डिमेंशिया के 8 लक्षण जो सबको पता होने चाहिए

24 फ़रवरी, 2019
वैसे तो बहुत से मामलों में मनोभ्रंश (Dementia) को रोका या ख़त्म नहीं किया जा सकता है, मगर इसके लक्षणों के बारे में जागरूक होना और एक उपचार खोजना जरूरी है जो आपको इससे मुकाबला करने में मदद करेगा। जितनी जल्दी आप मानसिक गड़बड़ियों (cognitive impairment) का पता लगायेंगे, उतनी ही ज्यादा संभावना है कि आप अपने जीवन की गुणवत्ता को बनाए रख पाएंगे।

मनोभ्रंश यानी डिमेंशिया एक ऐसा सिंड्रोम है जिसका स्वभाव आमतौर पर बढ़ते जाने का है। इसका वर्णन मानसिक क्षमताओं (cognitive functions) के नुकसान के रूप में किया जाता है।

आपके काग्निटिव फंक्शन आपको चीजों को याद रखने की क्षमता, आपकी समझ और आपकी रोज़ाना की गतिविधियों को करने की क्षमता प्रदान करते हैं।

हालांकि, डिमेंशिया बुढ़ापे और उम्र के जाने-माने परिणामों ज्यादा भी कुछ है, और आमतौर पर मस्तिष्क को प्रभावित करने वाली प्राइमरी या सेकेंडरी बीमारियों की प्रतिक्रिया होती है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के अनुसार, दुनिया भर में लगभग 47.5 मिलियन लोग डिमेंशिया से पीड़ित हैं। हर साल, डॉक्टर 7.7 मिलियन नए मामलों की पहचान करते हैं। आज यह बुजुर्गों में विकलांगता और निर्भरता का कारण बन चुका है।

कई ट्रीटमेंट हैं जो डिमेंशिया से निपटने में मदद कर सकते हैं। बावजूद इसके, यह रोगियों और उनके साथ-साथ उनकी देखभाल करने वालों और परिवार के सदस्यों, सब पर भारी पड़ रहा है।

सबसे चिंताजनक बात यह है कि बहुत से लोग इस बीमारी को नज़रअंदाज़ करते हैं। भले ही यह बहुत आम है, पर वे नहीं जानते कि यह कैसे बढ़ जाती है।

समय रहते इसका मुकाबला करने के लिए यह जानना बहुत ज़रूरी है कि इसके लक्षणों की पहचान कैसे की जाए, हम डिमेंशिया के आठ मुख्य लक्षणों के बारे में जानकारी शेयर करना चाहते हैं।

जानिए, वे क्या-क्या हैं!

1. शब्दों को खोजने में कठिनाई (Difficulty finding words)

शब्दों को खोजने में कठिनाई

सबसे पहले, मनोभ्रंश के शुरुआती लक्षणों में से एक अपने विचारों को व्यक्त करने के लिए सही शब्द खोजने में होने वाली कठिनाई है।

जिन रोगियों में इस समस्या के पैदा होने की शुरुआत हो रही है, उन्हें किसी खास शब्द को याद करने में कई मिनट लग सकते हैं। यह एक ऐसा शब्द भी हो सकता है जिसे वे हमेशा इस्तेमाल करते हैं, लेकिन बस वे इसे याद नहीं कर पाते।

2. समय को समझने में समस्या (Problems understanding time)

जिन लोगों में इस बीमारी के होने की सबसे ज्यादा संभावना हैं उन्हें अतीत, वर्तमान और भविष्य में होने वाली घटनाओं को समझने में गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ता है

अक्सर, जब वे समय (timing) के बारे में बात करते हैं, तो वे नहीं जानते हैं कि इसका मतलब क्या होता है या वे चीजों के क्रम में गड़बड़ कर देते हैं

इसे भी पढ़ें : मेमोरी लॉस से लड़ने वाले प्राकृतिक खाद्य

3. थोड़ी देर के लिये याददाश्त चली जाना (Short-term memory loss)

थोड़े समय के लिये याददाश्त जाना (Short-term memory loss)

शॉर्ट-टर्म मेमोरी की समस्याएं आम लग सकती हैं। लेकिन असल में यह आपके मस्तिष्क को डिमेंशिया के कारण होने वाले नुकसान का एक शुरुआती संकेत है।

उन महत्वपूर्ण घटनाओं या चीजों को याद न रख पाना जो कुछ ही घंटों या दिनों पहले हुयी थी, यह बताता है कि आपके मस्तिष्क के कार्यों में कुछ गड़बड़ है

जब वे किसी कमरे में जाते हैं, तो डिमेंशिया से पीड़ित व्यक्ति को यह भी याद नहीं रहता है कि वह सबसे पहले क्या करने वाला था।

4. मूड स्विंग (Mood swings)

डिमेंशिया की शुरुआत के साथ ब्रेन केमिस्ट्री में आने वाले बदलावों के कारण ये लोग अक्सर उदासी या चिड़चिड़े स्वभाव से पीड़ित होते हैं

व्यक्तित्व या व्यवहार में अचानक बदलाव एक संकेत हो सकता है कि आपके काग्निटिव फंक्शन में गड़बड़ी आ रही हैं।

इसे भी पढ़ें : रेड वाइन पीने के 8 फायदे

5. रोज़ाना के कामों को करने में कठिनाई

5. रोज़ाना के कामों को करने में कठिनाई

एक और मुख्य लक्षण उनके कई साधारण या रोज़मर्रा के कामों को पूरा करने में होने वाली परेशानी है।

कोई इंसान जो मानसिक समस्याओं से पीड़ित है काम के दौरान दिये गए टास्क को पूरा करने में असमर्थ हो सकता है। यह छोटी-मोटी ग़लतियों या यहाँ तक कि घर के कामों में ग़लतियों की वजह भी बन सकता है।

6. जगहों को पहचानने में असमर्थता (Inability to recognize places)

जैसे-जैसे डिमेंशिया बढ़ता है, मरीज़ों को उन जगहों को पहचानने में दिक्कत होने लगती है, जहाँ आमतौर पर वे सबसे ज्यादा समय बिताते हैं।

सच्चाई तो यह है कि, वे अपने खुद के घर में भी भ्रमित या खोया हुआ महसूस कर सकते हैं।

याद नहीं कर पा रहे हैं कि आप किसी खास जगह पर कैसे या क्यों आए, या नहीं जानते कि आप कहां हैं, मनोभ्रंश के पक्के संकेत हैं।

7. आलस (Lethargy)

आलस (Lethargy)

इसके अलावा, काग्निटिव फंक्शन को होने वाला नुकसान अपने साथ रासायनिक प्रतिक्रियाओं की एक श्रृंखला लाता है। ये रोगी की दिमागी हालत और शारीरिक क्षमताओं को बनाए रखने की उसकी काबिलियत, दोनों को प्रभावित करते हैं।

नतीजा यह होता है कि, आदमी छोटे-मोटे कामों को करने में बहुत ज्यादा थकान महसूस करने लगता है। उनमें वह उत्तेजना नहीं रह जाती जिसे वे पहले महसूस किया करते थे।

8. लिखने में परेशानी (Difficulty writing)

जिस तरह बोलने के लिए सही शब्द खोजने में कठिनाई हो सकती है, ठीक उसी तरह, डिमेंशिया से पीड़ित लोगों को अक्सर लिखने में भी कठिनाई होती है जैसा वे पहले लिखते थे।

लिखने की क्षमता में बदलाव और लिखकर खुद को अभिव्यक्त करने में होने वाली कठिनाई एक संकेत है कि उन्हें मदद चाहिए।

हालाँकि, बहुत से मामलों में मनोभ्रंश को रोका या बंद नहीं किया जा सकता है, लेकिन इसके लक्षणों के बारे में जागरूक होना और एक उपचार खोजना ज़रूरी है जो आपको इससे मुकाबला करने में मदद करेगा।

जितनी जल्दी आप मानसिक कमज़ोरियों का पता लगायेंगे, उतनी ही ज्यादा संभावना है कि आप अपने जीवन की गुणवत्ता को बनाए रख पाएंगे।

  • Barba, A. L., Kelly Changizi, B., Higgins, D. S., Factor, S. A., & Molho, E. S. (2012). Dementia. In Parkinson’s Disease, Second Edition. https://doi.org/10.1201/b12948
  • Livingston, G., Sommerlad, A., Orgeta, V., Costafreda, S. G., Huntley, J., Ames, D., … Mukadam, N. (2017). Dementia prevention, intervention, and care. The Lancet. https://doi.org/10.1016/S0140-6736(17)31363-6
  • McKhann, G. M., Knopman, D. S., Chertkow, H., Hyman, B. T., Jack, C. R., Kawas, C. H., … Phelps, C. H. (2011). The diagnosis of dementia due to Alzheimer’s disease: Recommendations from the National Institute on Aging-Alzheimer’s Association workgroups on diagnostic guidelines for Alzheimer’s disease. Alzheimer’s and Dementia. https://doi.org/10.1016/j.jalz.2011.03.005
  • Hampson, C., & Morris, K. (2016). Dementia: Sustaining Self in the Face of Cognitive Decline. Geriatrics (Basel, Switzerland), 1(4), 25. https://doi.org/10.3390/geriatrics1040025
  • Jonker C, Geerlings MI, Schmand B. Are memory complaints predictive for dementia? A review of clinical and population-based studies. Int J Geriatr Psychiatry. 2000;15(11):983‐991. doi:10.1002/1099-1166(200011)15:11<983::aid-gps238>3.0.co;2-5
  • Berry B. (2014). Minimizing confusion and disorientation: cognitive support work in informal dementia caregiving. Journal of aging studies, 30, 121–130. https://doi.org/10.1016/j.jaging.2014.05.001