4 प्राकृतिक नुस्खे : फ्लूइड रिटेंशन के इलाज के लिए

फ़रवरी 6, 2019
क्या आप फ्लूइड रिटेंशन की समस्या से पीड़ित हैं? जैसा कि आमतौर पर फ्लूइड रिटेंशन दूसरी समस्याओं का एक लक्षण है इसलिये यह जरुरी है कि आप इसका ठीक से इलाज करें और घर पर इससे मुकाबला करने के लिए कुछ प्राकृतिक नुस्खे आजमायें। जानने के लिये यह आर्टिकल पढ़ते रहिये।

फ्लूइड रिटेंशन को वॉटर रिटेंशन या द्रव प्रतिधारण भी कहते हैं। दरअसल यह शरीर के अंगों में पानी जमने की समस्या है जिससे बड़ी संख्या में लोग पीड़ित हैं। वैसे तो, आमतौर पर इस पर किसी का ध्यान नहीं जाता है, लेकिन जब शरीर में इसका प्रभाव एक निश्चित स्तर से ज्यादा बढ़ जाता है, तो यह एक बड़ी समस्या बन जाती है। यही कारण है कि आज के आर्टिकल में हम फ्लूइड रिटेंशन के कुछ प्राकृतिक उपायों के बारे में जानेंगे।

क्या यह एक बीमारी है?

बावजूद इसके कि इसे एक वास्तविक स्थिति माना जाता है, आमतौर पर फ्लूइड रिटेंशन (fliud retention) सिर्फ एक लक्षण है जिसका सम्बन्ध कई तरह की बीमारियों से होता है।

यही कारण है कि इसे कभी भी नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए आपको किसी डॉक्टर के पास जाना चाहिए जिससे आपके डाइजेस्टिव सिस्टम, दिल, गुर्दों (kidneys) और दूसरे अंगों में होने वाली किसी भी समस्या का पता चल सके।

फ्लूइड रिटेंशन

जैसा कि नाम से ही पता चलता है, यह शरीर के अलग-अलग टिश्यू में तरल पदार्थ का जमाव है। आम तौर पर, उनमें से ज्यादातर वही पदार्थ हैं जो आप खाते-पीते हैं। हालांकि, कई अलग-अलग तरह के फैक्टर हैं जो उन्हें पूरी तरह से खत्म करने में रुकावट बन सकते हैं।

शरीर में जल जमाव के कारण

फ्लूइड रिटेंशन शरीर में तत्वों के बहाव को बनाये रखने वाली नियंत्रण प्रणाली में असंतुलन के कारण होता है। यह तब होता है जब आपका शरीर अपने उत्सर्जन तंत्र के रास्ते फालतू पानी को बाहर नहीं निकाल पाता है

यह नीचे बताये कारणों से भी हो सकता है:

  • प्रेगनेंसी
  • किडनी रोग
  • लीवर की समस्याएं
  • मेनोपॉज
  • पेट की समस्या
  • मोटापा
  • और सबसे आखिर में एक सुस्त लाइफस्टाइल की वजह से

इसे भी पढ़ें : 5 आसान उपाय वॉटर रिटेंशन को कम करने के लिये

फ्लूइड रिटेंशन को कैसे पहचानें?

घुटनों का दर्द

जैसा कि हमने ऊपर बताया, फ्लूइड रिटेंशन अपने आप में कोई बीमारी नहीं है, बल्कि यह दूसरी बीमारियों के लक्षणों में से एक है। फिर भी, यह समझना जरूरी है कि इसके खुद के भी कुछ लक्षण होते हैं।

यह पता लगाने के लिए कि क्या आपको वाकई में फ्लूइड रिटेंशन की समस्या है, देखें कि आपको नीचे बताये लक्षण महसूस होते हैं या नहीं:

  • थकान
  • भारीपन (खासकर पैरों में)
  • हाथ और पैरों के निचले हिस्सों में हल्की सूजन
  • पेट की सूजन
  • पेट में दर्द
  • शरीर के दूसरे हिस्सों में सूजन (आमतौर पर नहीं होता है, लेकिन यह हो सकता है)

फ्लूइड रिटेंशन का प्राकृतिक इलाज

वैसे तो फ्लूइड रिटेंशन के लिए कई वैकल्पिक इलाज मौजूद हैं, लेकिन प्राकृतिक नुस्खों पर आधारित उपचार को अपनाना ही सबसे अच्छा विकल्प है।

आइए उनमें से कुछ के बारे में जानते हैं।

1. खूब पानी पियें (Drink more water)

अपने शरीर को हाइड्रेट रखना बहुत जरूरी है, भले ही आप फ्लूइड रिटेंशन से पीड़ित हों। हालांकि यह सुनने में थोड़ा गलत लग सकता है, लेकिन अगर आपको फ्लूइड रिटेंशन है तो आपको और ज्यादा पानी पीना चाहिये। अगर नहीं पीते हैं, तो पदार्थों का जमाव आपके शरीर में लम्बे समय तक बना रहेगा।

अगर आप और पानी न पियें तो शरीर अपने आप फालतू पानी को जमा करने लगेगा। इस तरह यह अचानक किसी समस्या का कारण बन सकता है। हम सलाह देते हैं कि अपने शरीर के अंदर के पानी को लगातार बदलते रहें।

इसे भी पढ़ें : 3 चीज़ें जो धमनियों की सफ़ाई में चमत्कारी हैं

2. ग्रीन टी (Green tea)

ग्रीन टी

ड्यूरेटिक तत्वों से भरपूर खाने की चीजें और ड्रिंक उन लोगों के लिए अच्छे विकल्प हैं जो फ्लूइड रिटेंशन से पीड़ित हैं। ग्रीन टी इसके सबसे अच्छे विकल्पों में से एक है। यह केवल एक ड्यूरेटिक नहीं है, इसमें क्लेन्ज़िंग (cleansing) यानी शुद्धिकरण के गुण भी हैं। यही कारण है कि ग्रीन टी का सेवन करना जहरीले तत्वों को पेशाब के जरिये शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है।

इसका सेवन रोजाना या हफ्ते में कम से कम तीन बार कर सकते हैं। यह ज्यादा अच्छा होगा कि घर पर ही अपनी चाय बनायें और दिन भर में कम से कम तीन कप पियें।

3. अनन्नास खाएं ( Eat pineapple)

अनन्नास स्वादिष्ट और रसदार फल है, जो इसे दुनियाभर में एक सबसे पसंदीदा फल बनाता है, खासकर उष्णकटिबंधीय तटीय क्षेत्रों (tropical coastal regions)में। हालाँकि लोग अनन्नास को केवल इसके अच्छे स्वाद के लिए नहीं खाते हैं। इस फल का सेवन इसलिये भी करते हैं क्योंकि इसमें शरीर के लिए फायदेमंद जरूरी पोषक तत्व होते हैं

अनन्नास ज्यादातर पानी से बना होता है, जो इसे एक ड्यूरेटिक (मूत्रवर्धक) फ़ूड बनाता है और फ्लूइड रिटेंशन से लड़ने में सहायक है। इसके अलावा, रोजाना अनन्नास खाने से सर्कुलेशन भी अच्छा होता है।

4. पार्सले टी (Parsley tea)

ग्रीन टी की तरह ही, पार्सले टी में भी ड्यूरेटिक गुण होते हैं जो आपके शरीर में बनने वाले टोक्सिन को बाहर निकालते हैं।

जरूरी चीजें

  • 1 कप पानी
  • 1 बड़ा चम्मच पार्सले

बनाने का तरीका

  • पानी को उबालें और फिर उसमे एक चम्मच पार्सले मिला लें।
  • उसके बाद, इसे 10 मिनट तक उबलने दें।
  • आपको सलाह दी जाती है कि एक दिन में कम से कम दो कप पार्सले टी पियें।

अगर आप चाय नहीं पीना चाहते हैं, तो पार्सले जूस पीकर भी यही फायदे ले सकते हैं।

दूसरे विकल्प

तैरना

हमारे द्वारा ऊपर बताए गए प्राकृतिक उपचारों के अलावा, कुछ और आसान विकल्प हैं जिन्हें आप फ्लूइड रिटेंशन के इलाज के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं:

  • लम्बे समय तक स्विमिंग करना
  • अपने पैरों को ऊपर उठाना
  • खाने में नमक के ज्यादा इस्तेमाल से बचना
  • Tuller, M., Dani, O., & Dudley, L. M. (1999). Adsorption and capillary condensation in porous media: Liquid retention and interfacial configurations in angular pores. Water Resources Research. https://doi.org/10.1029/1999WR900098
  • van Den Dool, H., & Dec. Kratz, P. (1963). A generalization of the retention index system including linear temperature programmed gas—liquid partition chromatography. Journal of Chromatography A. https://doi.org/10.1016/S0021-9673(01)80947-X
  • Yoon, Y., Westerhoff, P., Snyder, S. A., Wert, E. C., & Yoon, J. (2007). Removal of endocrine disrupting compounds and pharmaceuticals by nanofiltration and ultrafiltration membranes. Desalination. https://doi.org/10.1016/j.desal.2005.12.033