पैरों में खून का प्रवाह बढ़ाने के लिए अपनाएँ ये 7 रणनीतियाँ

मार्च 8, 2019
अगर आप ऐसे जॉब में हैं, जिसमें आपको देर तक एक ही मुद्रा में रहना पड़ता है, भले ही वह बैठे हुए हो या खड़े रहकर, तो अपने ब्लड सर्कुलेशन को ठीक रखने के लिए हर तीस मिनट में अपनी पोजीशन बदलनी चाहिए।

पैरों में खून का प्रवाह बढ़ाना और अपने वीनस रिटर्न में सुधार लाना अहम होता है। यह आपके पैरों के रंग-रूप में सुधार ला सकता है, खासकर अगर आपको अगर वेरीकोस वेंस जैसी समस्या हो।

आपके पैरों में खराब रक्त परिसंचरण मोटापे का भी ट्रिगर मोटापा हो सकता है, जो आपमें डायबिटीज और हृदय रोगों के जोखिम को बढ़ा सकता है। इसके अलावा यह दूसरी बड़ी समस्याएं भी पैदा कर सकता है।

इस मामले में आखिरकार आपके डॉक्टर को ही आपके लिए सबसे अच्छा इलाज तय करना चाहिए।

हालाँकि, आपको सर्कुलेशन से जुड़ी समस्याएं हो न हों, इन आसान स्टेप्स को अपनाना अच्छा होगा जिन्हें हम नीचे सूचीबद्ध कर रहे हैं

ये कुछ आसान स्ट्रेट्जी हैं जो आपकी सेहत को कई मायनों में बेहतर करेंगी।

खराब ब्लड सर्कुलेशन के आम लक्षण

खराब रक्त परिसंचरण के लक्षणों के बारे में जानना एक अच्छा विचार है। इससे पहले कि हम निचले शरीर में खून के प्रवाह को बढ़ाने की युक्तियों पर बात करें, पहले इन लक्षणों पर एक नज़र डाल लेते हैं।

बेशक कुछ मुख्य इंडिकेटर हैं जो आपके रक्त परिसंचरण के ठीक न होने का संकेत देते हैं। आपके पैरों में लगातार ऐंठन (cramps) और भारीपन की भावनाएं इनमें अहम हैं

हालाँकि, दूसरे सामान्य लक्षण भी हैं जिनके बारे में आपको डॉक्टर को बताना चाहिए:

  • आपके पैरों पर लाल धब्बे
  • रूखी त्वचा
  • सूजे हुए टखने (Swollen ankles)
  • नाजुक नाखून और बाल
  • हाथ-पैरों में ठंडक का अहसास
  • थकान
  • तंद्रा (Drowsiness)

इस लेख में, हम देखेंगे कि आप अपने परिसंचरण की गुणवत्ता कैसे सुधार सकते हैं। हम विशेष रूप से आपके निचले शरीर के रक्त संचालन पर फोकस करेंगे।

इसे भी आजमायें : 6 बड़े कारण जो आपको हर रोज केले खाने के लिये मजबूर कर देंगे

7 बदलाव जो आपके पैरों में खून का प्रवाह बढ़ाते हैं

एलो वेरा से पैरों में खून का प्रवाह बढ़ायें

1. एलो वेरा से सर्कुलेशन बढ़ायें

पैरों में परिसंचरण बढ़ाने के अलावा यह उपाय आपको आराम और ताजगी देता है और आपके पैरों में भारीपन के अहसास को घटा सकता है।

आपको क्या करना है?

  • एक एलो वेरा का पत्ता फ्रीज करें।
  • अपने पैरों को धो लें और उन्हें आराम से एक कुर्सी पर रखें।
  • फिर चाकू की मदद से जमे हुए एलोवेरा जेल के एक टुकड़े को काट लें।
  • एलो वेरा के इस टुकड़े को अपने पैरों पर फैलाएं। दूसरे शब्दों में, इसे अपनी एड़ियों से अपने घुटनों की ओर रगड़ें।

2. नागफनी की चाय (Hawthorn tea)

प्राकृतिक चिकित्सा में नागफनी सबसे लोकप्रिय जड़ी-बूटियों में से एक है। कुछ लोग रक्त संचालन को रेगुलेट करने और हाई ब्लडप्रेशर को नियंत्रित करने के लिए कुछ लोग इसकी सिफारिश करते हैं।

यदि आप हर हफ़्ते 4 और 5 दिन इस चाय को पीनेके आदी हैं, तो आपको इसके ट्राइटरपेनॉइड एसिड (triterpenoid acids), फ्लेवोनोइड्स और पॉलीफेनोल्स से लाभ होगा।

यह टैनिन और पेक्टिन से भी समृद्ध है। ये आराम देने वाले और शुद्ध करने वाले एजेंट के रूप में काम करते हैं। इससे आपको फ्लूइड रिटेंशन में मदद मिल सकती है।

हमें आपको बता देना चाहिए कि इस पौधे की चाय का 1 ग्राम से ज्यादा नहीं पीना चाहिए

इसके अलावा, यदि आप हार्ट के लिए कोई दवा लेते हैं, तो इसे आजमाने से पहले इस बारे में अपने डॉक्टर से बात करना ठीक रहेगा। किसी साइड इफ़ेक्ट के बारे में अपने डॉक्टर से पूछें।

3. घर और वर्कप्लेस पर नियमित व्यायाम करें

कभी-कभी आपके ऊपर ढेर सारी जिम्मेदारियों का बोझ और बहुत कम समय होता है।

आप सोच सकते हैं, कि दिन भर अपने पैरों पर खड़े रहने के कारण आपका पर्याप्त व्यायाम हो जाता है।

हालांकि, आपके शरीर को एरोबिक मूवमेंट की ज़रूरत होती है। यह ऐसी गतिविधि है जो आपके रक्त के ऑक्सीकरण और दिल की नियमित धड़कन को बढ़ावा देती है।

इस वजह से, आपको अपनी एरोबिक फिटनेस में सुधार करने के लिए समय का पूरा लाभ उठाना चाहिए:

  • हर आधे घंटे में आपको उठने और चलने की जरूरत है
  • अगर आप कई घंटों से बैठे हैं, तो एक मोबाइल फुट रेस्ट लायें जिसके साथ आप थोड़ा व्यायाम कर सकें
  • हमेशा लिफ्ट के बजाय सीढ़ियों का चयन करें।
  • संभव हो तो अपनी कार की बजाय जितना संभव हो उतना पैरों पर चलने की कोशिश करें।
  • दिन में किसी वक्त बाहर निकलें और कम से कम 20 मिनट तक तेज चाल से चलें।

4. पोटैशियम से भरपूर भोजन खाएं

पैटैशियम से पैरों में खून का प्रवाह बढ़ायें

पोटैशियम से भरे खाद्य रक्त प्रवाह को उत्तेजित करते हैं और शरीर में पाने के जमा होने से लड़ते हैं

यहां कुछ खाद्य पदार्थों की सूची दी गई है जिन्हें आपको अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए:

  • केले
  • सूरजमुखी, कद्दू, तिल, अलसी या चिया सीड्स (Sunflower, pumpkin, sesame, linseed or chia seeds)
  • एवोकैडो
  • समुद्री सिवार (Seaweed)
  • शुद्ध कोको पाउडर
  • मूली
  • ब्रोकली
  • गाजर
  • टमाटर
  • स्क्वाश

इसे भी पढ़ें : 7 कारण जो आपको खूब मूली खाने पर मजबूर कर देंगे

5. अपने पैरों को ऊंचा करके सोएं

यह अच्छा उपाय है जिसे आपको आज़माना चाहिए। पैरों को अपने सिर से थोड़ा ऊपर उठाकर सोएं।

ऐसा करने के लिए, आपको दूसरे बिस्तर या अपने साथी को परेशान करने की ज़रूरत नहीं है। आपको बस अपने पैरों के नीचे कुछ तकिए लगाने की जरूरत होगी।

इस तरह, आप अपनी वीनस रिटर्न को बढ़ा सकते हैं। इससे आप हल्के और राहत देते पैरों के साथ नींद से उठेंगे

6. नाश्ते में संतरे और गाजर का जूस लें

यह आपको बहुत पसंद आएगा। आपको संतरे और गाजर का यह नेचुरल जूस बनाना होगा

इसमें एक चुटकी अदरक भी मिला लें। ऐसा करने से आपको अपने ब्लड सर्कुलेशन को उत्तेजित करने और दिल की देखभाल करने का एक शानदार उपाय मिलेगा।

7. मेंहदी के तेल (rosemary oil) से मालिश

पैरों में खून का प्रवाह बढ़ायें

आप इस मालिश को खुद ही कर सकते हैं या किसी अच्छे फिजिकल थेरेपिस्ट या मसाज थेरेपिस्ट से करवा सकते हैं।

इससे आप अपने पैरों में जमा अतिरिक्त तरल को खत्म कर पाएंगे। साथ ही आप अपने शरीर के निचले भाग में खून का प्रवाह भी बढ़ाएंगे

आखिरकार, जैसा कि आप देख सकते हैं, इन सुझावों को अपनाना आसान है।

हालाँकि, इससे पहले अपने डॉक्टर से बात कर लेना याद रखें। वह आपके पैरों में खराब रक्त प्रवाह के पीछे मौजूद कारणों का सही मूल्यांकन कर पायेंगे।

हालाँकि, ये आसान नेचुरल ट्रीटमेंट आपकी बड़ी मदद करेंगे।

आज ही इन पर अमल करें और जल्द ही आपको कुछ संतोषजनक नतीजे देखने को मिलेंगे!