रिएक्टिव स्किन : लक्षण, कारण और इलाज

24 सितम्बर, 2020
त्वचा की प्रतिक्रियाशीलता लालिमा, रूखेपन, जलन और दूसरी असुविधाजनक समस्याओं के रूप में उभरती है जिन्हें बड़ी आसानी से दूसरी समस्याओं के रूप में देखा जा सकता है। तो रिएक्टिव स्किन होने का क्या मतलब है और आप इसका इलाज कैसे कर सकते हैं?

रिएक्टिव स्किन काफी आम समस्या है। कई फैक्टरों के प्रति इसकी संवेदनशीलता अधिक होती है। यह स्थिति अचानक लाली, सूखापन, चमक या जलन के रूप में उभरती है। कई मामलों में इसके कारण अज्ञात रहते हैं।

यह घटना महिलाओं में ज्यादा आम है। एक्सपर्ट का अनुमान है कि तीन में से एक महिला रिएक्टिव स्किन से पीड़ित हो सकती है। उनमें से कुछ इसके लक्षण इतनी बार अनुभव करती हैं कि आखिर उन्हें यह बहुत नार्मल लगने लगता है। वास्तव में कई स्किन एक्सपर्ट भी इस प्रकार की त्वचा को क्लासिफाई करने में मुश्किलों का सामना करते हैं।

स्किन की रियेक्टिविटी को अक्सर संवेदनशील त्वचा, जलन वाली त्वचा, स्किन इनटॉलेरेंस आदि के रूप में जाना जाता है,  पर ये शब्द सही नहीं हैं। रिएक्टिव स्किन अपने आप में कोई बीमारी नहीं है, लेकिन यह उन लोगों में असुविधा पैदा करती है जो इसका शिकार होते हैं। तो रिएक्टिव स्किन का कारण क्या है? और इसके लक्षणों को काबू में रखने के लिए लोग क्या कर सकते हैं?

रिएक्टिव स्किन क्या है?

कुछ समय पहले तक लोग इस स्थिति के बारे में “संवेदनशील त्वचा” की बात करते थे। हालांकि स्किन एक्सपर्ट का मानना ​​है कि “रिएक्टिव स्किन” शब्द ज्यादा सटीक है। इसे ऐसी त्वचा के रूप में परिभाषित किया जाता है, जो जलन, खुजली, दर्द या असुविधाजनक संवेदनाएं पैदा करती है।

दरअसल स्किन रिएक्टिविटी तभी होती है जब कोई दूसरे विकृति किसी व्यक्ति की त्वचा में होने वाले बदलावों की व्याख्या नहीं कर सकती। दूसरे शब्दों में लक्षणों को किसी विशेष पदार्थ से एलर्जी या आक्रामक एजेंट की मौजूदगी द्वारा समझाया नहीं जा सकता।

इस स्थिति की एक और विशेषता यह है कि आम  तौर पर यह रुक-रुक कर होता है। दूसरे शब्दों में लक्षण दिखाई देते हैं और गायब हो जाते हैं। अक्सर कास्मेटिक का उपयोग एक ट्रिगर होता है।

प्रतिक्रियाशील त्वचा एक ऐसी स्थिति है जो विभिन्न कारकों के संपर्क में आने के कारण जलन, लालिमा, खुजली और अन्य प्रकार की बेचैनी पैदा करती है।

रिएक्टिव स्किन के कारण

आप यह भी पढ़ सकते हैं: दाल के 8 संभावित फायदे

रिएक्टिव स्किन के कारण

विज्ञान अभी तक उन कारणों को समझ नहीं पाया है कि रिएक्टिव स्किन क्यों होता है। हालांकि तीन हाइपोथेसिस हैं जो इसकी व्याख्या कर सकती हैं, जिन्हें आप नीचे देखेंगे।

  • एपिडर्मिक हाइपोथेसिस (Epidermic hypothesis) : यह बताती है कि एपिडर्मिस में मौजूद स्किन बैरियर दोषपूर्ण है। इसलिए यह बाहरी एजेंटों से त्वचा की पर्याप्त हिफाजत नहीं कर रहा है।
  • जैव रासायनिक हाइपोथेसिस (Biochemical hypothesis): यह बताती है कि ये मामले  TRP (transient receptor potential channels)  के रूप मेंखामियाँ हैं। ये एपिडेमिक सेल्स के सबसे बाहरी हिस्से और नर्व  तंछोरों में स्थित होती हैं।
  • न्यूरोजेनिक हाइपोथेसिस (Neurogenic hypothesis) : यह परिकल्पना इशारा करती है कि प्रतिक्रियाशील त्वचा वाले लोगों में इंट्रापिडर्मल तंत्रिका फाइबर की संख्या कम होती है। उसी समय, वे भड़काऊ मध्यस्थों की अधिक से अधिक रिलीज प्रदर्शित करते हैं।

विशेषज्ञों ने पाया है कि विशेष रूप से कुछ एजेंट त्वचा में प्रतिक्रियाशीलता को ट्रिगर करते हैं। इस सूची में हैं:

  • कॉस्मेटिक्स का दुरुपयोग
  • कुछ केमिकल का बराबर एक्सपोजर
  • प्रदूषण
  • हीट और रेडियेशन  ट्रीटमेंट
  • हाई टेम्परेचर
  • कुछ दवाएं
  • स्ट्रेस
  • नींद की कमी
  • नमी में कमी
  • शराब
  • मसालेदार भोजन

कॉस्मेटिक अब्यूज़, कुछ रासायनिक पदार्थों के संपर्क, तनाव और अन्य कारकों से रिएक्टिव स्किन के लिए ट्रिगर किया जा सकता है।

त्वचा की प्रतिक्रियाशीलता को रोकने के लिए क्या कदम उठायें

रिएक्टिव स्किन की समस्या समस्या वाले लोगों को इस्तेमाल करने वाले प्रोडक्ट को लेकर साधान रहना चाहिए। स्किन एक्सपर्ट से सलाह लेना सबसे अच्छा है जो यह बता सके कि आपके विशेष मामले के लिए कौन से प्रोडक्ट सर्वोत्तम है।

यह आपकी ब्यूटी रूटीन में कुछ समायोजन करने के साथ-साथ त्वचा की साफ़-सफाई और हाइड्रेशन को ठीक करने के लिए महत्वपूर्ण है। हर दो से तीन घंटे में सनस्क्रीन का उपयोग और पुन: उपयोग भी जरूरी है।

कास्मेटिक से बचना महत्वपूर्ण है जिसमें संभावित रूप से समस्याजनक तत्व शामिल होते हैं। उदाहरण के लिए प्रोपलीन ग्लाइकोल, टीसीए, एएचए, अल्कोहल और अन्य। रिएक्टिव स्किन वाले लोगों को रेटिनोइड्स और हाइड्रॉक्सी एसिड के साथ हाइड्रेटिंग क्रीम से बचना चाहिए। एंटी एजिंग प्रोडक्ट और स्ट्रोंग एक्स्फोलियेंट भी समस्या बन सकते हैं।

प्रतिक्रियाशील त्वचा को साफ और हाइड्रेट करने के लिए अन्य उत्पादों के स्थान पर लोशन और क्रीम का उपयोग करना सबसे अच्छा है। आपको इन उत्पादों को बिना घर्षण के उपयोग करके त्वचा पर डब करके लागू करना चाहिए।

और जानें: बॉडी टाइप के अनुसार अपना आदर्श डाइट जानें

रिएक्टिव स्किन: निष्कर्ष

प्रतिक्रियाशील त्वचा का ट्रीटमेंट जटिल है, जैसा कि इसकी डायग्नोसिस। सबसे पहले स्किन एक्सपर्ट को किसी भी अन्य संभावित स्थितियों से इनकार करना चाहिए। फिर वह यह संकेत दे सकता है कि रोगी के लिए कौन से प्रोडक्ट सर्वोत्तम हैं।

कभी-कभी डॉक्टर उन दवाओं की सलाह देते हैं जो आमतौर पर एटोपिक त्वचा का इलाज करने के लिए उपयोग की जाती हैं, जो रिएक्टिव स्किन के मामलों में भी प्रभावी साबित हुई हैं। जो भी हो यह आवश्यक है कि इस त्वचा की स्थिति वाले व्यक्ति अपनी त्वचा को हाइड्रेट रखें। इसके लिये न सिर्फ हाइड्रेटिंग लोशन का उपयोग करना बल्कि ढेर सारा पानी भी पीना चाहिए।

  • Farage MA. The Prevalence of Sensitive Skin. Front Med (Lausanne). 2019;6:98. Published 2019 May 17. doi:10.3389/fmed.2019.00098
  • Misery L. Peaux sensibles, peaux réactives [Sensitive skin, reactive skin]. Ann Dermatol Venereol. 2019;146(8-9):585‐591. doi:10.1016/j.annder.2019.05.007
  • Caterina MJ, Pang Z. TRP Channels in Skin Biology and Pathophysiology. Pharmaceuticals (Basel). 2016;9(4):77. Published 2016 Dec 14. doi:10.3390/ph9040077
  • Son JY, Jung MH, Koh KW, et al. Changes in skin reactivity and associated factors in patients sensitized to house dust mites after 1 year of allergen-specific immunotherapy. Asia Pac Allergy. 2017;7(2):82‐91. doi:10.5415/apallergy.2017.7.2.82
  • Kitson N, Thewalt JL. Hypothesis: the epidermal permeability barrier is a porous medium. Acta Derm Venereol Suppl (Stockh). 2000;208:12‐15. doi:10.1080/000155500750042808
  • Bárcenas, A. P. L., Arenas Guzmán, R., Vega Memije, M. E., Castrillón Rivera, L. E., & Palma Ramos, A. (2008). Identificación de células y mediadores inflamatorios en lesiones de pacientes con diagnóstico de micetoma. Dermatología Revista Mexicana, 52(6), 247-253.
  • Muizzuddin N, Marenus KD, Maes DH. Factors defining sensitive skin and its treatment. Am J Contact Dermat. 1998;9(3):170‐175.
  • Taberner, J. E., Rodríguez, R. S., & Tapia, A. G. (2011). La piel sensible. Más dermatología, (13), 4-13.
  • Akaishi S, Ogawa R, Hyakusoku H. Keloid and hypertrophic scar: neurogenic inflammation hypotheses. Med Hypotheses. 2008;71(1):32‐38. doi:10.1016/j.mehy.2008.01.032