5 एक्यूप्रेशर पॉइंट अपने चेहरे पर आजमाएं और शानदार नतीजे पायें

एक्यूप्रेशर टेकनीक किसी बीमारी का इलाज नहीं करती है लेकिन इसका इस्तेमाल हमें प्राकृतिक तौर पर कई तरह की तकलीफों से छुटकारा दिला सकता है।
5 एक्यूप्रेशर पॉइंट अपने चेहरे पर आजमाएं और शानदार नतीजे पायें

आखिरी अपडेट: 05 जुलाई, 2018

एक्यूप्रेशर तकनीक पारंपरिक चीनी चिकित्सा शास्त्र की देन है। इसमें आपके शरीर के कुछ विशेष एक्यूप्रेशर पॉइंट को उत्तेजित करके शरीर के कुछ खास क्षेत्रों या समग्र स्वास्थ्य में सुधार लाते हैं।

अगर आप पहले से इसका नियमित अभ्यास कर रहे हैं या आपने इसे अभी नहीं आजमाया है तो देर नहीं हुई है। इसे आज से ही अपनी रोज़मर्रा की जिंदगी का हिस्सा बनाएं और इसका लाभ उठाना शुरू कर दें।

एक्यूप्रेशर तनाव से मुक्ति दिलाता है और रक्त संचार में सुधार लाता है। यह दर्द घटाता है और आराम पहुंचाने में भी सहायक है। इसीलिए, यह एक ऐसी चीज है जो किसी भी समय हमारे लिए उपयोगी साबित हो सकती है। विशेष तौर पर तब जब हम तनाव के शिकार हों।

एक्यूप्रेशर एक वैकल्पिक चिकित्सा है जो किसी बीमारी का उपचार नहीं करती है और न ही यह इसका यह लक्ष्य है। असल में, यह हमारा समग्र स्वास्थ्य सुधारती है और ऐसा ट्रीटमेंट प्रदान करती है जो आम चिकित्सीय उपचार की तुलना में अधिक नेचुरल है।

हम आपसे अपने ऊपर इन 5 एक्यूप्रेशर पॉइंट को आजमाने के लिए कहेंगे।

अगर किसी भी समय आपके सिर में तेज़ दर्द होता है, दिन भर काम करने से बुरी तरह थक गए हैं या फिर महज अपना रक्त संचार सुधारना चाहते हैं तो बेझिझक इन्हें आजमाएं और जानें कि ये कैसे आपका मूड बदल देते हैं।

1. ‘थर्ड आई’ एक्यूप्रेशर पॉइंट

'थर्ड आई' एक्यूप्रेशर पॉइंट

‘थर्ड आई’ कहलाने वाला यह प्रेशर पॉइंट माइग्रेन सहित सिरदर्द का उपचार करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला सबसे आम पॉइंट है।

  • यह प्रेशर पॉइंट आपकी दोनों भौहों के बीचोंबीच नाक के ऊपर होता है
  • इस क्षेत्र पर दबाव डालकर हम विभिन्न रक्त वाहिकाओं को उत्तेजित कर देते हैं जिससे रक्त संचार और ऑक्सीजनेशन में सुधार आता है। यहां तक कि यह कई तरह की  स्किन समस्याओं के उपचार में भी उपयोगी है।
  • इस प्रेशर पॉइंट को उत्तेजित करने के लिए आप इनमें से कोई तरीका अपना सकते हैंः
  1. पहला तरीका इस्तेमाल करने में बहुत अासान है। अपनी तर्जनी अंगुली (index finger) से 60 सेकेंड तक दबाव डालें
  2. दूसरा तरीका अधिक आरामदायक है। ‘थर्ड आई’ अंगुली को बिना उठाए गोल-गोल घुमाएं। ऐसा करना आसान है ना!

2. ‘बैंबू’ प्रेशर पॉइंट

'बैंबू' एक्यूप्रेशर पॉइंट

‘बैंबू’ प्रेशर पॉइंट हमारी नाक की नली का उपचार करता है। यह आराम पहुंचाने में मददगार है और तनाव कम करने के साथ-साथ हमारी नाक को भी साफ़ रखता है।

  • बैंबू प्रेशर पॉइंट का पता लगाने के लिए आप अपनी तर्जनी अंगुली (index finger) को आंखों के अंदरूनी किनारों पर रखें।
  • दरअसल, यह आंखों की पुतली (eyeball) को घेरने वाली हड्डी पर स्थित है। यह एक संवेदनशील क्षेत्र है जो कई किस्म के सेंसेशन जगाता है और जिससे हम बेहतर महसूस करते हैं।

इस प्रेशर पॉइंट का इस्तेमाल करने के लिए आपको केवल अपनी अंगुलियों को पोरों (fingertips) से प्रेशर पॉइंट पर एक मिनट तक हल्का दबाव डालना होगा।

(हमें हमेशा अधिक दबाव डालने से बचना चाहिए। ज़रूरत से ज़्यादा दबाव डालने पर हमें दर्द महसूस हो सकता है या हमें दृष्टि भ्रम भी हो सकता है जैसे कि धब्बे या प्रकाश दिखना।)

3. ‘गेट्स ऑफ कॉन्शसनेस’ प्रेशर पॉइंट

'गेट्स ऑफ कॉन्शसनेस' एक्यूप्रेशर पॉइंट

यह प्रेशर पॉइंट गर्दन के पीछे स्थित है, ठीक खोपड़ी के आधार (cranium base) पर। यह इस क्षेत्र में स्थित शरीर की दो महत्वपूर्ण मांसपेशियों का ट्रीटमेंट करता हैः ट्रेपिज़ियस (trapezius) और स्टर्नोक्लेडोमैस्टॉयड (sternocleidomastoid)।

  • शरीर के इस हिस्से में एक्यूप्रेशर का इस्तेमाल करने के कई लाभ हैं। इसे आजमाने में कोई बुराई नहीं है (हालांकि इस एक्यूप्रेशर पॉइंट के लिए किसी व्यक्ति की सहायता लेना ज़्यादा अच्छा रहेगा)।
  • गेट्स ऑफ कॉन्शसनेस प्रेशर पॉइंट को उत्तेजित करने से सिर दर्द और गर्दन की अकड़न में आराम मिलता है
  • यह ऊंचाई से डर (वर्टिगो), सिर चकराने, आंखों में दर्द और यहां तक कि टिनिटस (कानों में आवाज़ आना) का प्रभाव घटाने में भी मददगार है।

ध्यान रहे कि जो व्यक्ति आपकी गर्दन पर इस प्रेशर पॉइंट पर दबाव डाल रहा है वह पहले खोपड़ी के आधार पर इन दोनों एक्यूप्रेशर पॉइंट की स्थिति का पता लगा ले।

  • व्यक्ति को पहले अंगुली के पोरों से 5 सेकेंड के लिए दबाव डालना चाहिए और फिर अपनी अंगुलियों के जोड़ों से तीन मिनट तक मालिश करनी चाहिए।

हमारी आपको यही सलाह है कि आप इस प्रेशर पॉइंट का अभ्यास लेटकर करें।

4. ‘वेलकम फ्रेगरेंस’ एक्यूप्रेशर पॉइंट

'वेलकम फ्रेगरेंस' एक्यूप्रेशर पॉइंट

ख़ूबसूरत शब्दों वाला यह प्रेशर पॉइंट ‘वेलकम फ्रेगरेंस’ हमारी नाक के दोनों ओर के क्षेत्रों में स्थित है।

इन क्षेत्रों में इस एक्यूप्रेशर पॉइंट पर दबाव डालने के लाभ बहुत सीमित लेकिन दिलचस्प हैं। इससे माइग्रेन और साइनसाइटिस के तकलीफ़देह उलटे प्रभावों से राहत मिलती है।

  • इसका अभ्यास करने के लिए आपको केवल अपनी अंगुलियों के पोरों को इन क्षेत्रों पर रखना होगा और एक मिनट तक मालिश करनी होगी। इससे असाधारण आराम मिलता है!

5. ‘विंड मैंशन’ प्रेशर पॉइंट या जीवी16 फेंगू

 'विंड मैंशन' एक्यूप्रेशर पॉइंट या जीवी16 फेंगू

एक जादुई नया नाम जो शरीर के एक ख़ास हिस्से यानी आपकी गर्दन के पीछे का उपचार करता है।

जीवी16 फेंगू आपके सिर और गर्दन के जुड़ने याले बिंदु पर स्थित होता है। आपकी जानकारी के लिए हम आपको बताना चाहते हैं कि यह सबसे विख्यात एक्यूप्रेशर पॉइंट में से एक है, क्योंकि यह हमारे शरीर के कई अंगों को चिकित्सीय लाभ देता है

इससे मिलने वाले फायदों में कुछ हैंः

  • नींद में सुधार
  • पाचन में सहायता
  • सिर दर्द, दांत दर्द और गठिया के दर्द में कमी
  • रक्त संचार में बढ़ोतरी

विंड मैंशन प्रेशर पॉइंट पर दबाव डालने के लिए आपको एक आइस क्यूब का इस्तेमाल करना पड़ेगा। बेहतर नतीजे के लिए 1 मिनट तक 3 सेकेंड का अंतराल रखते हुए दबाव डालें।

आप इसका प्रभाव तुरंत महसूस कर सकते हैं।

फ़ीचर इमेज सौजन्य:  © wikiHow.com