हड्डियों और जोड़ों को मज़बूत बनाने वाला अनोखा नेचुरल ट्रीटमेंट

08 जुलाई, 2018
एक ऐसी स्वादिष्ट और पूरी तरह प्राकृतिक रेसिपी के बारे में जानिये जो आपकी हड्डियों और जोड़ों को मजबूत करती है।
 

हड्डियों और जोड़ों को मज़बूत बनाने के लिए हमेशा लेबोरेटरी में बनी दवाइयों की ज़रूरत नहीं होती। वास्तव में, इसके लिए शानदार प्राकृतिक विकल्प भी मौजूद हैं। इन्हें आप कॉम्प्लीमेंट के तौर पर या मुख्य ट्रीटमेंट के तौर पर इस्तेमाल में ला सकते हैं।

हड्डियां और जोड़ शरीर को सहारा देते हैं। जाहिर है कि इनकी किसी भी तकलीफ़ या बीमारी पर ध्यान देना ज़रूरी है। इससे ये आपके रोज़मर्रा के कामों को प्रभावित नहीं कर पाएंगी। इस तरह आप अपने जीवन की गुणवत्ता में आने वाली किसी भी रुकावट से बच सकते हैं।

यह ध्यान रखना ज़रूरी है कि समय बीतने के साथ आपका शरीर धीरे-धीरे ख़राब होता चला जाता है। अक्सर, सूजन, इन्फेक्शन, ट्रॉमा और कई तरह की क्रॉनिक बीमारियों के कारण हड्डियों और जोड़ों के दर्द उभरने लगते हैं।

हालाँकि, ये लक्षण तरह-तरह के हो सकते हैं। ये ज़िन्दगी के किसी-न-किसी पड़ाव पर हर किसी में उभरते ही हैं। ऐसा हो तो किसी स्पेशलिस्ट से सलाह लेने के बाद, अपनी हड्डियों और जोड़ों को मज़बूत करने के तरीके आज़मा कर देख सकते हैं।

हड्डियों और जोड़ों को मज़बूत करने के ज़्यादातर विकल्प लाइफस्टाइल की स्वस्थ आदतों और प्राकृतिक इलाज के मेल से ही बनते हैं। यह संयोजन कॉम्प्लीकेशन्स से बचने में हमारी मदद करता है।

नेचर में ऐसे कई स्रोत हैं जो स्वास्थ्य से जुड़े बेहतरीन लाभ पहुंचाते हैं। वास्तव में, लेबोरेटरी वाली कई दवाइयां प्राकृतिक सामग्रियों से ही बनी होती हैं। कम-से-कम उनको बनाने में कुछ प्राकृतिक सामग्रियां तो इस्तेमाल होती ही है। उदाहरण के लिए पौधे, बीज, तेल वगैरह।

हड्डियों और जोड़ों के लिए एक अनोखा प्राकृतिक विकल्प

हड्डियों और जोड़ों के लिए अनोखा नेचुरल ट्रीटमेंट

अब, हम आपको एक ऐसे प्राकृतिक इलाज का विकल्प बताएँगे जिसमें सूजन कम करने वाले तत्त्वों के साथ-साथ एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। ये आपके शरीर में जाकर आपकी हड्डियों को मज़बूत बनाने और जोड़ों की समस्या को कम करने में आपकी सहायता करते हैं। हम कुछ विशेष बीजों के गुणों को शहद, किशमिश और जिलेटिन जैसी सामग्रियों के साथ मिलाकर पोषक तत्त्वों का ऐसा स्रोत बनाएंगे जिसमें सूजन और दर्द घटाने की जबरदस्त खूबियाँ होंगी।

 

यह नेचुरल ट्रीटमेंट बिलकुल अनोखा है, क्योंकि इसमें प्राकृतिक एंजाइम, फाइबर और एमिनो एसिड की बहुत अधिक मात्रा होती है। इनको शरीर में सोख लिये जाने पर हड्डियों और जोड़ों को जबरदस्त मजबूती मिलती है। बार-बार की परेशानियाँ घटती हैं। इसके कुछ दूसरे फायदे नीचे दिए गए हैं:

  • कैल्शियम और मैग्नीशियम ऐसे जरूरी मिनरल हैं, जो हड्डियों के घनत्व को बनाए रखने में सहायता करते हैं, विशेषकर उन शारीरिक दशाओं में जिनमें हड्डियों के कमज़ोर हो जाने की संभावना ज्यादा होती है।
  • इससे कुछ मात्रा में पोटैशियम भी मिलता है। यह ऐसे पोषक तत्वों में से एक ही जो सोडियम के स्तर को संतुलित करता है और शरीर में तरल के जमाव को रोकता है।
  • इसमें भरपूर मात्रा में ओमेगा 3 फैटी एसिड होते हैं। ये टिश्यू की सूजन और सर्कुलेटरी समस्याओं को घटाने में सहायक होते हैं।
  • इसमें प्रोटीन, विटामिन और एंटीऑक्सीडेंट की काफी ज्यादा मात्रा होती है जो जोड़ों के रखरखाव के लिए कोलेजन के उपयुक्त निर्माण को बनाए रखने में मदद करते हैं।
  • अगर आप इसे रोज लें, तो यह नेचुरल ट्रीटमेंट आपमें चुस्ती-फुर्ती लाता है। इसका प्रभाव दिन भर आपके शारीरिक और मानसिक परफॉर्मेंस को चुस्त-दुरुस्त करता है।

इसे भी पढ़ें:

11 अनूठे फायदे पारदर्शी जिलेटिन के

हड्डियों और जोड़ों को मजबूत बनाने की रेसिपी

हड्डियों और जोड़ों के लिए अनोखा नेचुरल ट्रीटमेंट: जिलेटिन

सामग्री

  • 2 बड़े चम्मच कद्दू के बीज (pumpkin seeds)
  • दो बड़े चम्मच तिल (sesame seeds)
  • 2 बड़े चम्मच बिना फ्लेवर का जिलेटिन
  • 5 बड़े चम्मच अलसी के बीज (flax seeds)
  • 3 बड़े चम्मच किशमिश (raisins)
  • 1 कप शहद (honey)

बनाने की विधि

  • सबसे पहले, बीजों को एक ब्लेंडर में डाल दें।
  • उसमें किशमिश और शहद के साथ-साथ बिना फ्लेवर का जिलेटिन भी मिला दें।
  • ब्लेंडर को सबसे तेज स्पीड पर 2 या 3 मिनट तक चलाकर सामग्रियों को तब तक पीसें जब तक आप को बिना गांठों वाला एक चिकना मिश्रण ना मिल जाए।
 
  • मिश्रण के तैयार हो जाने पर इसे एक बंद बर्तन में डालकर फ्रिज में रख दें।

पीने की विधि

  • हो सके तो इसे खाली पेट पिएं।
  • लंच से पहले इसका एक छोटा गिलास पिएं और अगर आप चाहें तो डिनर से पहले भी इसे पी सकते हैं।
  • इसका असर दिखने के लिए इसे लंबे समय तक लेते रहें।
  • इस औषधि को आधा कप गर्म पानी में मिलाकर पतला भी किया जा सकता है ताकि इसे आसानी से पिया जा सके।
  • इसे फ्रिज में ही रखें (ज्यादा से ज्यादा 2 महीने तक)

इसे भी बढ़ें:

दालचीनी और नींबू: एक सनसनीखेज उपचार, आज़मा कर देखें

अन्य सुझाव

हड्डियों और जोड़ों के लिए अनोखा नेचुरल ट्रीटमेंट: पानी

इस प्राकृतिक ट्रीटमेंट के नतीजों को और बेहतर करने के लिए, यह जरूरी है कि हम स्वस्थ खानपान की आदतें अपनाएँ। इसके लिए हमारे कुछ सुझाव ये रहे।

  • सॉफ्ट ड्रिंक, जंक फूड, सोडियम और चीनी के सेवन को सीमित ही रखें।
  • फल, सब्ज़ियों, बिना फैट वाला मीट और साबुत अनाजों के सेवन को बढ़ाएं।
  • सब्ज़ियों से निकले दूध (जो कैल्शियम और मैग्नीशियम से भरपूर हों) का सेवन करें।
  • अगर आपके शरीर में सूजन या फ्लूइड रिटेंशन है, तो जमकर पानी पियें और ड्यूरेटिक ड्रिंक (मूत्र बढ़ाने वाले) का सेवन करें
  • अपनी ज़रूरत और शारीरिक क्षमता के मुताबिक़ पूरा आहार और साथ में फिजिकल ट्रेनिंग भी अपनाएँ

क्या आपको अपने जोड़ों में दर्द और भारीपन महसूस होता है? क्या आप हड्डियों से जुड़ी समस्याओं के होने से परेशान हैं? आगे बढ़िए और घर पर इस प्राकृतिक औषधि को बनाइये। यह आपको तंदुरुस्त और स्वस्थ बनाने में मदद करेगी

 
  • Moskowitz RW, “Role of collagen hydrolysate in bone and joint disease”, Semin Arthritis Rheum. 2000 Oct;30(2):87-99.
  • Koitaya N, Sekiguchi M, Tousen Y, Nishide Y, Morita A, Yamauchi J, Gando Y, Miyachi M, Aoki M, Komatsu M, Watanabe F, Morishita K, Ishimi Y., “Low-dose vitamin K2 (MK-4) supplementation for 12 months improves bone metabolism and prevents forearm bone loss in postmenopausal Japanese women”, J Bone Miner Metab. 2014 Mar;32(2):142-50.
  • Jennings A, MacGregor A, Spector T, Cassidy A, “Amino Acid Intakes Are Associated With Bone Mineral Density and Prevalence of Low Bone Mass in Women: Evidence From Discordant Monozygotic Twins”, J Bone Miner Res. 2016 Feb;31(2):326-35.