डिप्रेशन से पीड़ित हैं? डेली वाकिंग आपके जेहन को बदलेगा

अक्टूबर 19, 2018
क्या आपको पता है, अगर आप डिप्रेशन के शिकार हैं, तो हल्का-फुल्का लेकिन लगातार शारीरिक व्यायाम करने से आपको बेहतर महसूस होगा? बस रोज आधे घंटे चलने से आपको ये तमाम फायदे मिल सकते हैं।

जब आप डिप्रेशन से पीड़ित होते हैं तो आपकी दुनिया एक अलग ही रफ़्तार से आगे बढ़ती है। जब आपका दिमाग इस प्रोसेस से गुजरता है तो आप बहुत कम गतिविधि का अनुभव करते हैं और कम न्यूरल कनेक्शन बनाते हैं। डेली वाकिंग आपकी गतिविधियों को बढ़ा सकती है।

जैसा कि इलिनोइस विश्वविद्यालय के एक अध्ययन में समझाया गया है, डिप्रेशन की अवस्था में अमिग्डाला (amygdala), वह संरचना है जो आपकी भावनाओं के पहरेदार के रूप में काम करती है, बहुत निचले स्तर पर काम करती है

इन सभी बातों का एक बहुत ही ख़ास लक्ष्य होता है: आपको अपने आप पर ध्यान केंद्रित करने के लिए मजबूर करना। अपनी अंदरूनी दुनिया के विश्लेषण, इसे समझने और इसकी समस्यायों को हल करने से रोकने के लिए आपको बहुत कम सक्रिय रखना।

लेकिन यह कभी भी आसानी से नहीं आता है। डिप्रेशन फ्लू या इन्फेक्शन की तरह से ठीक नहीं हो सकता है। इस बीमारी को दूर करने के लिए आपको किसी दूसरे नजरिये से इस समस्या का समाधान करना होगा।

सबसे पहली बात, यदि आपका डॉक्टर इसकी सलाह देता है, तो आप दवाइयों के साथ अपना ट्रीटमेंट जारी रख सकते हैं, साथ ही उचित थेरेपी भी ले सकते हैं।

न्यूरोलॉजिस्ट भी इस प्रक्रिया तक पहुंचने का रास्ता ढूंढते हैं। इसके लिए वे न्यूरोनल न्यूरोप्लास्टिसिटी (neuronal neuroplasticity) का जिक्र करते हैं

ऐसे में, तेज़, गहरी और अर्थपूर्ण नई उत्तेजना और नई सनसनी का अनुभव करना आपके न्यूरल कनेक्शन को फिर से सक्रिय कर सकता है। हर दिन बाहर निकल कर चलना एक साधारण सा व्यायाम है लेकिन चिकित्सा के नजरिये से यह बहुत ही आरामदेह हो सकता है।

आज हम इस बारे में तमाम जानकारियों की खोज करेंगे।

अगर आप डिप्रेशन से पीड़ित हैं, तो डेली वाकिंग करना न भूलें

इलिनोइस यूनिवर्सिटी के एक मनोचिकित्सक स्कॉट लैंगनेकर बताते हैं कि अक्सर जो कारण डिप्रेशन को ट्रिगर करते हैं, उनमें एक है, “उदास करने वाला चिंताग्रस्त विचार” है। 

जानें: उदासी और डिप्रेशन में आजमाएं ये 8 प्राकृतिक नुस्खे

कुछ लोग ऐसे ख़ास समय से गुजरते हैं जब वे नेगेटिव और नुकसानदेह विचारों से ग्रस्त हो जाते हैं

  • यह न खत्म होने वाली चीज़ की तरह है जिससे बचना मुश्किल है। नकारात्मक विचार एक के ऊपर एक हावी होते रहते हैं, जिससे आप अपने भीतर एक घातक इमोशनल प्रोसेस पैदा कर लेते है जो आपको आपके खुद के बनाये ब्लैक होल में गिरने का कारण बनता है।

रूटीन, छोटी जगहों में रहना और यहां तक ​​कि हर समय कुछ विशेष लोगों से ही मेलजोल इन “चिंता में डालने वाले विचार प्रक्रिया” को और भी तेज कर सकता है।

छोटे शहरों या गांवों की तुलना में जहाँ लोग प्रकृति के संपर्क में ज्यादा रहते हैं, शहरी परिवेश में रहने वाले लोगों में डिप्रेशन ज्यादा पाया जा सकता है।

डिप्रेशन से पीड़ित हैं: डेली वाकिंग करें

  • इसका मतलब यह नहीं है कि सबकुछ छोड़-छाड़ कर पहाड़ों पर रहने चले जायें। आपको बस अपने लिए कुछ घंटे निकालने की जरूरत है, जिससे आप प्रकृति से जुड़ सकें।

  • यदि आप डिप्रेशन से ग्रस्त हैं, तो किसी पार्क, जंगल या समुद्र तट पर डेली वाकिंग के लिए जायें। किसी भी ऐसी हरी-भरी जगह को चुनें जहां चलना-फिरना आसान हो।

कुछ दिनों के बाद आप यह सब नोटिस करना शुरू कर देंगे।

आपका मूड बदल रहा है

जब आप थोड़ी एक्सरसाइज करते हैं, यहां तक ​​कि अगर सिर्फ आधे घंटे के लिए पैदल चलते है तो, आपका दिमाग एंडोर्फिन (endorphins) उत्पन्न करता है।

  • एंडोर्फिन आपके दिमाग में मौजूद रिसेप्टर्स में आपसी तालमेल कायम करते हैं और उदासी, नकारात्मकता और यहां तक ​​कि दर्द के आपके अनुभवों को कम करते हैं।

  • जैसा कि कुछ न्यूरोलॉजिस्ट बताते हैं, एंडोर्फिन सुख का एहसास कराते हैं, जिसे उस अनुभव के रूप में भी समझा जा सकता है जब कोई “धावक दौड़ने के बाद मिली ख़ुशी” का अनुभव करता है।
  • यह एक सकारात्मक और ऊर्जा से भरी भावना है जो जुनून भरी घातक सोच में एक ब्रेक लगाने की तरह काम करती है। यह कई चीजों को आपके सोच के दायरे में रखने में मदद करता है।

न्यूरोनल कनेक्शन को बढ़ावा देता है

हमने पहले बताया था, न्यूरोनल डिस्कनेक्शन और डिप्रेशन के बीच एक संबंध है। यह जानना दिलचस्प है कि हल्के-फुल्के लेकिन नियमित किये गए व्यायाम आपके दिमाग के प्रदर्शन में सुधार कर सकते हैं।

यह भी देखें: डिप्रेशन के बारे में 4 जरुरी बातें जो हर महिला को जाननी चाहिए 

डिप्रेशन से पीड़ित हैं: न्यूरोनल कनेक्शन

बहुत अलग अलग तरीकों से कुछ ख़ास हासिल किया जाता है।

  • सबसे पहली बात, ऐसा लगता है कि जिसे हम “न्यूरोजेनेसिस” के रूप में जानते हैं, वह नई मस्तिष्क कोशिकाएं बनाता है।

  • आपकी हृदय गति को ठीक करता है, दिमाग को ज्यादा ऑक्सीजन मिलता है और यह ज्यादा सुखद, सकारात्मक और मोटिवेट करने वाले न्यूरोकेमिकल उत्पन्न करने में सहायता करता है।

  • ये सारे इंटरनल “केमिकल”  नई कोशिकाओं का निर्माण करते हैं और मजबूत न्यूरल कनेक्शन बनाने में सहायता करते हैं।

ये फायदे आपको पहले या दूसरे दिन से ही नज़र नहीं आयेंगे। आपको अपनी डेली रूटीन में रेगुलर और पक्का रहना होगा।

बस हर दिन आधे घंटे तक चलें, याद रखें, “ये पल आपके लिए हैं।”

खुशी के पल

चलना आपकी क्रिएटिविटी को बढ़ाता है

आप सोच रहे होंगे, डिप्रेशन से पीड़ित होने पर क्रिएटिविटी आपकी मदद कैसे कर सकती है। सुधार को बढ़ावा देने वाली यह शक्तिशाली क्षमता आपको आपकी रिकवरी के लिए आगे के पॉजिटिव मार्ग को देखने में मदद करेगी।

डिप्रेशन से पीड़ित हैं? डेली वाकिंग

चलना आपको आराम देता है। हर एक कदम जो भी आप उठाते हैं और हर सांस में जो ऑक्सीजन आप लेते हैं, वह आपके दिमाग को उत्तेजित करता है।

  • इन्हीं पलों के दौरान जब आप अपने हित के बारे में सोचना शुरू करते हैं तो अचानक सारी चीजें आपकी सोच में आ जाएंगी। बदले में, आप नए विचारों के बारे में सोचेंगे।

  • सकारात्मक सोच उन छोटी सी श्रृंखलाओं को तोड़ने का एक तरीका है जो आपको अपने डिप्रेशन के हालत में कैद करते हैं।

  • यह संभव है, जब आप पैदल चलें तो आपके दिमाग में नए विचार आएंगे। उस क्रिएटिव आईडिया को कला से संबंधित होने की आवश्यकता नहीं है। हमने पहले से ही उस व्यक्तिगत चतुराई के बारे में बात की है जो आपको उस ब्लैक होल से बाहर निकलने में मदद करेगी।
  • डिप्रेशन पर काबू पाना आसान नहीं है। लेकिन एक नया सपना, एक प्रोजेक्ट, एक इच्छा और अंत में एक निर्णय जो सबकुछ बदल देगा, आपको एक दिन दिखाई जरूर देगा।

यह छोटा सा बदलाव लागू करने लायक है। यदि आप डिप्रेशन से पीड़ित हैं, तो डेली वाकिंग करें और अपने दिमाग को धीरे-धीरे ठीक होने दें।

Mayo Clinic. (2017, September 27). Depression and anxiety: Exercise eases symptoms. Retrieved from https://www.mayoclinic.org/diseases-conditions/depression/in-depth/depression-and-exercise/art-20046495

Otto, M. (2011). Outwalking Depression. Retrieved from https://www.psychologytoday.com/us/blog/exercise-and-mood/201107/outwalking-depression