वेरीकोस वेंस की समस्या से छुटकारा दिलाएंगे ये नेचुरल ट्रीटमेंट

जुलाई 25, 2018
वेरीकोस वेंस टांगों में सबसे ज्यादा होने वाली समस्याओं में एक है। आज हम आपको बता रहे हैं वेरकोज वेंस की समस्या से निपटने के लिए कुछ कारगर टॉपिकल और ओरल ट्रीटमेंट। स्वस्थ जीवनशैली अपनाकर आप इस समस्या से निस्संदेह छुटाकार पा सकते हैं।

वेरीकोस वेंस यानी सूजी हुई नसें कई लोगों को न केवल दिखने में खराब लगती हैं, बल्कि ये ख़राब रक्त संचार का भी संकेत हैं। हमें इनका जल्द से जल्द उपचार करवाना चाहिए ताकि आगे चलकर बड़ी स्वास्थ्य समस्याएं न खड़ी हो जाएं।

आज हम इस पोस्ट में ऐसे कारगर प्राकृतिक टॉपिकल और ओरल ट्रीटमेंट बताएंगे जो बिना साइड इफेक्ट के वेरीकोस वेंस की समस्या से छुटकारा दिलाएंगे। टॉपिकल ट्रीटमेंट वे होते हैं जिनमें किसी चीज़ का बाहर से इस्तेमाल किया जाता है, वहीं ओरल ट्रीटमेंट में खाने वाली चीज़ें शामिल होती हैं।

वेरीकोस वेंस क्यों दिखाई देती हैं?

वेरीकोस वेंस के लक्षण दिखने का कारण हृदय की ओर रक्त की वापसी (वेनस रिटर्न) में जटिलताएं पैदा होना है।

रक्त उस तरह प्रवाहित नहीं होता जैसे कि इसे होना चाहिए और यह रक्त वाहिकाओं की दीवारों पर जमा हो जाता है। इस कारण नसें फूल जाती हैं और वेरीकोस वेंस की समस्या नज़र आने लगती है।

शरीर में ये आम तौर पर टांगों में अधिक नज़र आती हैं क्योंकि ग्रेविटी के कारण यहां स्थिति और बदतर हो जाती है। इससे हृदय तक रक्त प्रवाह में जटिलताएं पैदा हो जाती हैं।

वेरीकोस वेंस की समस्या भी कई तरह की होती हैं। शुरुआत में नसें मोटी नज़र नहीं आती हैं और ये मकड़ी के जाल जैसी दिखती हैं। कुछ समय बीतने के बाद अगर उपचार नहीं किया जाता है तो नसों का रंग गहरा जाता है और ये फूल और फैल जाती हैं।

जोख़िम कारक

नीचे दिए गए कारणों से वेरीकोस वेंस की समस्या होने का जोख़िम बढ़ जाता हैः

  • अत्यधिक वजन
  • कब्ज़
  • गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन
  • एक जगह बैठकर काम करना
  • तंग कपड़े और हाई हील्स पहनना
  • मौसम
  • हार्मोन की गड़बड़ी
  • गर्भवती होना
  • जेनेटिक कारण

इसे भी पढ़ें:

वेरीकोस वेंस का इलाज करने का लाजवाब तरीका: एलोवेरा, गाजर और एप्पल साइडर विनेगर

टॉपिकल ट्रीटमेंट

एसेंशियल ऑयल

एसेंशियल ऑयल का इस्तेमाल करने से आश्चर्यजनक नतीजे हासिल होते हैं क्योंकि इनमें हम अलग-अलग कॉस्मेटिक उत्पादों के गुणों को समाहित कर सकते हैं।

उदाहरण के लिए, हम लेग एक्सफोलिएंट्स (मृत त्वचा हटाने वाले पदार्थ), शरीर में पानी की मात्रा बढ़ाने वाली हाइड्रेटिंग क्रीम और पौधों से प्राप्त तेलों को साथ में इस्तेमाल कर सकते हैं।

रक्त संचार सुधारने और वेरीकोस वेंस की समस्या से बचाने वाले कुछ एसेंशियल ऑयल हैंः विच-हेज़ल, हॉर्स चेस्टनट और साइप्रेस। इनकी कुछ ही बूंदें पर्याप्त हैं क्योंकि इतने से ही पौधों के बहुत से सक्रिय तत्व मिल जाते हैं

इन उत्पादों का इस्तेमाल करके हम इनका फ़ायदा उठा सकते हैं। हमें हमेशा ऊपर की दिशा में मालिश करनी चाहिए ताकि वेनस रिटर्न में मदद मिल सके।

ड्राई ब्रश

ड्राई ब्रश तकनीक रक्त संचार और लिम्फेटिक ड्रेनेज के लिए बहुत अच्छी है। यह वेरीकोस वेंस, सेलुलाइट, ढीली त्वचा, स्ट्रेच मार्क्स की रोकथाम में हमारी मदद करती है

केवल ब्रश का इस्तेमाल करके हम त्वचा को दिल की ओर थपथपाते हैं। दिन में केवल कुछ मिनट तक ऐसा करने से काफी फ़ायदा पहुंचता है।

एलो वेरा जेल

वेरीकोस वेंस से पीड़ित कुछ लोगों को शरीर पर भारी बोझ के अहसास के साथ-साथ टांगों में दर्द का अनुभव होता है। दिन भर मेहनत-मशक्कत करने के बाद घर पहुंचने पर ख़ास तौर पर ऐसा होता है।

इससे राहत पाने के लिए हम नेचुरल एलो वेरा जेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। अगर ज़रूरी समझें तो इसमें कुछ एसेंशियल पिपरमिंट ऑयल की कुछ बूंदें मिला लें

एसेंशियल पिपरमिंट ऑयल ताज़गी देने के साथ-साथ जेल को गाढ़ा भी बनाता है। इसकी सुगंध भी रुचिकर होती है। यह टांगों को बहुत अच्छी ठंडक देता है। अच्छी तरह मालिश करके हम इसका भरपूर फ़ायदा उठा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:

घुटनों के दर्द से निजात पाएं इस आसान ट्रीटमेंट से

ओरल ट्रीटमेंट

रेड फूड

ओरल ट्रीटमेंट में ताज़ा फल और सब्जियों वाले संतुलित आहार पर ज़ोर दिया जाता है। विशेष तौर पर लाल रंग के खाद्य पदार्थों का इस्तेमाल करते हैं।

ये रक्त संचार में मददगार हैं और हृदय की कार्यप्रणाली सुधारते हैं। साथ ही ये कामोउत्तेजक के रूप में भी कार्य करते हैंः

  • टमाटर
  • लाल मिर्च
  • पिसी लाल मिर्च
  • लाल फलः स्ट्रॉबेरी, चेरीज़, रास्पबेरीज़, क्रेनबेरीज़ आदि।
  • तरबूज
  • अनार
  • लाल सेब

औषधीय पौधे

कुछ औषधीय पौधे रक्त संचार सुधारकर वेरीकोस वेंस की समस्या रोकने में हमारी मदद करते हैंः

  • विच-हेज़ल
  • हाउस चेस्टनट
  • बुचर्स ब्रूम
  • साइप्रेस
  • रोज़मेरी
  • सेंटेला
  • जिंक्गो

तुरंत और प्रभावी असर के लिए हम इन औषधीय पौधों का सेवन चाय, कैप्सूल या गोलियों के रूप में कर सकते हैं

अन्य सलाह

टॉपिकल और ओरल ट्रीटमेंट का इस्तेमाल करने के आलावा आप अपनी रोज़मर्रा की ज़िंदगी में नीचे दी गई सलाह पर भी ध्यान दें। इनका पालन करना आसान और फ़ायदे अनेक हैं।

  • तंबाकू और शराब का सेवन न करें।
  • लगातार आधे घंटे से ज़्यादा एक जगह न बैठें। बेहतर रक्त संचार के लिए बीच-बीच में उठकर स्ट्रेच करना अच्छा रहता है।
  • रात में सोते वक्त या फिर घर में आराम करते समय तकिया लगाकर अपनी टांगों को अपने शरीर से ऊपर रखने की कोशिश करें। आप ऐसी किसी योगमुद्रा का भी अभ्यास कर सकते हैं।
  • गुनगुने पानी से नहाएं लेकिन अंत में टांगों पर हमेशा ठंडा पानी डालें, ऊपर की ओर मलते हुए। गर्म और ठंडे तापमान की अदला-बदली भी रक्त संचार सुधारने में बहुत मददगार है।
  • कुछ विशेष मोज़े और टाइट्स भी बाज़ार में उपलब्ध हैं जो बेहतर संचार के लिए प्रेशर पॉइंट्स पर दबाव डालते हैं।
  • आरामदेह कपड़े और जूते पहनकर रोज़ाना कम से कम आधा घंटा सैर ज़रूर करें