अपनायें ये 8 सिद्धांत, वेरीकोस वेंस को ठीक करने के लिए

वेरीकोस वेंस को ठीक करने के लिए स्वस्थ आदतों का अपनाया जाना बहुत ज़रूरी हैं। वैसे तो इन्हें ख़त्म करने के लिए बहुत कई प्रोफेशनल थेरेपी मौजूद हैं। लेकिन यहाँ दिए गए तमाम सुझाव इन्हें दोबारा होने से रोकते हैं।
अपनायें ये 8 सिद्धांत, वेरीकोस वेंस को ठीक करने के लिए

आखिरी अपडेट: 04 जनवरी, 2019

वेरीकोस वेंस के इलाज में वे तमाम स्वस्थ आदतें शामिल होनी चाहिए जो सर्कुलेटरी सिस्टम की सेहत के लिए जरूरी हैं। हालांकि कई किस्म की थेरेपी और कॉस्मेटिक टेकनीक मौजूद हैं जो इन्हें कम करने में मदद करती हैं। फिर भी अगर आप इन्हें पूरी तरह ठीक करना चाहते हैं तो कुछ बुनियादी “नियमों” का पालन करना बहुत जरूरी है।

शारीरिक सुंदरता से जुड़ी समस्या होने के अलावा भी फूली हुई नसें ब्लड फ्लो की गड़बड़ी की ओर इशारा करती हैं। इसके कारण पैर जहाँ बदसूरत दिखते हैं, वहीं पैरों में भारीपन और दर्द भी महसूस होता है।

यह तकलीफ कैसे पैदा होती है? आप नेचुरल तरीके से वेरीकोज वेंस का इलाज कैसे कर सकते हैं?

इस समस्या का सामना कर रहे लोगों की तादाद बड़ी है। इसलिए हम आपको वेरिकोस वेंस (varicose veins) के लिए कुछ स्वास्थ्य संबंधी सुझाव देना चाहते हैं। हालांकि याद रखें, ये सभी सुझाव एक साथ अपनाए जाने चाहिए। क्योंकि इस समस्या का कोई आसान और एक ही बार में पूरा हो जाने वाला इलाज मौजूद नहीं है।

वेरीकोस वेंस क्या हैं? (What are varicose veins?)

वेरीकोस वेंस क्या हैं?

वेरिकोस वेंस फूली हुई, टेड़ी-मेढ़ी नसे हैं। ये तब बनती हैं जब एक ही दिशा में खून के बहाव को नियंत्रित करने वाले वाल्व कमज़ोर पड़ जाते हैं। वैसे तो ये किसी भी नस में बन सकती हैं, लेकिन अक्सर पैरों में इनका होना आम है।

ये त्वचा पर बैंगनी या लाल रंग के निशान के रूप में दिखाई देती हैं। इसलिए इन्हें हमेशा से एक भद्दे निशान के तौर पर देखा जाता रहा है। हालांकि कई लोगों के लिए यह एक स्वास्थ्य समस्या है। दरअसल ये कई दूसरी बीमारियों को बढ़ावा देती हैं।

लक्षण

वेरीकोस वेंस के जाने-माने लक्षण हैं:

  • सूजी, और उभरी हुई नसें (Inflamed, protruding veins)
  • पैरों के निचले हिस्से में भारीपन और जलन महसूस होना
  • पैरों में दर्द और ऐंठन
  • नसों के आस-पास खुजली
  • वेरीकोस वेंस से खून बहना
  • त्वचा में बदलाव और नसों का सख्त होना

वेरीकोस वेंस की शुरुआत कहां से होती है?

नसों की वाल्व के ठीक से काम करना बंद कर देने पर खून के बहाव को पैरों से दिल तक पहुंचने में मुश्किल होती है। इससे खून का प्रवाह रुक जाता है, नसें सूज जाती हैं और वेरीकोस वेंस बनती हैं।

ऐसे कई मामले जेनेटिक कारकों से भी जुड़े हुए होते हैं। फिर भी ज्यादा शारीरिक थकान या मोटापे की वजह से स्थिति ज्यादा बिगड़ जाती हैं। इसके साथ ही यह समस्या बुजुर्गों में ज्यादा होती है।

वेरीकोस वेंस पर असर डालने वाले फैक्टर है:

  • मोटापा या ज्यादा वजन
  • गर्भावस्था
  • चलते समय शरीर का गलत पोस्चर
  • देर तक बैठे रहना या पैर पर पैर चढ़ाकर बैठे रहना
  • अचानक होने वाले हार्मोनल बदलाव
  • सर्कुलेटरी सिस्टम से जुडी बीमारियां

वेरीकोस वेंस को ठीक करने के बुनियादी नियम

वेरीकोस वेंस को ठीक करने और उनके आने में विलंब डालने के लिये सबसे कारगर तरीका स्वस्थ लाइफस्टाइल बनाए रखना है। इसमें आपकी सर्कुलेशन पर गलत असर डालने वाली डेली रूटीन में बदलाव और कुछ “गलत आदतों” को छोड़ना भी शामिल है।

1. देर तक एक ही पोजीशन में रहने से बचें

वेरीकोस वेंस: औरत अपने पैरों को ऊपर उठाती हुई

ज्यादा देर तक एक ही पोजीशन में रहने से वेरीकोस वेंस की स्थिति बिगड़ सकती है। इसलिए अगर किसी वजह से आपको खड़े या बैठे रहना पड़ता है, तो यह अच्छा होगा कि आप कुछ मिनटों का समय निकालकर अपने पैर और पंजों को घुमाते रहें या हर घंटे अपने शरीर का पोस्चर बदलते रहें।

2. पैरों को ऊपर उठाएं (Elevate your legs)

वेरीकोस वेंस: अपने पैरों को ऊपर उठाएं

वेरीकोस वेंस को ठीक करने में मदद के लिये सबसे आसान एक्सरसाइज पैरों को ऊपर उठाना है।

यह एक्सरसाइज आपकी मांसपेशियों को आराम पहुंचाती है और खून को शरीर के ऊपरी हिस्से में  वापस जाने में मदद करती है। इसलिए हर रोज काम के बाद इसे कई बार करने की सलाह दी जाती है।

3. शारीरिक व्यायाम

वेरीकोस वेंस: फिजिकल एक्सरसाइज करती हुयी औरत

किसी भी तरह की स्पोर्ट्स एक्टिविटी का अभ्यास आपके सर्कुलेटरी सिस्टम की सेहत के लिए फायदेमंद है।

इसलिए अगर आपका मकसद वेरीकोस वेंस को ठीक करना है, तो अपनी रूटीन में एक्सरसाइज को अपनाना फायदेमंद होगा।

4. मालिश करें

वेरीकोस वेंस: मसाज करें(Apply massages)

शरीर के निचले हिस्सों में खून के बहाव को तेज करने की थेरेपी में आरामदेह मालिश भी एक है।

सर्कुलेशन में सुधार करने की इसकी क्षमता के कारण, यह उभरी हुई नसों को कम करने का अच्छा विकल्प है।

5. ठंडे पानी से नहाएं

वेरीकोस वेंस: ठंडे पानी से नहाएं (Take a cold shower)

गर्म पानी से नहाना आरामदेह होता है। फिर भी ठंडे पानी से नहाना रक्त संचालन के लिए ज्यादा फायदेमंद है।

यहाँ तक कि, काफ्स पर ठंडे पानी का सीधा इस्तेमाल सूजन और भारीपन से राहत दे सकता है।

6. टाइट कपड़े पहनने से बचें

वेरीकोस वेंस: टाइट कपड़े पहनने से बचें

वेरीकोस वेंस की समस्या में सलाह दी जाती है कि आप शरीर से चिपकने वाले कपड़े न पहनें।

यों भी टाइट कपड़े न पहनने की सलाह दी जाती है। क्योंकि ये शरीर के अंगों को दबा देते हैं और पैरों से दिल तक वापस जाने वाली नसों मे अवरोध पैदा करते हैं।

7. बेहतर पोषण अपनाएँ

वेरीकोस वेंस: अपने नूट्रिशन में सुधार करें (Improve your nutrition)

ओमेगा-3 फैटी एसिड, एंटीऑक्सीडेंट और डाइटरी फाइबर से भरपूर खाना वेरीकोस वेंस को लंबे समय तक ठीक रख सकता है।

जिन खाद्यों में ये न्यूट्रिशन मौजूद हैं वे सर्कुलेशन में सुधार करते हैं और कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ को बनाये रखने में मदद करते हैं

8. शराब और तंबाकू का सेवन न करें

वेरीकोस वेंस

शराब और तंबाकू का ज्यादा सेवन शरीर पर कई बुरे असर डालता है। इनमें से एक सर्कुलेशन से जुड़ी समस्या और वेरीकोस वेंस का बनना भी है।

इनके टॉक्सिन धमनियों को खराब कर देते हैं जिससे खून को इनसे होकर बहने में मुश्किल होती है।

सारांश

अगर आपका लक्ष्य वेरीकोस वेंस को ठीक करना है तो उसके लिए स्वस्थ आदतें अपनाना बहुत जरूरी है। इसके लिए कई प्रोफेशनल ट्रीटमेंट होने पर भी यहाँ बताये गए सुझाव इनके दोबारा होने से रोकते हैं।

इसलिए इन सभी सुझावों को कुछ समय के लिए अपनाने के बजाए इन्हें अपनी लाइफस्टाइल का स्थाई हिस्सा बनायें।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
ख़राब लेग सर्कुलेशन की रोकथाम और उसका इलाज कैसे करें
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
ख़राब लेग सर्कुलेशन की रोकथाम और उसका इलाज कैसे करें

40 साल से ज्यादा उम्र की महिलाओं में वेरीकोस वेंस, थकान और ख़राब लेग सर्कुलेशन जैसी समस्याएं होना बहुत ही आम बात है।



  • Jawien A. The influence of environmental factors in chronic venous insufficiency. Angiology. 2003;54 (Suppl 1):S19-31
  • Bass A. The effect of standing in the workplace and the development of chronic venous insufficiency. Harefuah 2007;146(9):675-6, 734-5.  
  • Rodrigo JA, Villa R. Guías de manejo de la insuficiencia venosa crónica. Guías Clínicas [en línea]. 2000, vol 2 N°21. [citado el: 15 de Diciembre de 2008].