ें: वेरीकोस वेंस (Varicose Veins) के लिए 5 वैकल्पिक ट्रीटमेंट

4. अपने पैरों को ऊँचा करके सोयें

आप जानते हैं, नसों की सेहत की देखभाल करने के लिए घूमना-फिरना और सुस्त लाइफस्टाइल को छोड़ना बहुत ज़रूरी है।

वेरीकोस वेंस में सुधार करने का दूसरा तरीका यह हैं कि जितना हो सके पैरों को ऊँचा करके बैठें।

  • नीचे बैठना पैरों को आराम देने का अच्छा तरीका है।
  • दूसरा तरीका यह है कि आप अपने पैरों को तकिये पर रख कर सोयें। आपको बस अपने पैरों को अपने सिर से 6 इंच ऊँचा करके सोना है।

5. फाइबर से भरपूर खाने को “हाँ” कहें

लाइफस्टाइल में ये बदलाव करके अपनी नसों की सेहत सुधारें: चिया सीड्स

अपने शरीर और पैरों में सर्कुलेशन को बढ़ाने के लिए आपको अपनी डाइट में कुछ बदलाव करने की ज़रूरत है।

  • नसों की सेहत को अच्छा रखने के लिए फल, सब्जियां, और फाइबर से भरपूर चीज़ें खाना ज़रूरी है।
  • एक और ज़रूरी बात न भूलें: कम फ्लूइड रखने के लिए नमक कम से कम खाएं।

हमारी सलाह है, आज से ही नीचे बताई गई चीज़ों को खाने में शामिल करना शुरू कर दें:

  • बीज (चिया, सूरजमुखी)
  • अनाज (ओट्स, बकवीट्स, राई की ब्रेड)
  • होल वीट पास्ता
  • सब्जियां (अस्पारागस, स्क्वैश, चकुंदर, आटे का चोकर, ब्रॉकली)
  • दालें
  • सूखे मेवे (अखरोट, पिस्ता)
  • फल (सेब, पपीता, अनानास, स्ट्राबेरी)

आखिर में, अगर आपको पहले से ही फलेबाइटिस या ज्यादा सूजन वाली वेरीकोस वेंस का सामना कर रहे हैं, तो इसका इलाज केवल ऑपरेशन ही है। लेकिन स्थिति कैसी भी हो ऊपर बताए गई टिप्स से आपको मदद मिल सकती हैं

इनका इस्तेमाल करें और नसों की सेहत में सुधार का लुफ्त उठायें।

  • C. Sales. The Importance of Elevating Your Legs. (2013).

veininstitutenj.com/the-importance-of-elevating-your-legs/

  • Erkkilä AT, Lichtenstein AH. Fiber and cardiovascular disease risk: how strong is the evidence?. (2006).
  • Willcox JK, Catignani GL, Lazarus S. Tomatoes and cardiovascular health. (2003).