11 अनूठे फायदे पारदर्शी जिलेटिन के

जून 12, 2018
हमारी शारीरिक मज़बूती को बढ़ाने के अलावा, जिलेटिन हमे आराम पहुँचाने में और नीद न आने जैसी परेशानियों से छुटकारा दिलाने में भी बहुत सहायक है।

क्लियर जिलेटिन एक अर्ध ठोस और बेरंग पदार्थ है। यह कोलेजेन से प्राप्त होता है और इसे जानवरों के कनेक्टिव टिश्यू को उबाल कर बनाया जाता है।

यह 98% काम्प्लेक्स प्रोटीन और 2% मिनरल के मिश्रण से बना है। जब आप इसे पानी में मिलाते हैं, तब यह आपके शरीर को कई फायदे देता है।

अपने टेक्सचर और चीज़ों को गाढ़ा करने की क्षमता के कारण इसे पेस्ट्री और दूसरे व्यंजन बनाने के लिए उपयोग में लाया जाता है।
लेकिन एक खाद्य सामग्री होने के अलावा भी, इसमें कई औषधीय गुण हैं।
इन गुणों के चलते यह कई बीमारियों की रोकथाम और उनसे लड़ने में हमारी मदद करता है।

कई लोग जिलेटिन की खूबियों का फायदा उठाते हैं, लेकिन हममें से कई ऐसे भी हैं जो इसके सभी गुणों से अनजान हैं।

आज इस लेख में हम आपको जिलेटिन के 11 अनूठे फायदों के बारे में बताएँगे।

1. जिलेटिन शरीर से जहरीले तत्वों की सफाई करता है

जिलेटिन में ग्लाइसिन पाया जाता है। यह एक प्रकार का एमिनो एसिड है और लीवर से विषैले तत्वों को निकालने में बहुत सहायक है।

यह एक्स्क्रेटरी ऑर्गन यानी उत्सर्गी अंगों के लिए सहायक है। लीवर के सुचारू रूप से काम करने के लिए यह बहुत ज़रूरी है।

जिलेटिन के शरीर में जाने पर फ्री रेडिकल्स खत्म होते हैं।

2. जिलेटिन पाचन क्रिया को सुधारता है

जिलेटिन एक हाइड्रोफिलिक फ़ूड है। इसका अर्थ यह है कि पकाए जाने के बाद भी यह तरल पदार्थों को सोख लेता है।

इसकी यह विशेषता पाचन की प्रक्रिया को सुधारने में सहायक है।

  • जिलेटिन से पाचन प्रक्रिया सुधरती है।
  • यह शरीर के अंदर बनने वाले जूस को बनाए रखता है और ठोस भोजन को पचाने में मदद करता है।
  • जिलेटिन के शरीर में सोख लिए जाने पर आँतों के अन्दर चल रही गतिविधियों में सुधार आता है।
  • कोलोन में खाना फंसने की सम्भावना भी खत्म हो जाती है।

ग्लाइसीन के फायदों को चलते शरीर में मौजूद गैस्ट्रिक म्यूकस मेम्ब्रेन की मरम्मत संभव होती है। इस कारण हमारे शरीर को ज़्यादा से ज़्यादा पौष्टिक तत्व मिल पाते हैं। 

3. जिलेटिन हड्डियों और जोड़ों की सेहत में सुधार लाता है

 जिलेटिन: हड्डियों और जोड़ों में होता सुधार

 

  • जिलेटिन में भारी मात्रा में मौजूद सभी ज़रूरी एमिनो एसिड्स हड्डियों और जोड़ों की रक्षा करने में सक्षम हैं।
  • इसकी जलन रोकने की क्षमता हड्डियों और जोड़ों के दर्द को कम करती है।
  • आर्थराइटिस और ओस्टेओआर्थराइटिस जैसे रोगों के होने का खतरा भी कम हो जाता है।

4. जिलेटिन प्रोटीन का स्रोत है

जिलेटिन में 90% तक हाई वैल्यू प्रोटीन पाए जाते हैं।

  • सबसे पहले तो ये शरीर की उर्जा को बढ़ाते हैं।
  • साथ ही ये मासपेशियों को भी ताकत देते हैं, शरीर को ज्यादा मज़बूत बनाते हैं।

एमिनो एसिड को आसानी से सोख लेने की इसकी खूबी के कारण खिलाड़ियों को और गर्भवती महिलाओं को इसका बहुत लाभ मिलता है।

5. नाखून और बालों को मज़बूत बनाता है

जिलेटिन: नाखूनों और बालों की मज़बूती बढ़ाता है

इस नेचुरल तत्व के अन्दर केराटिन पाया जाता है।  केराटिन के उपचार से नाखूनों और कमज़ोर बालों को मज़बूत किया जा सकता है।

आप जिलेटिन के इस गुण का फायदा दो तरीकों से उठा सकते हैं।

  • इसे खा सकते हैं।
  • ऊपरी तौर पर नाखूनों और बालों पर लगा सकते हैं।

6. यह आपकी त्वचा में सुधार लाता है

कोलेजन एकमात्र ऐसा पदार्थ है जिसका सबसे अधिक प्रयोग लोशन और कॉस्मेटिक क्रीम में किया जाता है।

जिलेटिन के अंदर पके हुए कोलेजन का आधार होता है। इसके चलते यह आपकी त्वचा को ज़रूरी एमिनो एसिड प्रदान करता है।  इससे त्वचा को जवां और स्वस्थ्य रहने में मदद मिलती है। 

इसके नियमित उपयोग से सूरज से निकलती हानिकारक किरणों और अन्य टॉक्सिन के दुष्प्रभाव कम होते हैं।  त्वचा पर समय से पहले झुर्रियाँ नहीं पड़ती और त्वचा जवां दिखती है। 

7. चिंता और एंग्जायटी को कम करने में सहायक है

 जिलेटिन: चिंता और एंग्जायटी को घटाने में सहायक

ग्लाइसिन अपनी प्राकृतिक खूबियों की वजह से शांति और ठंडक पहुँचाता है। यह नोरपीनेफ्राइन के अत्यधिक उत्पादन को रोकने में सक्षम है। नोरपीनेफ्राइन वह हार्मोन है जो चिंता और एंग्जायटी से जुड़ा हुआ है।

ग्लाइसिन से हमारे शरीर का नर्वस सिस्टम संतुलित होता है। साथ ही यह चिंता और एंग्जायटी से जुड़े हार्मोन की बढ़त को भी नियंत्रित करता है।

8. आँतों की बाहरी दीवार की मरम्मत

जिलेटिन में मौजूद एसेंशियल एलिमेंट रोगाणुओं को आँतों की बाहरी दीवार में घुसने से रोकते हैं।

कई बार इंटेसटिनल वाल यानी आँतों की बाहरी दीवार पर खाने से जुड़ी एलर्जी या रोगों का आक्रमण होता है। यह इस दीवार की मरम्मत करके रोगों और बीमारियों से बचाता है।

इस शारीरिक सुधार के चलते हमारे शरीर को खाने के सभी पौष्टिक तत्व मिल पाते हैं। शरीर स्वस्थ्य बना रहता है।

9. यह सोने में मदद करता है

जिलेटिन: सोने में मददगार

जिन लोगों को नींद न आने की शिकायत है, जिलेटिन उनके लिए बहुत सहायक सिद्ध हो सकता है।

  • इसे नियमित रूप से अपनी खुराक में शामिल करने से उन्हें इस समस्या से छुटकारा मिल सकता है।
  • इसमें मौजूद एमिनो एसिड और मिनरल्स मेलाटोनिन का उत्पादन बढ़ाते हैं।
  • मेलाटोनिन एक ऐसा हार्मोन है जो अच्छी नींद लाने के लिए बहुत लिए ज़रूरी है।

10. वजन घटाने में मददगार

अपनी कम कैलोरी और हाई प्रोटीन से जिलेटिन वजन घटाने में मदद करता है।

इसके अन्दर मौजूद तत्व बेवजह ज़्यादा भूख लगने पर रोक लगाते हैं। साथ ही ये शारीरिक क्षमता को भी विकसित करते हैं।

11. यह चिकित्सा प्रक्रिया को तेज़ करता है

इसमें मौजूद सूजन कम करने वाले गुण अंदरूनी और बाहरी चोटों की हीलिंग प्रोसेस को तेज़ करते हैं।

यही कारण है कि अल्सर जैसे रोगों के उपचार में यह बहुत कारगर है।

इसके अलावा जिलेटिन के बहुमुखी गुण शरीर को कई अन्य फ़ायदे भी पहुंचा सकते हैं।

हमारी सलाह है कि, नियमित रूप से इसका प्रयोग करें और इसके सभी लाभकारी गुणों का फ़ायदा उठाएँ!

  • Liu, D., Nikoo, M., Boran, G., Zhou, P., & Regenstein, J. M. (2015). Collagen and Gelatin. Annual Review of Food Science and Technology6(1), 527–557. https://doi.org/10.1146/annurev-food-031414-111800
  • Hanani, Z. A. N. (2015). Gelatin. In Encyclopedia of Food and Health (pp. 191–195). Elsevier Inc. https://doi.org/10.1016/B978-0-12-384947-2.00347-0
  • Gomez-Guillen, M. C., Gimenez, B., Lopez-Caballero, M. E., & Montero, M. P. (2011, December). Functional and bioactive properties of collagen and gelatin from alternative sources: A review. Food Hydrocolloids. https://doi.org/10.1016/j.foodhyd.2011.02.007
  • Rapin JR, Wiernsperger N. Possible links between intestinal permeability and food processing: A potential therapeutic niche for glutamine. Clinics (Sao Paulo). 2010;65(6):635–643. doi:10.1590/S1807-59322010000600012
  • Cruz, M., Maldonado-Bernal, C., Mondragón-Gonzalez, R., Sanchez-Barrera, R., Wacher, N. H., Carvajal-Sandoval, G., & Kumate, J. (2008). Glycine treatment decreases proinflammatory cytokines and increases interferon-γ in patients with Type 2 diabetes. Journal of Endocrinological Investigation31(8), 694–699. https://doi.org/10.1007/BF03346417
  • Moskowitz, R. W. (2000). Role of collagen hydrolysate in bone and joint disease. Seminars in Arthritis and Rheumatism30(2), 87–99. https://doi.org/10.1053/sarh.2000.9622
  • University of Southern California – Health Sciences. “Gelatin instead of the gym to grow stronger muscles.” ScienceDaily. ScienceDaily, 1 July 2016.
  • Noma T, Takasugi S, Shioyama M, et al. Effects of dietary gelatin hydrolysates on bone mineral density in magnesium-deficient rats [published correction appears in BMC Musculoskelet Disord. 2017 Oct 24;18(1):422]. BMC Musculoskelet Disord. 2017;18(1):385. Published 2017 Sep 5. doi:10.1186/s12891-017-1745-4
  • Ozeki, M., & Tabata, Y. (2002). Promoted growth of murine hair follicles through controlled release of vascular endothelial growth factor. Biomaterials23(11), 2367–2373. https://doi.org/10.1016/S0142-9612(01)00372-6
  • Inoue, N., Sugihara, F., & Wang, X. (2016). Ingestion of bioactive collagen hydrolysates enhance facial skin moisture and elasticity and reduce facial ageing signs in a randomised double-blind placebo-controlled clinical study. Journal of the Science of Food and Agriculture96(12), 4077–4081. https://doi.org/10.1002/jsfa.7606
  • Yamadera, W., Inagawa, K., Chiba, S., Bannai, M., Takahashi, M., & Nakayama, K. (2007). Glycine ingestion improves subjective sleep quality in human volunteers, correlating with polysomnographic changes. Sleep and Biological Rhythms5(2), 126–131. https://doi.org/10.1111/j.1479-8425.2007.00262
  • Jéquier, E., & Tappy, L. (1999). Regulation of body weight in humans. Physiological Reviews79(2), 451–480. https://doi.org/10.1152/physrev.1999.79.2.451
  • Jang, H. J., Kim, Y. M., Yoo, B. Y., & Seo, Y. K. (2018). Wound-healing effects of human dermal components with gelatin dressing. Journal of Biomaterials Applications32(6), 716–724. https://doi.org/10.1177/0885328217741758