6 शानदार टिप्स: फ्लूइड रिटेंशन से बचने और अपने सर्कुलेशन में सुधार करने के लिए

मार्च 9, 2019
जब बात फ्लूइड रिटेंशन को रोकने की आती है तो रेगुलर एक्सरसाइज और भरपूर आराम, दोनों ही ज़रूरी हैं, क्योंकि ये आपके शरीर को डिटॉक्स करने में मदद करते हैं। इस आर्टिकल में विस्तार से जानिए!

एडिमा (Edema) जिसे एक प्रकार के फ्लूइड रिटेंशन के रूप में जाना जाता है, एक ऐसी समस्या है जो पिछले कुछ सालों में खतरनाक तरीके से बहुत बड़ी समस्या बनकर उभरी है। यह अपने आपमें कोई बीमारी नहीं है, लेकिन फ्लूइड रिटेंशन रिएक्शन की एक लम्बी श्रृंखला को शुरू कर सकता है जो कई बड़ी समस्याओं की वजह बन सकती हैं, जैसे किडनी का ख़राब होना या गठिया यह तब होता है जब शरीर के ऊतकों में पानी रुक जाता है, जो सूजन के बढ़ने और आपके सर्कुलेशन और लिम्फेटिक सिस्टम में समस्याएं पैदा करने लगता है।

इसका सबसे आम लक्षण अंगों में होने वाली सूजन है, हालांकि यह कुछ खास तरह की गतिविधियों को करते समय दर्द, थकान और तकलीफ़ भी पैदा कर सकता है।

अच्छी बात यह है कि कुछ ऐसी स्वास्थ्यवर्धक आदतें हैं जिन्हें अगर आप रोज़ाना करते हैं तो वे आपको इस समस्या की रोकथाम करने और आपके सर्कुलेशन में सुधार करने में मदद कर सकते हैं।

आज, हम उनमें से 6 के बारे में बताना चाहते हैं।

1. खूब पानी पियें (Drink more water)

पानी पियें

भले ही बहुत से लोगों को हर दिन पर्याप्त मात्रा में पानी पीना एक कठिन काम लगता है, लेकिन यह याद रखना ज़रूरी है कि पानी सूजन को ख़त्म करने और टिश्यू में तरल (fluid) के जमाव को रोकने के सबसे असरदार तरीकों में से एक है।

पानी आपके शरीर में जमा होने वाले फ्लूइड की मात्रा को बढाता नहीं है, बल्कि यह गुर्दे के कामकाज में सुधार करता है और फ़ालतू द्रव को पेशाब के रास्ते बाहर निकालने में मदद करता है।

पानी की डिटॉक्स करने की क्षमता और मूत्रवर्धक शक्ति आपके खून में मौजूद किसी भी अपशिष्ट पदार्थ को बाहर निकाल फेंकने में मदद करती है, जो इस समस्या के बढ़ने का कारण बन सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : फ्लूइड रिटेंशन से बचने और सूजन को कम करने का तरीका

2. नमक का सेवन कम करें (Reduce salt intake)

एक बार जब आप वयस्क हो जाते हैं, तो बहुत ज्यादा मात्रा में नमक का इस्तेमाल फ्लूइड रिटेंशन से पीड़ित होने के मुख्य कारणों में से एक होता है।

शरीर में सोडियम का जमाव आपके इलेक्ट्रोलाइट के लेवल में असंतुलन का कारण बनता है और आपकी इन्फ्लैमटॉरी प्रक्रियाओं में गड़बड़ी पैदा करता है।

इसीलिए, अपने मुख्य भोजन से नमक के इस्तेमाल को कम करना ज़रूरी है और यह भी याद रखें कि आप निम्न प्रकार के खाद्य पदार्थों से भी बहुत बड़ी मात्रा में सोडियम का सेवन करते हैं:

  • सॉस
  • डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ
  • सलाद और चटनी
  • पॉपकॉर्न
  • तली हुयी चीजें और स्नैक्स
  • पनीर

3. रोज़ाना एक्सरसाइज करें (Get regular exercise)

एक फिजिकल एक्सरसाइज रूटीन को अपनाना फ्लूइड रिटेंशन तथा इसके जुड़े सभी दूसरी समस्याओं को रोकने का एक शानदार तरीका है।

हर एक्सरसाइज के दौरान आप जो भी गतिविधियाँ करते हैं वे आपके सर्कुलेटरी सिस्टम और लिम्फेटिक सिस्टम के कामकाज में सुधार कर सकते हैं। परिणामस्वरूप, यह शरीर में जमा तरल और अपशिष्ट (waste) को शरीर से बाहर निकाल फेंकने को मदद करता है।

व्यायाम आपकी किडनियों के स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक है, यह आपके यूरिन के उत्पादन में सुधार करता है और मूत्रमार्ग (urinary tract) को मजबूत बनाता है।

4. अपने सर्कुलेशन को एक्टिवेट करें (Activate your circulation)

सर्कुलेशन में सुधार करें

रोज़ाना की स्वस्थ आदतें जैसे मालिश (massages) और कोल्ड शावर अच्छे सर्कुलेशन को बढ़ावा देने के सबसे आसान तरीके हैं।

भले ही इसे अनदेखा करना या दूसरी स्थितियों के साथ भ्रमित होना बहुत आसान है, लेकिन कभी-कभी फ्लूइड-ड्रैनज की समस्यायें खराब सर्कुलेशन के कारण ही होती हैं।

यही कारण है कि इस स्थिति की रोकथाम और उपचार करने के लिए ब्लड फ्लो को फिर से स्वस्थ बनाने में मदद करने वाले उपायों को अपनाना आवश्यक है

इसे भी पढ़ें : अलसी (Flaxseed) का औषधीय पेय : त्वचा की सेहत सुधारने का चमत्कारी ड्रिंक

5. अच्छी नींद लें (Get good sleep)

अच्छी गुणवत्ता की नींद लेना भी एडिमा और दूसरी इन्फ्लैमटॉरी समस्याओं के उपचार को प्रभावित करता है।

इस दौरान, आपकी मांसपेशियां आराम करती हैं तथा सर्कुलेशन और ज्यादा आसानी से होता है। इसके अलावा, इस दौरान आपका शरीर जहरीले पदार्थों को बाहर निकाल फेंकने (detoxification) के लिए कुछ ज़रूरी क्रियाओं को भी पूरा करता है।

यह शरीर में रुके हुये तरल पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है और साथ ही आपके ऊर्जा स्तर को भी बढ़ाता है ताकि आपकी उत्पादकता बढ़ सके।

6. ज्यादा से ज्यादा फलों और सब्जियों का सेवन करें

स्वस्थ भोजन खाएं

हर रोज़ ताजे खाद्य पदार्थों जैसे फलों और सब्जियों का सेवन आपके शरीर को फ्लूइड रिटेंशन से राहत देने और आपके सर्कुलेशन में मदद करने के लिए फ़ायदेमंद होते हैं।

उनमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट, पानी, फाइबर और अन्य ज़रूरी पोषक तत्व आपकी किडनियों के कामकाज में सुधार करते हैं। साथ ही, वे आपके शरीर से अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालने में भी मदद करते हैं।

नतीजतन, इससे हाई ब्लड प्रेशर, मांसपेशियों की बीमारियों और फ्लूइड रिटेंशन से संबंधित दूसरी समस्याओं को नियंत्रित करने में आपको मदद मिलती है।

क्या आप फ्लूइड रिटेंशन की समस्या से पीड़ित हैं? इन आसान से सुझावों का पालन करें!

O’Brien, J. G., Chennubhotla, S. A., & Chennubhotla, R. V. (2005). Treatment of edema. American Family Physician. https://doi.org/10.1001/jama.1939.02800260081028

Nakamura, A., Osonoi, T., & Terauchi, Y. (2010). Relationship between urinary sodium excretion and pioglitazone-induced edema. Journal of Diabetes Investigation. https://doi.org/10.1111/j.2040-1124.2010.00046.x

Maggiorini, M., Mélot, C., Pierre, S., Pfeiffer, F., Greve, I., Sartori, C., … Naeije, R. (2001). High-altitude pulmonary edema is initially caused by an increase in capillary pressure. Circulation. https://doi.org/10.1161/01.CIR.103.16.2078

Hespe, G. E., Kataru, R. P., Savetsky, I. L., García Nores, G. D., Torrisi, J. S., Nitti, M. D., … Mehrara, B. J. (2016). Exercise training improves obesity-related lymphatic dysfunction. Journal of Physiology. https://doi.org/10.1113/JP271757

Patel, D. R., Torres, A. D., & Greydanus, D. E. (2005). Kidneys and sports. Adolescent Medicine Clinics. https://doi.org/10.1016/j.admecli.2004.09.007

Sorensen, M. D., Hsi, R. S., Chi, T., Shara, N., Wactawski-Wende, J., Kahn, A. J., … Stoller, M. L. (2014). Dietary intake of fiber, fruit and vegetables decreases the risk of incident kidney stones in women: A women’s health initiative report. Journal of Urology. https://doi.org/10.1016/j.juro.2014.05.086