कोल्ड शॉक रिस्पांस के कारण और लक्षण

कोल्ड शॉक रिस्पांस गर्मियों में होने वाली एक विशिष्ट प्रक्रिया है। यह हल्की असुविधा का कारण बन सकता है, यहाँ तक कि मृत्यु भी हो सकती है।
कोल्ड शॉक रिस्पांस के कारण और लक्षण

आखिरी अपडेट: 06 अप्रैल, 2021

कोल्ड शॉक रिस्पांस एक कार्डियो-रेस्पिरेटरी रिएक्शन है जो पाचन तंत्र और मस्तिष्क से जुड़ा है। इस आर्टिकल में बताएँगे कि ऐसा क्यों होता है।

यह स्थिति अक्सर पाचन प्रक्रिया से जुड़ी होती है, हालांकि इसका मुख्य कारण मस्तिष्क में तरल की कमी है। दरअसल यह इमर्सन रिफ्लेक्स (immersion reflex) का एक परिणाम है, जो शरीर और उस पानी के तापमान में फर्क के कारण होता है जिसमें व्यक्ति घुसता है।

यह प्रक्रिया गर्मियों में बार-बार होती है और जब आप पानी में जाते हैं तो तापमान के अचानक बदलाव से सीधे जुड़ी होती है। गर्मी और धूप के कारण शरीर के तापमान को लिमिट में रखने के लिए ब्लड वेसेल्स एक खास मेकेनिज़्म में फैलते हैं।

वैसोडायलेशन (Vasodilation) शरीर की गर्मी को कम कर देता है और पसीने से तापमान को नॉर्मल रेंज में रखता है। इस तरह अगर आप ऐसे ठन्डे पानी में घुसते हैं जिसका तापमान आपके शरीर से बहुत कम है, तो अचानक होने वाला वैसोकन्स्ट्रिक्शन (vasoconstriction) कोल्ड शॉक रिस्पांस की ओर ले जाता है।

पाचन तंत्र का चित्रण।
कोल्ड शॉक रिस्पांस अक्सर मस्तिष्क में ब्लड फ्लो में कमी के कारण होती है।

कोल्ड शॉक रिस्पांस का सटीक कारण क्या है?

पाचन प्रक्रिया के दौरान भोजन क्रमाकुंचन मूवमेंट आंदोलनों (peristaltic movements) के जरिये गैस्ट्रिक जूस से मिल जाता है। इस प्रक्रिया के लिए बड़ी मात्रा में ब्लड सप्लाई की जरूरत होती है। इस प्रकार यह खून के प्रवाह के दोबारा डिस्ट्रीब्यूशन पर मजबूर करता है और पाचन प्रक्रिया को अनुकूल बनाता है

ध्यान दें कि पाचन प्रक्रिया हाइड्रोक्युशन की उपस्थिति में सबसे महत्वपूर्ण तत्व नहीं है, बल्कि “इमर्सन रिफ्लेक्स (immersion reflex)” है।

हीट स्ट्रोक ठंड के सदमे की प्रतिक्रिया का एक कारण है।

इमर्सन रिफ्लेक्स (immersion reflex)

इमर्सन रिफ्लेक्स तब होता है जब शरीर, विशेष रूप से सिर पानी में घुस जाता है। यह शरीर और पानी के तापमान में अंतर और अचानक होने वाले इमर्सन पर निर्भर करता है।

यह आमतौर पर होता है क्योंकि ब्लड वेसेल्स के कांट्रेक्शन द्वारा हृदय की दर में कमी होती है और खून का पुनर्वितरण होता है, विशेषकर त्वचा में। बदले में यह मस्तिष्क में खून और ऑक्सीजन की पर्याप्त सप्लाई सुनिश्चित करने और शरीर के तापमान में अचानक बदलाव से बचने के लिए होता है

इमर्सन रिफ्लेक्स बच्चों में काफी स्पष्ट है। साथ ही जो लोग विशेष रूप से संवेदनशील होते हैं उन्हें चक्कर आते हैं। इसके अलावा यह साइनोकोप (syncope) से कार्डियक अरेस्ट की ओर जा सकता है और यहां तक कि अचानक मौत भी हो सकती है।

हमारा शरीर मस्तिष्क में खून और ऑक्सीजन की सप्लाई का मैनेजमेंट करता है और इस तरह दूसरे अंगों और टिशू में सप्लाई कम हो जाती है। कार्डिएक अरेस्ट तब हो सकता है और अचानक मृत्यु या डूबने की ओर जाता है जब हृदय में खून और ऑक्सीजन की सप्लाई में अचानक महत्वपूर्ण कमी होती है।

इसे भी पढ़ें : लेरिन्जाइटिस के कारण और इसके लक्षण

कोल्ड शॉक रिस्पांस और पाचन प्रक्रिया

पाचन ऐसी प्रक्रिया है जो भोजन को छोटे, सुपाच्य अणुओं में तोड़ती है। ये अणु पहले पोषक तत्वों के अवशोषण के लिए छोटी आंत में जाते हैं।

पाचन के पूरा होने में लगने वाला समय लोगों में अलग-अलग होता है। उदाहरण के लिए:

  • फैट की ऊँची मात्रा वाले भोजन को पचने में वक्त ज्यादा लगता है
  • सब्जियों, फलों और सरल कार्बोहाइड्रेट का सेवन इस प्रक्रिया को तेज करता है

जिस समय हमारा भोजन पेट में रहता है, ब्लड सर्कुलेशन के पुनर्वितरण का कारण बनता है और यह कुछ मिनटों से लेकर कई घंटों तक हो सकता है। यह उनींदापन की अनुभूति के लिए जिम्मेदार है जिसे हम कभी-कभी खाने के बाद अनुभव करते हैं । इसका कारण मस्तिष्क तक पहुंचने वाली ऑक्सीजन की मात्रा में कमी है।

हम कह सकते हैं कि कोल्ड शॉक रिस्पांस तब होता है जब किसी व्यक्ति ने पाचन की प्रक्रिया पूरी नहीं की है और किसी पूल में गोता लगाने लगता है जहां तापमान उनके शरीर से काफी अलग हो। यह इमर्सन रिफ्लेक्स कार्डियक अरेस्ट से होने वाली हल्की परेशानी से लेकर मौत तक की स्थिति पैदा कर सकता है।

कोल्ड शॉक रिस्पांस के लक्षण

  • कान में घंटी बजना
  • धुंधली दृष्टि
  • ठंड लगना
  • जी मिचलाना
  • उल्टी
  • होश खो देना
चक्करदार व्यक्ति का दृष्टिकोण।

रोकथाम के उपाय

  • पानी में उतरने से पहले पाचन में लगने वाले वक्त का सम्मान करें। ध्यान दें कि यह वक्त भोजन की मात्रा और बनावट पर निर्भर करता है
  • ऐसी तेज फिजिकल एक्टिविटी से बचें जो आपके शरीर के तापमान को बढ़ाती है। यह मुख्य रूप से इसे यथासंभव पानी के तापमान के करीब रखेगा।
  • अचानक गोते लगाने से बचें। थोड़े से पानी से अपने हाथों, कंधों, चेहरे, गर्दन और पेट को गीला करने की कोशिश करें। यह आपके शरीर के तापमान को उस में डाइव मारने से पहले उसके बराबर लाकर बैलन्स करने में मदद करेगा।
  • किसी भी तेज फिजिकल ऐक्टिविटी के बाद कोल्ड ड्रिंक्स पीने से बचें क्योंकि इससे हाइड्रोकार्बन हो सकता है।

कोल्ड शॉक रिस्पांस का इलाज

सीपीआर का एक चित्रण।
हाइड्रोकार्बन के गंभीर मामलों में पुनर्जीवन युद्धाभ्यास आवश्यक हो सकता है।

हमेशा की तरह जब कोल्ड शॉक रिस्पांस होता है, तो जानकारी और रोकथाम महत्वपूर्ण है। इस प्रकार आपको उपरोक्त सभी जोखिम वाले फैक्टर से बचना चाहिए।

यदि कोल्ड शॉक रिस्पांस पहले से ही हो रहा है तो व्यक्ति को पानी से बाहर निकालें और अपने शरीर के नार्मल तापमान को वापस लाने की कोशिश करने के लिए उन्हें सुखाएं। अगर साइनोकोप और कार्डियक अरेस्ट होने के मामले में हेल्थ सर्विस पहुँचने तक CPR करें।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
फ्लू शरीर पर कैसे असर डालता है
स्वास्थ्य की ओर
इसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
फ्लू शरीर पर कैसे असर डालता है

इन्फ्लुएंजा एक वायरल बीमारी है जो मौसमी भी है। कई लोग जो इससे पहले भी पीड़ित हो चुके हैं, जानते हैं कि फ्लू शरीर पर कैसे असर डालता है।



  • Boland M. Human digestion–a processing perspective. J Sci Food Agric. 2016 May;96(7):2275-83. doi: 10.1002/jsfa.7601. Epub 2016 Feb 5. PMID: 26711173.
  • Shattock MJ, Tipton MJ. ‘Autonomic conflict’: a different way to die during cold water immersion? J Physiol. 2012 Jul 15;590(14):3219-30. doi: 10.1113/jphysiol.2012.229864. Epub 2012 Apr 30. PMID: 22547634; PMCID: PMC3459038.
  • Giezenaar C, Lange K, Hausken T, Jones KL, Horowitz M, Chapman I, Soenen S. Acute Effects of Substitution, and Addition, of Carbohydrates and Fat to Protein on Gastric Emptying, Blood Glucose, Gut Hormones, Appetite, and Energy Intake. Nutrients. 2018 Oct 7;10(10):1451. doi: 10.3390/nu10101451. PMID: 30301241; PMCID: PMC6213197.