लिवर टॉक्सिसिटी के 11 लक्षण

09 जुलाई, 2020
लिवर इंसानी देह का एक महत्वपूर्ण अंग है। यह अपनी प्रकृति में सूजन, दवायें, जेनेटिक खामियों, जहरीले औद्योगिक तत्वों और यहां तक ​​कि कुछ अन्य तत्वों के प्रति बहुत संवेदनशील है।
 

पोषक तत्वों, दवा और दूसरे विषाक्त पदार्थों का मेटाबोलिज्म करने वाला मुख्य अंग है। यह लिवर टॉक्सिसिटी से प्रभावित हो सकता है। दूसरे शब्दों में, यह एक बड़ा फिल्टर है जो जहरीले तत्वों को अलग करता है। यह आपके खून और दूसरे टिशू तक इनके पहुंचने से पहले ही ऐसा करता है।

हालाँकि शरीर कुछ मामलों में शरीर इन पदार्थों को सही ढंग से प्रोसेस नहीं करता है। वे लिवर को नुकसान पहुंचा सकते हैं।

लिवर टॉक्सिसिटी क्या है?

दवा या दूसरे तत्वों के संपर्क में आने से लीवर को होनेवाला नुकसान हेपेटोटॉक्सिसिटी (Hepatotoxicity) कहलाता है। पदार्थों को फ़िल्टर करने की लिवर की क्षमता इसे टॉक्सिसिटी के लिए संवेदनशील बनाती है। दरअसल लिवर टॉक्सिसिटी अमेरिका और यूरोप दोनों में एक अहम स्वास्थ्य समस्या है। यह ऐसी समस्या बन गयी है, जिसकी वजह से बाजार से कुछ प्रोडक्ट को वापस लाना पड़ा है।

इन हेपाटिक टॉक्सिन में से कुछ हैं:

  • दवाओं की एक विस्तृत विविधता (मुख्य रूप से एंटीबायोटिक्स और एंटी-इंफ्लेमेटरी)
  • औद्योगिक या प्राकृतिक पदार्थ (मशरूम, बहुत अधिक हरी चाय, आदि) जो शरीर में असामान्य प्रतिक्रिया का कारण बनते हैं।

इस पर भी एक नजर: 7 खाद्य पदार्थ: लीवर और पैंक्रियाज़ की सूजन से लड़ने के लिए

लिवर टॉक्सिसिटी के लक्षण क्या हैं?

लिवर टॉक्सिसिटी के लक्षण क्या हैं?

इसके लक्षण वायरल हेपेटाइटिस जैसे हैं। मूल रूप से लिवर टॉक्सिसिटी खुद को किसी दूसरी तरह की हेपेटोपैथी के रूप में उभर सकती है। दूसरे शब्दों में इसमें ऐसी बीमारियां शामिल हैं जो लिवर को सही ढंग से काम करने से रोकती हैं।

सबसे आम लक्षणों में से कुछ हैं:

  • पीलिया (Jaundice)
  • मतली और उल्टी (Nausea and vomiting)
  • मल के रंग में बदलाव
  • गहरे रंग का पेशाब
  • थकान
  • पेट में दर्द और सूजन
  • बुखार
  • भूख में कमी
  • त्वचा की खुजली
  • चोटें

कुछ लोग कोई लक्षण नहीं दिखते हैं। हालाँकि कुछ पूर्वानुमानित हेपाटिक टोक्सिन के संपर्क में आने के तुरंत बाद इस स्थिति की पहचान हो जाती है। अन्यथा अज्ञात हेपाटिक टोक्सिन के साथ लक्षण उभरने में हफ्तों या महीनों लग सकते हैं।

 

लिवर टॉक्सिसिटी से जुड़े प्रोडक्ट क्या हैं?

दवाई


स्पैनिश सरकार की स्पैनिश ड्रग रेगुलेटर द्वारा संकलित प्रामाणित टॉक्सिसिटी वाली दवाओं की यह सूची आपको यह जानने में मदद कर सकती है कि आप को प्लांट-बेस्ड दवाएं ले रहे हैं, वे कहीं नुकसानदेह तो नहीं। ये एंटीबायोटिक दवाओं से लेकर एंटी-डिप्रेसेंट तक हो सकते हैं। यदि आपको कोई शक है तो लिंक में मौजूद सूची पर एक नज़र डालना सबसे अच्छा है।

न्यूट्रीशन और हर्बल सप्लीमेंट

हालांकि बहुत से लोग इसे महसूस नहीं करते हैं, पर कुछ हर्बल ट्रीटमेंट लिवर टॉक्सिसिटी का जोखिम भी लिए होते हैं। नतीजतन प्रोडक्ट को मिलाना भी उचित नहीं है। इसका एक उदाहरण ग्रीन टी एक्सट्रैक्ट है।

इस सूची में कुछ और आइटम हैं:

  • मोरिंडा सिट्रीफोलिया (Morinda citrifollia)
  • विस्कस एल्बम (Viscus album)
  • वेलेरियाना ऑफिसिनैलिस (Valeriana officinalis)
  • दालचीनी कपूर (Cinnamomum camphora) (कपूर का तेल, विक्स वेपर रब)
  • एलोवेरा
  • ग्लाइसिन मैक्स (soy isoflavones)

मशरूम

कुछ मशरूम और कवक में एनाटॉक्सिन होते हैं। एनाटॉक्सीन (Anatoxin) लिवर टॉक्सिसिटी पैदा करने वाले पदार्थ हैं, या दूसरे शब्दों में, वे लिवर और किडनी में कोशिका और टिशू डैमेज का कारण बनते हैं। हालांकि यह ऊपर सूचीबद्ध चीजों में से लिवर टॉक्सिसिटी के कम से कम संभावित कारणों में से एक है।

ये कारण बन सकते हैं:

  • पेट दर्द
  • उल्टी
  • जी मिचलाना
  • खून बहना

ड्रग्स और केमिकल एजेंट

विशेष रूप से इस कैटेगरी में कोकीन (cocaine), परमानंद (ecstasy), कीटनाशक, शाकनाशी (herbicides), विनाइल क्लोराइड (vinyl chloride), और दूषित भोजन (contaminated food) शामिल हैं। साथ ही बहुत ज्यादा शराब पीना भी इसका एक कारण हो सकता है।

लिवर टॉक्सिसिटी की डायग्नोसिस कैसे की जाती है?

ऐसे कोई टेस्ट नहीं हैं जो निश्चित रूप से लिवर टॉक्सिसिटी की पहचान करते हैं। इसलिए संबंधित बीमारियों के लक्षणों की समानता के कारण वायरल हेपेटाइटिस और दूसरे कारणों से निपटने के लिए कुछ मेडिकल टेस्ट की ज़रूरत होगी।

इसे भी पढ़ें : शरीर की अंदरूनी सफ़ाई के लिए 6 शानदार डिटॉक्स टी

इलाज

 

एसिटाइलसिस्टीन (Acetylcysteine) एक ऐसा पदार्थ है जो लिवर से जहरीले पदार्थों को निकालने में मदद करता है। इसके अतिरिक्त यह एसिटामिनोफेन (acetaminophen) की ऊँची मात्रा लेने से होने वाले नशे के मामलों में होता है। इसके अलावा समस्या का कोई विशिष्ट ट्रीटमेंट या इलाज नहीं है।

साथ ही, संदिग्ध तत्वों से बचना ज़रूरी है। उल्टी, आराम और लक्षणों से बचने जैसे इलाज ज़रूरी हैं।

खतरे

लिवर टॉक्सिसिटी के लिए जिम्मेदार पदार्थ को हटाए जाने पर लक्षणों में सुधार होता है। यदि यह समस्या को ठीक न करे तो यह इर्रेवर्सिबल  लिवर फेल्योर का कारण बन सकता है। या यह सिरोसिस को जन्म दे सकता है।

आप देख सकते हैं, लिवर टॉक्सिसिटी बहुत गंभीर हो सकती है। इसलिए इसके वार्निंग संकेतों की पहचान करना अहम है जिससे जटिलताओं को रोका जा सके। इसलिए अगर आपने इनमें से कोई भी लक्षण देखा है, तो संकोच न करें, डॉक्टर को दिखायें।

  • Andrade, R. J., M. I. Lucena, and M. García-Cortés. “Hepatotoxicidad por infusión de hierbas.” Gastroenterología y hepatología 25.5 (2002): 327-332.
  • Bessone, F., and H. Tanno. “Hepatotoxicidad inducida por antiinflamatorios no esteroides.” Gastroenterología y hepatología23.4 (2000): 200-205.
  • García-Cortés, M., et al. “Hepatotoxicidad secundaria a” productos naturales”: análisis de los casos notificados al Registro Español de Hepatotoxicidad.” Revista Española de Enfermedades Digestivas 100.11 (2008): 688-695.
  • Marino, Carlo, et al. “Hepatotoxicidad por drogas: reporte de un caso y revisión de literatura.” Rev. méd. Maule 26.2 (2010): 103-109.
  • Tejada Cifuentes, Francisco. “Hepatotoxicidad por fármacos.” Revista Clínica de Medicina de Familia 3.3 (2010): 177-191.
  • Stournaras E, Tziomalos K. Herbal medicine-related hepatotoxicity. World J Hepatol. 2015;7(19):2189–2193. doi:10.4254/wjh.v7.i19.2189
  • Larrey, D. (2009). [Hepatotoxicity of drugs and chemicals].. Gastroentérologie clinique et biologique. 33. 1136-46.