बर्साइटिस के इलाज़ लिए 5 आसान नेचुरल नुस्ख़े

25 जनवरी, 2019
बर्साइटिस से राहत पाने के लिए इन नुस्खों का इस्तेमाल करने के साथ-साथ जोड़ों को आराम देना, उस अंग के हिलाने-डुलाने में कमी लाना और उन जोड़ों पर ज्यादा ताकत न लगाना ज़रूरी है।

जहां भी हड्डियां, जोड़ें, स्नायु और लिगामेंट मिलते हैं, वहाँ एक छोटी सी तरल पदार्थ की थैली (fluid sacs) होती है जिन्हें श्लेष पुटी या बुर्सा (bursas) कहते हैं। बर्साइटिस (जोड़ों में कुशन की तरह काम करने वाले तरल पदार्थ से भरे पैड अर्थात श्लेषपुटी में सूजन) उस स्थिति का नाम है जब ये फूल जाती हैं। लगातार आपके जोड़ों के लगातार घिसने के कारण इस प्रकार की अंदरूनी उत्तेजना पैदा होती है।

यह स्थिति बहुत दर्दनाक होती है और कुछ मामलों में आपको बहुत कमजोर बना सकती है। संयोग से, बर्साइटिस के लिए कुछ प्राकृतिक दवाइयां मौजूद हैंI

इसे ध्यान में रखें कि बर्साइटिस (bursitis) स्नायुओं में होने वाले दर्द (tendonitis) की तरह नहीं है। टेंडनाइटिस आमतौर पर मांशपेशियों को हड्डी से जोड़ने वाली तंतु-संरचना टेंडन में होने वाली सूजन होती है।

दूसरी तरफ, बर्साइटिस का दर्द उन 150 बूर्सा (bursa) में से किसी में भी हो सकता है, जो जोड़ों के चारों ओर स्थित टेंडन, लिगामेंट और हड्डियों के बीच कुशन का काम करती हैं।  

अगर आपको कभी बर्साइटिस हुआ है तो इसमें होने वाली सूजन, अकड़न और लालीपन के कारण आपने इसे आसानी से पहचान लिया होगा।

डॉक्टर हमेशा ही आपको उचित चिकित्सा की सलाह देंगे। इस बीच आप सूजन और दर्द से निजात पाने के लिए घर में ही कुछ सामान्य प्राकृतिक दवाइयों का प्रयोग कर सकते हैं।

इन्हें आजमाएं!

1. सेब का सिरका (Apple cider vinegar)

बर्साइटिस के इलाज के लिए सेब का सिरका उत्तम प्राकृतिक दवा है।

  • सबसे पहले तो यह आपके शरीर की सूजन को जल्द कम करने के लिए शरीर में खारेपन (एल्केलाइन) को बहाल करता है।
  • सेब के सिरके में मौजूद मिनरल, जैसे मैग्नेशियम, कैल्शियम, पोटैशियम, फॉस्फोरस आदि जोड़ों में इस तरह की सूजन के इलाज में कारगर हैं।

बर्साइटिस के इलाज के लिए सेब के सिरके का उपयोग ऐसे करें।

सामग्री

  • एक साफ कपड़ा
  • आधा कप कच्चे सेब का रस (125 मिलीलीटर)
  • एक छोटी चम्मच शहद (7.5 ग्राम)

तैयारी

  • यह बहुत आसान है। सबसे पहले सेब के सिरके और शहद को एक कप में मिला लें। आपने सूजन दूर करने वाली बहुत असरदार दवा तैयार कर ली है। आप दिन भर इसका प्रयोग कर सकते हैं।
  • फिर इस घोल में साफ कपड़े को अच्छी तरह भिगो लें।
  • अब इस भीगे कपड़े को 15 मिनट तक बर्साइटिस से प्रभावित जगह पर रख दें।

और जानने के लिए पढ़ें : सेब के सिरके के 8 फायदे

2. पहले 48 घंटे कोल्ड थेरेपी : बर्साइटिस के सबसे आसान प्राकृतिक उपचारों में एक

बर्साइटिस : 48 घंटे तक कोल्ड थेरेपी

आरंभिक सूजन को कम करने के लिए ठंडक निश्चित तौर पर सबसे अच्छा उपाय है। साथ ही आप दर्द से प्रभावित जगह में राहत महसूस करेंगे। जैसा कि आप सामग्रियों से समझेंगे, यह बर्साइटिस की सबसे आसान प्राकृतिक चिकित्सा है।

सामग्री

  • 10 बर्फ के टुकड़े
  • प्लास्टिक की एक थैली

तैयारी

  • बर्फ के टुकड़े को प्लास्टिक की थैली में भर लें
  • फिर, जोड़ों के दर्द पर 15 मिनट तक रखें।
  • इसके बाद आप चोटिल जोड़ों को अपने हार्ट की पोजीशन से थोड़ा ऊपर उठायें और उस स्थिति में इसे विश्राम दें।
  • राहत मिलने तक इस क्रम को दोहराते रहें।

3. गंध तेल मसाज (Essential oil massage)

बर्साइटिस : गंध तेल मसाज

कुछ गंध तेल यानी एसेंशियल ऑयल बर्साइटिस के लिए अद्भुत प्रभावशाली प्राकृतिक दवाई का काम करते हैं। ये रहे बेहद सहायक कुछ तेल :

  • जायफल तेल (Nutmeg oil) : यह गंध तेल अपने दर्द निवारक और सूजनरोधी गुणों के कारण बहुत ही उपकारी सिद्ध होती है।
  • पुदीने की गंध तेल (Mint essential oil) : अपनी प्राकृतिक दवाओं की थैली में इसे रखना आप नहीं भूल सकते। इसका मूल अवयव मेंथॉल है जो वर्षों से दर्द और सूजन के इलाज में प्रयुक्त होता रहा है।

इस तरह के जरूरी तेल का मसाज करना सुनिश्चित करें।

बर्साइटिस की स्थिति के लिए एक और बेहद प्रभावशाली तेल है नारियल का तेल। यह लालिमा को कम करने के साथ ज्वलन में भी राहत पहुंचाता है। आप इसकी कुछ बूंदें लें और गोलाकार स्थिति में मसाज करते हुए राहत पाएं।

और भी जानना है? पढ़ें : हेल्दी नारियल तेल से जीवन में मधुरता लाएं

4. अदरक (Ginger)

अदरक में एंटीऑक्सीडेंट, सूजनरोधी और दर्द निवारक गुण होने के कारण यह एस्पिरिन और आईबूप्रोफेन के साथ काफी समानता रखता है

यह रक्तसंचालन में सुधार लाता है और बर्साइटिस का प्रभावी इलाज करता है

अब हम यह बताएंगे कि इस उपचार का प्रयोग कैसे करें।

सामग्री

  • तीन बड़ा चम्मच कसी हुई अदरक (7 ग्राम)
  • महीन कपड़ा
  • आधा कप गर्म पानी (125 मिलीलीटर)

कैसे बनाएं :

  • पहले ताजा कसी झुई अदरक को महीन कपड़े में लपेट लें।
  • इसके बाद, इस कपड़े और अदरक को 2 मिनट के लिए गर्म पानी में डाल दें
  • फिर कुछ देर ठंडा होने के लिए छोड़ दें। उसके बाद दर्द वाली जगह पर 15 मिनट तक रखें।
  • आप इस क्रम को दिन में 2-3 बार दोहरा सकते हैं। यह आसान है।

5. पर्याप्त विश्राम करें और मैग्नेशियम से भरपूर डाइट खाएं

बर्साइटिस : मैग्नेशियम से भरपूर आहार लें

कुछ अजीब सा लग सकता है, लेकिन बर्साइटिस के लिए एक सबसे बेहतरीन प्राकृतिक दवा है विश्राम और अपने पॉस्चर के अनुसार काम करना।

  • आपके डॉक्टर आपको सूजनरोधी दवा खाने को लिख देते हैं। लेकिन यह आवश्यक है कि जब सूजन हो तो जितना संभव हो सके जोड़ों की गतिविधियों को कम कर दें।
  • अत्यधिक परिश्रम, जोड़ों और मांशपेशियों के घिसने या लिगामेंट में जलन विशेष रूप से बूर्सा के कारण बर्साइटिस का दर्द हो सकता है। इसलिए जोड़ों की अधिक गतिविधियां आपके दर्द को असहनीय बना देंगी।

जितना संभव हो आराम करें और निश्चित रूप से मैग्नेशियम से भरपूर आहार लें। इसके लिए केला, पालक, ओट्स, मसूर की दाल आदि खाएं। यह खनिज आपके जोड़ों, मांसपेशियों और लिगामेंट्स के लिए आवश्यक है।

आपको अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए कि इस मिनरल की पूरक चीजें जैसे, मिल्क ऑफ मग्नेशिया आदि खानी चाहिए या नहीं।