5 बेहतरीन नुस्खे मसूड़ों में संक्रमण का इलाज करने के लिए

मसूड़ों में संक्रमण एक ऐसी समस्या है जो दुनिया भर के लाखों लोगों को प्रभावित करती है। अगर आप समय पर इसका इलाज कर लें, तो एक छोटे से इन्फेक्शन को बड़ी बीमारी में बदलने से रोक सकते हैं।
5 बेहतरीन नुस्खे मसूड़ों में संक्रमण का इलाज करने के लिए

आखिरी अपडेट: 26 अगस्त, 2018

मसूड़े आपके मुंह के सबसे खास हिस्सों में से एक होते हैं। कभी-कभी, दाँतों की साफ़-सफाई की ख़राब आदतों की वजह से मसूड़ों में संक्रमण हो सकता है।

मसूड़ों में सूजन का आना मसूड़ों में संक्रमण के सबसे आम लक्षणों में से है। आज के पोस्ट में, हमने मसूड़ों में संक्रमण  के इलाज के लिए 5 असरदार नुस्खे तैयार किए हैं।

मसूड़ों का संक्रमण क्या है? (What is a gum infection)

मसूड़ों या पीरियडोंन्टल की बीमारी, एक ऐसी स्थिति है जो ऊपर या नीचे के मसूड़ों को प्रभावित करती है। इस तरह के संक्रमण के लक्षण आसानी से देखे जा सकने लायक होते हैं। इनमें मसूड़ों का लाल होना और सूजन शामिल हैं।

मसूड़ों का इन्फेक्शन

मसूड़ों में संक्रमण दो बड़ी बीमारियों का कारण बनता है: जिंजीवाइटिस और पीरियडोंटाइटिस। जिन्जवाइटिस इन्फेक्शन का शुरुवाती दौर है। हम इसके लक्षणों को आसानी से देख सकते हैं और उन्हें वापस मोड़ सकते हैं। आम-तौर पर दांतों पर जमा होने वाले प्लैक और टार्टर  जिंजीवाइटिस के सबसे बड़े कारण होते हैं।

मेडलाइन प्लस के अनुसार, पीरियडोंटाइटिस जिंजीवाइटिस का सही इलाज नहीं होने की वजह से होता है।

पीरियडोंटाइटिस के मामलों में, मसूड़ों की सूजन दांतों की जड़ों को खोखला करने लगती है, नतीजा यह होता है कि दांत टूटने लगते हैं।

मसूड़ों में संक्रमण का इलाज कैसे कर सकते हैं?

लाखों लोग पहले से ही मसूड़ों में संक्रमण से बचने के गोल्डन रूल के बारे में जानते हैं: अगर आप स्वस्थ मुंह चाहते हैं, तो आपको साल में कम से कम दो बार डेंटल क्लीनिंग करानी होगी। कई बार, प्लैक और टार्टर का बनना ही गम इन्फेक्शन के लिये जिम्मेदार होता है। इसमें प्रोफेशनल सहायता की जरूरत होती है।

हालांकि, घरेलू उपचारऔर औषधियां हमेशा फायदेमंद होती हैं। डेंटिस्ट भी खुद उन्हें इस्तेमाल करने का सुझाव देते हैं। अलग-अलग घरेलू नुस्खों का इस्तेमाल करके, आप एक असरदार और लम्बे समय तक चलने वाला ट्रीटमेंट तैयार कर सकते हैं।

नीचे, हम आपको कुछ नुस्खे बताएँगे जो आपको मसूड़ों के इन्फेक्शन से लड़ने में मदद कर सकते हैं:

1. हाइड्रोजन पेरॉक्साइड (Hydrogen peroxide)

यह कोई रहस्य  नहीं है, हाइड्रोजन पेरॉक्साइड घावों के इन्फेक्शन को ख़त्म करने के लिए पहली पसंद है। इसी तरह यह मसूड़ों के लिए भी काम करता है। चलिये जानते हैं कि इस आसान से नुस्खे का इस्तेमाल कैसे करें। सुनिश्चित कर लें कि यह हमेशा आपके दवाइयों की पेटी में मौजूद रहे।

जरूरी चीजें

  • 2 बड़े चम्मच हाइड्रोजन पेरॉक्साइड (30 मिलीलीटर)
  • 2 बड़े चम्मच पानी (30 मिलीलीटर) (पानी और हाइड्रोजन पेरॉक्साइड की बराबर मात्रा)
  • 1 बूंद एल्कोहल

बनाने का तरीका

  • एक छोटे ग्लास में पहले हाइड्रोजन पेरॉक्साइड की थोड़ी मात्रा डालें। उसके बाद थोड़ा पानी डालें।
  • उन्हें मिलाएं, अपनी जरूरत के हिसाब से ताकतवर बनाने के लिये इसमें एक बूंद एल्कोहल डालें।
  • हर रात अपने दांतों को ब्रश करने के बाद इस मिश्रण (mixture) से कुल्ला करें

2. माउथवाश (Mouthwash)

माउथवाश का इस्तेमाल हम बैक्टीरियल प्लैक से लड़ने के लिए करते हैं। प्लैक का जमा होना जिंजीवाइटिस और पीरियडोंटिसिस जैसे मसूड़ों  के रोगों का सबसे बड़ा कारण है। माउथवाश की प्लैक से लड़ने में काबिलियत इसे ट्रीटमेंट के सबसे कारगर नुस्खों में से एक बनाती है।

माउथवाश

जरूरी चीजें

  • 2 बड़े चम्मच माउथवाश (30 मिलीलीटर)
  • 1 बड़ा चम्मच पानी (15 मिलीलीटर)
  • नमक (जो भी आप चाहें)

बनाने का तरीका

  • आपको बस इतना करना है कि थोड़ा माउथवाश लेना है और इसे पानी में घोल देना है। उतना पानी न मिलाएं जितना आपने माउथवाश मिलाया है।
  • इसमें एक छोटा चम्मच नमक मिलाकर इस मिश्रण को ज्यादा ताकतवर बना सकते हैं।
  • अगर हो सके तो हर बार खाना खाने के बाद इससे कुल्ला करें।

3. बेकिंग सोडा (Baking soda)

स्वस्थ मुंह के लिए, बेकिंग सोडा बहुत मददगार हो सकता है। कई प्राकृतिक नुस्खों में बेकिंग सोडा को एक क्षार की तरह इस्तेमाल किया जाता है। यह इसे गम इन्फेक्शन के इलाज के लिए अच्छा विकल्प भी बनाता है।

जरूरी चीजें

  • 1 बड़ा चम्मच बेकिंग सोडा (9 ग्राम)
  • 1 चम्मच पानी (5 मिलीलीटर)

बनाने का तरीका

  • इसे बहुत ही आसान नुस्खे के रूप में जाना जाता है। आपको बस बेकिंग सोडा को थोड़े पानी के साथ तब तक मिलाते रहना है जब तक कि यह हल्का गाढ़ा पेस्ट न बन जाये।
  • इस पेस्टको कुछ मिनटों के लिए अपने सूजे हुये मसूड़ों पर लगा लें और फिर कुल्ला कर लें।

4. आलू का भरता (Potato puree)

आलू पौष्टिक, स्वादिष्ट और बनाने में आसान होता है। हालांकि बहुत कम लोग बात जानते हैं कि आलू में औषधीय गुण भी होते हैं।

इलाज के लिए आलू का इस्तेमाल करने के तरीकों में से एक तरीका घर पर प्यूरी (भरता) बनाना है। प्यूरी मसूड़ों में संक्रमण और सूजन के इलाज के लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है, खासकर जब आप कच्चे आलू का इस्तेमाल करते हैं।

जरूरी चीजें

  • 2 आलू
  • ½ कप गर्म पानी (100 मिलीलीटर)
  • 1 चम्मच नमक (5 ग्राम)

बनाने का तरीका

  • आलू को छील लें और बारीक टुकड़ों में काट लें।
  • कच्चे आलू का इस्तेमाल करें और इसमें गर्म पानी डालकर तब तक मैश करते रहें जब तक कि यह कच्चा आलू प्यूरी न बन जाये।
  • इसे जितना चाहें अपने सूजे हुये मसूड़ों पर लगा लें। रात में इस्तेमाल के लिए यह एक बहुत अच्छा नुस्खा है।

5. शहद वाली चाय (Honey tea)

शहद और नींबू

चाय किसी भी इन्फेक्शन के इलाज की प्रक्रिया को तेज कर सकती है। मसूड़ों में संक्रमण और सूजन के मामले में एक कप शहद वाली गर्म चाय बहुत मददगार साबित हो सकती है, खासकर अगर आप अपने मसूड़ों को भिगाने के लिये चाय को कुछ सेकंड तक अपने मुंह में रोक लें।

जरूरी चीजें

  • 1 टी बैग
  • 1 चम्मच शहद (7.5 ग्राम)
  • 2 चम्मच जड़ी-बूटियां (10 ग्राम)
  • 1 कप पानी (250 मिलीलीटर)

बनाने का तरीका

  • पानी को गर्म करें और उसमें टी बैग डालें।
  • टी बैग को निकलते समय एक चम्मच शहद डाल दें और अगर चाहें तो थोड़ी जड़ी-बूटी भी मिला लें।
  • चाय को ठंडी होने दें और फिर पी लें। मसूड़ों के प्रभावित हिस्सों का इलाज करने के लिए कुछ सेकंड तक चाय को अपने मुंह में रोककर रखें।

गम इन्फेक्शन वह समस्या है जो दुनिया भर के लाखों लोगों को प्रभावित करती है। अगर आप समय रहते इसका इलाज कर लेते हैं, तो आप इस छोटे से संक्रमण को बड़ी समस्या बनने से रोक सकते हैं।

अगर आप लगातार इन नुस्खों का इस्तेमाल करते हैं, तो ये आपके लिये बहुत मददगार साबित हो सकते हैं।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
दांतों के टार्टर की सफ़ाई के लिए 3 जोरदार घरेलू ट्रीटमेंट
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
दांतों के टार्टर की सफ़ाई के लिए 3 जोरदार घरेलू ट्रीटमेंट

दांतों के टार्टर की शिकायत मुँह की सबसे आम स्वास्थ्य समस्याओं में से एक है। यह एक ऐसी स्थिति है जिसका दांतों और मसूड़ों पर नकारात्मक असर होता है क्योंकि इससे संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।