पैरों की सूजन से राहत पाने का सर्वश्रेष्ठ नुस्खा

28 सितम्बर, 2018
पैरों में सूजन आमतौर पर शरीर में तरल पदार्थ के जमाव (fluid retention) के कारण होती है। इसलिए इसे कम करने के लिए आपको ऐसे ट्रीटमेन्ट की ज़रूरत होती है, जो किडनी फ़ंक्शन को बेहतर बनाये।

पैरों की सूजन एक आम लक्षण है जो मुख्य रूप से बुजुर्गों, ज्यादा वजन वाले लोगों और गर्भवती महिलाओं को प्रभावित करता है।

इसमें आम तौर पर दर्द नहीं होता। अक्सर यह सूजन ज़्यादा चलने या लंबे समय तक खड़े रहने के कारण होती है।

हालांकि, कुछ लोग इसे नियमित रूप से अनुभव करते हैं। उन्हें दर्द, पैरों में झनझनाहट और अंगों के सून्न हो जाने की समस्याएँ भी हो सकती हैं।

इस मामले में अपने लक्षणों पर अधिक ध्यान देना ठीक रहेगा। हो सकता है, यह आपकी किडनी या ब्लड सर्कुलेशन की किसी समस्या के कारण हो रहा हो।

अक्सर लोग पैरों की सूजन से ग्रस्त होने को बड़े ही सामान्य रूप में ले लेते हैं।  अगर आप इसे नियंत्रित नहीं करते हैं या इसका इलाज नहीं करते हैं, तो यह अन्य स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकती है, जिन्हें हल करना अधिक कठिन होता है।

सौभाग्य से कई ऐसे नेचुरल ट्रीटमेंट हैं जो आपको ऐसी जटिलताओं को रोकने में मदद कर सकते हैं। साथ ही ये आपकी रिकवरी को गति देने का काम भी करते हैं।

आज हम आपको एक बहुत ही आसान और सस्ता ट्रीटमेन्ट बताने जा रहे हैं। यह आपको तत्काल राहत देगा।

पैरों की सूजन को कम करने का सबसे अच्छा नेचुरल नुस्खा

पैरों की सूजन का इलाज

वैसे तो पैरों की सूजन के लिए प्राकृतिक उपचारों की सूची बहुत लंबी है। लेकिन आज हम अजमोद (parsley) का विशेष उल्लेख करना चाहते हैं। यह एक मूत्रवर्धक (diuretic) हर्ब है, जिसका प्रयोग सदियों से खाना पकाने और दवाओं में किया जाता रहा है।

इस पौधे को आवश्यक पोषक तत्वों की ऊँची मात्रा के लिए जाना जाता है। साथ ही, यह दाहक प्रतिरोधी (anti-inflammatory) है और शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालता है।

इसमें विटामिन A, B और C की महत्वपूर्ण मात्रा होती है। यह पोटेशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम जैसे स्वस्थ मिनरल का स्रोत भी है।

इसे भी पढ़ें: 6 संकेत लीवर में सूजन के

अजमोद फाइबर, एंटीऑक्सीडेंट, प्रोटीन, और थोड़ी मात्रा में वसा का उत्कृष्ट स्रोत है। और इतना सब केवल 36 कैलोरी के बदले में।

इसमें जल का अंश भी काफी ऊंचा होता है। इसलिए हेल्थकेयर, वजन में सुधार और चमकदार त्वचा पाने के लिए इसकी बड़ी सिफारिश की जाती है।

अजमोद पैरों की सूजन को ठीक करने में कैसे मदद करता है?

पैरों की सूजन के लिए जुराबें

पैरों और टखने की सूजन को कम करने के लिए अजमोद की सिफारिश की जाती है। क्योंकि यह आपकी किडनी के कार्य को उत्तेजित करता है और टिशू में द्रव संतुलन को बढ़ावा देता है।

यह अतिरिक्त विषाक्त पदार्थों को खत्म करने में भी मदद करता है। साथ ही, शरीर में सूजन को बढ़ावा देने वाले अन्य पदार्थों को भी बाहर निकालता है।

अजमोद सामान्य ब्लड सर्कुलेशन को बहाल करने में मदद करता है। यह दर्द, तनाव और थकान जैसी परेशानियों को भी कम करता है।

पैरों की सूजन के लिए इसका उपयोग कैसे करें?

पैरों की सूजन के लिए अजमोद चाय

चूंकि यह एक सुगंधित पौधा है, इसलिए कई लोग चावल, सूप या स्मूदी जैसे व्यंजनों में इसका उपयोग करते हैं।

हालांकि, इसके सभी सक्रिय तत्वों का लाभ उठाने के लिए सबसे अच्छा तरीका इसकी चाय पीना है।

 

सामग्री:

  • अजमोद के 3 डंठल
  • 2 कप पानी (500 मिलीलीटर)

तैयारी:

  • अजमोद खरीदते समय सुनिश्चित करें कि उसमें हरे पत्तेदार भाग और जड़ समेत पूर्ण डंठल हों।
  • साफ करने के लिए इसे पानी और सिरके के घोल में अच्छी तरह खंगालें।
  • ब्लेंडर में डालें और जब तक इसकी प्यूरी न बन जाये, तब तक चलाएं।
  • पानी को उबालें और फिर आंच बंद करके उसमें अजमोद प्यूरी डाल दें।
  • इसे रात भर ढककर छोड़ दें, और अगले दिन तरल को छान लें।
  • आप इस चाय का सेवन पूरे दिन दो से तीन सर्विंग्स में कर सकते हैं।

इसे भी आजमायें:  किडनी की सफ़ाई के लिए अपनाइए ये आश्चर्यजनक नेचुरल ट्रीटमेंट

सेवन विधि

उपचार दो दिनों तक जारी रहना चाहिए। फिर तीन दिन के लिए रोक देना चाहिए। और फिर से ऐसे ही दोहराना चाहिए।

पहली खुराक खाली पेट होनी चाहिए, जबकि शेष खुराकें दिन भर में कभी भी ले लें।

इस चाय को ज्यादा मात्रा में न लें।

शुरू करने के एक दिन बाद ही आप देखेंगे, सूजन कम हो गई है।

चेतावनी

इस पौधे के गुण आपकी किडनी के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हैं। लेकिन गुर्दे की पथरी के मामले में इसका उपयोग न करने की सलाह दी जाती है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि अजमोद में ऑक्सीलिक एसिड होता है। यह पत्थरों के निर्माण से जुड़ा है। यह किडनी फेल हो जाने और अन्य इस किस्म की समस्याओं वाले मरीजों के लिए भी उपयुक्त नहीं है।

अगर आप गर्भवती हैं, तो इस चाय का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श लें।

सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने के लिए, हम सलाह देंगे कि इसके साथ ये उपाय भी करें। हर रोज़ पैरों का व्यायाम करें और पानी पीने की मात्रा बढ़ा दें।

इन दोनों से ब्लड सर्कुलेशन में सुधार करने में मदद मिलती है। इससे पैरों की सूजन तो ठीक होती ही है। साथ ही, उससे पैदा होने वाली अन्य समस्याओं का इलाज और रोकथाम भी की जा सकती है।

एक और उपयोगी आदत है जो दर्द को कम कर सकती है। जब आप अपनी दैनिक गतिविधियों को पूरा कर लें तो पैरों को कुछ देर ऊंचा उठाकर रखें।

यह प्रैक्टिस रक्त को आपके दिल तक लौटने में मदद करती है और इसे शरीर के निचले हिस्सों में जमा होने से रोकती है।

यदि फिर भी सूजन बनी रहती है, तो अपने डॉक्टर की सलाह लें।

  • Hlibczuk, V., Physician, A., York, N., Hospital, P., Waseem, M., Clinical, A., … Medicine, A. E. (2006). The Swollen Extremity : A. Emergency Medicine Practice8(10).
  • Charles, D. J. (2012). Parsley. In Handbook of Herbs and Spices: Second Edition (Vol. 1, pp. 430–451). Elsevier Inc. https://doi.org/10.1533/9780857095671.430
  • Farzaei, M. H., Abbasabadi, Z., Ardekani, M. R. S., Rahimi, R., & Farzaei, F. (2014). Parsley: a review of ethnopharmacology, phytochemistry and biological activities. Journal of Traditional Chinese Medicine33(6), 815–826. https://doi.org/10.1016/s0254-6272(14)60018-2
  • Bährle-Rapp, M., & Bährle-Rapp, M. (2010). Petroselinum crispum. In Springer Lexikon Kosmetik und Körperpflege (pp. 421–421). Springer Berlin Heidelberg. https://doi.org/10.1007/978-3-540-71095-0_7854