स्ट्रेस, एंग्जायटी और डर से उबरने की 14 ट्रिक्स

क्या आप उन लोगों में से एक हैं, जो तनाव, घबराहट या डर के साये में जीते हैं? अपने दिमाग को अपने वश में करके एंग्जायटी पर जीत हासिल करने की 14 कमाल की तरकीबें जानने के लिए हमारा लेख पढ़ें!
स्ट्रेस, एंग्जायटी और डर से उबरने की 14 ट्रिक्स

आखिरी अपडेट: 02 फ़रवरी, 2019

आज के ज़माने में स्ट्रेस, एंग्जायटी और डर से बड़े हमारे अन्य दुश्मन नहीं हैं। मन में चलने वाली हर चीज़ से हमारा सीधा नाता होता है।

लेकिन अपने मन को शांत करके ज़िन्दगी का अभिन्न अंग बन चुके स्ट्रेस का सामना करने की कुछ आसान-सी टिप्स हम आपके साथ शेयर करना चाहेंगे।

1. कैसे पाऊं स्ट्रेस पर काबू?

स्ट्रेसऔर चिंता से निपटने के तरीके

अपने आपसे जूझते रहने या फ़िर हालात से भागने का स्थायी रवैया अपनाने की जगह आपको सक्रिय रूप से गहरी सांसें लेनी चाहिए

अपने को संयत करके मन को शांत करने के लिए आप इनमें से कुछ रिलैक्सेशन टेकनीक को आजमा सकते हैं

2. डर का सामना करें

एक्सपोज़र थेरेपी का मतलब होता है जानबूझकर अपने डर से अपना सामना कराना। ऐसा करके अपने भय के प्रति हम ज़्यादा सहज हो जाते हैं। उदहारण के तौर पर दो-चार लोगों के आगे बोलने का डर।

अपने प्रति ईमानदार रहना सीखें। यही आपकी सबसे बड़ी ताकत होगी।

3. क्या डर आपका रास्ता रोके हुए है?

आपको यह पता होना चाहिए कि कब आपकी एंग्जायटी आप पर हावी होने लगती है। दरअसल किसी चीज़ के लिए आपका डर आपके सामने सवालों की एक चट्टान खड़ी कर सकता है।

किसी मुश्किल हालात में खुद को घिरा पाने पर आपको उसके बारे में थोड़ा सोच-विचार करना चाहिए।

अपने ख्यालों को किसी डायरी में लिखने की आदत डाल लेना ऐसा करने का एक कारगर उपाय है। अपनी समस्याओं का सामना कर उनको ठीक से समझने का यह एक कमाल का रास्ता है।

आपके डर की एक बड़ी वजह आपकी कथित सीमायें होती हैं।

4. रोज़मर्रा के अपने स्ट्रेस को शांत करने के लिए एक्सरसाइज़ करें

स्ट्रेस को शांत करने के लिए एक्सरसाइज़ करें

क्या आप जानते हैं, एक्सरसाइज करना अपने मन को शांत करने के सबसे बेहतरीन उपायों में से एक है? वह इसलिए कि कसरत करने से आपके शरीर में बनने वाले एंडोर्फिन आपको शांत करने में मददगार होते हैं।

एक्सरसाइज करने से इम्यून सिस्टम भी मज़बूत होता है व हमारा शारीरिक तापमान भी बढ़ जाता है। तंदरुस्ती के एहसास के लिए यह बेहद ज़रूरी है।

5. एंग्जायटी को जोश के तौर पर देखें

चिंता हमेशा ही चिता समान नहीं होती। कठिन परिस्थितियों में अपनी चिंता को किसी भारी बोझ के तौर पर न देखकर उसे अपने जोश के रूप में स्वीकार करना चाहिए।

एक अध्ययन से इस बात की पुष्टि की जा चुकी है कि चिंता को कोई बोझ न समझकर उसे अपने जोश के रूप में देखने वाले लोगों में मुश्किल हालात का सही ढंग से सामना कर सफलता हासिल कर लेने की संभावना कहीं अधिक होती है

6. अपनी ताकत को पहचानें

अपनी सभी चिंताओं की एक सूची बना लें। साथ ही, उन सभी चीज़ों की भी एक सूची बना लें, जिनमें आप माहिर हैं। एक बार सूची तैयार हो जाने पर उनकी परस्पर तुलना करें।

ऐसा करके आप सिर्फ़ ज़िन्दगी के नकारात्मक पहलुओं के बारे में सोचना छोड़ अपनी ज़िन्दगी की अच्छी बातों पर भी गौर करने लगेंगे। यह भी तो हो सकता है न कि आपकी सकारात्मक बातें आपकी नकारात्मक बातों से कहीं ज़्यादा हों? ऐसा होना भी चाहिए!

7. बाल की खाल निकालने से बचें

सर्वाइवल की हमारी प्रवृत्ति हमारे अंदर एक स्थायी आतंक और भय का संचार कर देती है। कई लोगों को लगता है, उन्हें हमेशा सावधान और सतर्क रहना चाहिए।

लेकिन अपने मन से आते संदेशों पर आपको लगाम लगाने की कोशिश करनी चाहिए।

हाँ, हो सकता है भविष्य में कोई अनहोनी हो जाए। लेकिन वह जब होगी, तब देखी जाएगी – फिलहाल आपको रिलैक्स करना चाहिए

8. ज़िन्दगी एक खेल है

ज़िन्दगी में स्ट्रेस और चिंता से दूर रहने की तरकीबें

मुश्किलों का सामना कर चुनौतियों को किसी हॉबी के तौर पर ले लेना अपनी एंग्जायटी या स्ट्रेस से निपटने के दो कारगर उपाय होते हैं।

स्ट्रेस से छुटकारा पाने के लिए आपको अपने एक-एक काम को किसी खेल की तरह देखना चाहिए। जब भी कुछ गलत हो जाए, तो समझ लीजिए कि आप अगला खेल शुरू कर उसमें मुसीबतों से पार पाने की कोई नयी तरकीब आज़माकर देख सकते हैं।

9. अपनी मान्यताओं को टटोलें

किसी चुनौतीपूर्ण परिस्थिति से पाला पड़ने पर जब आप तनावग्रस्त हो जाएँ तो आपको अपनी वास्तविक मान्यताओं पर लौट जाना चाहिए

आपके लिए सबसे ज़्यादा अहमियत क्या रखता है? आपका परिवार, आपका साथी, आपके बच्चे या फ़िर आपका काम?

अपने लिए मायने रखने वाली बातों को लिख लेने से आप जीवन की निर्णायक चुनौतियों पर जीत हासिल कर पाते हैं।

10. दूसरों की मदद कर आप दरअसल अपनी मदद करते हैं

किसी फ़कीर के लिए अपने घर के दरवाज़े खुले रखकर, अपने दोस्तों की तरफ़ मदद का हाथ बढ़ाकर या फ़िर होमवर्क करने में अपने बच्चों की सहायता कर आप लोगों की मदद कर सकते हैं।

सामने वाले व्यक्ति का समर्थन करना, उसकी बात को सुनना व उसके सामने मदद की पेशकश करना हमेशा अहम होता है।

दूसरों की मदद कर हमारी अपनी नकारात्मक भावनायें कम हो जाती हैं व हमारा तनाव हमें इतना ज़्यादा प्रभावित नहीं करता।

11. कॉफ़ी पिएं

कॉफ़ी पीकर अपनी स्ट्रेस को दूर भगाएं

कई अध्ययनों के मुताबिक़ बहुत-सी तनावपूर्ण परिस्थितियों में कॉफ़ी से अच्छा साथी हमारा और कोई नहीं होता

लेकिन आपको इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि मनचाहे नतीजे पाने के लिए आपको कॉफ़ी के ज़्यादा सेवन से परहेज़ करना चाहिए

चाय या कॉफ़ी का एक छोटा-सा कप लेकर कुछ पलों तक उसका लुत्फ़ उठाएं। रिलैक्स करने का आख़िर यह भी तो एक तरीका होता है!

12. स्ट्रेस के खिलाफ़ मेडिटेशन एक शक्तिशाली हथियार है

अपने वर्तमान और मौजूदा कामों पर ध्यान लगाने के लिए अपने मन को प्रशिक्षित करें।

ऐसा करके आप भविष्य की चिंता और अतीत की वजह से होने वाले कष्ट, दोनों ही से मुक्त हो जाएंगे। थोड़े से अभ्यास से आप अपने नकारात्मक विचारों, चिंता और यहाँ तक कि दर्द पर भी काबू पाना सीख लेंगे।

13. अंतर्मन में खुद से बातचीत

साल 2014 में कुछ विद्यार्थियों के साथ किए गए एक अध्ययन के अनुसार हमारा आतंरिक संवाद हमारी सोच से कहीं ज़्यादा महत्त्व रखता है।

उसी अध्ययन में यह भी पाया गया था कि खुद को “मैं” के बजाये “तुम” या अपने नाम से संबोधित करने वाले लोगों के आत्मविश्वास में सुधार आ जाता है

इसका एक और सीधा नतीजा यह था कि सार्वजनिक रूप से बोलते वक़्त उन्हें कम दिक्कत आती है।

14. स्ट्रेस अच्छा होता है या बुरा?

क्या स्ट्रेस अच्छा होता है? कुछ मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि हमारा तनाव ज़िन्दगी और उसकी सार्थकता के बारे में हमारी परवाह का एक संकेत होता है

और तो और, अपने कर्मों के सकारात्मक पहलुओं पर ध्यान देकर कठिन परिस्थितियों के प्रति अपनी प्रतिक्रिया को हम ज़्यादा उचित बना सकते हैं।

खुद को आप जब भी तनाव से जूझता पाएं तो इस बात को याद रखें: चिंता हमेशा चिता समान नहीं होती!

इसी सोच के साथ आप अपनी ज़िन्दगी के दबाव को बेहतर ढंग से संभाल पाएंगे।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
डिप्रेशन के लक्षण: कैसे जानें कि आपका प्रिय व्यक्ति इसका शिकार है
स्वास्थ्य की ओर
इसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
डिप्रेशन के लक्षण: कैसे जानें कि आपका प्रिय व्यक्ति इसका शिकार है

डिप्रेशन यानी अवसाद से पीड़ित लोग अपनी भावनाओं को अच्छी तरह से छिपा लेने में माहिर होते हैं लेकिन कुछ स्थितियों में वे ऐसा नहीं कर पाते। वे अन्य लो...



  • Al Sunni A, Latif R. Effects of chocolate intake on Perceived Stress; a Controlled Clinical Study. Int J Health Sci (Qassim). 2014 Oct;8(4):393-401.
  • Brooks, A. W. Get excited: reappraising pre-performance anxiety as excitement. Journal of Experimental Psychology: General. 2014; 143(3): 1144.
  • Can YS, Iles-Smith H, Chalabianloo N, Ekiz D, Fernández-Álvarez J, Repetto C, Riva G, Ersoy C. How to Relax in Stressful Situations: A Smart Stress Reduction System. Healthcare (Basel). 2020 Apr 16;8(2):100.
  • Cohn MA, Fredrickson BL, Brown SL, Mikels JA, Conway AM. Happiness unpacked: positive emotions increase life satisfaction by building resilience. Emotion. 2009 Jun;9(3):361-8.
  • Fossati C, Torre G, Vasta S, Giombini A, Quaranta F, Papalia R, Pigozzi F. Physical Exercise and Mental Health: The Routes of a Reciprocal Relation. Int J Environ Res Public Health. 2021 Nov 24;18(23):12364.
  • Goldin PR, Gross JJ. Effects of mindfulness-based stress reduction (MBSR) on emotion regulation in social anxiety disorder. Emotion. 2010 Feb;10(1):83-91.
  • Jackson SE, Smith L, Firth J, Grabovac I, Soysal P, Koyanagi A, Hu L, Stubbs B, Demurtas J, Veronese N, Zhu X, Yang L. Is there a relationship between chocolate consumption and symptoms of depression? A cross-sectional survey of 13,626 US adults. Depress Anxiety. 2019 Oct;36(10):987-995.
  • Keng SL, Smoski MJ, Robins CJ. Effects of mindfulness on psychological health: a review of empirical studies. Clin Psychol Rev. 2011 Aug;31(6):1041-56.