ढलती उम्र में होने वाला प्यार: जब जुनून सही वक्त पर लौट आता है

19 फ़रवरी, 2019
जब प्यार आपके दरवाज़े पर दस्तक देता है, तब वह यह नहीं देखता कि आपकी उम्र क्या है। वह कुछ देखता है तो वह है जीने का आपका जज्बा व आपकी ख़ुशी।

ढलती उम्र में होने वाला प्यार 50 या 60 की उम्र के बाद अचानक ही आपके सामने आ खड़ा होता है। जहाँ एक ओर आपका दिल किसी नौजवान की तरह ज़ोर-ज़ोर से धड़कने लगता है, वहीं दूसरी ओर आपके पेट में भी कुछ-कुछ होने लगता है।

यह तो हम सभी जानते हैं कि युवावस्था में मानसिक और भावनात्मक रूप से हम बहुत परिपक्व नहीं होते।

लेकिन हमारे जीवन के सुनहरे पड़ाव में इन दोनों पहलुओं के बीच एक कमाल का तालमेल होता है। उस समय हमारा जुनून एक अलग रूप धारण कर अपनी संपूर्ण तीव्रता के साथ लौट आता है

यहाँ हम आपको इसी विषय में सोच-विचार करने के लिए आमंत्रित करना चाहेंगे। इस प्यार को अपनाने व एक नयी शुरुआत कर सचमुच खुश रहने के इस सुनहरे मौके की तरफ़ आपको अपनी आँखें नहीं मूंदनी चाहिए।

जब प्यार के लिए आप अपने दिल के दरवाज़े को बंद कर लेते हैं

ढलती उम्र में खोलें अपने दिल के बंद दरवाज़ों को

कभी-कभी अपने दिल के दरवाज़ों को आप यह सोचकर बंद कर लेते हैं कि ऐसा करके दुबारा चोट खाने से आप बच जाएंगे। एक नये रिलेशनशिप से आप कतराने लगते हैं। खुद से आप लगातार यही कहते रहते हैं कि अतीत में किसी से प्यार कर आपके हाथ दर्द और निराशा लगे थे।

  • हाँ, यह सही है कि ज़िन्दगी की हरेक घटना अपने आप में एक सबक होती है।  पर हमारे जीवन में ऐसे भी कई पल आते हैं, जब थक-हारकर हम दुबारा किसी को प्यार न करने की ठान लेते हैं।
  • लेकिन कभी-कभी किस्मत आपके साथ एक खेल खेलती हैआपको एक और मौका देने के लिए वह आपके सामने एक इम्तिहान खड़ा कर देती है।

वह आपकी ज़िन्दगी में दुबारा प्यार को ला खड़ा करती है।

  • उस प्यार को आप अपनाएंगे या नहीं, यह आप पर और आपके दिल पर निर्भर करता है। इस बात में तो कोई संदेह ही नहीं है कि यह एक व्यक्तिगत चयन होता है। लेकिन सबसे पहले आपको एक ज़रूरी बात पर गौर कर लेना चाहिए।

कभी-कभी आपको सबसे ज़्यादा पछतावा अपनी गलतियों का नहीं, बल्कि उन मौकों का होता है, जिन्हें आपने अपने हाथों से फिसल जाने दिया।

इसे भी पढ़ें : सच्चा प्यार उम्र, झुर्रियों और समय से परे होता है

एक नया प्यार, शायद सबसे बेहतरीन प्यार

कुछ लोगों को एक प्यार की तुलना दूसरे प्यार से करना अच्छा लगता है। हम सभी अक्सर ऐसा ही करते हैं। इस बात का फैसला हम खुद ही कर लेते हैं कि सबसे अच्छा प्यार कौन-सा है व सबसे बुरा प्यार कौन-सा। हम फैसला कर लेते हैं कि किस प्यार ने हमारे लिए बहुत कुछ किया है और कौन-सा प्यार वक़्त, मेहनत और ऊर्जा की बर्बादी के अलावा और कुछ भी नहीं था।

  • एक प्यार की दूसरे प्यार से ज़बरदस्ती तुलना करने के बजाये हमें इस बात को समझना चाहिए कि हमारी ज़िन्दगी में हरेक प्यार का अपना सही वक़्त और मौका था

आख़िर आपने उसी प्यार को तो अपनाया था, जिसे जीवन ने आपकी झोली में डाल दिया था।

  • बात-बात पर अफ़सोस न करें। सबसे आदर्श स्थिति में इस बात को आप मान भी लेंगे और जान भी लेंगे कि हमारी ज़िन्दगी का सबसे खुशनुमा लम्हा हमारा वर्तमान ही है। अपने मन के दरवाज़े खोलकर खुश रहने का का सही समय अभी, इसी वक़्त   है।

ऐसे में अपने आपको एक और मौका देने में आख़िर हर्ज़ ही क्या है? ढलती उम्र में होने वाले प्यार से हमारे वर्तमान के साथ-साथ हमारा भविष्य भी संवर जो सकता है।

ढलती उम्र हमारे व्यक्तित्व में निखार ले आती है

ढलती उम्र में होने वाला प्यार आपको काफ़ी कुछ सिखा सकता है

एक मज़बूत और खुशहाल रिलेशनशिप बनाने का सबसे अच्छा तरीका है अपने मनोवैज्ञानिक स्वास्थ्य के लिए आवश्यक व्यक्तिगत विकास की राह पर चल निकलना।

  • खुद को कमज़ोर न समझें और  यह जान लें कि आप भी एक अच्छे प्यार के हकदार हैं। अपने व्यक्तित्व को साहसी और सुरक्षित मान लेने से आपका रिश्ता बेहतर हो जाएगा।
  • अगर आपकी मुलाक़ात किसी ऐसे इंसान से होती है, जो आप ही की तरह मनोवैज्ञानिक रूप से सुरक्षित महसूस करता है व आपकी इज्जत और कद्र करता है, तो एक ही राह पर चलते-चलते एक-साथ विकसित होना आपके लिए बायें हाथ का खेल हो जाएगा। ऐसा रिलेशनशिप आपके जीवन में बहार ला सकता है।

इस बात को आपको बिल्कुल नहीं भूलना चाहिए कि हम सभी लगातार विकसित होते रहते हैं। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि हमारी उम्र क्या है, जीवन में हम किन यादों को पीछे छोड़ आए हैं या अभी तक के हमारे अनुभव कैसे रहे हैं।

एक सचेत, परिपक्व, साहसी और खुशहाल प्यार हमारी रोज़मर्रा की ज़िन्दगी में निखार व आपके जीवन में एक कमाल की बहार ला सकता है।

इसे भी पढ़ें : क्या प्रेम की कोई उम्र होती है, या वह इससे परे है?

ढलती उम्र में होने वाले प्यार की खूबसूरती

ढलती उम्र में होने वाले प्यार की खूबसूरती

ख़ास होने के बावजूद ढलती उम्र के प्यार को कम तवज्जो दी जाती है।

हमारी संस्कृति, फिल्में और यहाँ तक कि साहित्य भी सिर्फ़ जवानी में होने वाले प्यार व भावनाओं के उस भंवर पर ही ज़ोर देता है, जो स्पष्ट रूप से बीस-बीस साल के लोगों के लिए ही बना होता है।

लेकिन सच्चा प्यार सफ़ेद बालों वाले लोगों के दर पर भी दस्तक दे सकता है। एक खूबसूरत प्यार आपके बचपन में आ सकता है, जवानी में आ सकता है और आपके बुढ़ापे में भी आ सकता है।

अपने जीवन में आपके जुनून की लौ कई बार जल उठ सकती है। वह लौ सिर्फ़ तभी जलेगी, जब आप तैयार होंगे और यह फैसला कर लेंगे कि आप सच में उस प्यार के हकदार हैं।