महज 15 मिनट में शरीर को एनर्जी से भरपूर बनायें

जुलाई 1, 2019
जब आप अपनी उंगलियों को दिन में महज 15 मिनट मालिश करते हैं, तो इसका जबरदस्त फायदा हो सकता है। उन उंगलियों पर ध्यान देना अहम है जो आपको ख़ास तौर पर परेशान कर रही हैं।

विभिन्न बीमारियों के इलाज के लिए कई पारंपरिक जापानी ट्रीटमेंट दुनिया भर में मशहूर हुई हैं। इनमें कई शरीर की एनर्जी से जुड़ी हैं।

पहले ही बता देना चाहिए कि ज्यादातर बीमारियों में चिकित्सकीय हस्तक्षेप और ट्रीटमेंट की ज़रूरत होती है है। लेकिन कुछ स्थितियां हैं जिनमें ये वैकल्पिक नुस्खे राहत दे सकते हैं।

वे अक्सर शारीरिक और मानसिक संतुलन हासिल करने में आपकी सहायता करने की कोशिश करते हैं। ये इन दोनों आयामों के बीच आपसी संपर्क को नियंत्रित करने पर आधारित हैं।

उनके असर से आपके शरीर में एनर्जी लेवल बढ़ सकता है और एंग्जायटी व अन्य नेगेटिव भावनाओं जैसे विभिन्न स्ट्रेस-संबंधी लक्षणों को काबू में रखते हैं।

इस तरह की अल्टरनेटिव मेडिसिन में जिन शिन ज्यत्सू, या “मानव जाति के माध्यम से निर्माता की कला” भी है। इसे साल 1900 में बुद्धिमान जिरो मुराई ने विकसित किया था। उनका मकसद हाथों के माध्यम से आत्मा और शरीर के बीच संतुलन कायम करना था

यह इस विश्वास पर आधारित है कि अस्तित्व में मौजूद सबकुछ में वाइटल एनर्जी है जो इसके जीवनी शक्ति को दर्शाता है।

यह आपके शरीर में विभिन्न स्तरों में घूमता रहता है और जब यह एक हार्मनी तक पहुंचता है, तो निर्बाध बहने लगता है।

जिन शिन ज्यत्सू (Jin Shin Jytsu) थेरेपी क्या है?

शरीर को एनर्जी से भरपूर बनायें

जिन शिन ज्यत्सु के अनुसार मानव शरीर में तीन मुख्य एनर्जी चैनल हैं:

  • सेन्ट्रल चैनल बड़े अंडाकार रूप में, चेहरे से शुरू होकर सीने की ओर गिरते हुए पेट, कूल्हों और अंततः स्पाइनल कॉलम से होकर सिर की ओर जाता है।
  • अन्य दो चैनलों को सुपरवाइजरी चैनल के रूप में जाना जाता है। ये घुटनों के भीतर शुरू होते हैं।
  • बाँया सुपरवाइजरी चैनल शरीर के उस भाग में सभी क्रियाओं को नियंत्रित करता है, इसका सम्बन्ध आपके अतीत, तर्क, और आपके आनुवांशिकी के साथ है
  • दायाँ चैनल शरीर के उस भाग के कार्यों को नियंत्रित करता है और इसका सम्बन्ध वर्तमान, अंतर्ज्ञान और पुनर्जन्म से है।
  • अंत में, एक डाइगोनल प्रवाह भी है, जो सुपरवाइजरी चैनलों में सामंजस्य स्थापित करता है हैं और आपके एनर्जी सिस्टम को व्यवस्थित करता है।

इस तकनीक का मुख्य उद्देश्य शारीरिक और भावनात्मक अवस्था को संतुलित करते हुए आपके भीतर और ब्रह्मांड में शांति लाना है।

कृपया पढ़ें: 7 चीज़ें जो बताती हैं कि आप बहुत तनाव में हैं

यह अल्टरनेटिव थेरेपी कैसे काम करती है?

शरीर को एनर्जी

जिन शिन ज्यत्सू थेरेपी पूरे शरीर में वितरित होने वाली एनर्जी को चैनल करने पर फोकस करती है

यह मानता है कि आपके हाथ के प्रत्येक स्थान का आपके शरीर के एक या ज्यादा अंगों के साथ-साथ आपकी भावनाओं के साथ विशेष बंधन है।

इसका मतलब है, इस तकनीक के माध्यम से आप अपने शारीरिक स्वास्थ्य और भावनात्मक स्थिति में सुधार ला सकते हैं।

इसे कैसे किया जाता है?

जैसा कि हमने ऊपर बताया, आपके हाथ का प्रत्येक भाग एक विशेष अंग का प्रतिनिधित्व करता है। इस थेरेपी के लिए, जिसे आप ठीक करना चाहते हैं उस क्षेत्र के चारों ओर सावधानी से एक उंगली को लपेटें

सबसे पहले आपको अपनी बाहों को क्रॉस करना है और अंगूठे को आगे की ओर रखते हुए अपने हाथों को बांहों के नीचे रखना है।

एक बार जब आप इस स्थिति में आ जाएँ तो गहरी साँस लें और इसे अपनी खोपड़ी से लेकर अपने पूरे शरीर में, अंगूठे के नीचे बहता महसूस करें।

फिर इसे दोहरायें लेकिन इस बार इसे अपनी रीढ़ की हड्डी से होकर बहता हुआ महसूस करें।

इस एक्सरसाइज को करने के बाद, प्रत्येक अंगुली पर तीन मिनट तक मालिश करें। बाएं हाथ की मालिश सुबह करें और रात को दाहिने हाथ की।

प्रत्येक उंगली की मालिश करने से पहले, आप क्या कर रहे हैं और जिस क्रम में इसे किया जाना चाहिए, उसके बारे में सोचें।

शरीर को एनर्जी से भरपूर: अंगूठा

अंगूठा

अंगूठा आपकी बाहों और पेट का प्रतिनिधि है। जब दोनों दर्द में होते हैं तो आप डिप्रेशन और एंग्जायटी जैसी भावनाओं का अनुभव कर सकते हैं।

इसके लक्षणों में घबराहट, पेट दर्द और सिरदर्द हो सकते हैं।

तर्जनी (Index finger)

यह उंगली आपकी किडनी और मूत्राशय से जुड़ी है, साथ ही साथ इसका सम्बन्ध भ्रम और भय जैसी भावनाओं से है। जिन संकेतों के साथ यह प्रकट होता है उनमें पाचन की गड़बड़ी, पीठ दर्द और दांत दर्द शामिल हैं।

मध्यमा ( middle finger)

आपकी बीच की उंगली लीवर और क्रोध से जुड़ी है। इसका सम्बन्ध माइग्रेन, दृष्टि की समस्याएं या थकान से है

इस आलेख पर जाएं: 5 लक्षण कार्डियक अरेस्ट के जो केवल महिलाओं में दिखते हैं

अनामिका (ring finger)

आपके कोलन और फेफड़े इस उंगली से जुड़े हैं, जैसे डिप्रेशन और निराशा की भावनाएं हैं।

आप अपच, अस्थमा और सांस लेने में तकलीफ के लक्षणों का अनुभव कर सकते हैं

कानी अँगुली

आपकी कानी अँगुली आपके दिल और छोटी आंत के हेल्थ से जुड़ी है। यह ऐसे व्यवहार से भी जुड़ी है जिसमें आप ऐसा कुछ होने का नाटक करते हैं जो आप नहीं हैं।

इस थेरेपी से आप अपनी एकाग्रता के लेवल को मजबूत कर सकते हैं और अपने  शरीर की एनर्जी लेवल को व्यवस्थित कर सकते हैं

इसके फायदों को देखने के लिए बस दिन में 15 मिनट खर्च करें।