धमनियों की नेचुरल क्लीनिंग: भोजन में लें ये 5 चीजें

जून 30, 2018
क्या आप इस बात से परिचित हैं कि जिन खाने की चीजों में ओमेगा 3 फैटी एसिड प्रचुर मात्रा में होते हैं वे आपकी धमनियों को साफ करने और कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को संतुलित करने का शानदार काम करती हैं? इन खाद्य पदार्थों में तेल वाली मछलियों को सबसे ज्यादा तरजीह दी जाती है।

धमनियों के बंद होने के क्या नतीजे होते हैं? हमें पूरा विश्वास है कि इसे जानकर आप मानेंगे कि धमनियों की नेचुरल क्लीनिंग के लिए डाइट प्लान बहुत ज़रूरी है।

जब आपका डॉक्टर आपको बताता है कि आपकी धमनियां बंद होने लगी हैं, तो समझ जाना चाहिये कि आपको कार्डियोवैस्कुलर और सेरिब्रोवैस्कुलर बीमारियां होने का ज्यादा खतरा है।

स्ट्रोक, अनिरंतर खंजता (Claudication) और रोधगलन (Myocardial infarction ) तो केवल कुछ संभावित जटिलतायें हैं।

हताश न हों! खुशखबरी यह है कि धमनियों को साफ करना इतना कठिन नहीं है जितना आपको लगता है। धमनियों की नेचुरल क्लीनिंग करने का राज है जीवन शैली में दो तरह के सुधार – ज्यादा एक्सरसाइज करें और अपने आहार को बदलें।

दो अहम चीजें जिनके कारण यह समस्या पैदा होती है, वे हैं कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स।

कोलेस्ट्रॉल एक लाइपो-प्रोटीन है जिसे सेल्स में अलग-अलग तत्त्वों के प्रवेश और निकास को रेगुलेट करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। जब शरीर में  इसकी ज्यादा मात्रा हो जाती है, कोलेस्ट्रॉल धमनियों की दीवारों पर चिपक जाता है। इसका मतलब है कि उनके अंदर ब्लड सर्कुलेशन वैसे नहीं होता है जैसे होना चाहिये।

इससे आपके अहम अंगों तक पर्याप्त मात्रा में खून नहीं पहुंच पाता।

ट्राइग्लिसराइड कई किस्म के फैट होते हैं। इनका भी यही असर होता है। हालांकि कुछ दूसरे प्रकार के फैट भी होते हैं जिनका शरीर पर अच्छा असर होता है।

इन बातों को ध्यान में रखते हुए, ज्यादा फाइबर, एंटीऑक्सीडेंट और सेहतमंद फैट वाले खाद्य बंद धमनियों का मुकाबला करने में हमारे सबसे अच्छे साथी हो सकते हैं।

5 खाद्य पदार्थ जो धमनियों की नेचुरल क्लीनिंग करते हैं

1. समुद्री सिवार (Seaweed)

धमनियों की नेचुरल क्लीनिंग: समुद्री सिवार

समुद्री सिवार सबसे ज्यादा हेल्दी फ़ूड है। न्यूट्रीशन वैल्यू के मामले में यह पूर्ण खाद्य पदार्थों में से एक है। अगर आपको हमारे इस भारी-भरकम दावे पर विश्वास नहीं है तो इसमें मौजूद पोषक तत्त्वों पर जरा नज़र डाल लीजिये। इसमें खनिज पदार्थ, प्रोटीन, कैरोटिनॉइड्स और एंटीऑक्सीडेंट्स भरपूर होते हैं।

इसका मतलब है कि इसमें करीब-करीब सभी चीजें हैं जिसकी शरीर को फिट और स्वस्थ रहने के लिए ज़रूरत होती है।

समुद्री सिवार में आपकी धमनियों की नेचुरल क्लीनिंग कर पाने की क्षमता तो होती ही है, इसके अलावा यह उच्च रक्तचाप को कम करने में भी मदद करती है।

इसलिए जो भी फिट और स्वस्थ रहने के लिए उत्सुक हों, उन्हें समुद्री सिवार को अपने डाइट का अनिवार्य हिस्सा बना लेना चाहिये।

2. तेल वाली मछली – टूना और सामन (Salmon)

कुछ साल पहले, इस तरह की मछलियों को अच्छा नहीं माना जाता था। दरअसल लोग सोचते थे कि प्रचुर मात्रा में तेल होने की वजह से ये मछलियाँ सेहत के लिए बहुत नुकसानदेह हैं।

लेकिन देखने वाली बात यह है कि ये मछलियाँ कौन सा खास फैट देती हैं। टूना और सामन में मौजूद फैट में एक जबरदस्त एमिनो एसिड होता है जिसके फायदे हैरान कर देने वाले हैं। इसे ओमेगा 3 के नाम से जाना जाता है। यह कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स को संतुलित करने का एक अद्भुत माध्यम है।

इसलिए जिन खाद्य पदार्थों में ओमेगा 3 के ऊँचे स्तर होते हैं, जैसे टूना और सामन मछलियाँ, वे धमनियों की नेचुरल क्लीनिंग करने में गजब का काम करते हैं।

अगर आप तेल वाली मछलियों को भी अपने डाइट में रखें तो आपको अपने ब्लड प्रेशर में भी सुधार नज़र आयेगा। असल में, जिन खाद्य पदार्थों में ओमेगा 3 की प्रचुर मात्रा होती है उनको अपने आहार में रखना अपनी शारीरिक तंदरुस्ती को सामग्रिक रूप से बढ़ावा देने का लाजवाब उपाय है।

3. जई का आटा (ओटमील)

अगर आप गेहूं के बदले में कोई और अनाज इस्तेमाल करने के बारे में सोच रहे हैं तो हम आपको जई का उपयोग करने की सलाह देंगे। पहली बात तो यह है कि इसमें कम कार्बोहाइड्रेट होता है। दूसरी बात यह है कि जई के आटे में जो कार्बोहाइड्रेट होता है वह धीरे-धीरे अलग होता है और एब्जोर्ब भी उतना ही धीमे होता है। इसलिए यह ज्यादा सेहतमंद होता है।

जई का आटा भोजन के पाचन और हमें सजग रहने के लिए उर्जा देता है, लेकिन यह दूसरे अनाजों के मुकाबले कम आसानी से फैट में बदलता है। दूसरी ओर, इसमें फाइबर की प्रचुर मात्रा होती है, जिसके कारण हमारी धमनियों में कोलेस्ट्रॉल के सटे रहने की क्षमता कम हो जाती है।

फिर भी, आपको सतर्क रहना चाहिए। आजकल बाज़ार में जई की बनी हुई ढेर सारी चीजें बिकती हैं। मगर आपको यह याद रखना चाहिये कि यह ज़रूरी नहीं है कि वे सब सेहतमंद हों। उनमें से कई ऐसी हैं जिनमें बहुत ज्यादा ट्रांस फैट होते हैं।

4. सोया

धमनियों की नेचुरल क्लीनिंग: सोया

आमतौर पर सभी फलियां आपकी धमनियों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देती हैं। लेकिन सोया उनमें सबसे ज्यादा असरदार है।

इसमें पाये जाने वाले आइसोफ्लेवॉन्स कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को काफी हद तक कम करते हैं।

आपको करीब-करीब हर सुपरमार्केट में किसी न किसी रूप में सोया मिल सकता है। यह किसी ड्रिंक या कैन में पैक की हुई स्प्राउट्स, या फिर टोफू जैसे प्रोसेस्ड प्रोडक्ट के रूप में उपलब्ध है। अगर आपने अभी तक इसे इस्तेमाल करके नहीं देखा है तो हमारी राय है कि इसे ज़रूर आजमायें।

शुरू में आपको यह थोड़ा फीका लग सकता है। लेकिन यह एक लाजवाब चीज है जिसे आप आसानी से किसी भी रेसिपी में शामिल कर सकते हैं।

5. टमाटर

टमाटर में प्रचुर मात्रा में लाइकोपीन होता है। यह जबरदस्त एंटीऑक्सीडेंट है। लेकिन जब आप अपनी धमनियों की नेचुरल क्लीनिंग करना चाहते हैं तो अपने डाइट में ज्यादा एंटीऑक्सीडेंट्स को शामिल करने की क्या ज़रूरत है?

कभी-कभार, रक्त में मौजूद तत्वों के ऑक्सीडेशन की वजह से धमनियां बंद हो जाती हैं।

टमाटर जैसी चीजों का सेवन करके धमनियों के बंद होने की इस प्रक्रिया का जोरदार मुकाबला किया जा सकता है। इसके अलावा टमाटर की सबसे अच्छी बात यह है कि आप इसे अपने सामान्य डाइट में कई प्रकार से सम्मिलित कर सकते हैं, जैसे सलाद, सॉस, ठंडा सूप, जूस आदि। यह लिस्ट बहुत लम्बी है।

हमने इन खाने की चीजों को केवल इसलिए नहीं चुना है कि इनमें धमनियों की नेचुरल क्लीनिंग करने की खूबियां हैं, बल्कि इसलिए भी कि ये चीजें आसानी से मिल जाती हैं और इनमें गुण अनेक हैं। इस मामले में और भी चीजों के बारे में जानकारी हासिल करने का विचार बहुत बढ़िया है। हमने उनचीजों को तरजीह दी है जिनको आप आसानी से पहचान सकते हैं और अपनी डाइट में अपना सकते हैं।

आप इनको ज्यादा मात्रा में लेना शुरू कर दें और अपने डाइट काअहम हिस्सा बना लें!

मुख्य तस्वीर: © wikiHow.com

Kelly, S. A. M., Summerbell, C. D., Brynes, A., Whittaker, V., & Frost, G. (2007). Wholegrain cereals for coronary heart disease. Cochrane Database of Systematic Reviews. https://doi.org/10.1002/14651858.CD005051.pub2

Balk, E. M., Lichtenstein, A. H., Chung, M., Kupelnick, B., Chew, P., & Lau, J. (2006). Effects of omega-3 fatty acids on serum markers of cardiovascular disease risk: A systematic review. Atherosclerosis. https://doi.org/10.1016/j.atherosclerosis.2006.02.012

Kim, M. S., Kim, J. Y., Choi, W. H., & Lee, S. S. (2008). Effects of seaweed supplementation on blood glucose concentration, lipid profile, and antioxidant enzyme activities in patients with type 2 diabetes mellitus. Nutrition Research and Practice. https://doi.org/10.4162/nrp.2008.2.2.62