चुकंदर का जूस पीने के अद्भुत फायदे

प्राकृतिक मूत्रवर्धक (diuretic) होने के कारण चुकंदर (Beet) उन लोगों के लिए आदर्श विकल्प हैं जो शरीर में द्रव जमा होने (fluid retention) से पीड़ित हैं। इसके अलावा वजन कम करने में भी चुकंदर आपकी मदद कर सकता है।
चुकंदर का जूस पीने के अद्भुत फायदे

आखिरी अपडेट: 06 अक्टूबर, 2018

चुकंदर का जूस बिना किसी मिलावट का शुद्ध रूप से चुकंदर (Beet) का रस है, जो हमारे ग्रह की सबसे पुरानी सब्जियों में  भी एक है। यह उत्तरी अफ्रीका, एशिया और यूरोप के तटों पर उगता है।

शुरू में लोग सिर्फ इसके पत्तेदार हरे भाग को ही खाते थे। बाद में पता चला कि सब्जी के रूप में इसकी लाल, मीठी जड़ पोषक तत्वों की भरपूर स्रोत है।

अब यह पूरी दुनिया में बनने वाले अलग-अलग बहुत से व्यंजनों का हिस्सा है। चीनी के स्रोत के रूप में भी इसका कमर्शियल इस्तेमाल किया जाता है।

ज्यादातर लोग सलाद जैसे व्यंजनों में पका हुआ चुकंदर खाना पसंद करते हैं। हालाँकि इसके सभी फायदों का लाभ उठाने के लिए एक्सपर्ट इसे कच्चा खाने की ही सलाह देते हैं।

चुकंदर में शुगर होता है। फिर भी हफ्ते में एक या दो बार आप इसे बेझिझक खा सकते हैं।

चुकंदर के जूस के बारे में आपमें किसी किस्म का स्थायी संदेह न रहे, यह पक्का करने के लिए आज हम बीट जूस पीने के कुछ अहम फायदों की जानकारी आपसे साझा करना चाहते हैं।

चुकंदर का जूस ब्लड प्रेशर को कम करता है

चुकंदर का जूस ब्लड प्रेशर कम करता है

वे मरीज जिनका रक्तचाप ऊँचा है, वे रोजाना चुकंदर का जूस पीकर राहत पा सकते हैं।

ऐसा इसलिए है, क्योंकि चुकंदर नाइट्राइट्स (nitrites) का नेचुरल स्रोत हैं। नाइट्राइट्स शरीर में नाइट्रिक ऑक्साइड में बदल दिए जाते हैं ताकि रक्त वाहिकाओं (blood vessels) को फैलाने और उन्हें आराम देने के लिए बेहतर सर्कुलेशन को उत्तेजित किया जा सके।

यह भी देखें: खराब कोलेस्ट्रॉल (LDL) पर स्वस्थ आहार से काबू पायें

पाचन में सुधार (Improved digestion)

फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होने के कारण चुकंदर वास्तव में आपका पाचन सुधारने में मदद कर सकता है।

चुकंदर का जूस कब्ज से लड़ता है और सूजन (inflammation) को कम करता है। यह शरीर द्वारा भोजन से पोषक तत्वों के अवशोषण किये जाने की प्रक्रिया में सुधार लाता है।

भूख बढ़ाने और शरीर में प्रोटीन और फैट के डाइजेशन को बेहतर बनाने के लिए भी चुकंदर की सिफारिश की जाती है।

फ्री रेडिकल्स का मुकाबला

चुकंदर में बीटालेन (betalains) और पॉलीफेनॉल (polyphenols) होते हैं। दोनों ही बहुत शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट हैं जो फ्री रेडिकल्स से होने वाले हानिकारक प्रभावों को न्यूट्रिलाइज़ कर देते हैं।

इससे कोशिकाओं में असमय बुढ़ापा आने पर रोक लगती है और कैंसर जैसी गंभीर स्थितियों का विकास रोकने में मदद मिलती है।

शानदार शारीरिक प्रदर्शन

चुकंदर का जूस बढाता है शारीरिक प्रदर्शन

कुछ एथलीट स्पोर्ट्स ड्रिंक या एनर्जी ड्रिंक जे बदले चुकंदर का जूस पीना पसंद करते हैं। क्योंकि यह बिना किसी रासायनिक उत्तेजक के उनकी फिजिकल परफॉरमेंस को बढ़ा सकता है।

एक ग्लास चुकंदर का जूस पीने के बाद एक्सरसाइज के दौरान आपका प्रदर्शन 16% तक बढ़ने का अनुमान किया जाता है। यह आपके फेफड़ों की क्षमता में भी इजाफ़ा करता है, जिससे थकान रोकने में मदद मिलती है

थायरारॉइड की सुरक्षा

थायरारॉइड की समस्याएं अक्सर आयोडीन की कमी का नतीज़ा होती हैं।

चुकंदर इस मिनरल की बहुत ऊँची मात्रा प्रदान करता है। इसलिए हाइपोथायरॉइडिज्म या गॉइटर (goiter) से पीड़ित मरीजों के लिए इसकी खूब सिफारिश की जाती है

सूजन रोकता है

बीट्स बीटाइन (betaine) के अहम स्रोत हैं। यह वह पोषक तत्व है, जो कोशिकायें, प्रोटीन और एंजाइम की पर्यावरण के दबाव से रक्षा करता है।

बदले में यह सूजन को नियंत्रित करने, आपके भीतरी अंगों की देखभाल करने और क्रॉनिक रोगों से उनकी रक्षा करने में मददगार होता है।

एनीमिया से लड़ता है

चुकंदर का जूस एनीमिया से लड़ता है

जिन मरीजों में एनीमिया या रक्त की कमी की डायग्नोसिस की गयी है, वे अपने आहार में चुकंदर के जूस का नियमित सेवन कर सकते हैं। चुकंदर में मौजूद आयरन और फोलिक एसिड की ऊँची मात्रा आपके शरीर द्वारा लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को बढ़ाती है। इससे आप जल्दी स्वास्थ्य लाभ कर पाते हैं

द्रव जमाव से छुटकारा (Relieve fluid retention)

चुकंदर एक शक्तिशाली मूत्रवर्धक है। आपके शरीर के टिशू में फंसे अतिरिक्त तरल पदार्थ को बाहर निकालने में यह मदद करता है

ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें सोडियम की कम मात्रा और पोटैशियम की ऊँची मात्रा होती है। इस संयोग के कारण आपकी किडनी में होने वाली फ़िल्टर की प्रक्रिया में संतुलन आता है।

आम तौर पर चुकंदर का सेवन उन रोगियों की मदद करता है जो इन समस्याओं से पीड़ित हैं:

  • गठिया (Gout, Arthritis)
  • हाइपरयूरिसीमिया (Hyperuricemia)
  • पथरी (Kidney stones)
  • पेशाब की कमी (Oliguria)
  • गुर्दे के संक्रमण (Kidney Infections)

वजन कम करने में मदगार चुकंदर का जूस

चुकंदर का जूस वजन कम करता है

चुकंदर के जूस में बहुत कम कैलोरी होती है। इसमें बड़ी मात्रा में फाइबर, विटामिन और मिनरल होते हैं। यह सब मिलजुल कर वजन घटाने वाले आहार को सपोर्ट करते हैं

इसे रोजाना पीना अच्छी मेटाबोलिक क्रिया को बढ़ावा देता है, भूख को नियंत्रित करता है और वजन घटाने के लिए शरीर से वेस्ट्स को बाहर निकालने में आपकी सहायता करता है।

हमारी सिफारिश पर इसे भी पढ़ें: अपनी वीकेंड की आदतें बदलें और इन 5 टिप्स की मदद से वजन घटाएं

डिटॉक्स क्रिया को बढ़ावा

एंटीऑक्सिडेंट्स और फाइबर के साथ चुकंदर में मौजूद पिगमेंट रक्त प्रवाह में जमा होने वाले विषाक्त पदार्थों (toxins) से छुटकारा पाने के लिए आपके शरीर की डिटॉक्स प्रक्रियाओं को सहारा देते हैं

फैटी लीवर के मरीजों के लिए यह बहुत ही अच्छा हैं, क्योंकि यह लीवर की सफ़ाई को बढ़ावा देकर आपके स्वास्थ्य लाभ में तेजी लाता है।

वे आपकी किडनी, कोलन और फेफड़ों के स्वास्थ्य के लिए भी उत्तम हैं।

ऐसे बनायें चुकंदर का जूस

ऐसे बनायें चुकंदर का जूस

इस प्राकृतिक जूस को बनाने के लिए आपको सिर्फ बीट्स और थोड़े पानी की ज़रूरत है। आप चाहें तो सेब या गाजर का स्वाद भी इसमें मिला सकते हैं।

सामग्री

  • 3 चुकंदर
  • 1 कप पानी (200 मिलीलीटर)

तैयारी

  • चुकंदर को अच्छी तरह से छीलें और धो लें। फिर उन्हें बड़े टुकड़ों में काट लें।
  • पानी के साथ उन्हें एक ब्लेंडर में डालें, और तब तक प्रोसेस करें जब तक आपको एक चिकना तरल न मिल जाए।
  • दिन में एक बार इसे तुरंत पियें।

निष्कर्ष यह है कि, इस सब्जी का रस बीमारियों के खिलाफ सुरक्षा पाकर आपके समग्र स्वास्थ्य के लिए एक ताकतवर सहयोगी हो सकता है।

इन तमाम बदलावों का खुद अनुभव करने के लिए इसे आज से ही पीना शुरू करें।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
पेट की सफाई करने वाले पांच डिटॉक्स सलाद
स्वास्थ्य की ओर
इसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
पेट की सफाई करने वाले पांच डिटॉक्स सलाद

अधिक विषाक्त पदार्थ और कम पोषण वाला खाना खाने का नतीज़ा ठीक तरह से पेट की सफाई न हो पाने और पाचन तंत्र का ठीक से काम न करने के रूप में सामने आता है।



  • Clifford T, Howatson G, et al. The potential benefits of red beetroot supplementation in health and disease. Nutrients. Abril 2015. 7 (4): 2801-2822.
  • Domínguez R, Cuenca E, et al. Effects of beetroot juice root supplementation on cardiorespiratory endurance in athletes. A systematic review. Nutrients. Enero 2017. 9 (1): 43.
  • FEN. (2014). Remolacha. Verduras y Hortalizas.
  • Kapil V, Rayomand S, et al. Dietary nitrate provides sustained blood pressure lowering in hypertensive patients. Hypertension. Noviembre 2014. 65 (2): 320-327.
  • Mirmiran P, Houshialsadat Z, et al. Funcional properties of beetroot (Beta vulgarisms) in management cardio-metabolic diseases. Nutrition & Metabolism. Enero 2020. 17:3.
  • Moreno-Ley C. M, Osorio-Revilla G, et al. Anti-inflammatory activity of bethalains: a comprehensive review. Human Nutrition & Metabolism. Septiembre 2021.25: 200126.
  • Pardo, L. A., & Zarazaga, B. C. (2013). Mo de remolacha: Suplemento natural para deportistas. Medicina Naturista.
  • Petrie, M., Rejeski, W., Basu, S., Laurienti, P., Marsh, A., Norris, J., … Burdette, J. (2017). Zumo de remolacha: una ayuda ergogénica para el ejercicio y el cerebro en envejecimiento. J. Gerontol. A Biol. Sci. Medicina. Sci.