5 बेहतरीन मेमोरी एक्सरसाइज से तेज़ करें याददाश्त

06 सितम्बर, 2018
इन मेमोरी एक्सरसाइज के माध्यम से आप अपनी एकाग्रता और याददाश्त को बेहतर बना पाएँगे। इस तरह आपका मस्तिष्क लम्बे समय तक अच्छे ढंग से काम करता रहेगा।
 

हम फिजिकल एक्सरसाइज को तो बहुत महत्व देते हैं, लेकिन अक्सर ये भूल जाते हैं कि समय-समय पर अपनी याददाश्त को भी प्रशिक्षित करना  ज़रूरी है। अगर आप एकाग्रचित्त बने रहने के साथ-साथ तेज़ याददाश्त बनाए रखना चाहते हैं, तो मस्तिष्क से जुड़ी इन मेमोरी एक्सरसाइज के बारे में गौर से पढ़े।

ऐसा हो सकता है की बीतते समय के साथ आप नयी चीज़ें सीखना, पढ़ना, नए विषयों पर अपनी जानकारी बढ़ाना बंद कर दें….संक्षेप में कहें, तो अपनी याददाश्त के लिए नयी चुनौतियाँ खड़ी कर बैठें।

इसलिए, आज हम ऐसी 5 मेमोरी एक्सरसाइज के बारे में बात करने जा रहें हैं, तो आपको फुर्तीला दिमाग और तेज़ याददाश्त  देंगी। तो चलिए शुरू करते हैं!

1. मेमोरी एक्सरसाइज: दिन भर किये कामों को दोबारा याद करना

क्या आपको वह दिन याद हैं जब एग्जाम से एक रात पहले आप अपने विषयों को दोहराया करते थे?

चीज़ें याद रखने के लिए वह एक उत्तम मेमोरी एक्सरसाइज हुआ करती थी। लेकिन बीतते समय और पढ़ाई छूटने के साथ-साथ हमारी दोहराने की आदात भी खत्म होती चली गई।

इस मेमोरी एक्सरसाइज को करने के लिए आपको कुछ नया सीखने की ज़रूरत नहीं हैं।

  • रोज़ शाम केवल दिन भर में किये गए कार्यों के बारे में पुनः विचार कर लेना ही पर्याप्त है।

दिन भर में आपके साथ क्या-क्या हुआ, आपने क्या खाया इत्यादि जैसी चीज़ें दोहराने से आपकी याददाश्त को फ़ायदा होगा ।

मेमोरी एक्सरसाइज: डायरी लिखना

  • रोज़मर्रा के जीवन में किये गए दैनिक कार्यों को डायरी में लिखना बहुत अच्छी आदत है।

हो सकता है, आपको ऐसा लगे कि इसका कोई महत्व नहीं है। लेकिन रोज़ किये गए कामों को लिखने के बाद उन्हें दोहराने से याददाश्त तेज़ होती है।

इसे भी आजमायें: मेमोरी लॉस से लड़ने वाले प्राकृतिक खाद्य

2. मेमोरी एक्सरसाइज: माइंड मैप्स बनाएँ (mind maps)

आपकी लोकल मेमोरी कितनी तेज़ है? बहुत से लोगों को किसी जगह को ढूँढ़ने या उस तक पहुँचने में खासी दिक्कत होती है। अगर आपकी भी यही समस्या है तो अपनी स्थानिक स्मृति के विकास के लिए माइंड मैप्स बनाना अच्छा रहेगा।

 

इसे आप इस तरह कर सकते हैं:

  • हर बार जब आप किसी नयी जगह जाएं, घर वापस आने पर रास्ते का मैप या नक्शा बना लें।
  • इससे केवल आपकी स्थानिक स्मृति ही तेज़ नहीं हगी, बल्कि आपकी विजुअल मेमोरी भी विकसित होगी।

हैं न ये शानदार?

3. अपने कम इस्तेमाल करने वाले हाथ को ज़्यादा इस्तेमाल करें

क्या आप दाएं हाथ से काम करते हैं या अपना बायां हाथ ज़्यादा चलाते हैं?

याददाश्त को तेज़ बनाए रखने का एक और मज़ेदार तरीका है।

  • कोशिश करके अपने दैनिक कार्यों को अपने कम इस्तेमाल करने वाले हाथ यानी नॉन-डोमिनेंट हैंड से पूरा करें।

उदाहरण के लिए, अगर आप दायाँ हाथ ज़्यादा चलाते हैं, तो अपना बायें हाथ का इस्तेमाल करना शुरू करें। इसे लिखने, टूथ ब्रश पकड़ने, इत्यादि के इस्तेमाल में लाएँ।

शुरुआत में आपको दिक्कत होगी लेकिन यह एकदम सामान्य बात है। अपने कम मजबूत हाथ से काम करने में आपको ज़्यादा मेहनत भी लगेगी। लेकिन इसके नतीजे सकारात्मक होंगे। आपका मस्तिष्क ज़्यादा मेहनत से काम करेगा। साथ ही, इसे मेमोरी एक्सरसाइज का लाभ मिलेगा।

इसे भी पढ़ें: 8 आश्चर्यजनक लाभ जो मिलते हैं चिया सीड्स से

4. मेमोरी एक्सरसाइज: रोज़मर्रा की रूटीन में बदलाव

हो सकता है आपको यह बात मूर्खता भरी लगे, लेकिन नियमित दिनचर्या में बदलाव लाना याददाश्त बढ़ाने में सहायक है। लिफ्ट की बजाय सीढ़ियों का इस्तेमाल करें। रोज़ के रास्ते से अपने काम पर जाने की बजाए, कोई नया रास्ता लें।

इससे आप ज़्यादा चौकस बने रहेंगे और ज़्यादा सचेत भी।

  • जब आप ख़ुद को किसी चीज़ की पक्की आदत डाल लेते हैं, तब आप अपने आस-पास की चीज़ों पर गौर तक करना भूल जाते हैं।

इसलिए समय-समय पर परिवर्तन लाते रहने आवश्यक होता है।

मेमोरी एक्सरसाइज: रूटीन में बदलाव

उदाहरण के लिए काम पर जाने के लिए नया रास्ता चुनने के बाद आप उस रास्ते से जुड़े सही और गलत मार्गों के बारे में सोचेंगे। आप यह मालूम करने की कोशिश करेंगे कि यदि आप नए रास्ते पर भटक जाते हैं, तो आपको आगे क्या करना है। इसलिए घर आकर आप एक माइंड मैप तैयार कर सकते हैं। इससे आपका मस्तिष्क विचार करने की ओर प्रोत्साहित होगा।

5. मेमोरी एक्सरसाइज: हर दिन कुछ नया सीखें

ये मेमोरी एक्सरसाइज आपको कोई नया कोर्स सीखने की हिदायत नहीं देती है।

  • आपकी रोज़ के ज़िन्दगी में कई ऐसी चीज़ें उपलब्ध हैं जिनसे कुछ नया सीखा जा सकता है।
 

उदहारण के लिए, आप कोई नया फ़ोन नंबर याद कर सकते हैं। किसी ऐसे दोस्त का पता याद कर सकते है जिसे आप हर बार भूल जाते हैं। इस तरह नित नयी चीज़ें सीखने से आपको लाभ होगा।

क्या आपने इनमे से कोई मेमोरी एक्सरसाइज करने की कोशिश की है? आपको सबसे उपयोगी कौन सी लगी? इनके अलावा कई और व्यायाम भी हैं, जैसे की सुडोकू जैसी पहेलियाँ हल करना, या अपनी याददाश्त को सक्रिय बनाए रखने के लिए किसी एप का इस्तेमाल करना।

इन मेमोरी एक्सरसाइज से आपको लाभ मिलेगा। आप हर चीज़ जल्दी भूल जाने की बजाए उसे देर तक याद रख सकेंगे। चाहे शारीरिक हो या मानसिक, व्यायाम हमेशा फ़ायदेमंद होता है। तो आप क्यों नहीं इन्हें आज़माते हैं?

  • Aguado-Aguilar, L. (2001). Aprendizaje y memoria. In Revista de Neurologia (Vol. 32, pp. 373–381).
  • Morgado, I. (2005, March). Psicobiología del aprendizaje y la memoria: Fundamentos y avances recientes. Revista de Neurologia.
  • Wycoff, J. (1994). Trucos de la mente creativa: para resolver problemas, tomar decisiones, perfeccionar la memoria, mejorar la concentración y agilizar el pensamiento. Martínez Roca.