केले का छिलका इस्तेमाल करने के 11 तरीके: उन्हें बर्बाद न करें!

12 अक्टूबर, 2018
बात जब आपकी सेहत की आती है, तो केले के छिलकों का इस्तेमाल एक काढ़े के रूप में स्थानिक तौर पर, दोनों ही तरीकों से फायदेमंद रहता है।

केले का छिलका भले ही आपने न खाया हो लेकिन केला पूरे साल सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाले फलों में से एक है। न केवल इसलिए कि यह हर मौसम में उपलब्ध होता है, बल्कि इसलिये भी कि यह स्वादिष्ट और पोषक तत्वों से भरपूर होता है।

इसमें भरपूर मात्रा में विटामिन, मिनरल और एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं, जो इसे आपकी डाइट को और ज्यादा बेहतर बनाने वाली सबसे अच्छी चीजों में से एक बना देते हैं।

लेकिन बहुत से लोगों को यह नहीं पता कि अक्सर हम इसके जिस हिस्से को बर्बाद कर देते हैं वह है, केले का छिलका  —उसमें बहुत सारे लाभदायक गुण होते हैं जो आपको शानदार फायदे देते हैं।

असल में, केले के छिलके में केला के गूदे की तुलना में ज्यादा फाइबर होता है। यह एमिनो एसिड मुहैया करवाता है, जो कि शरीर के लिये बहुत जरूरी होते हैं।

फल की तरह ही उनका स्वाद भी मजेदार होता है। इसलिए उनका इस्तेमाल करने के दूसरे तरीकों के बारे में जानने के साथ-साथ, उनसे मिलने वाले फायदों के बारे में जानना भी फायदेमंद है

तो, चलिये शुरू करते हैं!

1. सिरदर्द (Headaches)

1. सिरदर्द (Headaches)

केले का छिलका अपने हाई पोटैशियम के कारण आम-तौर पर होने वाले सिरदर्द के लिये एक अच्छा इलाज साबित होता है

आप इसे काढ़ा बनाकर भी पी सकते हैं, या आरामदायक असर पाने के लिए इसे अपने माथे पर और गर्दन के पीछे रख सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: 6 नेचुरल क्रीम: इनसे करें सोरायसिस का इलाज

2. मस्से (Warts)

छिलके का सफेद हिस्सा आपके शरीर के अलग-अलग हिस्सों पर उभरे सभी भद्दे दिखने वाले मस्सों के लिए एक जादुई समाधान है।

इसका असर तुरंत नहीं दिखाई देता है, लेकिन चिपकने वाली पट्टी की मदद से उन्हें हर दिन मस्से वाली जगह पर लगाने से, आप बस कुछ ही दिनों में अपनी समस्या से छुटकारा पा लेंगे।

3. कब्ज (Constipation)

कब्ज और दूसरी पाचन समस्याओं का मुकाबला करने का सबसे अच्छा तरीका है, फाइबर का सेवन बढ़ायें।

क्योंकि केले का छिलका गूदे की तुलना में ज्यादा फाइबर से समृद्ध होता है, इसलिये आप इसे चाय के रूप में पी सकते हैं या अपने स्वास्थ्य में सुधार करने के लिए इसे स्मूदी के साथ मिला सकते हैं।

4. मुँहासा (Acne)

मुँहासा (Acne)

केले के छिलके के सफेद हिस्से में मौजूद कंपाउंड मुँहासे, पिम्पल्स और ब्लैक्हेड से छुटकारा पाने के लिये कारगर हैं

दिन में दो बार इसे रगड़ें। पिम्पल और तेज़ी से सूखने लगेंगे, त्वचा की सूजन कम हो जायेगी और आपकी स्किन के छेदों में कम से कम रुकावट पैदा होगी।

5. सफेद दांत (Whiter teeth)

हालांकि, यह दांतों को सफ़ेद करने वाले प्रोफेशनल प्रोडक्ट की तरह काम नहीं करता है, फिर भी, दांतों पर जमी पीले रंग की गन्दगी को कम करने के लिए अपने दांतों पर केले का छिलका रगड़ें।

इसका रोजाना इस्तेमाल दांतों पर लगे हुये दाग-धब्बों को साफ कर देता है और कुछ हफ्तों के बाद, नतीजे के रूप में आपको सफ़ेद और चमकदार दांत मिलते हैं।

6. कीड़ों के काटने पर (Insect bites)

6. कीड़ों के काटने पर (Insect bites)

कीड़े की काटी हुई जगह पर एक टुकड़ा केले का छिलका रगड़ने से जलन और खुजली कम हो सकती है

यह मच्छर के काटने पर इस्तेमाल होने वाले सबसे पुराने नुस्खों में से एक है।

7. जख्म (Bruises)

केले के छिलके में मौजूद रिजेनरेटिव गुण घाव और चोट को ठीक करने के लिए कारगर होते हैं।

इसे चाय के रूप में लेने से ब्लड सर्कुलेशन में सुधार होता है और किसी जगह पर लगाये जाने पर आरामदायक असर भी देता है।

इसे भी पढ़ें: फ्रोज़न दही बनाने की 3 रेसिपी

8. फर्नीचर को पॉलिश करने के लिये

चमड़ा और लकड़ी के फर्नीचर, खाना पकाने के बर्तन और उन सभी दूसरी चीजों में चमक लाने के लिए केले के छिलके के पिछले हिस्से का इस्तेमाल किया जा सकता है जो धूल की वजह से अपनी चमक खो चुकी होती हैं।

बस इसे तीन मिनट तक रगड़ें, फिर तुरंत एक साफ-सुथरे कपड़े की मदद से साफ कर दें।

9. मूड ठीक करने के लिये केले का छिलका

आपका मूड अच्छा करने के लिये

केले के छिलके में आपके शरीर के लिये जरूरी एमिनो एसिड की एक बहुत बड़ी मात्रा होती है, जिसे ट्रीप्टफैन ( tryptophan) नाम से जाना जाता है। यह सेरोटोनिन उत्पादन में वृद्धि से ताल्लुक रखती है।

इस न्यूरोट्रांसमीटर का सही लेवल हमें अच्छे मूड में रहने, जोश से भरे रहने और खुशहाली का अनुभव करने में मदद करते हैं।

एक कप केले के छिलके की चाय स्ट्रेस और डिप्रेशन की स्थिति से निपटने का एक अच्छा उपाय है

10. चमकदार जूते (Shiny shoes)

केले का छिलका गंदे या पुराने जूतों को चमकाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। यहाँ पर, इसका असर ठीक उसी तरह होता है जैसे फर्नीचर पर होता है। बस केले का छिलका लगायें और फिर उसे कपड़े से रगड़कर साफ कर दें।

11. कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ (Cardiovascular health)

11. कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ (Cardiovascular health)

केले के छिलके में मौजूद फॉस्फोरस और पोटैशियम हाई ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल लेवल को काबू करने में उपयोग किये जा सकते हैं।

ये जरूरी मिनरल ब्लड वेसल के स्वास्थ्य को बनाये रखते हैं, सर्कुलेशन में सुधार करते हैं और नसों में ऑक्सीकरण से खराब कोलेस्ट्रॉल को आने से रोकते हैं।

बेशक, वे इन समस्याओं को काबू में करने के लिए पहले से सुझायी गयी किसी भी प्रकार की दवाओं की जगह नहीं ले सकते हैं, लेकिन इनका रोजाना इस्तेमाल लेवल को सही जगह पर बनाये रखने में मददगार साबित हो सकता है।

लेकिन ध्यान रखें!

सबसे अच्छे नतीजे पाने के लिए, हम आपको ताजे केले का छिलका इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं। एक बार रेफ्रिजेरेट करने के बाद वे अपने गुणों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा खो देते हैं।

अगर आप उन्हें एक या दो दिन के लिए सुरक्षित रखना चाहते हैं, तो अच्छा होगा, उन्हें किसी ठंडी जगह पर गर्मी या सूरज की रोशनी से दूर रखें।

इसे इस्तेमाल करने से पहले वातावरण और दुकानों से इस पर लगने वाली किसी भी गंदगी को हटाने के लिए इसे अच्छी तरह से धो लेना न भूलें

  • ShinichiSomeya et al. “Antioxidant compounds from bananas (Musa Cavendish)”, Food Chemistry, Volume 79, Issue 3, November 2002, Pages 351-354
  • Kanazawa K, Sakakibara H., “High content of dopamine, a strong antioxidant, in Cavendish banana”, J Agric Food Chem. 2000 Mar;48(3):844-8.
  • Fox C, Ramsoomair D, Carter C., “Magnesium: its proven and potential clinical significance”, South Med J. 2001 Dec;94(12):1195-201.
  • Pereira A, Maraschin M., “Banana (Musa spp) from peel to pulp: ethnopharmacology, source of bioactive compounds and its relevance for human health”, J Ethnopharmacol. 2015 Feb 3;160:149-63.
  • PingyiZhang, Roy L., Whistler James,  N.BeMiller, Bruce R.Hamaker, “Banana starch: production, physicochemical properties, and digestibility—a review”, Carbohydrate Polymers, Volume 59, Issue 4, 15 March 2005, Pages 443-458