अदरक और हल्दी वाली स्वादिष्ट चाय पीकर अपना वज़न घटाएं

अपने थर्मोजेनिक गुणों के अलावा अदरक और हल्दी आपका फैट गलाकर आपके पाचनतंत्र  का ख़ास ख़याल रखने में आपकी मदद करती हैं।
अदरक और हल्दी वाली स्वादिष्ट चाय पीकर अपना वज़न घटाएं

आखिरी अपडेट: 25 जून, 2019

ज़िन्दगी का लुत्फ़ उठाने के लिए अगर आप अपना वज़न कम करना चाहते हैं तो आपको एक्सरसाइज करने के साथ-साथ स्वस्थ और पौष्टिक आहार खाना चाहिए। लेकिन आपको अदरक और हल्दी वाली इस चाय को भी आज़मा कर देख लेना चाहिए।

इस चाय को पीकर आप सेहतमंद तरीके से कुछ ही दिनों में अपना वज़न घटा सकते हैं। अदरक और हल्दी, दोनों ही आमतौर पर लगभग हर रसोई में पाई जाने वाली चीज़ें तो हैं ही, प्राकृतिक औषधि में भी उन्हें एक गौरवमय स्थान हासिल है।

प्रकृति से कभी कोई गलती नहीं होती। अदरक और हल्दी की जड़ें आपको किसी भी सुपर मार्केट या किराने की दुकान में आसानी से मिल जाएंगी। इनसे बनी चाय के फायदे जानने के लिए आगे पढ़ें।

वज़न कम करने में हल्दी के फायदे

वज़न घटाने में हल्दी के ये लाभ होते हैं:

  • हल्दी में मौजूद करक्यूमिन की मात्रा कोशिकाओं को बंटने से रोकती है, खासकर बात जब चरबी वाली कोशिकाओं की हो। इस प्रकार वह नए फैटी टिशू को बनने से रोककर वज़न को बढ़ने नहीं देता। यह कंपाउंड कोलेस्ट्रॉल (एल.डी.एल.) और ट्राईग्लीसराइड्स के घातक स्तरों को भी कम करने में मदद करता है।
  • इन्सुलिन के प्रति प्रतिरोध को कम कर यह खून में ग्लूकोस के स्तर को काबू में रखने में सहायता करती है। उसके ऐसा करने से शरीर में वसा जमा नहीं होती।
  • यह पेट में बाइल (पित्त) के स्तरों को बढ़ा देती है। बाइल नाम का यह तत्व शरीर की चरबी को पिघलाने का काम करता है, जिसके फलस्वरूप वह वज़न कम करने की प्रक्रिया में मददगार होता है।
  • इसमें पॉलीफेनोल होते हैं, जो उसकी जड़ को हानिकारिक पदार्थों को हटाने में मददगार एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट बना देते है।
  • इसके ज़बरदस्त सूजनरोधी प्रभाव सूजन को कम कर देते हैं।
  • मेटाबोलिज्म को बेहतर बनाकर यह फैट को प्राकृतिक रूप से जल्दी जलाने में सहायता करती है।

वज़न कम करने में अदरक के फायदे

भले ही आप इसका सेवन कैसे भी करें, अदरक एक्स्ट्रा वज़न को कम करने में आपकी मदद कर सकती है:

अदरक और हल्दी के फायदे

  • यह सेरोटोनिन के स्तर को बढ़ा देता है, जो भूख को नियंत्रित कर उसे काबू में लाने वाला एक न्यूरोट्रांसमीटर होता है। इसीलिए अदरक का सेवन करने वाले लोग कम खाते हैं
  • उसमें जिंजरोल और शोगाओल नामक मेटाबोलिज्म को तेज़ करने में मददगार दो सक्रिय पदार्थ होते हैं। इसीलिए वह फैट को जला देता है व शरीर को अपनी ही ऊर्जा खर्च करनी पड़ जाती है।
  • शरीर के तापमान को उठाकर यह वसा को जलाने वाली प्रक्रिया को और भी कारगर बना देता है।
  • शरीर में बीमारियों, पानी के अवरोधन, सूजन और वज़न बढ़ाने वाले विषैले पदार्थों को हटाने वाला वह एक प्रभावशाली ऑक्सीडेंट होता है।

इसे भी पढ़ें:  वजन घटाने वाला अदरक का पानी कैसे बनाएं?

अदरक और हल्दी वाली चाय के फायदे

  • अदरक और हल्दी वाली चाय औषधियों का एक ज़बरदस्त मिश्रण है। स्वास्थ्य को फायदा पहुंचाने वाली कई खूबियाँ इसमें हैं। इसे पीने के ये फायदे होते हैं:
  • वह लीवर को तंदरुस्त बनाए रखती है क्योंकि इस मिश्रण में लीवर की कोशिकाओं की रक्षा करने वाले तत्व मौजूद होते हैं।
  • अगर आपको पथरी है तो आप इस चाय को पी सकते हैं। उपर्युक्त रक्षक तत्व गॉल ब्लैडर की मदद कर उस पर असर डालने वाली बीमारियों से लड़ते हैं।
  • यह पाचन में सहायक होती है: यह चाय एक कमाल की पाचक टॉनिक होती है। धीमी पाचन-प्रक्रिया और पेट में जलन से ग्रस्त लोगों के लिए यह उपयुक्त होती है। इसे पीने से गैसट्राईटिस से भी आराम मिल जाता है।
  • अपनी कामिनटिव खूबियों की वजह से अदरक और हल्दी वाली चाय अनियमित या धीमी पाचन शक्ति की वजह से पैदा हुई गैस और बादी से छुटकारा पाने में मदद करती है
  • सर्दी-ज़ुकाम के लिए यह एक शानदार प्राकृतिक औषधि भी होती है। इस चाय में विटामिन सी, नियासिन, फॉस्फोरस और पोटैशियम की उच्च मात्रा होती है। ये सभी तत्व हमारे इम्यून सिस्टम को मज़बूत बनाते हैं। वह खांसी और बलगम के इलाज के लिए भी अच्छी होती है।
अदरक और हल्दी

अदरक और हल्दी की चाय पीकर वज़न कम करें

सामग्री

  • दो चम्मच हल्दी पाउडर (10 ग्राम)
  • दो चम्मच अदरक (30 ग्राम)
  • एक चम्मच शहद (25 ग्राम)
  • दो कप पानी (500 मिलीलीटर)

बनाने की विधि

  • अदरक को छील कर उसे पीस लें।
  • पानी को गर्म कर उसमें अदरक को डाल दें।
  • उसे पांच-दस मिनट उबलने दें।
  • फिर भाप को हटाकर अदरक को छांट लें।
  • पानी को किसी कप में डालकर उसमें हल्दी का पाउडर डाल दें।
  • चाय को थोड़ा मीठा बनाने के लिए उसमें शहद डालकर मिश्रण को घोलें।
  • अपने स्वादानुसार आप उसमें नींबू के रस की कुछ बूँदें भी डाल सकते हैं। अगर आप चाहें तो उसका एक टुकड़ा भी डाल सकते हैं।

वज़न कम करने के लिए इसे कैसे पिएं

अदरक और हल्दी की चाय

इस चाय को पीने से हमारा मेटाबोलिज्म तेज़ हो जाता है। इसीलिए आपको यह समझना चाहिए कि प्राकृतिक रूप से अपने वज़न को तेज़ी से कम करने के लिए आपको इसका सेवन कब करना चाहिए।

इन निर्देशों का पालन कर नतीजे आपके सामने होंगे:

  • पूरे दिन इसे खाली पेट पिएं। आप इसे अपने वर्कआउट के दौरान भी पी सकते हैं, यानी कि आप पानी से ज़्यादा चाय पियेंगे। ऐसा करने से आप हाइड्रेटेड और ज़्यादा चुस्त-दुरुस्त तो रहेंगे ही, आपका वज़न भी कम हो जाएगा।
  • जैसा कि हमने ऊपर कहा था, यह चाय आपको अधिक तृप्त महसूस करवाने में मददगार होगी। इसीलिए हमारा सुझाव है कि आप खाने से 30 मिनट पहले इसे पिएं। ऐसा करने से आपको खाना खाते वक़्त बेचैनी नहीं होगी।

याद रखें कि अदरक और हल्दी वाली चाय कोई जादुई पेय नहीं है। हालांकि इसमें ऐसी कई खूबियाँ हैं जो आपका वज़न घटाने में आपकी सहायता करेंगे, इसके साथ आपको एक संतुलित आहार का सेवन और पर्याप्त व्यायाम तो करना ही होगा।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
8 खाद्य पदार्थ जो 30 दिन में लीवर को देंगे नया जीवन, घटाएंगे वज़न
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
8 खाद्य पदार्थ जो 30 दिन में लीवर को देंगे नया जीवन, घटाएंगे वज़न

यह सुनने में अजीब लग सकता है, लेकिन लीवर ही हमारे शरीर का वह अंग है जो वज़न कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।



  • Goel, A., Kunnumakkara, A. B., & Aggarwal, B. B. (2008). Curcumin as “Curecumin”: From kitchen to clinic. Biochemical Pharmacology75(4), 787–809. https://doi.org/10.1016/j.bcp.2007.08.016
  • Shukla, Y., & Singh, M. (2007, May). Cancer preventive properties of ginger: A brief review. Food and Chemical Toxicology. https://doi.org/10.1016/j.fct.2006.11.002
  • Maizura, M., Aminah, A., & Aida, W. M. W. (2011). Total phenolic content and antioxidant activity of kesum (Polygonum minus), ginger (Zingiber officinale) and turmeric (Curcuma longa) extract. International Food Research Journal18(2). https://doi.org/10.1039/c0cc03034a
  • Prasad, S., & Aggarwal, B. B. (2011). Turmeric, the Golden Spice: From Traditional Medicine to Modern MedicineHerbal Medicine: Biomolecular and Clinical Aspects. https://doi.org/doi:10.1201/b10787-14