कूकिंग में एल्यूमीनियम फॉयल का इस्तेमाल कहाँ तक सुरक्षित?

इस आर्टिकल में जनिये कूकिंग में एल्यूमीनियम फॉयल का इस्तेमाल आपकी सेहत के लिए हानिकारक क्यों हो सकता है और इससे बचने के  लिए आपको क्या उपाय करना चाहिए।
कूकिंग में एल्यूमीनियम फॉयल का इस्तेमाल कहाँ तक सुरक्षित?

आखिरी अपडेट: 06 अक्टूबर, 2020

खाना पकाने के लिए एल्यूमीनियम फॉयल के इस्तेमाल पर हाल तक सवाल नहीं खड़ा नहीं किया गया था, लेकिन हमें सवाल जारी रखना चाहिए। निश्चित रूप से इस बारे में चर्चा की गई है कि इसे किस साइड भोजन के संपर्क में रखना चाहिए: मैट साइड या चमकदार साइड को?

आम तौर पर एल्यूमीनियम फॉयल तीन उद्देश्य पूरा करती है:

  • सतहों को ढंकने के लिए जिस पर खाना पकाया जाना है (उदाहरण के लिए, बेक किया हुआ)
  • फ़ूड प्रीजर्वेशन (लपेटना)
  • खाना पकाने के बाद इसे गर्म रखने के लिए

यह सामग्री निश्चित रूप से उपयोगी है, सहज उपलब्ध है और बेहद सस्ती है। पर क्या यह वास्तव में सुरक्षित है? आपको इसे कितनी बार इस्तेमाल करना चाहिए? इसके बारे में ज्यादा जानने के लिए पढ़ना जारी रखें।

कूकिंग के लिए एल्यूमीनियम फॉयल का इस्तेमाल क्यों नहीं करना चाहिए?

कूकिंग के लिए एल्यूमीनियम फॉयल का इस्तेमाल क्यों नहीं करना चाहिए?

एल्यूमीनियम फॉयल कार्डबोर्ड सिलेंडर पर  लिपटी एल्यूमीनियम पन्नी की बहुत पतली शीट होती है जिससे लोग आसानी से इसे काट सकें और इस्तेमाल कर सकें। शीट की मोटाई 0.94 मिलीमीटर तक हो सकती है, इसलिए यह काफी लचीला होता है।

इसे भी पढ़ें : क्या आपका भोजन कोरोनावायरस से दूषित हो सकता है?

एल्यूमीनियम क्या है?

20 वीं शताब्दी से एल्यूमीनियम का उपयोग काफी लोकप्रिय रहा है, जो पॉपुलैरिटी में स्टील से थोड़ा ही कम होगा। इसके अलावा यह बॉक्साइट की खान से निकलता है जो एक तरह का सेडीमेंटरी रॉक है। यह लंबा चलता है और बिजली और हीट का गुड कंडक्टर है। अन्य गुण हैं:

  • दृढ़ता (Tenacit): यह किसी धातु के टूटने या अपना आकार खोने से पहले एनर्जी अवशोषित करने की क्षमता को बताता है।
  • लचीलापन (Malleability): यह एक भौतिक गुण है जिसके द्वारा धातु की चादरें बन सकती हैं।
  • लोच (Ductility): इसका मतलब धातु का लचीलापन है और कोई भी उन्हें तार बनाने के लिए बिना तोड़े शेप दे सकता है।

एल्युमीनियम सेहत के लिए क्यों नुकसानदेह है?

एल्यूमीनियम (अन्य तत्वों के साथ एक मिक्स्ड मेटल) सस्ती होती है और आप इसे कटलरी, बर्तन, धूपदान और कई अन्य सामान्य बर्तनों के रूप में पा सकते हैं। हालाँकि हमें कहना होगा कि इस सुझाव का कोई प्रमाण नहीं है कि इन बर्तनों का उपयोग आपके स्वास्थ्य के लिए न नुकसानदेह है।

हालांकि एल्यूमीनियम फॉयल में भोजन लपेटना और इसे हाई टेम्परेचर पर गर्म करना नुकसानदेह हो सकता है। मुख्य रूप से एसिडिक या मसालेदार खाने के मामले में। आइए इसे समझने के लिए कुछ विस्तार से देखें।

आपकी देह पर एल्यूमीनियम कैसे काम करता है?

मानव शरीर थोड़ी मात्रा में एल्यूमीनियम को बाहर निकाल सकता है। दूसरे शब्दों में न्यूनतम सेवन से कोई समस्या नहीं होगी। एक इंडिकेटर  के रूप में प्रति दिन प्रति प्रति 2.2 पाउंड वजन पर  1574.8 मिल तक ले सकते हैं।

ध्यान दें कि हम इस मात्रा से ज्यादा इस मेटल के संपर्क में रहते हैं। आप इसे विभिन्न तरह के भोजन और स्थानों में पा सकते हैं जैसे:

  • चाय
  • मक्का
  • जड़ी-बूटी
  • खाना पकाने का नमक
  • पेयजल
  • येलो चीज़
  • सुगंधित मसाले
  • कुछ दवाएं जैसे एंटासिड

शरीर में एल्यूमीनियम की ऊँची मात्रा के कारण होने वाले सबसे आम समस्याओं में हम निम्नलिखित की बात कर सकते हैं:

  • कुछ लोग सोचते हैं कि इससे अल्जाइमर रोग की संभावना बढ़ जाती है
  • किडनी की समस्या वाले मरीजों के लिए एल्युमिनियम बेहद हानिकारक है
  • यह हड्डियों की समस्याओं वाले रोगियों के स्वास्थ्य कोबिगाड़ सकता है
  • अंत में यह मानव मस्तिष्क की कोशिकाओं की वृद्धि दर को कम करता है

इसे भी पढ़ें : आपकी किचन में रखे बेकिंग सोडा के 6 शानदार उपयोग

हाई टेम्प्रेचर पर कूकिंग के लिए एल्यूमीनियम फॉयल का उपयोग करने से बचें

आपके शरीर में एल्यूमीनियम की मात्रा को कम करने का एक महत्वपूर्ण फैक्टर इस धातु से बने बर्तनों का इस्तेमाल करने के बाद उन्हें न रगड़ना है। इससे इसमें रस्ट होता है और एक इनर्ट लेयर बनती है जो एल्यूमीनियम को भोजन से मिलने से रोकती है।

कूकिंग के लिए एल्यूमीनियम फॉयल को लपेटने से मुख्य समस्या यह है कि यह उपयोग करने से पहले यह उस इनर्ट लेयर को नहीं बनाता है। इस प्रकार जब आप खाना बनाते हैं, तो एल्यूमीनियम भोजन में मिल सकता है और शरीर में सुरक्षित मानी जाने वाली मात्रा से ज्यादा हो सकता है।

अंत में आप किचन में स्टोर करने और भोजन को रखने के लिए एल्यूमीनियम फॉयल का उपयोग करना जारी रख सकते हैं। बस हाई टेम्परेचर पर खाना पकाने के लिए इसका उपयोग करने में सावधानी बरतें।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
खांसी, एलर्जी या फ्लू के इलाज में मदद के लिए प्याज का इस्तेमाल करें
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
खांसी, एलर्जी या फ्लू के इलाज में मदद के लिए प्याज का इस्तेमाल करें

प्याज के इस ख़ास इस्तेमाल पर बात करने से पहले बता दें कि मौसमी बदलाव आपके शरीर के इम्यून सिस्टम को कमजोर कर सकते हैं।



  • Crisponi, Guido & Fanni, Daniela & Gerosa, Clara & Nemolato, Sonia & Nurchi, Valeria & Crespo-Alonso, Miriam & Lachowicz, Joanna & Faa, Gavino. (2013). The meaning of aluminium exposure on human health and aluminium-related diseases. Biomolecular concepts. 4. 77-87. 10.1515/bmc-2012-0045.