3 नेचुरल पेनकिलर माइग्रेन से छुटकारा पाने के लिए

दिसम्बर 23, 2018
माइग्रेन से छुटकारा पाने के लिए, बहुत जरुरी है कि आप उन सभी चीजों और परिस्थितियों से दूर रहें जो इसके होने का कारण बनती हैं। माइग्रेन के लिये कुछ नेचुरल पेनकिलर के बारे में जानने के लिए पढ़ते रहिये!

माइग्रेन आमतौर पर होने वाली सबसे आम स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है। बहुत से लोग हर दिन माइग्रेन से पीड़ित होते हैं जिन्हें बहुत सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है, क्योंकि माइग्रेन की वजह से बहुत तेज दर्द और यहां तक कि उल्टियाँ भी होती हैं।

आप दिन के किसी भी समय इस असहनीय सिरदर्द को महसूस कर सकते हैं। एक माइग्रेन आमतौर पर किये जाने वाले रोजाना के कामों को ठीक तरह से करने में कठिनाई पैदा कर सकता है। इस पोस्ट में, हम आपको इस स्थिति के बारे में कुछ और भी बताएंगे और माइग्रेन से छुटकारा पाने में मदद के लिए घर पर आसानी से तैयार किये जा सकने वाले कुछ प्राकृतिक नुस्खे भी बतायेंगे

माइग्रेन के कारण (The Causes of Migraines)

यहां इस समस्या के कुछ कारण दिए गए हैं, क्योंकि ऐसे कई फैक्टर्स हैं जो इसके होने की वजह हो सकते हैं:

  • कैफीन, मोनोसोडियम ग्लूटामेट से भरपूर फूड्स, और नाइट्रेट वाली मीट का सेवन करना।
  • गर्मी और एयर-प्रेशर में बहुत ज्यादा बदलाव, खासतौर पर कम एयरप्रेशर, इसके होने की वजह बन सकता है।
  • कोई खास तरह की तेज गंध।
  • ड्रिंक और स्मोकिंग जैसी हानिकारक आदतें।
  • कई बार, नींद की कमी या यहां तक कि बहुत ज्यादा सोना भी माइग्रेन की वजह बन सकता है।

आपको यह भी ध्यान में रखना होगा कि स्वस्थ रहने और माइग्रेन से छुटकारा पाने के लिए आपको स्वस्थ आहार और अच्छी आदतें बनाये रखनी होंगी। फैट फूड्स या इस तरह की दूसरी चीजों को खाना जिन्हें आपका’ शरीर बर्दाश्त नहीं कर सकता या पचा नहीं सकता जैसे (अल्कोहल या ड्रग्स) केवल आपके शरीर को नुकसान पहुंचाता है और यहां तक कि इसके गंभीर नतीजे भी देखने को मिल सकते हैं।

याद रखें कि आप एकमात्र इंसान हैं जो यह तय कर सकते हैं कि आपको अपने शरीर में क्या रखना है। माना हम सभी को आजादी है, हमें माइग्रेन से छुटकारा पाने के लिये सबसे अच्छे विकल्प खोजने के लिये कड़ी-से-कड़ी मेहनत करनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: माइग्रेन, पाचन समस्याएं और दर्द से निजात के लिए अदरक का पानी

माइग्रेन के लक्षण (Symptoms of Migraines)

माइग्रेन दो प्रकार के होते हैं: क्रोनिक और एपिसोडिक। अगर आपको तीन महीने से ज्यादा समय के लिए हर महीने 15 दिनों से ज्यादा समय तक माइग्रेन के लक्षण दिखाई देते हैं तो आप क्रोनिक माइग्रेन से पीड़ित हैं। इसके अलावा, एक एपिसोडिक माइग्रेन तब होता है जब आपको एक महीने में तीन बार माइग्रेन का सामना करना पड़ता है।

अब हम माइग्रेन ऑरा के बारे में बात करने जा रहे हैं, जो तेज दर्द से पहले होता है। याद रखने के लिए यहाँ माइग्रेन के कुछ लक्षण बताये गए हैं।

  • माइग्रेन के साथ, ग्लेर, फोटोफोबिया, या टनल विज़न जैसे नजर की समस्याएं होना आम हैं।
  • आपको काले धब्बे (स्कोटोमा) भी हो सकता है या सितारे या झिलमिल करती हुयी रोशनी (फॉस्फीन्स) देख सकते हैं।
  • हाथों और पैरों में सेन्सिटिविटी, जैसे झनझनाहट या अकड़न
  • बोलने में समस्या या गलत शब्द।
टनल विज़न

दूसरे लक्षणों के अलावा, माइग्रेन के रोगी में:

  • चक्कर आना
  • मतली
  • जंभाई या सुस्ती आना
  • कान्सन्ट्रैट करने में परेशानी

माइग्रेन से छुटकारा पाने के लिए नेचुरल पेनकिलर

सबसे पहले, जब भी आपको इसके लक्षण महसूस होते हैं तो किसी स्पेशलिस्ट को दिखाएँ क्योंकि हर रोगी को एक अलग ट्रीटमेंट की जरुरत होती है।

यहां कुछ नेचुरल पेनकिलर हैं जो आपको नेचुरल तरीके से माइग्रेन से राहत देगें और इसके इलाज में मदद करेंगे।

1. अदरक और लेमन टी (Ginger and lemon tea)

अदरक में एक एक्टिव तत्व होता है जिसे जिंजरोल कहा जाता है जो इसे एनाल्जेसिक और एंटी-इन्फ्लैमटोरी गुण देता है। यह, नींबू के पोषक तत्वों के साथ मिलकर, ब्लड वेसल्स को आराम देने में मदद करता है, जिससे सिरदर्द में राहत मिलती है

जरुरी चीजें

  • 1 कप पानी (250 मिलीलीटर)
  • 1 चम्मच बारीक कटा हुआ अदरक (5 ग्राम)
  • ½ नींबू का रस

बनाने का तरीका

  • एक कप पानी उबालें।
  • जब यह उबल जाये, एक चम्मच अदरक मिलाएं और दो मिनट और इसे आंच पर रहने दें।
  • आंच से निकालें, नींबू का रस मिलाएं, और कुछ देर के लिए छोड़ दें।
  • हम इसे दिन में दो से तीन बार पीने की सलाह देते हैं।

इसे भी पढ़ें: हमें सिरदर्द को लेकर कब फिक्रमंद हो जाना चाहिए?

2. माइग्रेन के लिए कैमोमाइल और शहद (Chamomile and honey)

2. माइग्रेन के लिए कैमोमाइल और शहद (Chamomile and honey)

कैमोमाइल के फूलों का एनाल्जेसिक और एंटी-इन्फ्लैमटोरी गुण माइग्रेन के कारण होने वाले तनाव से राहत दे सकता है। यह ब्लड सर्कुलेशन को ठीक करता है और, सेल्स की ऑक्सीजन की प्रक्रिया में सुधार करके, सिरदर्द के कारण होने वाली सूजन को कम करता है।

जरुरी चीजें

  • 1 चम्मच कैमोमाइल फूल (15 ग्राम)
  • 1 कप पानी (250 मिलीलीटर)
  • ½ चम्मच शहद (12 ग्राम)

बनाने का तरीका

  • कैमोमाइल फूलों के साथ पानी को गर्म करें जब तक कि पानी उबल न जाये।
  • उबलने के बाद इसे आंच से निकालें और रख दें।
  • इसे छाने और एक चम्मच शहद मिलाकर मीठा कर दें।
  • हम सलाह देते हैं कि आप दिन में दो बार इसे गर्म करके पियें।

3. कॉस्टमेरी टी (Costmary tea)

कॉस्टमेरी दूसरे पौधों की तरह पॉपुलर नहीं है। फिर भी, यह एक एनाल्जेसिक और दर्दनिवारक औषधी है जो इस समस्या के कारण होने वाले तेज दर्द से राहत दे सकता है। आप इसे किसी हर्बल शॉप से खरीद सकते हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि आप इसे कभी-कभी प्रीवेन्टिव के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

जरुरी चीजें

  • 1 कप पानी (250 मिलीलीटर)
  • 1 चम्मच कॉस्टमेरी (15 ग्राम)

बनाने का तरीका

  • पानी को गर्म करें और जब यह उबालने लगे, तो इसमें कॉस्टमेरी मिलाएं और इस घोल को फिर से उबालें।
  • आंच से निकालें और रख दें।
  • हम हर बार खाना खाने से पहले इसे पीने की सलाह देते हैं।

आपको कुछ चीजें ध्यान में रखनी होंगी जैसे कि फिजिकल एक्टिविटी के साथ माइग्रेन और भी बदतर हो जाता है। यही कारण है कि माइग्रेन से छुटकारा पाने के लिए आराम करना बहुत जरुरी है।