6 आदतें जो पेट फूलने का कारण बनती हैं

पेट फूलना किसी विशेष खाद्य के प्रति असहिष्णुता या ज़्यादा गैस बनने का परिणाम हो सकता है। अगर यह लगातार जारी रहता है, तो आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।
6 आदतें जो पेट फूलने का कारण बनती हैं

आखिरी अपडेट: 29 सितम्बर, 2018

बहुत से लोग सोचते हैं, एब्डोमिनल इन्फ्लेमेशन यानी पेट फूलने की अकेली वजह मोटापा यानी फैट है । वहीं गलत फ़ूड हैबिट और एक्सरसाइज के अभाव से फैट बनता है।

हालांकि यह सच है, लोकल फैट मुख्य समस्याओं में से एक हो सकता है। लेकिन ऐसे दूसरे कारक भी हैं जो आपके पेट के आकार पर असर डालते हैं।

उदाहरण के लिए, नमक का ज्यादा सेवन, टिशू में तरल पदार्थ के जमा होने का कारण बनता है। इससे आपके शरीर में सूजन की स्वाभाविक प्रतिक्रिया बढ़ जाती है।

कुछ ऐसा ही तब होता है, जब आप किसी खाद्य के प्रति असहिष्णु (intolerance) हों।  ऐसी स्थिति में पाचन तंत्र में अपच और अन्य समस्याएं पैदा हो जाती हैं।

नतीजतन आप सामान्य से काफी भारी दिख और महसूस कर सकते हैं। यह बहुत ही असहज कर देने वाली स्थिति होती है।

यह जानना महत्वपूर्ण है कि आपकी कौन सी आदत पेट फूलने को ट्रिगर करती है। साथ ही, यह जानना भी कि आप इसे कैसे रोक सकते हैं।

आइये, इस बारे में और अधिक जानकारी लें!

1. पेट फूलने में डेयरी प्रोडक्ट का योगदान

पेट फूलने में डेयरी प्रोडक्ट का योगदान

दूध और डेयरी प्रोडक्ट पेट फूलने के सबसे आम कारणों में से हैं।

यह लैक्टोज इंटोलरेन्स के कारण होता है, जो एक नेचुरल शुगर है। यदि आपका शरीर उन एंजाइम का उत्पादन नहीं करता है, जो इसे पचाने में मदद करते हैं, तो यह कोलन में फरमेंट होने लगती है।

आपके शरीर द्वारा भोजन का अवशोषण ठीक तरह से न होने पर आंतों में गैस, पेट दर्द, दस्त और कब्ज से होने वाली समस्यायें पैदा होती हैं।

पेट की सूजन दूर करने के लिए क्या करें?

डेयरी उत्पादों को खाने से होने वाली सूजन को रोकने का एक बहुत ही अच्छा तरीका है।  उन्हें सब्जियों के दूध जैसे स्वस्थ विकल्पों के साथ बदल दें।

कैल्शियम की अपनी दैनिक जरूरत को पूरा करने के लिए कैल्शियम से समृद्ध सब्जियां चुन सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: आंतों की गैस आपकी सेहत के बारे में क्या बताती है?

2. तेजी से खाना

बहुत जल्दी-जल्दी खाने या अपने भोजन को ठीक से नहीं चबाने के कारण अपच हो सकती है। ऐसा इसलिए होता है, कि जल्दी खाने से पेट में बहुत सी हवा चली जाती है।

हालांकि खाने के दौरान आप इसे नोटिस नहीं कर पाते। लेकिन यह सही है कि अगर आप जल्दबाजी में भोजन कर रहे हैं, तो हवा भी निगलते हैं। यही पेट फूलने का कारण बनता है।

इसके लिए क्या करें?

दिन के प्रत्येक भोजन के लिए कम से कम 20 मिनट का समय निर्धारित करें। यह महत्वपूर्ण है कि आप धीरे-धीरे खाने के लिए पर्याप्त समय निकालें और अपने भोजन को अच्छी तरह चबाएं।

भोजन के दौरान अपना ध्यान इधर-उधर भटकने न दें। वरना आप फिर इसे अच्छी तरह से चबाने की बजाय पहले की तरह निगलना शुरू कर देंगे।

3. नमक का बहुत अधिक उपयोग

पेट फूलने में नमक का योगदान

अत्यधिक सोडियम का सेवन वॉटर रिटेंशन, उच्च रक्तचाप, और शरीर के टिशू में सामान्य सूजन के मुख्य कारणों में से एक है।

इससे इनकार नहीं कर सकते कि नमक आपके व्यंजनों में उत्कृष्ट स्वाद लाता है। लेकिन आपके शरीर में इसके बहुत अधिक हानिकारक दुष्प्रभाव और गंभीर गड़बड़ियाँ हो सकती हैं।

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि हम सिर्फ उतना ही नमक नहीं खाते जितना हम अपने खाने में डालते हैं। प्रोसेस्ड फ़ूड में यह पहले से ही अच्छी-ख़ासी मात्रा में मौजूद होता है।

इसके लिए क्या करें?

रिफाइन नमक की जगह सेंधा नमक (हिमालयी नमक) या समुद्री नमक लें

आप दूसरी स्वस्थ वैकल्पिक सीजनिंग भी चुन सकते हैं, जैसे ऑरेगेनो, काली मिर्च और थाइम

कितनी मात्रा में सोडियम का सेवन कर रहे हैं इसका हिसाब रखें। इसका सबसे बढ़िया तरीका है, खरीदे गए उत्पादों के लेबल को चेक करना।

4. पेट फूलने का कारण हो सकता है च्यूइंग गम चबाना

हर दिन गम चबाने की आदत है, तो इसे छोड़ दें। हो सकता है, इसी के कारण आपको एक सपाट पेट हासिल करने में परेशानी हो रही हो। गम चबाने के साथ हवा शरीर में प्रवेश करती है और पेट की सूजन को बढ़ा सकती है।

इसके लिए क्या करें?

क्या आप तनाव या चिंता से छुटकारा पाने के लिए गम चबाते हैं? तो इसे फल और सब्जियों से बने स्नैक्स से बदलने का प्रयास करें।

5. कार्बोनेटेड ड्रिंक पीना

पेट फूलने का कारण - सोडा वाले पेय

विज्ञापन अभियानों के गलत प्रचार ने लोगों के दिलोदिमाग पर गलत असर डाला है। वे मानने लगे हैं, गर्मी में सोडा वाला ड्रिंक प्यास बुझाने का शानदार और स्मार्ट तरीका है।

हेल्थ एक्सपर्ट का तर्क है कि वे अच्छे विकल्प नहीं हैं। इनमें आवश्यक पोषक तत्व नहीं होते। इन्हें कृत्रिम पदार्थों से बनाया जाता है, जो आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होते हैं।

कार्बनेशन और कृत्रिम मिठास के अलावा इनमें शुगर की भी बड़ी ऊंची मात्रा होती है। यह आपके पाचन तंत्र में प्रतिक्रियायें पैदा करता है और पेट की सूजन को बढाता है।

तो जिस फ़िज्जी स्वाद को आप इतना पसंद करते हैं, वह वास्तव में आपके शरीर में सूजन और भारीपन का कारण बनता है।

इसके लिए क्या करें?

इन पेय पदार्थों पर अपना पैसा और स्वास्थ्य बर्बाद न करें। इसके बजाय, घर पर प्राकृतिक फलों के रस, फ्लेवर युक्त पानी और चाय बनाने का प्रयास करें।

याद रखें, हाइड्रेटेड रहने के लिए आपको एक दिन में कम से कम दो लीटर पानी पीना होगा।

6. भोजन छोड़ना या बहुत कम खाना

क्या आप भोजन स्किप करते रहते हैं? या अपने लिए ज़रूरी मात्रा से कम भोजन खाते हैं?  अगर हाँ, तो जान लें कि यह कैलोरी बचाने या वजन कम करने का सही तरीका नहीं है।

हालांकि लोगों को लगता था कि वजन घटाने के लिए यह एक अच्छा विकल्प है।  लेकिन यह सिद्ध हो चुका है कि इससे वज़न की वापसी के साथ-साथ अन्य कई समस्याएं भी हो सकती हैं।

दिन में पांच बार से कम खाने से आपके शरीर के लिए भोजन को पचाना मुश्किल हो जाता है। साथ ही, आपको ज़्यादा भूख लगती है और पेट में जमा चर्बी में वृद्धि होती है।

इसके लिए क्या करें?

अपने मुख्य भोजन में खाने की मात्रा को बहुत कम न रखें। एक ऐसा मेन्यू तैयार करें जिसमें दिन में पांच भोजन शामिल हों

यदि इन उपायों के बाद भी आपका पेट फूला रहता है, तो इसके कारण की पड़ताल करने के लिए डॉक्टर की राय लें।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
क्या हर वक्त आपका पेट फूला हुआ रहता है?
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
क्या हर वक्त आपका पेट फूला हुआ रहता है?

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि आप क्या करते हैं, कितनी एक्सरसाइज करते हैं या आपकी डाइट क्या है  ... लेकिन आपको लगता है कि आपके पेट की साइज़ कम नहीं होगी। क्योंकि आपको पेट फूला हुआ महसूस होता है। आपकी टांगो के साथ भी ऐसा हो सकता है।



  • Minihane AM, Vinoy S, Russell WR, et al. Low-grade inflammation, diet composition and health: current research evidence and its translation. Br J Nutr. 2015;114(7):999–1012. doi:10.1017/S0007114515002093
  • Williams K. Chronic Intermittent Abdominal Bloating and Change in Bowel Habit: An Eight Year Diagnostic Problem Associated with Intra-Abdominal Adhesions. Cureus. 2015;7(8):e294. Published 2015 Aug 3. doi:10.7759/cureus.294
  • Guo YB, Zhuang KM, Kuang L, Zhan Q, Wang XF, Liu SD. Association between Diet and Lifestyle Habits and Irritable Bowel Syndrome: A Case-Control Study. Gut Liver. 2014;9(5):649–656. doi:10.5009/gnl13437