पैरों की ख़ास ट्रीटमेंट के लिए आजमायें आइस वाटर

14 नवम्बर, 2018
आपके लिए पैरों को आइस वाटर में डुबोना काफी मुश्किल हो सकता है। लेकिन इसके कितने फायदे हैं, जब यह देखेंगे कि तो आप इस उपाय को छोड़ना नहीं चाहेंगे।

ईस्टर्न मेडिसिन आपके पैरों की ख़ास ट्रीटमेंट के लिए आइस वाटर का इस्तेमाल करने की सिफारिश करती है।

पैर शरीर का वह हिस्सा हैं जो सबसे ज्यादा तनाव और थकान का अनुभव करते हैं। लेकिन ईस्टर्न मेडिसिन एक कदम आगे जाती है। यह चेतावनी देती है कि पैरों के तलवों में बड़ी संख्या में उन नसों के आख़िरी सिरे होते हैं जो आपके शरीर के बाकी हिस्सों से जुड़ी होती हैं। इसका मतलब है, वे आपकी अच्छी सेहत का दरवाजा हैं जिनकी आपको उपेक्षा नहीं करनी चाहिए।

पैर आपके इम्यून सिस्टम तक पहुंचने का भी एक शानदार माध्यम हैं। जैसा कि आप जानते हैं, यह बाहरी खतरों के साथ-साथ अंदरूनी समस्याओं के खिलाफ आपको सुरक्षित रखने के प्रभारी हैं।

इस तरह से बर्फ के पानी में अपने पैरों को भिगोना किसी भी परेशानी का मुकाबला करने का एक आसान तरीका है।

पैरों को आइस वाटर में डुबोने के फायदे

बेशक आप जानते हैं, टीके कैसे काम करते हैं। वायरस या बीमारी को आपके शरीर में प्रवेश कराया जाता है ताकि वह एक ऐसी ढाल बना पाए जो आपको भविष्य में उस बीमारी से प्रभावित होने से बचा सके।

इस तर्क से, सर्दियाँ झेल पाने में अपने पैरों को तैयार करने के लिए ठंडा पानी इस्तेमाल करने की बात का एक अर्थ समझ में आता है। यह वैस्कुलर कॉन्ट्रैक्शन के साथ रक्त प्रवाह को उत्तेजित करता है जो पूरे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन को आसान बनाता है।

आपके पैर इस तरह की समस्याओं को भुगतते हैं; जबकि रक्त के लिए आपके पैरों की तरफ बहना आसान है, इसकी रिवर्स प्रक्रिया ज्यादा जटिल है। गुरुत्वाकर्षण या ग्रेविटी इसमें अहम रोल निभाती है।

इसलिए अपने पैरों को आइस वाटर में भिगोकर रक्त को हृदय तक पहुंचने के लिए प्रेरित करना आपके सर्कुलेटरी सिस्टम के लिए बड़ा अहम हो सकता है।

फिर भी, इसे अनुशासन के साथ और सही तरीके से करना सबसे अच्छा है। इस तरह आप इसके सभी फायदे उठा सकते हैं और किसी भी जटिलता की संभावना को ख़त्म कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: ख़राब लेग सर्कुलेशन की रोकथाम और उसका इलाज कैसे करें

पैरों को भिगोने के लिए आइस वाटर

हम जिस ट्रीटमेंट की चर्चा करने जा रहे हैं वह 15 दिनों के लिए है। इसे रात में करना सबसे अच्छा होता है जिससे आपका शरीर आराम कर सके और इसके तमाम फायदों को अवशोषित कर सके।

इसे करने के लिए बहुत ज्यादा समय की जरूरत नहीं है: आपको केवल 15 सेकंड के लिए अपने पैरों को भिगोना है।

आपको क्या चीजें चाहिए?

  • एक बाल्टी या एक ऊँची साइड वाला पैन जो आपके पैरों को रखने के लिए काफी बड़ा हो और इतना गहरा हो कि आप अपने पैरों को आइस वाटर में पूरी तरह से डुबो सकें।
  • पानी
  • लगभग 18 बर्फ के क्यूब्स

इसे कैसे करें?

  • एक बार जब तैयारी पूरी हो जाए तो पानी को ठंडा हो जाने के लिए इंतजार करें। अपने पैरों को आइस वाटर में डुबोएं जब तक वे पूरी तरह से ढक न जाएँ।
  • पहले कुछ पलों के दौरान आपको थोड़ा दर्द महसूस होगा, लेकिन चिंता न करें – आपके पैर पानी में जल्दी वॉर्म अप हो जाएंगे।

यह थर्मोडायनामिक्स के लॉ के कारण है: एक गर्म चीज ठंडी चीज को गरमाहट देती है जब तक कि दोनों का तापमान एक नहीं हो जाता है। 15 सेकंड के बाद, अपने पैरों को पानी से बाहर निकालें।

जैसा कि हमने पहले बताया है, यह सरल प्रक्रिया आपके शरीर को बेहतर ऑक्सीजन देगी। नतीजतन आपकी मांसपेशियों, हड्डियों, और अंगों को वह पोषण मिलेगा जिसकी उन्हें जरूरत है।

साथ ही, आप अपने को माइक्रोब और बैक्टीरिया के हमले से बचा रहे हैं जो हमेशा हवा में मौजूद होते हैं और आपको पकड़ने का इंतजार करते हैं।

इसे भी पढ़ें: 5 थाईज एक्सरसाइज जिन्हें आप घर पर कर सकती हैं

आइस वाटर में अपने पैरों को भिगोना एक ट्रीटमेंट भी है

अब तक हमने देखा, यह भविष्य में समस्याओं को रोकने में आपकी मदद करने का एक तरीका है। लेकिन अगर आपको जुकाम या फ्लू है तब भी यह आपके लिए बहुत बढ़िया है।

यदि आपको इनमें से एक बीमारी है तो उसी प्रक्रिया को चार घंटे के लिए दोहराएं।

बुखार को जल्दी कम करने के अलावा, आपका इम्यून सिस्टम इन्फेक्शन या जर्म्स के खिलाफ मजबूती से प्रतिक्रिया करेगा। आपकी बीमारी कुछ दिनों के अंदर गायब हो जाएगी और उसकी वजह से होने वाली असुविधा भी चली जाएगी।

इस मामले में, जहरीले पदार्थों और अन्य नुकसानदेह तत्वों को हटाने के लिए अपने पैरों को ठंडे और गर्म पानी में बारी-बारी भिगोना एक अच्छा आईडिया है।

इस संयोजन के साथ, आप बर्फ के माध्यम से अपने शरीर को मजबूत बनायेंगे और फिर किसी भी बचे हुए जहरीले पदार्थ को बाहर निकालेंगे। जैसा कि आप देख सकते हैं, यह विचार कि जब आप कनजस्टिड होते हैं तो आपको पानी से बचना चाहिए इसके पीछे ज्यादा सच्चाई नहीं है।

यह आपकी रोजमर्रा की गतिविधियों के दौरान परेशानी में डालने वाली दशाओं को दूर करने का एक आसान और सस्ता तरीका है। यह आपको ताजी एनर्जी के साथ अगले दिन का सामना करने के लिए अपने पैरों को रेस्ट और रिलैक्स करने में भी मदद करता है।

यह आपको दिन भर के तनाव से मुक्त होने में मदद करेगा। यह उस पल को मार्क भी करेगा जब आपका अपने आप के लिए समय शुरू होता है। आप अपने दायित्वों को पूरा कर चुके हैं।

अब आपकी बारी है: क्या आप इसे आजमाना चाहते हैं?

  • Block JE. Cold and compression in the management of musculoskeletal injuries and orthopedic operative procedures: a narrative review. Open Access J Sports Med. 2010;1:105–113. Published 2010 Jul 7.
  • Mac Auley, D. C. (2001). Ice therapy: how good is the evidence? International Journal of Sports Medicine.
  • Mooventhan A, Nivethitha L. Scientific evidence-based effects of hydrotherapy on various systems of the body. N Am J Med Sci. 2014;6(5):199–209. doi:10.4103/1947-2714.132935
  • White GE, Wells GD. Cold-water immersion and other forms of cryotherapy: physiological changes potentially affecting recovery from high-intensity exercise. Extrem Physiol Med. 2013;2(1):26. Published 2013 Sep 1. doi:10.1186/2046-7648-2-26