आंतों की गैस आपकी सेहत के बारे में क्या बताती है?

22 जुलाई, 2018
आपने कभी न कभी पेट की किसी तकलीफ़ का अनुभव किया होगा, पेट का फूलना भी। इस पोस्ट में जानिये, पेट का फूलना आपके स्वास्थ्य के बारे में क्या बता सकता है।

आंतों में ज्यादा वायु होने की वजह से पेट फूलता है। हम जो खाना खाते हैं उसमें मौजूद बैक्टीरिया के कारण आंतों की गैस पैदा होती है। अच्छे आहार, एक्सरसाइज और विटामिन का सेवन करने की आदतों के बिना गैस की समस्या लगातार रहेगी।

इसके संभावित कारणों में से कुछ यहाँ नीचे दिए गए हैं:

  • बहुत जल्दी खाना।
  • खाने के दौरान बहुत अधिक हवा निगलना (उदाहरण के लिए, यह आम तौर पर खाने के दौरान बात करने के कारण होता है)।
  • अत्यधिक मात्रा में भोजन करना भी इसकी वजह हो सकता है।

आंतों की गैस कोई बीमारी नहीं है बल्कि एक अलार्म सिग्नल है कि पाचन तंत्र में कुछ सही नहीं है।

एक तरफ, यह हो सकता है कि आप शुगर और सेलूलोज़ की ऊँची मात्रा खा रहे हैं। ये कार्बोहाइड्रेट आसानी से नहीं हजम होते और न ही शरीर में जल्दी अवशोषित ही होते हैं। इस कारण ये आंतों में चले जाते हैं और गुदा मार्ग से शरीर से बाहर निकल जाते हैं।

हालांकि ऐसे दूसरे प्रोडक्ट भी हैं। फूलगोभी, दाल, किशमिश या ब्रोकोली का भी असर ऐसा ही होता है। इन मामलों में, इस तरह की आँतों की गैस बिलकुल नेचुरल है।

आंतों की गैस को लेकर कब चिंतित होना चाहिए?

चिकित्सा क्षेत्र में गैस गंभीर बीमारी का संकेत नहीं हैं। लेकिन एक डॉक्टर के साथ अपॉइंटमेंट लेने में कोई बुराई नहीं है। विशेष रूप से यदि समस्या कंट्रोल में नहीं आ रही है, और आपके रोजमर्रा के काम पर इससे असर पड़ रहा है। लक्षणों के मुताबिक ही डॉक्टर इसका ट्रीटमेंट तय करेंगे।

मेरे अंदर इतनी वायु क्यों है?

ऐसी कुछ आदतें हैं जिनकी वजह से आंतों की वायु को मुक्त करने की संभावना कम हो जाती है। जैसा कि पहले बताया गया है;

1. जल्दी खाना।

2. च्यूइंग गम चबाना।

3. हार्ड कैंडीज़ चूसना।

4. कृत्रिम दांतों का उपयोग करना।

आंतों की गैस ज्यादा होने पर यह पीड़ित की मनोदशा को भी प्रभावित कर सकती है। क्यों? क्योंकि जब कोई व्यक्ति घबरा जाता है तो वह अनजाने में अधिक हवा निगलता है।

 

इसे भी पढ़ें:  5 प्राकृतिक नुस्खे नर्वस गैस्ट्राइटिस के लिए

आंतों की गैस की ओर से सचेत करने वाले लक्षण

  • यदि कोई दवा लेने के बाद गैस बननी शुरू होती है।
  • लगातार तेज़ पेट दर्द। खासकर अगर यह बुजुर्ग व्यक्ति का मामला है।
  • बहुत कम भूख लगना, उल्टी, चक्कर आना या दस्त।
  • कब्ज और वजन घटना।
  • मल के रंग में बदलाव।
  • पाचन में असुविधा।
  • पेट में सूजन।
  • पेट में अम्ल।

आंतों की गैस के कारण

  • जब कोई व्यक्ति ठीक से चबाता नहीं है तो भोजन को लार्ज इंटेसटाइन तक पहुँचने में परेशानी होती है।
  • एक बार भोजन लार्ज इंटेसटाइन तक पहुंच जाता है तो वह बहुत सारे बैक्टीरिया से पचाया जाता है और प्रक्रिया ज्यादा कठिन होती है, फलस्वरूप ज्यादा गैस बनती है।
  • फ्रुक्टोज़ जैसे मीठे पदार्थ या स्वीटनर्स और प्रीजर्वेटिव को पचाने के लिए ज्यादा समय की आवश्यकता होती है।
  • जब डेयरी प्रोडक्ट को विघटित करने के लिए शरीर में पर्याप्त लैक्टेज़ नहीं होता है।
  • दिन-प्रतिदिन की व्यस्त जीवन शैली की वजह से तनाव और चिंता होती है जो अपने आप ही आंतों के कार्य को बदल देती है। इसलिए वायु की उच्च मात्रा उत्पन्न होती है।
  • अगर आपको कब्ज है तो गैस एक वास्तविकता है क्योंकि वह पेट में जमे मल के कारण होती है।

रोकथाम

चाहें वह डकार आना या पेट फूलना हो, हमें गैस को कम करने की जरूरत है। इसे कम करने के लिए, आहार संबंधी आदतों को बदलना ज़रूरी है। इसके लिए निम्नलिखित सुझाव हैं:

  • हार्ड कैंडीज़ न चूसें।
  • पास्ता खाना सीमित करें और सप्ताह में केवल एक बार लें।
  • पके हुए फल खाने के लिए चुनें।
  • पनीर और दही का कम सेवन करें।
  • अपने आहार में टमाटर, गाजर और अजवाइन की मात्रा को सीमित करें।
  • तलने के बजाय भूनकर या उबालकर खाना पकायें।
  • जिन खाद्य पदार्थों में ज्यादा चीनी होती है उन्हें न खाएं।

 

इसे भी पढ़ें:  आँतों की समस्या के बारे में सचेत करते हैं ये 6 अजीब लक्षण

इन खाद्य पदार्थों से दूर रहें

  • मिश्रित फलियां। दाल, काबुली चना और बीन्स से दूर रहें।
  • कुछ सब्जियां हैं जो गैस बनाती हैं। पत्ता गोभी, खीरा, सलाद का पत्ता या ब्रॉकली का कम सेवन करें।
  • आटा और अन्न इसमें बहुत अच्छे नहीं हैं।
  • डेयरी उत्पादों से बचें, खासकर दूध से।
  • शलजम, आलू और कच्चे प्याज से दूर रहें।
  • कार्बोनेटेड पेय को सीमित मात्रा में लें या बिलकुल न लें।
  • रेड वाइन।

आंतों की गैस का ट्रीटमेंट

पाचन तंत्र के कार्य में सुधार के लिए एक्सरसाइज बहुत महत्वपूर्ण है। यह न केवल गैस को बल्कि दर्द और पेट के फूलने को भी कम करेगी।

हालांकि डॉक्टर इस मामले में प्रोबायोटिक पूरक दे सकते हैं जो शरीर में स्वस्थ बैक्टीरिया प्रदान करते हैं। ये बैक्टीरिया पाचन में सहायता करते हैं।

लेकिन अगर मरीज को दिन में कई बार तीव्र दर्द होता है तो एक एंटी-कॉलिक दवा लेना सबसे अच्छा विकल्प है। ये दवाएं सीधे आंतों में असर करती हैं और पेट की मांसपेशियों को आराम देती हैं।

स्वयं अपना इलाज करने की कोशिश न करें। खुद का इलाज दर्द के कारण को छिपा सकता है और वास्तव में जिस ट्रीटमेंट की आवश्यकता है उसमें बाधा डाल सकता है। जब हम अपने आप दवा लेते हैं, तो हम यह मान ले सकते हैं कि आंतों की गैस के पीछे कोई दूसरा कारण नहीं है, जबकि हो सकता है, इसकी वजह कोई दूसरी गंभीर बीमारी हो

  • Pellissier, S., & Bonaz, B. (2017). The Place of Stress and Emotions in the Irritable Bowel Syndrome. In Vitamins and Hormones. https://doi.org/10.1016/bs.vh.2016.09.005
  • Hasler WL. Gas and Bloating. Gastroenterol Hepatol (N Y). 2006;2(9):654–662.
  • Azpiroz F. Intestinal gas dynamics: mechanisms and clinical relevance. Gut. 2005;54(7):893–895. doi:10.1136/gut.2004.048868