5 ड्रिंक : यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन, UTI से मुकाबला करने के लिए

फ़रवरी 13, 2019
यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्श तब होता है जब खतरनाक सूक्ष्मजीव (microorganism) आपके यूरिनरी ट्रैक्ट में पहुँच जाते हैं, जिसमें आपकी किडनियां और मूत्राशय भी शामिल हैं। यह बहुत ज्यादा दर्द और गंभीर इन्फेक्शन का कारण बन सकता है और इनका जल्द से जल्द इलाज किया जाना चाहिए। अपने डॉक्टर को दिखाने के अलावा, इन 5 बेहतरीन नुस्खों को आज़मा सकते हैं।

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (UTI) तब होता है जब खतरनाक माइक्रोऑर्गनिज्म आपके यूरिनरी ट्रैक्ट में पहुँच जाते हैं। इसमें आपके गुर्दे (kidney) और मूत्राशय (bladder) शामिल हैं। ज्यादातर मामलों में यह एक बैक्टीरिया के कारण होता है जो आपके मूत्रमार्ग (urethra) के माध्यम से इन अंगों तक पहुंचता है। हालांकि यह खुद भी किडनियों में पैदा हो सकता है। पुरुषों में भी कुछ हद तक यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन की समस्या हो सकती है, लेकिन ज्यादातर महिलाएं ही इससे प्रभावित होती हैं क्योंकि उनका मूत्रमार्ग (urethras) बहुत छोटा होता है। इसलिए यहां हम UTI से मुकाबला करने के लिए कुछ बेहतरीन ड्रिंक के बारे में जानेंगे।

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (UTI) खराब साफ-सफाई की आदतों, यौन-संबंध या पेशाब को रोककर रखने की वजह से हो सकता है।

किडनी स्टोन, डायबिटीज, और दूसरी गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं के चलते भी आपको UTI की समस्या हो सकती है।

वैसे तो, आमतौर पर असहनीय जलन या दर्द से इसके होने का पता चलता है, लेकिन यह बुखार, पेट में मरोड़ और पेशाब में बदलाव जैसे लक्षणों के साथ भी हो सकता है।

किस्मत से, एंटीबायोटिक्स लेने के साथ-साथ आप कुछ औषधीय पेय भी तैयार कर सकते हैं जो जल्दी ठीक होने में आपकी मदद कर सकते हैं।

इस आर्टिकल में जानते हैं कि वे कौन-कौन से हैं।

UTI (यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन) से लड़ने के लिए 5 पेय

1. हॉर्सटेल टी (Horsetail tea)

UTI यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन से लड़ने के लिए हॉर्सटेल टी (Horsetail tea)

हॉर्सटेल टी एक ऐसा पेय है जिसमें मूत्रवर्धक (diuretic) गुण मौजूद होते हैं। ये गुण आपके शरीर में पेशाब के बनने को बढ़ाने में मदद करते हैं और बैक्टीरिया के असर को कम करने के लिए यूरिनरी ट्रैक्ट को साफ करते हैं।

इसके अलावा, इसके एंटी-इन्फ्लेमेटरी यौगिक दर्द और भारीपन को कम करते हैं और तेजी से यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन के लक्षणों से राहत पाने में मदद करते हैं। इस तरह यह UTI से लड़ने वाली तमाम बेहतरीन ड्रिंक्स में से एक है।

जरूरी चीजें

  • 1 बड़ा चम्मच हॉर्सटेल (10 ग्राम)
  • 1 कप पानी (200 मिलीलीटर)

बनाने का तरीका

  • एक कप पानी को उबालें और फिर उसमे एक चम्मच हॉर्सटेल मिला दें।
  • इसे कुछ मिनटों के लिए कम आंच पर पकने दें और फिर हटा दें।
  • जब यह एक पीने लायक तापमान तक पहुँच जाये, तो इसे घूंट-घूँट करके पी लें।
  • एक दिन में दो से तीन कप पिएं

इसे भी पढ़ें : 7 कारण जो आपको खूब मूली खाने पर मजबूर कर देंगे

2. तरबूज का जूस (Watermelon juice)

प्राकृतिक तरबूज का जूस आपके शरीर को एक बड़ी मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट और एंटी-इन्फ्लेमेटरी यौगिक मुहैया करवाता है, जो कि यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन से जुड़ी समस्याओं से छुटकारा पाने में सहायक हैं। यह UTI से मुकाबला करने वाली ड्रिंक्स से एक है और स्वादिष्ट भी होता है।

इसके अलावा, इसके पेशाब बढ़ाने वाले ड्यूरेटिक गुण आपके शरीर के ऊतकों (tissues) में फ्लूइड के स्तर को नियंत्रित करते हैं, साथ ही आपकी किडनियों से उन सभी जहरीले पदार्थों को बाहर निकालते हैं जो उनके स्वास्थ्य और कम पर असर डालते हैं।

जरूरी चीजें

  • 2 टुकड़े तरबूज
  • 1 कप पानी (200 मिलीलीटर)

बनाने का तरीका

  • तरबूज के टुकड़ों को एक कप पानी के साथ तब तक मिलायें जब तक आपको एक अच्छी तरह से घुला हुआ (homogeneous ) ड्रिंक न मिल जाए।
  • अपने इन्फेक्शन को कम करने के लिए दिन में दो कप इस जूस का सेवन करें

3. क्रैनबेरी जूस (Cranberry juice)

UTI यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन से लड़ने के लिए क्रैनबेरी का जूस (Cranberry juice)

क्रेनबेरी में ऐन्टीबैक्टिरीअल और एंटीऑक्सिडेंट कंपाउंड होते हैं जो हानिकारक बैक्टीरिया के विकास को रोकने के लिए यूरिनरी ट्रैक्ट के अन्दर सीधे कार्यवाही करते हैं। इसके अलावा, इसके एल्केलाइन प्रभाव इन बैक्टीरिया को पनपने के लिए जरूरी एसिडिक वातावरण में बदलाव कर देते हैं। इस तरह ये सभी गुण इसे UTI से लड़ने के लिए उन असरदार पेय में से एक बनाते हैं।

जरूरी चीजें

  • 1/2 कप क्रैनबेरी जूस (100 मिलीलीटर)
  • 1/2 कप पानी (100 मिलीलीटर)
  • शहद (वैकल्पिक)

बनाने का तरीका

  • आधा कप पानी के साथ आधा कप क्रैनबेरी का जूस मिलाएं और थोड़ा शहद मिलाकर इसे मीठा कर लें।
  • यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन के शुरुआती लक्षण दिखते ही इसका सेवन करना शुरू कर दें और इस खुराक को दिन में दो बार दोहरायें।

इसे भी जानें : थोड़ी-थोड़ी देर में पेशाब क्यों आता है?

4. खीरे का जूस (Cucumber juice)

खीरा 90% पानी से बने होते हैं और साथ ही इसमें जरूरी एंटीऑक्सिडेंट, विटामिन और मिनरल भी होते हैं।

इसके मूत्रवर्धक (diuretic) गुणों के होने का मतलब है कि खीरे का रस आपके यूरिनरी ट्रैक्ट को साफ करने के लिए पेशाब बढ़ाने में मदद करता है।

यह नेचुरल जूस आपके शरीर में मौजूद सभी टॉक्सिन को बाहर निकालता है, साथ ही साथ बैक्टीरिया के विकास को भी रोकता है।

जरूरी चीजें

  • 1/2 टुकड़ा खीरा
  • 1 कप पानी (200 मिलीलीटर)

बनाने का तरीका

  • खीरे को अच्छी तरह से धो लें, छिलके को हटा दें और इसे एक कप पानी के साथ ब्लेंड करें।
  • इस मिश्रण को कुछ मिनट तक चलाते रहें जब तक यह पूरी तरह से घुल न जाए और फिर इसे पी लें।
  • संक्रमण से राहत पाने के लिए इसे दिन में दो कप पियें

5. अदरक की चाय (Ginger tea)

UTI यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन से लड़ने के लिए अदरक की चाय (Ginger tea)

अदरक में एंटी-इंफ्लेमेटरी, दर्द निवारक और एंटीबायोटिक गुण होते हैं जो इसकी चाय को UTI से मुकाबला करने वाले बेहतरीन पेय में से एक बनाते हैं।

असल में, इस चाय को पीने से आपको पेट के निचले हिस्से में होने वाले सभी तरह के दर्द से राहत मिलती है और आपके मूत्रमार्ग को साफ रखने के लिए पेशाब की पैदावार में बढ़ोत्तरी होती है।

जरूरी चीजें

  • 1 चम्मच पिसी हुई अदरक (10 ग्राम)
  • 1 कप पानी (200 मिलीलीटर)
  • शहद (वैकल्पिक)

बनाने का तरीका

  • पानी को उबालें और फिर उसमे एक चम्मच पिसी हुई अदरक मिलायें।
  • इसे कुछ मिनटों तक तर होने दें, फिर इसे छानकर अलग कर लें और चाय को पी लें।
  • एक दिन में तीन कप तक पिएं
  • एक चम्मच शहद डालकर आप इस चाय को मीठा कर सकते हैं।

यहां बताए गए नुस्खे आपके यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन के लक्षणों को कम करने में तब तक मदद कर सकते हैं जब तक कि आप अच्छे पोषक तत्वों का सेवन करते हैं और भरपूर मात्रा में पानी पीते हैं।

फिर भी, अगर आपके लक्षण बने रहते हैं, तो सबसे अच्छा होगा कि आप अपने डॉक्टर को दिखायें।

  • Ballesteros Moya, E. (2017). Infección urinaria. Pediatria Integral. https://doi.org/10.1016/S0210-4806(02)72829-5.

  • Rodrigo Gonzalo de Liria, R., Méndez Hernández, M. M., & Azuara Robles, M. (2011). Infección urinaria. Protocolos de Infectología. Asociación Española de Pediatría. Sociedad Española de Infectología Pediátrica. https://doi.org/10.1093/cid/ciq257.

  • Valdevenito, J. P., & Álvarez, D. (2018). Infección urinaria recurrente en la mujer. Revista Médica Clínica Las Condes. https://doi.org/10.1016/j.rmclc.2018.02.010.