क्या आपका भोजन कोरोनावायरस से दूषित हो सकता है?

01 अप्रैल, 2020
कोरोनावायरस के फैलने की तमाम अफवाहों और डर की वजह से कई लोग सोचने लगे हैं, क्या यह संभव है कि यह भोजन के जरिये भी आदमी को संक्रमित कर दे। इस मामले में हम यहाँ बताएँगे कि वैज्ञानिक इस बारे में अब तक क्या जानते हैं।
 

कोरोनावायरस या उससे होने वाली बीमारी COVID-19 से जुड़े अलर्ट के मद्देनजर, कई लोग सवाल पूछ रहे हैं: क्या कोरोनावायरस से हमारा खाना भी दूषित हो सकता है? अफवाहों का माहौल ऐसा गर्म है कि लोग खुद ही यह धारणाएं लोगों को बताने लगे हैं कि भोजन के जरिये भी यह फैल सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन और भारत सरकार द्वारा जारी  आधिकारिक जानकारी में मौजूद ज्यादातर स्ट्रेट्जी इसके रोकथाम पर ही फोकस करती है। इसलिए हमें इसके बारे में तमाम बातें जानने की ज़रूरत है?

सबसे पहले हमें यह साफ़ कर करना चाहिए कि इन्फेक्शन को रोकना हमारे हाथ में है। यह मौजूदा स्थिति से निपटने के लिए उपलब्ध संसाधनों को ठीक से इस्तेमाल करने में हेल्थ एजेंसियों की मदद करेगा। इस अर्थ में हमारे हाथ धोने, घरों को कीटाणुरहित करने और घर में ही रहने जैसे उपाय बहुत मदद कर सकते हैं

रोग के रोकथाम केन्द्रों का सुझाव है कि यह वायरस कुछ सतहों पर एक्टिव रह सकता है। यदि व्यक्ति वायरस से संपर्क में आता है और फिर उसके मुंह, नाक या आंखों से यह छू जाए तो यह संक्रमण फैला सकता है।

लेकिन क्या कोरोनावायरस से हमारा खाना भी दूषित हो सकता है?

क्या कोरोनोवायरस से भोजन दूषित हो सकता है?

यूरोपीय खाद्य सुरक्षा प्राधिकरण (EFSA) ने एक बयान में बताया कि ऐसे कोई अध्ययन नहीं हैं जो यह पुष्टि कर सकें कि भोजन कोरोनावायरस के ट्रांसमिशन का रूट है। आज तक भोजन के माध्यम से वायरस के ट्रांसमिशन की कोई रिपोर्ट नहीं है।

इन परिणामों की तुलना करने और एक ठोस निष्कर्ष निकालने के लिए हमें और अधिक रिसर्च की ज़रूरत है। हम निश्चित रूप से जानते हैं कि वायरस गर्मी के प्रति बहुत प्रतिरोधी नहीं होता हैइस कारण से भोजन को पूरी तरह से पकाने से भोजन के माध्यम से इसके फैलना का जोखिम कम हो जाना चाहिए

यह जानने के बादहमें कच्चे  भोजन खाने से बचना चाहिए खासकर बात जब पशुओं से आने वाले भोजन की हो। हमें वायरस के फैलाव को रोकने के लिए खाने-पीने की चीजों के मामले में ज्यादा सावधानी बरतने की ज़रूरत है।

क्या आपका भोजन कोरोनावायरस से दूषित हो सकता है?
 

अब तक इस बात की कोई पुष्टि नहीं हुई है कि भोजन कोरोनावायरस (Covid-19) के लिए संक्रमण का रूट हो सकता है। फिर भी रोकथाम के उपाय के रूओप में एहतियात बरतना अहम है।

हम अभी  कोरोनावायरस के बारे में बहुत कुछ नहीं जानते

इस विश्वास के बावजूद कि मनुष्यों में इसका फैलाव कुछ जानवरों के मीट के सेवन से होता है, इस मामले में कोई साइंटिफिक लेख नहीं है। दरअसल ज्यादातर उपलब्ध लेख इस एपेडेमिक की विशेषताओं के बारे में बात करते हैं, लेकिन इलाज, रिस्क फैक्टर या रोकथाम के बारे में नहीं।

इस कारण हम अत्यधिक सावधानी रखने की सलाह देते हैं। हालाँकि भोजन को छूत का कोई स्रोत नहीं माना जाता है, लेकिन हमें अत्यधिक फ़ूड हाइजीन उपाय अपनाने की ज़रूरत है। रोगजनक जीवों की अनुपस्थिति को निश्चित करने के लिए भोजन का पूरा पकना ज़रूरी है।

पता करें: कोरोनावायरस के बारे में आम मिथ

कोरोनावायरस को फैलने से रोकने के लिए संपर्क से बचें

वायरस को फैलने से रोकने के लिए हम जो सबसे अच्छी चीज कर सकते हैं, वह यह कि लोग आपसी संपर्क से बचें, हाथ की स्वच्छता का पूरा ध्यान रखें खासकर खुली सतहों को छूने या वस्तुओं को उठाने-हटाने के बाद। किचेन के किसी भी काम से पहले अपने हाथों पर वायरस के किसी भी निशान को मिटाना सुनिश्चित करने के लिए अच्छी हैंड हाइजीन बहुत ज़रूरी है।

छींक या खाँसी आने पर सावधानी बरतते हुए वायरस की एक्टिविटी रेडियस को कम करना ज़रूरी है। यह हेल्थ वार्निंग देने और नवीनतम सटीक खबरों पर नजर रखने का वक्त है।

वायरस के फैलने के तरीकों का अभी भी अध्ययन किया जा रहा है और हमें जल्द ही भोजन में इसके जीवित रहने की क्षमता के बारे में अधिक जानकारी मिल जाएगी। इस समय हालांकि उन खाद्य पदार्थों को खाना सबसे अच्छा है जो ठीक से पैक किए गए हैं और पकायें गए हैं।

यह भी पढ़ें: Coronavirus Disease (COVID-19) : विशिष्ट लक्षण

 

भोजन का काम करने से पहले सही साफ़ सफ़ाई अपनाना किसी भी रिस्क को कम करने के लिए महत्वपूर्ण है।

कोरोनावायरस और भोजन: याद करने की आखिरी बात

कोरोनावायरस और इसके तेजी से फैलने के बारे में ज्ञान की कमी सामाजिक अराजकता की स्थिति पैदा कर रही है। हमें संक्रमण की स्पीड को कम करने के लिए शांत रहना चाहिए और सावधानियों का सम्मान करना चाहिए। इस तरह अधिक संभावना है कि हेल्थ सर्विसेस उन सभी रोगियों को सही केयर दे पाने में सक्षम होंगी जो रोजाना आ रहे हैं।

फ़ूड हाइजीन ज़रूरी है, जैसे कि हाथ की साफ़-सफ़ाई। हमें भोजन को अच्छी तरह से पकाना चाहिए भले ही भोजन में वायरस की संभावित मौजूदगी निश्चितता के साथ प्रमाणित नहीं हुई है। इन सबसे ऊपर उन बुजुर्गों और रिस्क वाले लोगों के लिए सावधानी और ख़ास केयर लेने की सिफारिश की जाती है, जो वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित हो सकते हैं।

  • Velavan TP., Meyer CG., The COVID-19 epidemic. Trop Med Int Health, 2020. 25 (3): 278-280.
  • European Food Safety Authority. (9 March 2020). Coronavirus: no evidence that food is a source or transmission route. EFSA. Recovered from https://www.efsa.europa.eu/en/news/coronavirus-no-evidence-food-source-or-transmission-route
  • Centers for Disease Control and Prevention. (2020). How COVID-19 Spreads. CDC. Recovered from https://www.cdc.gov/coronavirus/2019-ncov/about/transmission-sp.html