7 ऊर्जा खपाऊ आदतें जिन्हें इसी वक्त छोड़ देना चाहिए

जुलाई 19, 2018
हर व्यक्ति के पास रोज़ाना उपयोग करने के लिए एक निश्चित मात्रा में ऊर्जा होती है। हमें सीखना चाहिए कि बेकार की चीजों पर वक्त बर्बाद किए बिना बुद्धिमानी से कैसे इसका उपयोग किया जाए।

अगर आपको लगता है कि आपका एनर्जी लेवल तेजी से कम हो रहा है, तो यह लेख आपके लिए है। क्योंकि अब वक्त आ गया है जब अपनी बेकार की ऊर्जा खपाऊ आदतें छोड़ दी जाएँ।

हम दबाव के बीच भी शांत और धीर-स्थिर रह पाते हैं। इसके लिए धैर्य, दृढ़ता और बेशक बुद्धि जैसे इंसानी स्किल को धन्यवाद!

लेकिन, अगर असंतुलन पैदा हो जाए तो? ऊर्जा हमारी रोज़मर्रा की गतिविधियों में एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। हालांकि जब ऊर्जा खपाऊ आदतों का खामियाजा भुगतना पड़े, तो दिन के दौरान एनर्जी लेवल को ऊँचा बनाए रखना बहुत मुश्किल हो जाता है।

ज्यादा तेज़-तर्रार और सृजनशील बने रहने की खातिर हर गतिविधि के लिए ज़रूरी वक्त को ध्यान में रखते हुए दिन भर लगने वाली ऊर्जा को नियंत्रित करने के लिए एक प्लान बनाना महत्वपूर्ण रहेगा।

यह और कुछ नहीं, मनचाही सेहत पाने के लिए शारीरिक और भावनात्मक जरूरतों को संतुलित करना है।

इसकी कुंजी अपने शरीर के साथ तालमेल बिठाकर काम करने में है, उस गति से जिसमें आपका दिमाग और शरीर ही निर्देशक हों, शरीर को इस सीमा से आगे धकेलने में नहीं।

अक्सर हमारी आदत बिना आराम किये घंटों काम करने की बन जाती है।  फुर्सत मिलने पर समझ में ही नहीं आता कि क्या करें।

कई हिस्सों को बीच में ही छोड़कर हम इकट्ठे कई काम करने की कोशिश करते हैं। 

ऊर्जा खपाऊ आदतों की यह फेहरिश्त लम्बी है जो आपको थका सकती हैं:

आप किसी के लिए भावनात्मक बोझ उतारने का स्थान हैं

7 ऊर्जा खपाऊ आदतें

सुनने में यह कड़वा लगता है पर ऐसे जहरीले लोग होते हैं जो आपका इस्तेमाल सिर्फ अपनी समस्याओं, चिड़चिड़ाहट, भय और निराशा का कूड़ा-कचरा फेंकने के डस्टबीन के रूप में करते हैं।

यह बेहतर है होगा कि आप उन्हें अपने को उस नेगेटिव एनर्जी से भरने की इज़ाज़त न दें, कम से कम हर समय तो नहीं ही। आखिरकार, ऐसी ऊर्जा खपाऊ आदतेंअनजाने में ही आप पर रोज़ असर डालेंगी।

इस चुनाव का पावर आपके पास है, कि किसे अपनी दुनिया में आने देना है और किसके साथ वक्त गुजारना है। संभव है कि आप किसी खास व्यक्ति को बहुत चाहते हैं, पर वह आपके निजी विकास में हस्तक्षेप कर रहा हो और यह वक्त संबंधों को तोड़ने का हो।

यह जीवन का एक स्वाभाविक हिस्सा है, आपके आस-पास का हर व्यक्ति दो चीजों में से कोई एक को करेगा, आपको बढ़ने में मदद करेगा या आपको नीचे लायेगा।

यहां तक ​​कि अगर किसी के इरादे अच्छे हैं, तो भी यह जरूरी नहीं कि वह आपकी मदद ही कर रहा है। ऐसे लोगों के साथ आप जो वक्त बिताते हैं उसे कम करना शुरू करें।

नकारात्मक और जहरीले लोगों के बारे में और जानें:

6 प्रकार के नेगेटिव लोग: इनसे बचें

ऊर्जा खपाऊ आदतें: आप अपने वायदे पूरे नहीं करते

आपने अपने वायदों को क्यों नहीं पूरा किया? शायद आपने समय के साथ अपना इरादा बदल लिया हो, लेकिन आपको अमल करना चाहिए, अपनी ज़िम्मेदारियों से दूर न भागें।

अगर आप अब अपना वादा नहीं पूरा करना चाहते हैं, तो दूसरा विकल्प दें और बातचीत करें।

जो अनिवार्य ज़रूरत है, उसे टालने से समय नष्ट होता है। समय पर अपने वायदे को निभायें ताकि अन्य लोग आपको गंभीरता से ले सकें।

शायद यह कहने का पल आ गया है, “अब बस, मैं इसे नहीं करना चाहता!” और यह बिल्कुल ठीक है। वर्षों तक नेगेटिव परिणामों से निपटने के बजाय, आपको कैसा लगता है, यह सीधे व्यक्त करना बेहतर होता है।

ऊर्जा खपाऊ आदतें: आप प्राथमिकता तय नहीं करते

7 ऊर्जा खपाऊ आदतें: प्रायोरिटी

आप वास्तव में जीवन में क्या चाहते हैं? उसे पाने की कोशिश करें जो आपको भावनात्मक और शारीरिक स्तर पर संतुष्टि देता है ताकि आपको जीवन में शांति मिल सके।

अपनी दिनचर्या को बेतुका कामों से भर देने से आपका नियंत्रण खो जायेगा। फलस्वरूप आप हर किसी की जरूरतों को पूरा करेंगे और जिस चीज से आपको खुशी मिलती है उसकी उपेक्षा कर देंगे।

कुछ क्षणों के लिए आराम से बैठकर अपने लिए मौजूद अवसरों का विश्लेषण करने में कोई बुराई नहीं है। याद रखें, फलने-फूलने और बढ़ने के लिए हर जिन्दा चीज को आराम की जरूरत है।

अगर आप नॉन-स्टॉप काम कर रहे हैं तो असल में ऊर्जा को गंवा रहे हैं जो आपको कभी वापस नहीं मिलेगी। ऐसी ऊर्जा खपाऊ आदतें आपके समय में भी हस्तक्षेप करती हैं।

इसे भी पढ़ें:

निश्चयात्मक बनें और “अब बस” कहना सीखें

आपका घर अस्त-व्यस्त है

एक साफ-सुथरे, व्यवस्थित और सलीके से सजे घर में अपने आप ही आपको बहुत अच्छा महसूस होगा। जिन चीजों को आप इस्तेमाल नहीं करते उनसे घर भरा रहे तो एंग्जायटी और उदासीनता को बढ़ावा मिलता है।

अगर आप एकदम नयी शुरुआत करना चाहते हैं, तो सबसे पहले जो होना चाहिए, वह है, घर को जीवंत बनाना और उन चीजों को बाहर फेंक देना जो आपसे एनर्जी छीन लेती हैं। यह न भूलें कि थोड़ा ही काफी है।

अपने घर को एक ऐसे स्थान में बदल दीजिये जहां का माहौल इतना खुशनुमा हो कि आप हमेशा वापस आना चाहें, जहां की हवा मात्र में ही अच्छे वाइब्रेशन हों और आप डिप्रेशन के बिना आराम कर सकें।

आप अपने शरीर की बात नहीं सुनते हैं

7 ऊर्जा खपाऊ आदतें: शरीर को नजरअंदाज न करें

रोजमर्रा की जिंदगी की एकरसता के कारण हम कभी-कभी भूल जाते हैं कि हम जिन्दा जीव हैं। हम अपने शरीर को काम के लंबे दिन, प्रेशर और स्ट्रेस में झोंक देते हैं, बिना यह सुनें कि यह हमें क्या बता रहा है।

व्यावहारिक रूप से ऐसी मांगों के तहत जिन्दा रहना असंभव है। शरीर के जहरीले तत्वों से पीछा छुड़ाने और अपनी ऊर्जा खपाऊ आदतें खत्म करने के लिए आपको ताजी हवा में सांस लेने, फोकस करने और एक्सरसाइज की ज़रूरत है।

इस बीच, विटामिन, खनिजों और पोषक तत्वों से समृद्ध आहार खाना अनिवार्य है जो आपको स्वस्थ बनाए रखेगा।

ऊर्जा खपाऊ आदतें: आप सुस्त ज़िन्दगी जीते हैं

आप कितनी बार घूमते-फिरते हैं? इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप ऑफिस में कितना समय बिताते हैं – अपने शरीर को बैठने के लिए अभ्यस्त न होने दें। अगर आप ऐसा करेंगे तो आपका शरीर एक सुस्त-उदासीनता के खतरनाक भंवर में फंस जाएगा।

लेकिन जब आप घूमना-फिरना शुरू करेंगे और रोज़ाना कम से कम 30 मिनट चलेंगे तो आप एंडोर्फिन का स्राव कर पायेंगे जो आपकी एनर्जी लेवल को बढ़ाएगा और आपको चौकस रखेगा।

ऊर्जा खपाऊ आदतें: आप बहुत ज़्यादा चिंता करते हैं

7 ऊर्जा खपाऊ आदतें: एंग्जायटी

रोजमर्रा की समस्याओं के बारे में चिंता करना एक सामान्य बात है। यह केवल तब खतरनाक है जब आप इसे नियंत्रित नहीं कर सकते और आपकी भावनाओं पर एंग्जायटी हावी हो जाती है।

चिंता इन लक्षणों के माध्यम से प्रकट हो सकती है;

  • बेचैनी
  • थकान
  • मांसपेशियों में तनाव
  • चिड़चिड़ापन
  • अनिद्रा

यह इसलिए होता है क्योंकि बाएं सेरेब्रल गोलार्ध में ज्यादा गतिविधियाँ चल रही हैं; दूसरे शब्दों में, तार्किक और तर्कसंगत सोच नॉन-स्टॉप काम कर रही हैं।

एक रोगी को अपने डर का सामना करना चाहिए और अपने आत्म-विश्वास को मजबूत करना चाहिए।

अपने अतीत को अब छोड़ दीजिये! जो जा चुका है, उस पर सिर क्यों ठोकना। ये ऊर्जा खपाऊ आदतें हमेशा के लिए छोड़कर एनर्जी लेवल को बनाए रखने के लिए अपने भविष्य को सलीके से वस्थित करें।

  • Afari, N., & Buchwald, D. (2003, February). Chronic fatigue syndrome: A review. American Journal of Psychiatry.
  • Fukuda, K., Straus, S. E., Hickie, I., Sharpe, M. C., Dobbins, J. G., & Komaroff, A. (1994). The chronic fatigue syndrome: A comprehensive approach to its definition and study. Annals of Internal Medicine121(12), 953–959.
  • Hockey, G. R. J., Maule, A. J., Clough, P. J., & Bdzola, L. (2000). Effects of negative mood states on risk in everyday decision making. Cognition and Emotion14(6), 823–855.