5 स्मूदी जो करेंगी कब्ज का अंत

सितम्बर 9, 2019
फलों के ज्यादातर फाइबर उनके छिलकों में मौजूद होते हैं। इसलिए सबसे ज्यादा ऑर्गनिक फायदे पाने के लिए जहाँ तक हो सके फलों के छिलके अपनी स्इमूदी में शामिल करें।

ऐसे तमाम नेचुरल ट्रीटमेंट हैं जो कब्ज से लड़ने में आपकी मदद कर सकते हैं। ऐसे खाद्य पदार्थ ढूंढना मुश्किल नहीं है, जिन्हें आप पसंद करते हैं, और जो बॉउल मूवमेंट जो रेगुलर रखेंगे और आपकी सामग्रिक सेहत में सुधार करेंगे।

आइये आज इस पोस्ट में हम आपको कुछ स्वादिष्ट स्मूदी के बारे में बताते हैं। इन्हें आप दिन भर पी सकते हैं। दूसरे तमाम फायदों के अलावा ये मल त्यागने और कब्ज से लड़ने में चमत्कारी हैं

कब्ज से लड़ने के लिए जूस से बेहतर हैं स्मूदी

नेचुरल जूस और स्मूदी दोनों ही बहुत हेल्दी हैं और आपको प्रचुर विटामिन और मिनरल देती हैं। पर अगर आप कब्ज से लड़ना चाहते हैं तो आपको स्मूदी का चयन करना चाहिए। कारण यह है कि ये फलों के फाइबर भरी होती हैं, जो जूस बनाने में खो जाते हैं।

इसलिए स्मूदी ज्यादा संतोषजनक हैं। नाश्ते के रूप में आप इनका मजा ले सकते हैं। ज्यादा चीनी और मैदा खाने से बचने के लिए भी आप इन्हें अपना सकते हैं

शहद से मीठा करें

अगर आपको अपनी स्मूदी को थोड़ा मीठा करना है, तो सफेद चीनी को छोड़ दें, क्योंकि यह आपके लिए जहरीली है। एक ऐसा नेचुरल स्वीटनर आजमायें जिसमें लैक्जेटिव गुण हैं, उदाहरण के लिए शहद (acacia honey)। अगर आपको यह वरायटी नहीं मिल रही है तो  नेचुरल फ्रूट और अनाज से बनी किसी दूसरी तरह की शहद या गुड़ का ऑप्शन चुन सकते हैं।

केफिर और सूखी बेर (Kefir and prunes)

कब्ज : केफिर और सूखी बेर (Kefir and prunes)

केफिर एक तरह की फरमेंटेड दही है जो सामान्य दही के तमाम फायदों के साथ कुछ अतिरिक्त फायदे भी देती है। हमारा शरीर इसे ज्यादा आसानी से पचा सकता है क्योंकि इसमें लैक्टोज कम होता है। यह आंतों के अच्छे बैक्टीरिया की बढ़त को बढ़ावा भी देती है। आप इसे रेडीमेड सुपरमार्केट में खरीद सकते हैं, या खुद दूध से बना सकते हैं।

कैल्शियम से भरपूर होने और ऑस्टियोपोरोसिस को रोकने का शानदार माध्यम होने के अलावा प्रूनस (Prunes) फाइबर से भी भरपूर होते हैं। वे सदियों से कब्ज के लिए सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक माने जाते हैं। अगर हो सके तो उन्हें रात में पानी में भिगो लें।

इसे भी देखें: 9 अद्भुत फ़ायदे जो रोज़ शहद खाने पर आपको मजबूर कर देंगे

कब्ज से लड़ने के लिए ओट्स और खजूर (Oats and dates)

कब्ज : ओट्स और खजूर (Oats and dates)

चावल के दूध से अलग जो कुछ लोगों में कब्ज पैदा कर सकता है, ओटमिल्क म्युसिलेज से भरपूर है। यह एक तरह का फाइबर है जो हेल्दी बॉउल मूवमेंट में सहायक है। इस स्मूदी के लिए आप एक बड़ा चम्मच ओट बेस्ड मिल्क या दलिया का इस्तेमाल कर सकते हैं जो कुछ घंटों तक पानी में भिगोयी गयी हो।

ज्यादातर सूखे मेवों की तरह खजूर में भी प्रचुर फाइबर है और भरपूर एनर्जी देता है। इसलिए वे सुबह की स्मूदी के लिए बढ़िया विकल्प हैं! ओट्स क्रीमी टेक्सचर वाले होते हैं, जबकि खजूर मिठास बढ़ाते हैं।

सेब और कीवी (Apple and kiwi)

कब्ज और दस्त दोनों के लिए सेब एक बेहतरीन विकल्प है। इसका राज इसके छिलके में है, जिसमें इस फल का अधिकांश फाइबर मौजूद है। पर अगर आप छिलके का इस्तेमाल करने जा रहे हैं, तो पेस्टिसाइड मुक्त या ऑर्गनिक वरायटी का चयन करना ठीक रहेगा।

आप इस स्मूदी में कच्चे सेब का इस्तेमाल कर सकते हैं या इसे थोड़ी देर में पका सकते हैं; इससे इसका स्वाद बढ़ जाएगा। कीवी फल पारंपरिक रूप से अपने शानदार लैक्जेटिव गुणों के कारण खाली पेट खाया जाता है

इसे भी पढ़ें : आपकी कई बीमारियों का अचूक इलाज़ है शहद में घुला बेकिंग सोडा

कब्ज से लड़ने के लिए दही और अंजीर (Yogurt and figs)

अगर आप केफिर नहीं पा सकें तो दही एक अच्छा विकल्प है, हालांकि इसमें केफिर वाले कुछ अच्छे एंजाइम नहीं होते हैं। जहाँ तक संभव हो आपको ज्यादा से ज्यादा नेचुरल योगर्ट की तलाश करनी चाहिए, जिसमें एडेड स्वीटनर, शुगर, कृत्रिम रंग और फ्लेवर न हों।

अंजीर भले ही ताज़े या सूखे हों, वे इस स्वादिष्ट स्मूदी में मिठास लाते हैं।

हेज़लनट्स और अलसी (Hazelnuts and flaxseed)


अंत में हमें कुछ नट्स और बीजों को ख़ास तौर पर हाइलाइट करना चाहिए जिनमें प्रचुर फाइबर हैं और जिन्हें आपके स्वाद के मुताबिक़ वनस्पति मिल्क में मिलाया जा सकता है। हेज़लनट्स ब्लड शुगर लेवल को रेगुलेट करने में भी मदद करते हैं।

कुछ हेल्थ फ़ूड स्टोर में आपको हेज़लनट मिल्क मिल सकता है, जिसमें एक उम्दा स्वाद होता है और कोको पाउडर से मिलाया जा सकता है। म्युसिलेज निकालने के लिए अलसी को रात भर के लिए भिगो दें। अपनी स्मूदी में आप वह पानी मिला सकते हैं जिसमें आपने अलसी को भिगोया था।

आपको अपनी स्मूदी में मुट्ठी भर नट्स और एक चम्मच फ्लैक्ससीड मिलाना चाहिए।