अपने फेफड़ों को डिटॉक्सीफाई करने के नेचुरल तरीके

मई 26, 2019
वैसे तो आप इन फैक्टर के बारे में कुछ नहीं कर सकते क्योंकि वे पहले से ही आपके पर्यावरण का हिस्सा हैं। फिर भी आप घर पर प्राकृतिक इलाजों और नुस्खों की मदद से अपनी देखभाल कर सकते हैं। ये आपके फेफड़ों की सेहत में सुधार कर सकते हैं।

फेफड़ों को डिटॉक्सीफाई करना जरूरी है। क्योंकि ऐसे कई फैक्टर हैं जो उन्हें ठीक से काम करने से रोकते हैं। इनमें एक्सरसाइज की कमी, पर्यावरण प्रदूषण और तंबाकू का धुआँ है।

ध्यान दीजिए!

रोज़ाना अपने फेफड़ों की सफाई करने के लिए टिप्स

ज़हरीली गैस से दूर रहें (Stay Away from Toxic Gases)

फेफड़ों

असल में, व्यावहारिक तौर पर, शहर के प्रदूषण और ज़हरीली गैसों से बचना नामुमकिन है। यही वजह है कि, प्राकृतिक जगहों पर घूमने जाने की सलाह दी जाती है जिससे आप ताजी हवा में सांस ले सकें।

जितना हो सके बड़े शहरों से दूर रहें, ग्रामीण इलाकों में घूमने-फिरने का लुफ्त उठाएं, किसी कैम्पिंग की जगह पर जाएं, एक कॉटेज किराए पर लें और प्रकृति के साथ मेलजोल बनायें। इस तरह आप अपने फेफड़ों को डिटॉक्सीफाई करने में मदद कर सकते हैं क्योंकि ताजी हवा उनके लिए सबसे अच्छी औषधि है।

धूम्रपान न करें (Don’t Smoke)

याद रखें कि तंबाकू न केवल आपको बल्कि उन लोगों को भी नुकसान पहुँचाता है जो धुएँ को सांसों के जरिये अन्दर लेते हैं।

आपको धूम्रपान छोड़ देना चाहिए। आपको धूम्रपान करने वालों से भी दूरी बनाए रखनी चाहिए। सार्वजनिक धूम्रपान वाले इलाकों से भी दूर रहना चाहिए।

धुएँ से बचना एक अच्छी आदत है और आपके फेफड़े इसके लिये हमेशा आपके आभारी रहेंगे।

अपने घर के अंदर की हवा को शुद्ध करें (Purify the Air in Your Home)

आपके घर में भी हानिकारक कण होते हैं। फिल्टर का इस्तेमाल करके और अपने घर के हर हिस्से को हवादार बनाकर उनकी रोकथाम करें। इस तरह आप गंदगी को जमा होने से रोकेंगे।

इसके अलावा आपको रोज़ाना अपने कार्पेट को भी साफ करना होगा क्योंकि उनमें बहुत ज्यादा धूल जमा रहती है।

इसे भी पढ़ें : ब्रोकली के अविश्वसनीय फायदे

स्वस्थ डाइट बनाए रखें

स्वस्थ भोजन : फेफड़ों

ध्यान रखें कि आपकी डाइट में फल और सब्ज़ियाँ भरपूर मात्रा में शामिल हों, क्योंकि वे शरीर के लिये जरूरी पोषक तत्वों के अच्छे स्रोत होते हैं और एंटीऑक्सिडेंट के रूप में भी काम करते हैं।

अपने खाने में विटामिन C से भरपूर चीजें शामिल करें। नाश्ते में एक गिलास खट्टे फलों का नेचुरल जूस आपके फेफड़ों को साफ करने और इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में मदद करेगा। खजूर, केले, प्रून या स्ट्रॉबेरी से मिलने वाले पोटेशियम को भी अपनी डाइट में शामिल करना न भूलें।

खूब पानी पिए (Drink Plenty of Water)

दो लीटर पानी ठीक है, और आप पानी को इन्फ्यूश़न के जरिये से भी ले सकते हैं। पानी एक नेचुरल शुद्धिकारक (purifier) होता है और इन्फ्यूश़न और चाय में मौजूद सुगंधित जड़ी-बूटियों से शरीर में मौजूद टॉक्सिन को खत्म करने में मदद मिलती है।

स्टीम-बाथ लें

स्टीम-बाथ लें (Take Steam Baths) : फेफड़ों

ये बाथ आपके फेफड़ों में मौजूद ज़हरीले पदार्थों को खांसी के जरिये बाहर निकालने और उन्हें खत्म करने में आपकी मदद करेंगे।

  • बस 20 मिनट के लिए पानी को उबालें और भाप में सांस लें। ध्यान रखें कि खुद को न जला बैठें।
  • इसे और ज्यादा असरदार बनाने के लिए अपने सिर पर एक तौलिया ओढ़ लें ताकि भाप इकट्ठी हो जाये। आप इसमें एसेंशियल ऑयल भी मिला सकते हैं।

फेफड़ों को डिटॉक्सीफाई करने के चार नेचुरल तरीके (Four Natural Remedies for Detoxifying Your Lungs)

सबसे अच्छे नतीजे पाने के लिए ऊपर बतायी आदतों को अपनायें और नीचे दिए गये प्राकृतिक नुस्खों का प्रयोग करें। सभी नुस्खे फेफड़ों और सांस नली से जुड़ी हर तरह की समस्याओं को रोकने के लिए कारगर हैं। निश्चित रूप से अगर आपको लगता है कि आपके फेफड़ों की स्थिति खराब है तो डॉक्टर के पास ज़रूर जायें।

1. हार्स चेस्टनट टी (Horse chestnut tea)

यह चाय अस्थमा, खांसी और ब्रोंकाइटिस से मुकाबला करने के लिए एकदम सही है। इसे बनाने का तरीका भी दूसरे इन्फ़्यूज़न की तरह ही है।

  1. एक पानी के बर्तन में एक बड़ा चम्मच हार्स चेस्टनट (15 ग्राम) मिलायें और इसे लगभग पांच मिनट तक उबालें।
  2. छानें और दिन में एक बार पियें।

इसे भी पढ़ें : पेट की चर्बी गलायेगी आपके किचेन में बनी यह हर्बल टी

2. लीकोरिस टी (Licorice Tea)

लीकोरिस :फेफड़ों

लीकोरिस (मुलेठी) एक और मददगार है। इसमें ऐसे गुण हैं जो आपकी साँस की नली को स्वस्थ रख सकते हैं। फिर भी अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है तो आपको इसके इस्तेमाल में सावधानी बरतनी चाहिये।

  1. एक सॉस पैन में लीकोरिस की जड़ डालें।
  2. इसे 5 मिनट तक उबालें, छानें और रोज़ाना एक गिलास पियें।

3. यूकलिप्टस की भाप (Eucalyptus steam)

यूकलिप्टस उन गुणों के लिये जाना जाने वाला एक पौधा है जो श्वसन तंत्र से जुड़ी बीमारियों से लड़ने और फेफड़ों को डिटॉक्सीफाई करने में मदद करते हैं। इसे इस्तेमाल करने के तरीकों में से एक सांस के जरिये इसके भाप को लेना है।

  1. उबलते हुये पानी में मुट्ठी भर यूकलिप्टस डालें और उसकी भाप में सांस लें।
  2. हल्की और गहरी सांस लें।

यह आपको साँस नली में आने वाली रुकावटों से निपटने में मदद करेगा। साथ ही, यह आपको खांसी और बंद नाक से लड़ने में भी मदद करेगा।

4. हल्दी, प्याज़ और अदरक का नुस्खा (Turmeric, onion and ginger remedy)

जरुरी चीजें:

  • 2 कप पानी (500 मिलीलीटर)।
  • 1 बड़े चम्मच हल्दी (15 ग्राम)।
  • 1 बड़ा प्याज़।
  • 2 बड़े चम्मच शहद (50 ग्राम)।
  • 3 बड़े चम्मच बारीक़ कटा हुआ अदरक (45 ग्राम)।

बनाने का तरीका:

  1. पानी को उबालें।
  2. एक बार जब यह उबलने लगे, तो उसमें मीडियम आकार में कटे हुये प्याज़ के टुकड़े डालें।
  3. पांच मिनट और उबालें और दूसरी चीजें जोड़ें।
  4. इसे लगभग 40 मिनट के लिये हल्की आँच पर रखें।
  5. 40 मिनट बीत जाने के बाद आंच से निकालें और इसे ठंडा होने दें। एक बार ठंडा होने पर छानें और एक ग्लास में भरकर फ्रिज में रख लें।

सेवन करने का तरीका:

  1. दो बड़े चम्मच सुबह के नाश्ते और रात के खाने से पहले लें। यह नुस्खा आपके फेफड़ों को डिटॉक्सीफाई करने में मदद करेगा।
  2. इसे 9 दिनों तक दोहराएं जब तक कि आपको सांस लेते समय कुछ बदलाव महसूस न होने लगे।
  3. अगर आप ज्यादा परेशानी महसूस कर रहे हैं तो डॉक्टर को दिखायें।

Li, Y., Xu, Y. ling, Lai, Y. ni, Liao, S. hui, Liu, N., & Xu, P. ping. (2017). Intranasal co-administration of 1,8-cineole with influenza vaccine provide cross-protection against influenza virus infection. Phytomedicine. https://doi.org/10.1016/j.phymed.2017.08.014

Subhashini, Chauhan, P. S., Kumari, S., Kumar, J. P., Chawla, R., Dash, D., … Singh, R. (2013). Intranasal curcumin and its evaluation in murine model of asthma. International Immunopharmacology. https://doi.org/10.1016/j.intimp.2013.08.008

Palagina, M. V, Dubniak, N. S., Dubniak, I. N., & Zorikov, P. S. (2003). [Correction of respiratory organ impairment with Ural licorice preparations in chronic skin diseases]. Ter Arkh.

Brauer, M., Avila-Casado, C., Fortoul, T. I., Vedal, S., Stevens, B., & Churg, A. (2001). Air pollution and retained particles in the lung. Environmental Health Perspectives. https://doi.org/10.1289/ehp.011091039