पांच मिनट में ब्लड प्रेशर कम करने का नेचुरल तरीका

31 अगस्त, 2018
ख़ुद को आराम पहुंचाने और ब्लड प्रेशर स्थिर करने के लिए स्वस्थ और संतुलित डाइट लें। नियमित रूप से एक्सरसाइज करने के अलावा आप चीनी चिकित्सा पद्धति की ख़ूबियों का भी लाभ उठा सकते हैं।
 

हाई ब्लड प्रेशर पर अगर नियंत्रण न रहे तो यह आपके स्वास्थ्य के लिए गंभीर समस्या पैदा कर सकता है। यहां तक कि आपकी जान भी जा सकती है।

हाइपरटेंशन या ‘साइलेंट किलर’ के नाम से प्रसिद्ध यह एक कार्डियोवैस्कुलर समस्या है जिससे दुनिया भर में अनगिनत लोग पीड़ित हैं।

एक अनुमान के मुताबिक अमेरिका में 7.8 करोड़ लोग हाइपरटेंशन से ग्रस्त हैं। इनमें से भी करीब 1.6 करोड़ में इसकी पहचान नहीं हो पाई है।

बड़ी समस्या यह है कि बिना पहचाने इसका उपचार बहुत मुश्किल है। इस कारण आपको दिल का दौरा पड़ने, पक्षाघात और अन्य गंभीर बीमारियां होने का ख़तरा बढ़ जाता है।

इन सभी कारणों से हाई ब्लड प्रेशर और इसे कम करने के तरीकों की जानकारी होना बहुत ज़रूरी है।

ब्लड प्रेशर क्या है?

ब्लड प्रेशर वह बल है जिसकी ज़रूरत आपके हृदय को रक्त को विभिन्न धमनियों, शिराओं और वाहिकाओं के माध्यम से आपके अंगों तक पहुंचाने के लिए पड़ती है

किसी वयस्क व्यक्ति में सामान्य सिस्टोलिक (उच्चतम) ब्लड प्रेशर लगभग 120 एमएम एचजी जबकि विश्राम करते समय यह 80 एमएम एचजी होता है।

इसे भी पढ़ें: हाई ब्लड प्रेशर घटाने के लिए घरेलू नुस्ख़े

ब्लड प्रेशर को उस समय ‘हाई’ कहते हैं जब सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर 140 एमएम एचजी से अधिक और डायस्टोलिक (न्यूनतम) ब्लड प्रेशर 90 एमएम एचजी से अधिक होता है।

यह तब होता है जब पूरे शरीर में रक्त का प्रवाह नियंत्रित करने वाली धमनियां और धमनिकाएं संकरी हो जाती हैं।

इनके संकुचित होने पर आपके हृदय को आपके शरीर के अंगों तक रक्त पहुंचाने के लिए और अधिक ज़ोर लगाना पड़ता है, जिससे ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है।

सबसे ज़्यादा चिंता की बात यह है कि ऐसा होने पर कोई स्पष्ट लक्षण भी नज़र नहीं आते हैं। इस कारण आपको गंभीर समस्याएं होने का ख़तरा बढ़ जाता है जिसका आपको पता भी नहीं चलता है।

 

स़िर्फ कभी-कभार इसके कारण सिर या छाती में फड़कन, सिर चकराना, थकान और कुछ अन्य हल्के-फुल्के लक्षण नज़र आते हैं। ये आपको समस्या को लेकर सतर्क कर सकते हैं।

हाई ब्लड प्रेशर के कारण क्या हैं?

अब तक हाई ब्लड प्रेशर के स्पष्ट कारण अज्ञात हैं। हालांकि कुछ कारक हैं जो इसे प्रभावित करते हैं।

ये हैंः

  • हाई ब्लड प्रेशर की पारिवारिक पृष्ठभूमि।
  • 60 वर्ष से अधिक उम्र।
  • अत्यधिक तनाव, गुस्सा या शत्रुता होना।
  • अधिक वजन या मोटापा
  • तंबाकू का आदी होना।
  • अधिक सैचुरेटेड फैट वाली डाइट लेना।
  • अत्यधिक शराब का सेवन।
  • सोडियम की अधिक मात्रा वाले खाद्य का सेवन।
  • बैठकर काम करने की आदत।
  • डायबिटीज होना।

अपना ब्लड प्रेशर घटाने के लिए आप क्या कर सकते हैं?

हाई ब्लड प्रेशर की रोकथाम और इस पर नियंत्रण पाने के लिए आपको नियमित रूप से मेडिकल चेकअप करवाकर अपना स्तर जानना होगा।

अगर यह वाकई अधिक है तो इसे स्थिर करने के लिए आपको अपनी जीवनशैली पूरी तरह बदलनी पड़ सकती हैः

  • आप अधिक सब्जियां और फल खाना शुरू कर दें।
  • नमक का सीमित सेवन करें।
  • रोज़ाना कम से कम 30 मिनट तक एक्सरसाइज करें।
  • अपनी डाइट में हर्बल चाय और जूस शामिल करें।
  • प्रोसेस्ड खाद्य और अधिक फैट वाले खाद्य पदार्थों के सेवन से परहेज करें।
  • ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करें।
  • अपना वजन घटाएं।
  • शराब के सेवन या तंबाकू उत्पादों के इस्तेमाल से बचें।
  • शरीर को आराम पहुंचाने वाली तकनीकों का अभ्यास करें।

ऊपर दिए गए स्वास्थ्यवर्धक तरीकों के अलावा आप प्राचीन चीनी तरीके का इस्तेमाल करके भी सिर्फ़ 5 मिनट में अपना ब्लड प्रेशर घटा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: 5 खाद्य जो आपके ह्रदय को गंभीर नुकसान पहुँचाते हैं

पारंपरिक चीनी तरीका क्या है?

 

यह पारंपरिक चीनी चिकित्सा तकनीक आपके शरीर और आपके अंगों पर स्थित विभिन्न प्रेशर प्वाइंट के बीच एनर्जी कनेक्शन पर आधारित है

इस प्राकृति पद्धति में कुछ मिनटों के अंदर आपका ब्लड प्रेशर कम करने के लिए तीन विशेष प्वाइंट पर दबाव डाला जाता है।

प्वाइंट एक से दो की रेखा

  • अपने कान के निचले सिरे के पीछे से कॉलरबोन तक एक-से-दो रेखा बनाएं।
  • इस लाइन पर अपनी अंगुलियों के सिरों से धीरे-धीरे दबाव डालें।
  • अपनी गर्दन के दोनों तरफ यही गतिविधि दस बार लगभग तीन मिनट तक दोहराएं।

प्वाइंट तीन

  • एक-से-दो लाइन पर दबाव डालने के बाद, अपने कान के निचले सिरे से आपकी नाक की दिशा में आधा इंच दूर स्थित प्वाइंट को अपनी अंगुलियों के सिरे से दबाएं।
  • प्रत्येक तरफ सावधानी से दबाव डालकर धीरे-धीरे मालिश करें।

तनाव या अन्य भावनात्मक कारणों से आपका ब्लड प्रेशर बढ़ने पर उसे कम करने के लिए यह तरीका बहुत कारगर है।

इन सभी बातों के बावजूद, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि इसका प्रभाव अलग-अलग व्यक्तियों पर अलग-अलग होगा। साथ ही यह तरीका आपके डॉक्टर के बताए उपचार का स्थान नहीं ले सकता है।

 
  • Castillo Ferrer, A., Castillo Mayedo, J. A., Aguilera Serrano, Y., Gafas González, C., & García Céspedes, María Eugenia Benítez Rodríguez, G. (2007). Digitopresión y masaje para el tratamiento de la hipertensiónarterial. MEDISAN, 11(4). Retrieved from https://www.redalyc.org/html/3684/368445012007/
  • Murillo-Godínez, G. (2011). El asesino silencioso. Rev Med Inst Mex Seguro Soc (Vol. 49). Retrieved from http://www.inegi.org.mx/sis-
  • Sosa-Rosado, J. M. (2010). Tratamiento no farmacológico de la hipertensión arterial. Anales de La Facultad de Medicina, 71(4), 241–244. Retrieved from http://www.scielo.org.pe/scielo.php?script=sci_arttext&pid=S1025-55832010000400006
  • Robles, B. H. (n.d.). Factores de riesgo para la hipertensión arterial. Retrieved from www.cardiologia.org.mxedigraphic.com