पेट की चर्बी गलायेगी आपके किचेन में बनी यह हर्बल टी

मई 8, 2018
पेट की चर्बी को जल्दी घटाने के लिए नियमित रूप से इस चाय का सेवन करें। इसके साथ पौष्टिक आहार और ज्यादा मात्रा में पानी पियें।

पेट की चर्बी  को कम करने के उपाय बहुत से लोग खोजते रहते हैं। वास्तव में, जब शरीर के अंग ठीक से काम नहीं करते हैं, खासतौर से वे अंग जो शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालते हैं, तो पेट में फैट बढ़ जाती है।

गुर्दे, फेफड़े, लीवर और बड़ी आंत वे अंग हैं जो शरीर से अशुद्ध पदार्थों को बाहर निकालकर शरीर को  साफ रखते हैं। अगर इनमें से कोई अंग ठीक-ठीक काम नहीं करता है तो पेट की चर्बी बढ़ सकती है।

पेट की फैट के खतरे

पेट की चर्बी को कम करें

जब पेट की चर्बी बढ़ जाती है तो व्यक्ति देखने में अच्छा नहीं लगता है। उसका आत्म-सम्मान घट जाता है। इसके अतिरिक्त पेट की फैट का बुरा असर उसके स्वास्थ्य पर जबरदस्त रूप से होता है।

पेट के आस-पास ज्यादा फैट जमा होने से हो सकती हैं ये बीमारियाँ:

  • उच्च रक्तचाप
  • ह्रदय संबंधी समस्याएं
  • मधुमेह
  • ऑस्टियोपोरोसिस
  • सांस लेने में कठिनाई
  • अर्धशीर्षी
  • मनोभ्रम

लेकिन खुशी की बात यह है कि पेट की चर्बी को कम करने के लिए कई प्राकृतिक वस्तुएं उपलब्ध हैं।

पेट की चर्बी को घटाने के लिए प्राकृतिक चाय

यह चाय पेट की चर्बी को जलाती है। इसमें मौजूद तत्व बहुत प्रभावशाली हैं। इनमें जहरीले पदार्थों को हटाने और शरीर को शुद्ध करने के अद्भुत  गुण होते हैं।

आइये देखें इस अद्भुत चाय में मौजूद तत्व कैसे काम करते हैं:

नींबू और मौसम्बी

पेट की चर्बी को कम करने के लिए नींबू

नींबू और मौसम्बी जहरीले पदार्थों को हटाने के लिए बहुत अच्छे हैं। इनको अक्सर वजन घटाने की चाय और दूसरे पेय में डाला जाता है। ये रक्त में मौजूद फैट को नष्ट करने वाले कारक बन जाते हैं।

इनमें विटामिन C और साइट्रिक एसिड होती है। विटामिन C शरीर की मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए जरूरी है। लिवर की कार्यक्षमता बढ़ाने के लिए साइट्रिक एसिड एंजाइम सिस्टम को दुरुस्त करने में मदद करती है।

नींबू और मौसम्बी अपने मूत्रवर्द्धक गुणों के लिए जाने जाते हैं। ये पेक्टिन के अच्छे स्रोत होते हैं। इस यौगिक के कारण आपको ज्यादा देर तक भरा हुआ महसूस होता है। इसके अलावा ये शरीर को क्षारित करने  में सहायता करते हैं, भूख और तृष्णा को कम करते हैं।

दालचीनी

पेट की चर्बी को कम करने के लिए दालचीनी

दालचीनी में ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करने की क्षमता होती है। इसलिए इन्सुलिन की मात्रा एकदम से घटती या बढ़ती नहीं है।

जब इन्सुलिन बढ़ जाता है तो शरीर खून में मौजूद सारे ग्लूकोस को नहीं जला पाता। यह फैट के रूप में इकठ्ठा हो जाता है। जब रक्त में ग्लूकोस का स्तर बढ़ जाता है तो अक्सर वजन भी बढ़ जाता है। उसे घटाना बहुत मुश्किल होता है।

दालचीनी का सेवन करने से आपका ब्लड शुगर लेवल फिर से सामान्य हो जाता है।

शहद

पेट की चर्बी को कम करने के लिए शहद

ऐसशहद में चीनी से ज्यादा कैलोरी होती है। चीनी में प्रति भाग 15 और शहद में 21 प्रतिशत कैलोरी होती है। लेकिन शहद अधिक पौष्टिक होता है। शरीर उसे चीनी से ज्यादा धीमे अवशोषित करता है।

शहद में विटामिन, मिनरल साल्ट  और एमीनो एसिड होते हैं। उनमें चिकित्सा संबंधी और स्वास्थ्यवर्धक गुण होते हैं।

शहद में पाए जाने वाले कम्पाउंड तनाव को कम करने और नींद को नियमित करने में सहायता करते हैं। वे सांस से जुड़ी बीमारियों से बचाते हैं। शहद में कुछ लैक्जेटिव गुण भी होते हैं।

अदरक

पेट की चर्बी को कम करने के लिए अदरक

अदरक सूजनरोधी होती है। यह ग्लूकोस के लिए संवेदनशीलता को बढ़ाती है। यह सेरोटोनिन के स्तर को भी बढ़ाती है जो प्यास का नियंत्रण करने में सहायक होता है।

अदरक शरीर की सफाई की अपनी अंदरूनी प्रक्रिया में मदद करती है। यह गैस्ट्रिक जूस के स्राव को बढ़ावा देती है। इससे बदहजमी की तकलीफ कम हो जाती है। इसके अतिरिक्त, यह पौष्टिक तत्वों को ज्यादा अच्छी तरह से अवशोषित करने और वर्ज्य पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करती है।

पेट की चर्बी को घटाने वाली चाय ऐसे बनायें

सामग्री

  • 1 प्याला पानी
  • 1 छोटी चम्मच दालचीनी
  • आधे नींबू का रस
  • 1 छोटी चम्मच शहद
  • अदरक का एक छोटा टुकड़ा

विधि

  • पानी को गर्म करें। जब यह उबलने लगे तो उसमें शहद को छोड़कर सभी चीजें डाल दें।
  • इन्हें 10 मिनट के लिए पकने दें। फिर 5 मिनट के लिए ठंडा होने दें।
  • अब इसे छानें। पीने से पहले चाय में शहद डालकर उसे मीठा बनायें।

उपयोग करने का तरीका

पेट की चर्बी को घटाने के लिए आपको रोज इस चाय को दिन में दो बार पीना चाहिए। सुबह खाली पेट और रात को सोने से पहले इसका सेवन करें।

सुबह इस चाय को पीने के बाद आधे घंटे तक इंतज़ार करें। उसके बाद नाश्ता करें।

अच्छे परिणाम के लिए आपको नियमित रूप से इसका सेवन करना चाहिए।

ध्यान रखें, इस चाय के संघटकों का पूरा फायदा उठाने के लिए आपको इसके साथ पौष्टिक आहार, नियमित व्यायाम और अधिक मात्रा में पानी पीना चाहिए। 

इसे पीने के बाद आपको स्फूर्ति महसूस होगी और पेट की चर्बी कम हो जाएगी।

इस चाय के सेवन के साथ एक सेहतमंद जीवनशैली अपनाने से अद्भुत परिणाम मिल सकते हैं।

  • Ali, B. H., Blunden, G., Tanira, M. O., & Nemmar, A. (2008). Some phytochemical, pharmacological and toxicological properties of ginger (Zingiber officinale Roscoe): A review of recent research. Food and Chemical Toxicology. Elsevier Ltd. https://doi.org/10.1016/j.fct.2007.09.085
  • Mohanapriya, M., Ramaswamy, L., & Rajendran, R. (2013). Health and Medicinal Properties of Lemon (Citrus Limonum). International Journal Of Ayurvedic And Herbal Medicine1(3), 1095–1100. Retrieved from http://interscience.org.uk/v3-i1/8 ijahm.pdf
  • Israili, Z. H. (2014). Antimicrobial properties of honey. American Journal of Therapeutics21(4), 304–323. https://doi.org/10.1097/MJT.0b013e318293b09b
  • Rao, P. V., & Gan, S. H. (2014). Cinnamon: A multifaceted medicinal plant. Evidence-Based Complementary and Alternative Medicine. Oxford University Press. https://doi.org/10.1155/2014/642942