10 नेचुरल चीजें जो धूम्रपान का खतरनाक असर घटाएंगी

नवम्बर 23, 2018
धूम्रपान का असर कम करने के लिए आपको अपने रोजमर्रा के जीवन में इन 10 सामग्रियों को जोड़ना होगा। इसके अलावा आपको तंबाकू प्रोडक्ट का इस्तेमाल बिल्कुल बंद करना पड़ेगा।

फेफड़े आपके जीवन में अहम भूमिका निभाते हैं। ये आपको ऑक्सीजन मुहैया कराते हैं जो आपके जिन्दा रहने के लिए ज़रूरी है। सांस छोड़ते वक्त ये कार्बन-डाइ-ऑक्साइड बाहर निकाल देते हैं। ये पर्यावरण के नुकसानदेह तत्वों को छान कर बाहर निकालदेते हैं और कुछ बीमारियों को भी रोकते हैं।

लेकिन, ये इतने पेचीदा और नाजुक हैं कि फेफड़े की हेल्थ फेल हो सकती हैं। फेफड़े अपनी बहुत सी कार्यवाहियाँ अच्छी तरह कर पाने में नाकाबिल हो सकते हैं।
यह तंबाकू प्रोडक्ट्स की लत पालने वाले लोगों के लिए बहुत ही आम चीज है। क्योंकि वे टॉक्सिन और दूसरे खतरनाक पदार्थों के लिए अपने फेफड़ों को एक्सपोज करते हैं।

तंबाकू इस्तेमाल करने वालों में सांसों से जुड़ी बीमारियों और कैंसर जैसी स्थायी बीमारियों की दर सबसे ऊँची है। इसीलिए धूम्रपान करने वालों को अपनी इस आदत से निजात पा लेना निहायत जरूरी है। इससे उनकी जीवनशैली में सुधार होता है और फेफड़े शुद्ध होते हैं।

धूम्रपान का असर कम करने के लिए और टॉक्सिन से छुटकारा पाने के लिए बहुत तरह की प्राकृतिक सामग्रियाँ हैं। वे सामग्रियाँ क्या हैं यह आपको आगे पढ़ कर पता चलेगा!

धूम्रपान का असर कम करने के लिए प्राकृतिक सामग्रियाँ

1. छोटा चकोतरा (Grapefruit)

धूमरपान का असर कम करने की सामग्री

यह एक बहुत स्वादिष्ट साइट्रस फल है। इसमें ऐंटीऑक्सिडेंट की मात्रा बहुत ज्यादा है। इसका मतलब है कि ये फेफड़ों की सेल्स की कार्यवाहियों में अहम सुधार ला सकता है।

मौसमी के कारगर कंपाउंड्स सेलुलर डिस्फंक्शन रोकते हैं। जब ट्यूमर बनने से रोकने की बात आती है तो यह एक जरूरी तत्त्व है।

नियमित आधार पर मौसमी लेने वाले स्मोकर, कैंसर बढ़ने और फेफड़ों की दूसरी गड़बड़ियोँ के खतरों को कम कर सकते हैं।

इसे भी पढ़िए:

5 तरह के अजीब कैंसर जिनके बारे में आपको जानना चाहिए

2. लहसुन (Garlic)

लहसुन खाने की एक ऐसी चीज है जिसे आप अपने आहार से बाहर नहीं रख सकते। इसमें सल्फर-नुमा पदार्थों की मात्रा बहुत ज्यादा है। इनमें ऐंटीइन्फ्लैमेटरी और ऐंटीऑक्सिडेंट असर हैं जो आपके फेफड़े की हेल्थ की रक्षा कर सकते हैं।

कच्चे लहसुन खाना बार-बार धूम्रपान करने वालों और कभी-कभी धूम्रपान करने वालों, दोनों को स्थायी बीमारियोँ के खतरों से बचाता है।

इसे भी पढ़ें: ब्रोकली के अविश्वसनीय फायदे

3. अजवाइन (Thyme)

धूम्रपान का असर कम करने की सामग्री

इस निराले पौधे में कारगर पदार्थ हैं जो इसे धूम्रपान का असर कम करने के लिए सबसे बढ़िया प्राकृतिक सामग्री बनाते हैं।

आप अजवाइन के पत्तों या एसेंशियल ऑयल्स का, छाती में बलग़म जमा होने पर आराम पाने के लिए प्राकृतिक नुस्खों के रूप में इस्तेमाल कर सकते हैं।

इसमें फेफड़ों की बीमारियों का कारण बनने वाले बैक्टीरिया और वायरस को कम करने वाले ऐंटीबायोटिक गुण भी हैं।

4. ओरेगैनो (Oregano)

इस पौधे और इसके एसेंशियल ऑयल्स, दोनों में कारवाक्रोल और रोजमैरिनिक एसिड का जमाव बहुत ज्यादा है। सांस की प्रणाली पर इन दोनों का अचूक असर होता है।

ओरेगैनो खाना और ऐरोमाथेरैपी में इसका इस्तेमाल करना सांस की समस्याओं से निपटने और फालतू टॉक्सिन से छुटकारा पाने के लिए दो सबसे बढ़िया उपाय हैं।

5. अदरख (Ginger)

धूम्रपान का असर कम करने की सामग्री

अदरख की जड़ में ऐंटीबायोटिक, ऐंटीइन्फ्लैमेटरी, और ऐरोमैटिक गुण हैं। ये फेफड़ों और सांस की बीमारियों का असरदार ढंग से इलाज करते हैं।

इस तथ्य की खूबी यह है कि अदरख रक्त की धमनियों को फैला देता है। यह फालतू बलग़म को उकसा कर हटा देता है। यह आपके फेफड़े और सांस के गलियारे को नया जीवन देने में मदद करता है।

6. गाजर (Carrot)

यह किसी भी आहार में सबसे जरूरी सब्जी है। गाजरों में विटामिन A, C, E, और K होते हैं। यह शरीर के टिशू और एपिथीलियल सेल्स के लिए जरूरी हैं।

निकोटिन और दूसरे नुकसानदेह पदार्थों के खराब असर से जूझने के लिए इसे कच्चा खाना सबसे अच्छा है।

इसे भी पढ़ें: इन आसान और प्रभावी घरेलू उपचारों से पायें सेल्युलाईट से छुटकारा

7. यूकेलिप्टस (Eucalyptus)

धूम्रपान का असर कम करने की सामग्री

धूम्रपान का असर कम करने के लिए, यूकेलिप्टस सबसे लोकप्रिय सामग्रियों में से एक है। यह फेफड़े और सांस के साधारण हेल्थ के लिए भी अच्छा है।

यह मूल रूप से ऑस्ट्रेलिया का है। फेफड़ों की बीमारियों में जलन और सूजन से आराम देने के लिए भी यह सबसे पुरानी दवाओं में से एक है।

यह नाक से फालतू बलग़म निकालने के लिए अच्छा है। ये सर्दी-जुखाम और फ्लू से जुड़े दूसरे सिम्पटम्स को रोकने में भी काम आता है।

8. पुदीना (Mint)

पुदीना एक सुगंधित पौधा है जिसे तरह-तरह के भोजन और दवाइयाँ बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसमें कुछ कारगर पदार्थ हैं जो सूजन और फेफड़े की बीमारियों से जुड़े दूसरे सिम्पटम्स को कम करते हैं।

पुदीना कैंडीज़, पुदीना वेपर और पुदीना बाथ कुछ ऐसे उपाय हैं जिनका इस्तेमाल आप धूम्रपान का असर कम करने के लिए कर सकते हैं।

आपको यह भी पसंद आ सकता है:

अनारस से डिटॉक्स कैसे करें

9. ऐलोवेरा जूस (Aloe vera juice)

धूम्रपान का असर कम करने की सामग्री

ऐलोवेरा पौधे से निकाले गए प्राकृतिक जूस में शुद्ध करने वाले शक्तिशाली गुण हैं। इसमें वे कारगर पदार्थ भी हैं जो धूम्रपान का असर कम करने के लिए फेफड़ों की सफाई करते हैं।

यदि इसे शहद के दो बड़े चम्मचों और नींबू के रस की कुछ बूंदों से मिला दिया जाए तो यह और भी फायदेमंद हो जाता है।

10. मुलैठी की जड़ (Licorice root)

मुलैठी की जड़ दुनिया भर में मशहूर है। इसकी अनूठी सुगंध के कारण इसकी पहचान करना भी बहुत आसान है।

इसमें ऐंटीइन्फ्लैमैटरी, आरामदायक और डीकॉन्जेस्टेंट गुण हैं। यह फेफड़ों और नाक में, बंद हो गए हवा के गलियारों को खोलने और आराम पहुँचाने में मदद करता है।

फिर भी, यह नुस्खे अपने-आप काम नहीं करेंगे। आपको धूम्रपान बंद करने के लिए सभी जरूरी कदम लेने पड़ेंगे।

शुरुआती दौर में यह हमेशा आसान नहीं होता। लेकिन मजबूत इच्छा-शक्ति और अपना स्वास्थ्य सुधारने की हसरत आपको वहाँ पहुँचा देगी।

  • Alonso, J. R. (2004). Tratado de Fitofármacos y nutracéuticos. Buenos Aires: Corpus.
  • Lawless, J. (2003). Aceites esenciales para aromaterapia. Madrid: Susaeta.
  • Shealy, N. C. (1999). Enciclopedia Ilustrada de Remedios Naturales. Madrid: Könemann.