शरीर पर उदासी के क्या असर होते हैं?

आपके शरीर पर उदासी और डिप्रेशन के गंभीर शारीरिक असर होते हैं, जैसे भूख में कमी और ज्यादा गर्मी महसूस करना।
शरीर पर उदासी के क्या असर होते हैं?

आखिरी अपडेट: 03 नवम्बर, 2018

क्या आप किसी समय उदास और इच्छा रहित हुए हैं? क्या आपने कभी अस्वीकृत होने का दर्द महसूस किया है? प्यार जब फीका पड़ जाए तो क्या आप ऐसे दुखी हुए हैं? जीवन की चुनौतियां आपके ब्रेन में स्ट्रेस लेवल को बढ़ा सकती हैं। इससे आप उदासी के शारीरिक असर के कारण विभिन्न समस्याओं से पीड़ित हो सकते हैं।आज हम बताना चाहते हैं, उदासी के शारीरिक असर क्या होते हैं।

उदासी के शारीरिक प्रभाव

जब आप उदास होते हैं तो आपके ब्रेन में शारीरिक और भावनात्मक दर्द के सर्किट एक के ऊपर एक ओवरलैप होते हैं।

यह केवल आपके ब्रेन के उन क्षेत्रों में नहीं होता है जो दर्द के सिर्फ फिजिकल कॉम्पोनेन्ट से जुड़े हैं बल्कि आपकी शारीरिक अनुभूति से संबंधित क्षेत्रों में भी होता है।

ऐसा क्यों होता है?

यह आपके शरीर पर खास तौर से आपके इम्यून सिस्टम पर एक नेगेटिव असर शुरू करती है जो संभावित रूप से बीमारी के जोखिम को बढ़ा सकता है, विशेष रूप से सूजन संबंधी बीमारियों को।

तापमान की अनुभूति पर असर

उदासी के शारीरिक प्रभावों में से एक यह है कि यह आपकी ठंड के प्रति संवेदनशीलता को बढ़ा सकती है। आपको ठंडक महसूस हो सकती है जबकि आपके आस-पास के लोग गर्म महसूस कर रहे हो सकते हैं।

कई स्टडी में जब अस्वीकृति या अलगाव की भावना को उकसाया गया तो भाग लेने वाले लोगों ने अनुमान लगाया कि कमरे का तापमान कम था और उन्होंने गर्म चीजें खाने और पीने का विकल्प चुना।

यह सम्बंध साधारण एहसास के परे है। जब आप उदासी अनुभव कर रहे होते हैं तो आपके शरीर का तापमान सच में कम हो जाता है।

यह आपकी भूख को प्रभावित करती है

उदासी आपकी भूख को प्रभावित कर सकती है। यह आपके वजन को बढ़ाने के रिस्क को बढ़ाती और आपके रक्तचाप को प्रभावित करती है। इसका सीधा नतीजा लंबे समय में हाई ब्लड प्रेशर और हृदय संबंधी समस्याओं का होना है।

इसके अलावा, यह मीठे स्वाद को पता लगाने की आपकी क्षमता को कम करती है। ऐसा इसलिए होता है कि आपकी जीभ पर मिठास के रिसेप्टर्स की संख्या कम हो जाती है।

इसलिए जब आप दुःख भरे समय से गुजर रहे हों तो भोजन में कोई स्वाद न महसूस होना कोई असामान्य बात नहीं है।

यह स्ट्रेस को बढ़ाती है

उदासी कोर्टिसोल नाम के हार्मोन को भी प्रभावित करती है। यह ब्लड शुगर और ब्लड प्रेशर के लेवल, साथ ही साथ आपकी नींद की क्वालिटी को नियंत्रित करने के लिए भी अहम है।

इसका मतलब यह है कि उदासी आपकी मनोवैज्ञानिक सेहत के लिए एक नुकसानदेह है। इसे इन बीमारियों से जोड़ा गया है:

  • दिल की बीमारी
  • फेफड़ों की बीमारी
  • लीवर की बीमारी

डिप्रेशन कैंसर की शुरुआत को भी प्रभावित कर सकता है। जब आप बेहद दुखी या तनावग्रस्त होते हैं तो आपने देखा होगा, कुछ भी ठीक से काम नहीं करता है। आपका इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है और बीमार पड़ने का जोखिम काफी बढ़ जाता है।

समाधान क्या है?

स्ट्रेस सिर्फ आपके इम्यून सिस्टम को ही प्रभावित नहीं करता बल्कि यह अनुभूति भी पैदा कर सकता है कि आप इसे रोकने के लिए कुछ भी नहीं कर सकते।

आपके ब्रेन को ज्यादा एनर्जी की जरूरत होती है

यह भले ही आपको अटपटा लगे लेकिन जब आप दुखी होते हैं तो आपका ब्रेन ज्यादा एक्टिव होता है। लेकिन यह इसलिए होता है क्योंकि आपका ब्रेन दुःख के समय में कहीं ज्यादा मेहनत करता है। इस अवस्था में 70 से ज्यादा विभिन्न क्षेत्र एक्टिवेट रहते हैं।

यह कैसे संभव है?

इसे समझना आसान है। जब आप दुखी होते हैं तो आपका ब्रेन याद करने, सोचने, दुःख झेलने और कारण, समाधान और विकल्पों की तलाश करने में ज्यादा एक्टिव होता है। इसलिए बहुत से ऐसे लोग हैं जो ऐसे हालातों में बस सो जाते हैं।

फिर भी हिप्पोकैम्पस, ब्रेन के सामने का हिस्सा और टेम्पोरल लोब एक्टिव रहते हैं। याद रखें, आपका ब्रेन आपकी सारी एनर्जी का 20% उपयोग करता है, लेकिन दुःख के समय में यह कहीं ज्यादा जोर से काम करता है।

इसलिए ब्रेन का पोषण करने के लिए ग्लूकोज की जरूरत बढ़ जाती है। बदले में यह आपकी मिठाई खाने की लालसा को और बढ़ा देता है।

उदासी और अन्य विकारों के शारीरिक असर

जब आप दुखी होते हैं तो आपका सेरोटोनिन कम हो जाता है। यह आपको मध्यम और लंबे समय में प्रभावित कर सकता है। यह इनका भी कारण बन सकता है:

  • डिप्रेशन
  • जुनूनी बाध्यकारी विकार या ऑब्सेस्सिव कम्पल्सिव डिसऑर्डर
  • हिंसक प्रकोप या वायलेंट आउटब्रेक्स

यह न्यूरोट्रांसमीटर व्यक्तिगत प्रेरणा या पर्सनल मोटिवेशन से जुड़ा हुआ है। इसलिए आपको मजबूत होना चाहिए और आत्मनिरीक्षण के क्षणों का सामना करना चाहिए ताकि आप आगे बढ़ने के लिए संसाधन या रिसोर्सेज को खोज पायें।

मुमकिन है, ऐसे समय में आप अपने डॉक्टर से मिलेंगे क्योंकि आपको लगता है कि आपकी तबीयत ठीक नहीं है। लेकिन मेडिकल टेस्ट के परिणाम आपको दिखाएंगे कि आप बिलकुल तंदुरुस्त हैं।

यह सच है। आप शारीरिक रूप से ठीक हैं। लेकिन भावनात्मक रूप से उदासी के शारीरिक असर से पीड़ित हैं। आपको स्वास्थ्य लाभ करने और घाव को भरने के लिए समय की जरूरत होगी।

आपको रोने की जरूरत है

रोने से आपको बेहतर महसूस हो सकता है। जब आप उदास होते हैं तो आपका ब्रेन बहुत ज्यादा स्ट्रेस और एंग्जायटी पैदा करता है और आपको इसे किसी भी तरह से रिलीज़ करने की जरूरत होती है।

आपको जो कुछ भी महसूस होता है रोना उससे मुक्त होने और रिलैक्स करने का परफेक्ट तरीका है। ऐसा करने के बाद, आप एंडोर्फिन का स्राव करना शुरू करते हैं जो ज्यादा रिलैक्स महसूस कराता है।

इसलिए यह जरूरी है कि जब आपको रोने की इच्छा महसूस हो तो अपने को न रोकें। दुःख को बाहर निकालें। यह आपको बेहतर महसूस करने में मदद करेगा।

कुछ लोग सेक्स या व्यायाम जैसी अन्य एक्टिविटी चुनते हैं जो एंडोर्फिन पैदा करती हैं। ये दो विकल्प भी काम करते हैं और वे आपके लिए बुरे नहीं हैं।

लेकिन समय-समय पर रोना हमेशा जरूरी होता है।

आपकी सेहत पर उदासी का शारीरिक प्रभाव बेहद नेगेटिव हो सकता है। आप हमेशा अच्छा महसूस नहीं कर सकते हैं, लेकिन स्ट्रेस को कम करने और उदासी के शारीरिक प्रभावों को दूर करने के विकल्प ढूंढ सकते हैं।



  • Yang L, Zhao Y, Wang Y, et al. The Effects of Psychological Stress on Depression. Curr Neuropharmacol. 2015;13(4):494–504. doi:10.2174/1570159X1304150831150507
  • Yaribeygi H, Panahi Y, Sahraei H, Johnston TP, Sahebkar A. The impact of stress on body function: A review. EXCLI J. 2017;16:1057–1072. Published 2017 Jul 21. doi:10.17179/excli2017-480
  • Lokko HN, Stern TA. Sadness: diagnosis, evaluation, and treatment. Prim Care Companion CNS Disord. 2014;16(6):10.4088/PCC.14f01709. Published 2014 Nov 20. doi:10.4088/PCC.14f01709