बॉडी टाइप के अनुसार अपना आदर्श डाइट जानें

जुलाई 31, 2018
कद-काठी के अनुसार आपका बॉडी टाइप कौन सा है, इसकी जानकारी वजन घटाने के लिए उपयुक्त आहार और आदर्श डाइट प्लान चुनने में आपकी मदद करेगी।

क्या आपने कभी यह नोट किया है कि आप अधिकतर अपने शरीर के ख़ास हिस्सों में फैट इकट्ठे कर लेते हैं? क्या आपने अपने सबसे अच्छे दोस्त के आदर्श डाइट को आजमाया था पर वह काम नहीं आया?

शायद आपने इस तथ्य को नजरअंदाज कर दिया था, हम सबका वजन एक ही तरह से नहीं बढ़ता है।

इसमें कोई शक नहीं है कि हमारी आदतें हमारी कद-काठी पर असर डालती हैं। कभी-कभी हमें अपने माता-पिता और पूर्वजों से मिली कद-काठी के कारण वजन कम करने में ज्यादा कठिनाई हो सकती है।

अमेरिकी मनोवैज्ञानिक विलियम हर्बर्ट शेल्डन ने शरीर को तीन टाइप में वर्गीकृत किया है – एक्टोमॉर्फ, मेसोमॉर्फ और एंडोमॉर्फ।

तब से, और ह्यूस्टन विश्वविद्यालय (अमेरिका) के आंकड़ों के अनुसार, पोषण विशेषज्ञ, प्रशिक्षकों और डॉक्टरों ने व्यक्तिगत पोषण योजनाओं को डिजाइन करने के लिए इस जानकारी को ध्यान में रखा है।

इस वजह से, बॉडी टाइप की पहचान करना सफल डाइट प्लान बनाने और प्रत्येक व्यक्ति की आवश्यकताओं को अनुकूलित करने की कुंजी है।

एक्टोमॉर्फ शरीर या “ट्यूब टाइप”

बॉडी टाइप के अनुसार आदर्श डाइट: एक्टोमॉर्फ

इस प्रकार के शरीर की मुख्य विशेषताओं में से एक यह है कि यह दुबला-पतला होता है। इस ग्रुप में वे लोग शामिल हैं जिन्हें वजन बढ़ाने में कठिनाई होती है।

सिफारिश किये गए आहार योजना पर अमल से पहले किसी भी चिकित्सा स्थिति को रद्द करने के लिए डॉक्टर से परामर्श कर लेना महत्वपूर्ण होता है। हालांकि, आम तौर पर, इस तरह के शरीर में फैट कम होता है, इन्हें अपने शरीर में अतिरिक्त मांसपेशियां बढ़ा पाने में कठिनाइयां होती हैं।

आदर्श रूप से, इनके डाइट में ये चीजें होनी चाहियें:

डाइट संबंधी सुझाव

यदि आप इस ग्रुप में हैं तो यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने आहार में इनको शामिल करें:

  • सब्जियां
  • लीन मीट
  • डेयरी उत्पाद और अंडे
  • सब्जियां और फल (एवोकैडो)
  • नट्स
  • जैतून का तेल (ऑलिव आयल)
  • साबुत अनाज

शारीरिक व्यायाम

शारीरिक व्यायाम करते समय, एक्टोमॉर्फ लोगों को थोड़ी कार्डियोवैस्कुलर एक्टिविटी करनी चाहिए और मांसपेशी का विकास करने वाली एक्सरसाइज पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

  • वजन के साथ या ज्यादा शारीरिक परिश्रम वाला व्यायाम फिगर को शेप करने और साइज़ बढ़ाने के लिए आदर्श हैं।

इसे भी पढ़ें:  5 थाईज एक्सरसाइज जिन्हें आप घर पर कर सकती हैं

मेसोमॉर्फ शरीर या “सेब आकार”

बॉडी टाइप के अनुसार आदर्श डाइट: मेसोमॉर्फ

यह जरूरी नहीं है कि मेसोमॉर्फिक शरीर वाली महिलाएं मोटी हों। इस कद-काठी को “सेब के आकार का शरीर” के रूप में भी जाना जाता है। इस टाइप की कमी यह है कि इनमें फैट ज्यादातर कमर के क्षेत्र में जमा होता है।

वजन बढ़ने पर, यह स्थिति उन कष्टप्रद “लव हैंडल्स” का कारण बनती है जो पेट के क्षेत्र में बनते हैं। इसके अलावा, खराब आहार संबंधी आदतों के कारण, आपका पेट आम तौर पर ज्यादा आसानी से बढ़ जाता है।

इस श्रेणी की महिलाओं के लिए आदर्श आहार में ये चीजें होनी चाहियें:

  • कार्बोहाइड्रेट – 40%
  • प्रोटीन – 30%
  • वसा – 30%

डाइट संबंधी सुझाव

यदि आप इस ग्रुप से संबंधित हैं तो अपने आहार में इनको शामिल करने का प्रयास करें:

  • फल और सब्जियां
  • लीन मीट
  • कम फैट वाले डेयरी प्रोडक्ट
  • नट्स और सीड्स
  • साबुत अनाज और फलियां

इसके अलावा, आपको इनसे दूर रहना चाहिए:

  • जंक फ़ूड
  • शीतल पेय या शर्करा पेय
  • फ्राइड और डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ
  • रिफाइन आटा

शारीरिक व्यायाम

ऐसा कहा जाता है कि मेसोमॉर्फ “आनुवंशिक रूप से भाग्यशाली” होते हैं क्योंकि उनके लिए अपनी फिगर को शेप करना आसान होता है।

इसके बावजूद, इनके लिए सही डाइट के साथ नियमित व्यायाम आवश्यक है। क्योंकि किसी भी व्यक्ति की तरह इनकी मांसपेशियों को भी एक्सरसाइज करने और मजबूत बनाने की आवश्यकता होती है।

  • वह ट्रेनिंग जिसमें कार्डियोवैस्कुलर और स्ट्रेंग्थ एक्सरसाइज शामिल हों, आदर्श है।
  • योग या पिलेट्स का अभ्यास करना भी सेहतमंद है। ये उचित वजन बनाए रखने और मांसपेशियों को टोन करने में मदद करते हैं।

इसे भी पढ़ें:  सुडौल-सपाट पेट चाहिए? तो रात को इन 9 चीज़ों का सेवन करें

एंडोमॉर्फ या “नाशपाती जैसा शरीर”

बॉडी टाइप के अनुसार आदर्श डाइट: एंडोमॉर्फ

इस श्रेणी से संबंधित लोगों का मेटाबॉलिज्म खासतौर से धीमा होता है। इन लोगों में अधिक वजन, मोटापा और धीमे मेटाबॉलिज्म की अन्य कठिनाइयों से पीड़ित होने की प्रवृत्ति होती है।

इस वजह से, इन्हें दिन में रेकमेंडेड मात्रा से 200 से 500 कैलोरी कम खाने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा, नमक का सेवन सीमित होना चाहिए, क्योंकि यह अक्सर फ्लूइड रिटेंशन की समस्याओं का कारण बनता है।

डाइट संबंधी सुझाव

यदि आप इस समूह का हिस्सा हैं तो अपने डाइट में इनको शामिल करने का प्रयास करें:

  • हेल्दी फैट जैसे जैतून का तेल और एवोकैडो
  • पानी से भरपूर फल और सब्जियां
  • साबुत अनाज
  • लीन मीट और मछली

इनमें ज्यादा से ज्यादा कटौती करें, और जहां तक ​​संभव हो इनसे बचें:

  • जंक फूड और प्रोसेस्ड फ़ूड
  • सोडियम से समृद्ध खाद्य
  • शुगर ड्रिंक या सॉफ्ट ड्रिंक
  • मिठाई और बेकरी प्रोडक्ट

शारीरिक व्यायाम

डाइट को सप्लीमेंट करने के लिए, एंडोमॉर्फ लोगों को रोज़ करीब 30 मिनट मीडियम रेट वाली एरोबिक्स करने में बिताना चाहिये।

  • चलना, जॉगिंग या बाइकिंग कुछ ऐसी गतिविधियां हैं जो शरीर के वजन को संतुलित करने में मदद करने के लिए आदर्श हैं।
  • एक बार जब आप वजन कम करना शुरू कर देते हैं, तो सप्ताह में दो या तीन बार स्ट्रेंग्थ एक्सरसाइज भी शुरू करना उचित होता है।

अपनी कद-काठी को पहचानना हमेशा आसान नहीं होता है। कई बार हमें अपने में दो या दो से अधिक बॉडी टाइप्स की विशेषताएं नज़र आती हैं। लेकिन आम तौर पर हमारी किसी  एक विशिष्ट ग्रुप से संबंधित होने की प्रवृत्ति होती है।

आपका शरीर किस टाइप का है? अगर आप अपने फिगर और वजन में सुधार करने की कोशिश कर रहे हैं, तो यह पहचानें कि आप कौन से ग्रुप में आते हैं और अपनी डाइट को उसी के अनुसार अनुकूलित करें।

  • Sillero, M. (2010). Composición Corporal. Nutrición y Dietética.

  • Sánchez, R. M., Galvis, G., & Victoriano, P. F. (2003). Relacion Entre Caracteristicas Del Tracto Digestivo Y Los Habitos Alimentarios De Peces Del Rio Yucao, Sistema Del Rio Meta (Colombia). Gayana (Concepción). https://doi.org/10.4067/S0717-65382003000100010

  • FAO. (2015). Macronutrientes y micronutrientes. Organización de Las Naciones Unidas Para La Alimentación y La Agricultura.