5 मसाले जो शरीर से टॉक्सिन को बाहर निकालने में मदद करेंगे

मसाले आपके खाने में जायका तो लाते ही हैं, ये उस समय भी बहुत उपयोगी हो सकते हैं, जब आप अपने शरीर को डिटॉक्सीफाई यानी शुद्ध करना चाहते हों, जहरीले तत्वों को बाहर निकालना चाहते हों।
5 मसाले जो शरीर से टॉक्सिन को बाहर निकालने में मदद करेंगे

आखिरी अपडेट: 19 दिसम्बर, 2019

अपनी साइट पर हम अक्सर बताते हैं कि शरीर से टॉक्सिन यानी विषाक्त पदार्थों को खत्म करना क्यों महत्वपूर्ण है। दरअसल ऐसा इसलिए है कि जहरीले तत्वों की अधिकता से शरीर कमजोर हो जाता है और आपके जीवन की गुणवत्ता पर इससे भारी असर पड़ता है।

शरीर अपने स्वाभाविक रूप में ही टॉक्सिन को खत्म कर देता है, लेकिन इसमें आपकी भी महत्वपूर्ण भूमिका हो सकती है। पहला कदम जो आपको उठाना चाहिए, वह यह निश्चित करना है कि आप पर्याप्त पानी पियें। क्योंकि यह प्यूरीफायर का काम करता है।

आपको अपने खान-पान में सुधार लाना चाहिए और प्रीजर्वेटिव और साल्ट से भरपूर प्रोसेस्ड फ़ूड नहीं खाना चाहिए। अंत में, नेचुरल सामग्रियों का चुनाव करके हेल्थ में सुधार लाएं।

इन प्राकृतिक सामग्रियों में में से एक हैं मसाले, इनमें से ज्यादातर सस्ते होने के अलावा आपके खाने में एक स्वादिष्ट जायका लाते हैं।

अगर आप प्रोसेस्ड फ़ूड पसंद करते हैं, तो आप अनावश्यक चीजों वाले खाद्य खाये बिना मसालों से भी वैसा ही स्वाद पा सकते हैं

उन मसालों पर ध्यान दें जो टॉक्सिक तत्वों को खत्म करने में मदद करेंगे।

1. धनिया शरीर से टॉक्सिन को खत्म करने में मदद करती है

धनिया शरीर से टॉक्सिन

किसी भी खाने को स्वादिष्ट जायका देने के लिए पारंपरिक खाद्य पदार्थों में धनिया (Cilantro) इस्तेमाल की जाती है।

यह आपके शरीर के लिए कई बेहतरीन फायदे देती है। धनिया के गुणों में अहम है:

  • यह लिवर के एंटीऑक्सीडेंट फंशन को दुरुस्त करती है,
  • शरीर में टॉक्सिक तत्वों और खतरनाक कम्पाउंड को तेजी से शरीर से बाहर निकालती है,
  • पाचन में सुधार करने और अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थों से होने वाली परेशानियों को कम करने में मदद करती है,
  • लेड जैसे हेवी मेटल्स से लिवर को सुरक्षा देती है,
  • कुछ खाद्य पदार्थों में मौजूद मर्करी, लेड और एल्यूमीनियम को शरीर से बाहर निकालती है,
  • धनिया के बीज खून में कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करते हैं।

हम सिफारिश करेंगे कि आप ग्रीन स्मूदी या स्ट्यू में सिलेंट्रो स्प्रिग्स डालें।

इसे भी पढ़ें : ऑस्टियोआर्थराइटिस के इलाज में मददगार कुछ अच्छी आदतें

2. हल्दी (Turmeric)

हल्दी फ्री रेडिकल्स, पैरासाइट और टॉक्सिन से क्षतिग्रस्त लिवर की हिफाजत करने में मदद करती है।

लिवर शरीर की क्लीनिंग प्रोसेस का बुनियादी हिस्सा है, इसलिए आप बीमारी का बड़ा जोखिम लेते हैं अगर यह सुनिश्चित नहीं करते कि यह लगातार साफ होता रहे।

इसका एक शानदार तरीका हफ्ते में दो बार हल्दी की चाय पीना है।

सामग्री

  • 1 चम्मच हल्दी पाउडर (5 ग्राम)
  • 1 गिलास पानी (250 मिलीलीटर)

तैयारी

  • उबलने तक पानी को गरम करें, फिर हल्दी डालें और फिर आंच बंद करें।
  • 3-4 मिनट के लिए छोड़ दें।
  • अब तुरंत पी लें।

इस चाय को पीने से आपको निम्न लाभ भी मिलेंगे:

  • घाव, कटा-फटा जल्दी ठीक होंगे,
  • कैंसर होने की संभावना कम होगी,
  • यह एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा बढ़ाती है,
  • खून साफ होता है।

3. इलायची टॉक्सिन को खत्म करती है

इलायची टॉक्सिन को खत्म करती है

मूल रूप से भारत में पैदा होने वाली इलायची (Cardamom) एक ऐसी मसाला है जो पेट को शांत करने की अपनी क्षमता के लिए जानी जाती है।

आपकी रेसिपी का स्वाद बढ़ाने के अलावा, यह आपकी डेली डीटॉक्स रूटीन का शानदार हिस्सा बन सकती है। इलायची की सबसे अच्छी बात यह है कि यह अच्छे बैक्टीरिया को नष्ट किये बिना ही नुकसानदेह बैक्टीरिया को खत्म करती है

यह इसका एक शानदार गुण है क्योंकि ज्यादातर कमर्शियल दवायें अच्छे और नुकसानदेह दोनों तरह के बैक्टीरिया को समान रूप से नष्ट करती हैं।

अपने आहार में इलायची को शामिल करने से आप ये फायदे देख सकते हैं:

  • बेहतर भूख लगना
  • गैस्ट्राइटिस की रोकथाम या इस पर नियंत्रण,
  • बेहतर कार्डियोवैस्कुलर हेल्थ,
  • लिवर के फाइट में कमी आना।

कैसे करें इलायची का सेवन?

  • इसे सीधे अपनी रेसिपी से शामिल करें। यह ऐसा मसाला है जिसे अक्सर हमारे पारंपरिक भोजन में इस्तेमाल नहीं किया जाता है, इसलिए इसे भोजन में शामिल करना मुश्किल हो सकता है। हालाँकि अगर आपको नए स्वाद आज़माने का अवसर दिया जाए तो आप कुछ नए नए विकल्पों की खोज करेंगे।
  • ऐसी मिठाइयां खाएं जिनमें यह हों। इलायची का स्वाद इसे मीठे खाद्य पदार्थों, विशेष रूप से चॉकलेट के साथ मिलाने के लिए आदर्श बनाता है। विशेष दुकानों में आप इन दो सामग्रियों की गोलियाँ पा सकते हैं; बस सिर्फ एक छोटा टुकड़ा खाने की कोशिश करें।
  • उबले हुए पानी के एक गिलास (200 मिलीलीटर) में एक चम्मच इलायची (5 ग्राम) की चाय बनाएं और हफ्ते में दो बार पिएं।

4. लौंग (Cloves)

  • ये सूखे पौधे किचन में इस्तेमाल होने के लिए प्रसिद्ध हैं और अगर आप पहले से ही इन्हें नहीं खा रहे हैं तो उनका उपयोग करने के लिए आपके पास कई अच्छे कारण हैं।
  • लौंग में सेलुलर लेवल पर एंटीऑक्सीडेंट और डिटॉक्सीफाइंग करने वाले गुण होते हैं। यह कोशिकाओं की मैनिपुलेट करने और टॉक्सिक तत्वों को फ़िल्टर करने की क्षमता में सुधार करती है।
  • हेपाटिक कोशिकाएं (Hepatic cells) या हेपाटोसाइट्स (hepatocytes) पर खून से टॉक्सिक तत्वों को खत्म करने की जिम्मेदारी होती है और आमतौर ये गलत खानपान और आदतों से ज्यादा प्रभावित होते हैं।
  • लौंग के फायदों का लाभ उठाने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि इसे सीधे पीसकर या इसे पानी में मिलाकर खाया जाए।

5. दालचीनी खाएं और टॉक्सिन को खत्म करें

दालचीनी (cinnamon) में निम्नलिखित गुण होते हैं:

  • यह एक एंटीऑक्सीडेंट है,
  • खून को शुद्ध करती है,
  • हाई ब्लडप्रेशर को नियंत्रित करने में मदद करती है,
  • ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करती है,
  • कोशिकाओं की मरम्मत करती है।

दालचीनी वास्तव में शरीर से जहरीले पदार्थों को खत्म करने में आपकी मदद करती है, पर इसका सेवन बिना चीनी के करना जरूरी है। सबसे अच्छा तरीका यह है कि हर दिन एक कप दालचीनी की चाय पियें, बिना मीठा किये।

अंत में, हम आशा करेंगे कि आप हमारे इस लेख को पसंद करेंगे। नुस्खों के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए नीचे क्लिक करें!

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
शहद और गाजर के सिरप से बलगम का मुकाबला करें
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
शहद और गाजर के सिरप से बलगम का मुकाबला करें

क्या आपको जुकाम है? क्या उस घिनौनी बलगम ने आपकी नाक में दम कर रखा है? गाजर और शहद में मौजूद विटामिन की बदौलत बलगम और सांस की अन्य समस्याओं से निपटने के लिए उनका मिश्रण बेहद कारगर होता है।