7 तरकीबें एंग्जायटी से निपटने और तनाव से दूर रहने के लिए

कहते हैं, चिंता चिता है। इसलिए कई लोगों को चिंता से निपटने के लिए दूसरों से ढेर सारे सुझाव लेने की आदत है। "चीज़ों को इतनी गंभीरता से न लें", "थोड़ा स्लो हो जाइए", "जीवन में कुछ बदलाव करें"; इस तरह के वाक्य हमारे दिमाग में भर जाते हैं लेकिन दुर्भाग्यवश ये ज्यादा काम नहीं आते हैं।
7 तरकीबें एंग्जायटी से निपटने और तनाव से दूर रहने के लिए

आखिरी अपडेट: 18 जुलाई, 2018

हम एंग्जायटी और चिंताओं से निपटने के कई सुझावों पर अमल कर पाने में विफल होते हैं। क्योंकि हमारा जेहन दूसरे लेवल पर रहता है; इसकी सीमाएं हमारे फोकस को ब्लाक करती हैं। हमारे ध्यान पर अत्यधिक चिंता, नेगेटिविटी और संयम का अभाव पूरी तरह से हावी रहते हैं।

जब मनोदशा ऐसी हो, तो “धीमा हो जाना” मुश्किल होता है।

यहां तक ​​कि छुट्टी पर भी हमें कभी-कभी इतनी थकान और अटपटा महसूस होता है कि हमें एंग्जायटी अटैक हो सकता है।

दूसरी तरफ, यह ध्यान रखना आवश्यक है कि कई चिंता का सामना करने की कई युक्तियाँ और सुझाव सिर्फ लक्षणों का इलाज करने तक ही सीमित हैं लेकिन समस्या की जड़ का नहीं।

मेडिटेशन अर्थात ध्यान लगाने का अभ्यास करके, बाहर वॉक पर जाकर, यहां तक ​​कि सेडेटिव लेकर हमें लक्षणों को शांत करने में मदद मिल सकती है। पर एंग्जायटी को शुरू करने वाले मुद्दे हमारे भीतर मौजूद रह जाते हैं।

इसलिए, यह जानना जरूरी है कि एंग्जायटी का शिकार होने पर किस चीज से बचना चाहिए।

यह हमें अपने अंदर के “दानव” को बेहतर ढंग से समझने में मदद करेगा जिससे हम इसे नियंत्रित कर सकें, इसे कमजोर बना सकें और अपने जीवन पर दोबारा अपना नियंत्रण हासिल कर सकें।

1. किसी बात पर अटके न रहें, भटकते खयालों पर लगाम डालें

7 तरकीबें एंग्जायटी से निपटने के लिए

रुकें! लगातार आने वाले विचारों के चक्र को तोड़ें जो दिन भर आपकी शांति और स्थिरता को लूटते हैं।

  • हमें उस क्षण के प्रति सचेत होना चाहिए जिसमें एक विचार, एक छवि, एक वाक्यांश, या एक स्मृति हमारे दिमाग में बार-बार आना शुरू करती है।
  • एक बार जेहन में घूमते हुए विचार को पहचानने के बाद हमें अपने ध्यान को किसी और अधिक आरामदायक और सकारात्मक दिशा में केंद्रित करना चाहिए।

चिंताओं से निपटने की सबसे अच्छी तकनीक स्पोर्ट्स, मंडल पेंटिंग करना या किसी भरोसेमंद आदमी से बातचीत हो सकती है।

नकारात्मक सोच पर कुछ और रोशनी के लिए पढ़ें:

6 प्रकार के नेगेटिव लोग: इनसे बचें

 

2. समस्याओं से भागें या छिपें नहीं

शायद आपको अपनी जॉब की वजह से इतनी एंग्जायटी होती है, जिसे आपने अब छोड़ देने का फैसला किया है। हो सकता है, आपके और पार्टनर के बीच समस्याएं इतनी गंभीर हो चुकी हैं कि आप घर से बाहर ज्यादा समय बिताना पसंद करते हैं, और देर से घर आते हैं …

  • ये व्यवहार चिंतित और भ्रमित करने वाली चीजों से दूर भागने के प्रत्यक्ष तरीके हैं।
  • आज की परेशानियों को कल तक न ले जाएँ। यदि आप ऐसा करेंगे तो आप अपने मन में अधिक से अधिक चिंता, पीड़ा और निराशा जमा करेंगे और किसी और चीज के लिए जगह नहीं रह जाएगी।

3. जो चीजें अभी नहीं हुई हैं, उनके बारे में फ़िक्रमंद न हों

7 तरकीबें एंग्जायटी से निपटने के लिए फिक्रमंद न हों

अगर मैं ऐसा करता हूं, तो ऐसा होगा। या, अगर मैं यह कहता हूं, तो ऐसा होगा। उदाहरण के लिए यदि मैं इसे बदलता हूं, जो मैं नहीं करना चाहता, तो निश्चित रूप से ऐसा हो जाएगा…

इस तरह के विचार आपकी समस्या से मिलते-जुलते हैं, तो ध्यान रखें कि ये किसी को सताने वाले सबसे खतरनाक और कमजोर कर देने वाली एंग्जायटी के प्रतीक हैं।विनाशकारी विचार हमें  मुकम्मल और ग्रहणशील तरीके से जीने नहीं देते हैं।

किसी के पास क्रिस्टल बॉल नहीं है जिसमें वह देख सके कि कल क्या होगा या नहीं होगा। इसलिए वर्तमान पर अपना ध्यान केंद्रित करें और नेगेटिविटी पर लगाम रखें।

4. रिलैक्स रहें, अपनी इतनी “जासूसी” न करें …

जिन लोगों ने एक से अधिक बार एंग्जायटी अटैक का सामना किया है, वे डरते हैं कि कहीं यह फिर न हो जाए। कभी-कभी वे बार-बार होने वाले अटैक के बारे में इतने फिक्रमंद हो उठते हैं कि उनकी दहशत वास्तव में नए अटैक का कारण बन जाती है।

  • हमें अपने को बहुत ज्यादा मॉनिटर नहीं करना चाहिए। अपने दिल की धड़कन और हार्ट रेट की जांच करना और सोचना कि, “अगर मैं वहां अंदर जाऊंगा तो घबरा जाऊंगा” या “अगर मैं ऐसा करूंगा तो नियंत्रण खो दूंगा”; यह सब नहीं करना चाहिए।
  • हमें इस आदत को बदलने में समर्थ होना चाहिए और अपने को खुल कर जीने, आत्मविश्वास भरा रहने और भय का समना करने की इजाजत देनी चाहिए। ऐसा करने से हमें शांति और स्थिरता मिल सकेगी।

5. एंग्जायटी के बिना जीने के बारे में न सोचें: यह कुंजी नहीं है

7 तरकीबें एंग्जायटी और स्ट्रेस

यह एक बहुत ही आम गलती है। हम सोचते हैं, चिंता एक दुश्मन है जिससे हमें हर कीमत पर बचना चाहिए।

  • चिंता से तालमेल बिठाने की सबसे अच्छी तरकीबों में से एक है संतुलन ढूंढना। चिंता के साथ जीना कोई बुरी बात नहीं, बस ध्यान रखें कि यह आप पर हावी न हो।
  • हमें समझना चाहिए कि चिंता हर व्यक्ति के जीवन का हिस्सा है। यह हमें जीवित रहने में मदद करती है और अनावश्यक जोखिम लेने से बचाती है। यहां तक ​​कि हम जो चाहते हैं उसे पाने के लिए ऊर्जा और प्रेरणा भी देती है।
  • लेकिन जब चिंता ऐसी भावना में बदल जाती है जो हमें स्तब्ध कर दे, हमें नियंत्रित करने लगे, और हमारी खुशी को लूट ले, तो समझ लीजिये इसके बारे में कुछ करने का समय आ गया है।

हमें समस्या की जड़ पता करनी चाहिए। हमें बैठकर अपने साथ संवाद करना चाहिए और नकारात्मक भावनाओं को सकारात्मक में बदलना चाहिए।

6. जब एंग्जायटी से पीड़ित हों, तो कुछ ऐसे लोग हैं जिनसे बचना चाहिए

यह अजीब लग सकता है, लेकिन कुछ अवसरों पर हमारी चिंता का केंद्र बिंदु एक निश्चित व्यक्ति से शुरू हो सकता है जो रोज़ हमारी खुशी लूट लेता है।

  • वह व्यक्ति एक साथी हो सकता है, या एक जटिल, हानिकारक रिश्ता जो हमें किसी ऐसे व्यक्ति में बदल देता है जो हम नहीं हैं।
  • यह एक पूर्ण स्थिति हो सकती है, जैसे एक कार्य क्षेत्र का वातावरण जिसके लिए हम पूरी तरह से अनुकूलित नहीं हैं।
  • इसके अलावा, हम अपने छोटे से निजी परिवार में अटपटा या कमजोर महसूस कर सकते हैं।

इन मामलों में समस्या को हल करने के लिए अपनी चिंता के केंद्र बिंदु को पहचानना और समस्या से बचने का ‘एस्केप रूट’ ढूंढना सबसे अच्छा है।

7. ज़िन्दगी को जीना न रोकें, एंग्जायटी आपके कीमती वक्त पर डाका डालती है

एंग्जायटी आपका कीमती वक्त लूटती है

भले ही हमें इसका एहसास न हो लेकिन यह होता है। चिंता हमारे जीवन, हमारी इच्छा, हमारी आशा और यहां तक ​​कि हमारी पहचान चुरा लेती है।

  • चिंता से तालमेल बिठाने की युक्तियाँ हमें अन्य में बदलने से चिंता को रोकती हैं। यह वह व्यक्ति हो सकता है जिसे हम पसंद नहीं करते हैं, और जो बिलकुल भी उस व्यक्ति जैसा नहीं है जैसे हम पहले थे।
  • ऐसा होने की अनुमति न दें! इस “पहचान चोर” को अपने व्यक्तित्व और खुशी को चुराने न दें और अपने को खाली हाथ न छोड़ने दें।

लगाम अपने हाथों में लें और नियंत्रण करें। समस्या और संभावित समाधान का पता लगाने के लिए अपने भीतर खोज करें। याद रखें, जब एंग्जायटी मैनेजमेंट की बात आती है, तो एक बहुआयामी दृष्टिकोण को अपनाना ज़रूरी होता है।

दवाएं उपयोगी हैं, लेकिन हमें चिंता से निपटने की युक्तियों के सर्वोत्तम संतुलन के लिए कुछ कॉग्निटिव-बिहेवियरल थेरेपी, रिलैक्सेशन तकनीकें और परिवार और दोस्तों के समर्थन को भी शामिल करना चाहिए।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
डिप्रेशन के बारे में 4 ज़रूरी बातें जिन्हें हर महिला को जानना चाहिये
स्वास्थ्य की ओर
इसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
डिप्रेशन के बारे में 4 ज़रूरी बातें जिन्हें हर महिला को जानना चाहिये

रोजमर्रा के जीवन में जब हमलोग आपस में मिलते हैं तो आमतौर पर डिप्रेशन के बारे में सामान्य बातें करते हैं। हमारी बातें काफी मामूली होती हैं और कई बार...



  • Robinson, O. J., Vytal, K., Cornwell, B. R., & Grillon, C. (2013). The impact of anxiety upon cognition: perspectives from human threat of shock studies. Frontiers in human neuroscience, 7, 203.
  • Hofmann, S. G., Sawyer, A. T., Witt, A. A., & Oh, D. (2010). The effect of mindfulness-based therapy on anxiety and depression: A meta-analytic review. Journal of consulting and clinical psychology, 78(2), 169.