रोज़ाना ड्राई ब्रशिंग करने के 7 फायदे

05 मार्च, 2019
क्या आप जानते हैं कि रोज़ाना ड्राई ब्रशिंग करके आप सेल्युलाईट, ढीलेपन और फ्लूइड रिटेंशन जैसी परेशानियों का मुकाबला कर सकते हैं? इस बारे में अधिक जानने के लिए पढ़ें हमारे इस लेख को!
 

कई महिलायें ड्राई ब्रशिंग थेरेपी का इस्तेमाल करती हैं। दिन में कुछ ही मिनट के लिए ड्राई ब्रशिंग करने के अनेक फायदों से वे रूबरू जो हो चुकी होती हैं। वैसे भी, अपनी खूबसूरती और सेहत को बरक़रार रखने का यह एक आसान-सा तरीका होता है।

आज हम ड्राई ब्रशिंग के 7 फायदों पर गौर करने जा रहे हैं। उदहारण के तौर पर, क्या आप जानते थे कि ड्राई ब्रशिंग की मदद से आप सेल्युलाईट, ढीलेपन व फ्लूइड रिटेंशन जैसी समस्याओं का मुकाबला कर सकते हैं?

ड्राई ब्रशिंग आख़िर होती क्या है?

ड्राई ब्रशिंग क्या होती है?

ड्राई ब्रशिंग एक बेहद आसान-सी तकनीक होती है। इस तकनीक के तहत अपनी त्वचा स्टिम्यूलेट करने के लिए आप प्राकृतिक रेशों से उसे रगड़ते हैं। इसके अलावा, ड्राई ब्रशिंग से आपका रक्तसंचार भी बेहतर हो जाता है

  • इस मालिश को इस क्रम में किया जाता है: अपने पैरों से शुरू करते हुए ब्रश को अपने दिल की तरफ़ रगड़ते चले जाएँ
  • अपनी पीठ जैसी जटिल जगहों तक पहुँचने के लिए लंबे हैंडल वाले ब्रश का इस्तेमाल करना बेहतर होता है। आपको यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि वह एक नेचुरल ब्रिसल ब्रश है। आप ज़रा-से प्राकृतिक तेल का भी प्रयोग कर सकते हैं।
  • ड्राई ब्रश का इस्तेमाल आपको नहाते समय करना चाहिए ताकि आपके शरीर से गिरने वाली मृत कोशिकायें उसकी चपेट में आ जाएँ। ड्राई ब्रशिंग के बाद अपने शरीर को पानी से धोकर आप अपनी त्वचा पर कोई लोशन या प्राकृतिक तेल भी लगा सकते हैं। नारियल का तेल इसका एक कमाल का उदाहरण होता है।
  • ड्राई ब्रशिंग को मध्यम तीव्रता से किया जाना चाहिए। इससे आपको दर्द या दिक्कत नहीं होनी चाहिए।
  • इस तकनीक का सहारा आप हफ्ते में कई बार, 5 से 30 मिनट के लिए ले सकते हैं। मगर शुरू-शुरू में आपको इसे कुछ ही मिनट के लिए करना चाहिए। धीरे-धीरे आप इस काम में ज़्यादा वक़्त ले सकते हैं।

इसके लाभकारी गुण शुरुआत से ही आपके सामने होंगे। अपनी त्वचा व सामान्य स्वास्थ्य में आपको सकारात्मक बदलाव दिखाई देने लगेंगे।

 

संवेदनशील या नाज़ुक त्वचा वाले लोगों को ड्राई ब्रशिंग के दौरान सावधानी बरतनी चाहिए। शुरुआत में दबाव को कम ही रखें।

इसे भी पढ़ें : 9 इवनिंग हैबिट: इन्हें अपनायें और अपनी खूबसूरती में चार चाँद लगायें

ड्राई ब्रशिंग से आपकी सेहत को होने वाले लाभ

अब हम ड्राई ब्रशिंग के 7 फायदों पर गौर करेंगे।

1. वह आपके लिम्फ नोड्स को बहा ले जाती है

ड्राई ब्रशिंग, आपके लिम्फ नोड्स को बहा ले जाने में मददगार होती है। दूसरे शब्दों में कहें तो वह आपकी लिम्फैटिक प्रणाली की सफाई कर देती है

हमारे शरीर में जमा टॉक्सिन्स को निकाल बाहर करने का ज़िम्मा हमारी लिम्फैटिक प्रणाली पर ही होता है। ड्राई ब्रशिंग हमारी इम्यून प्रणाली को भी चुस्त-दुरुस्त रखती है।

दरअसल वह हमारी त्वचा को और खूबसूरत बना देती है। साथ ही, कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं को पैदा करने वाले छोटे-छोटे टॉक्सिक कणों को भी आपके शरीर से बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है।

नतीजतन आपके शरीर की रक्षा प्रणाली मज़बूत हो जाती है

2. तरल पदार्थों को निकाल बाहर करने में वह मददगार होती है

इस उपचार का सहारा लेकर आप तरल पदार्थों को अपने शरीर से बाहर जाने के लिए प्रेरित करते हैं। और ऐसा आप करते हैं किसी भी मूत्रवर्धक दवा को लिए बिना!

यहाँ तक कि अपने पैरों या गर्दन समेत अपने शरीर के कुछ अंगों में आप सूजन को भी कम कर सकते हैं। इसके अलावा, आप जोड़ों की सूजन से भी राहत पा सकते हैं।

3. हमारी त्वचा के विकास के लिए वह अच्छी होती है

ड्राई ब्रशिंग आपकी त्वचा के विकास के लिए बेहतरीन होती है

ड्राई ब्रशिंग एक्सफोलिएशन (खाल उतारने) का एक विकल्प होती है।

दरअसल अपनी त्वचा की मृत कोशिकाओं से छुटकारा पाने के लिए हम ड्राई ब्रशिंग के साथ-साथ कई तरह की त्वचा की परतों का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। इनमें हमारी त्वचा की सतह पर जमा होकर उसे ढीली, बीमार और सूखी बना देने वाली परतें भी आ जाती हैं।

ड्राई ब्रशिंग से आपकी त्वचा भी विकसित होने लगती है फलस्वरूप उसपर पड़ने वाली झुर्रियां कम हो जाती हैं।

 

यहाँ गौर करने वाली एक और बात यह है कि एक्सफोलिएशन के माध्यम से हम बाहर धूप में जाने के लिए तैयार हो जाते हैं। उसकी वजह से आपको एक अच्छा और सेहतमंद टैन मिल जाता है।

4. वह सेल्युलाईट का मुकाबला करती है

महिलाओं के लिए सेल्युलाईट सबसे बड़ी समस्याओं में से एक होती है। लेकिन ड्राई ब्रशिंग नाम की इस तकनीक से उनकी इस समस्या का भी समाधान किया जा सकता है। खुशकिस्मती से, ड्राई ब्रशिंग से हमारी त्वचा को काफ़ी फायदा होता है।

हमारे लिम्फ नोड्स के बहा दिए जाने से हमारे शरीर में मौजूद वे पदार्थ भी बहने लगते हैं, जिनकी वजह से सेल्युलाईट से छुटकारा पाने में हमें और भी दिक्कत आती है।

5. वह आपको स्ट्रेच मार्क्स से बचाती है

स्ट्रेच मार्क्स का संबंध डिहाइड्रेशन और लचीलेपन व त्वचा के विकास की कमी से होता है।

आप स्ट्रेच मार्क्स से बच सकते हैं व अपनी त्वचा की कोशिकाओं की विकसित होने में मदद कर सकते हैं। पर कैसे? रोज़ाना ड्राई ब्रशिंग करके! अपनी त्वचा की नमी को बरक़रार रखने के लिए ड्राई ब्रशिंग के बाद सेहतमंद और प्राकृतिक मॉइस्चराइजर्स का इस्तेमाल करना न भूलें।

इसे भी पढ़ें : 7 नेचुरल नुस्ख़े जो जल प्रतिधारण को कम करने में हैं लाजवाब

6. आपके रक्तसंचार को वह बेहतर बना देती है

ड्राई ब्रशिंग से आपके शरीर का रक्तसंचार बेहतर हो जाता है

ब्रश वाली इस मालिश का एक और फायदा भी होता है: इससे आपका रक्तसंचार बेहतर हो जाता है। ड्राई ब्रशिंग के उपर्युक्त क्रम का पालन कर हमारे रक्तसंचार में सुधार आने की संभावना काफ़ी बढ़ जाती है।

अपने पैरों से शुरू करते हुए ऊपर की तरफ़ ब्रश करें। ब्रश को हमेशा अपने दिल की दिशा में फेरें। यानी कि अगर आप शुरुआत अपनी गर्दन से करते हैं तो आपको ब्रश अपनी छाती की तरफ़ फेरना चाहिए। अगर आप किसी से अपनी छाती को ब्रश करवा सकते हैं तो उनसे नीचे से ऊपर की तरफ़ ब्रश फेरने के लिए कहें

मालिश ख़त्म हो जाने पर आपको अपने सारे शरीर में गुदगुदी का एक खुशनुमा एहसास होगा। आमतौर पर अगर आप भारी-भरकम महसूस करते हैं या फ़िर वैरिकोज वेन्‍स से पीड़ित हैं तो इस थेरेपी से आपको राहत मिलेगी।

 

7. इससे आपकी त्वचा मुलायम हो जाती है

अपनी त्वचा की ड्राई ब्रशिंग करने के एक तत्काल परिणाम के रूप में आपकी त्वचा मुलायम हो जाती है। इससे आपकी त्वचा का विकास भी बेहतर हो जाता है।

आपकी त्वचा पहले से ज़्यादा नरम, मुलायम और मज़बूत हो जाती है। साथ ही, आप अपनी त्वचा के ढीलेपन का मुकाबला भी कर पाते हैं।

  • Tom Bisio. Tratamientos y terapias de la medicina deportiva china. Disfruto y hago, 2006.
  • Mario R. Garcia Palmieri. Lo Que Debes Saber Sobre Tu Salud. La Editorial, UPR, 2000.
  • Jules M. Rothstein, Serge H. Roy, Steven L. Wolf. Manual del especialista en rehabilitación (Cartoné y bicolor). Editorial Paidotribo, 2005.
  • Nigel Palastanga, Derek Field, Roger Soames. Anatomía y movimiento humano. Estructura y funcionamiento. Editorial Paidotribo, 2007.