7 खाद्य जो आँखों की मैक्युलर डीजेनेरेशन को रोकते हैं

18 दिसम्बर, 2019
भले ही मैक्युलर डीजेनेरेशन बढ़ती उम्र का नतीजा है, पर अगर आप ऐसे खाद्य खाएं जिनके पोषक तत्व आपकी आंखों पर उम्र के असर को धीमा कर पाएं, तो इसके उभरने की प्रक्रिया को धीमा जरूर कर सकते हैं।

मैक्युलर डीजेनेरेशन (Macular Degeneration) नज़रों के आम रोगों में आता है। यह आपके जीवन की गुणवत्ता को घटा सकता है। यह रेटिना की बीमारी है जो तब होती है जब मैक्युला क्षयग्रस्त हो जाता है। यह कुछ पीली झिल्ली है जो आपकी आंखों के पीछे पाई जाती है। इस लेख में हम उन 7 खाद्य पदार्थों की जानकारी शेयर करना चाहते हैं जो मैक्युलर डीजेनेरेशन को रोकते हैं और आपकी आंखों के लिए बहुत फायदेमंद हैं।

इस रोग की विशेषता सेन्ट्रल विज़न यानी केंद्रीय नज़र के समस्या है। यह दृश्य क्षमता सैकड़ों चीजों के लिए जरूरी है। इसके अलावा इससे प्रभावित लोगों को पढ़ने, दूर के लोगों के चेहरे को पहचानने, ध्यान केंद्रित करने में मुश्किल होती है।

सबसे ज्यादा परेशान करने वाली बात यह है कि इसका विकास धीरे-धीरे होता है। कई मामलों में, यह पूरी तरह से अंधेपन का कारण बनता है। इस वजह से हेल्दी प्रैक्टिस अपनाना अहम है। अपने विज़ुअल हेल्थ की केयर करने के अलावा ऐसे खाद्य खाना जो आँखों की मैक्युलर डीजेनेरेशन को रोकते हैं, अंधेपन के जोखिम को कम कर सकता है।

7 खाद्य जो आँखों की मैक्युलर डीजेनेरेशन को रोकते हैं

1. अंडे
खाद्य जो आँखों की मैक्युलर डीजेनेरेशन को रोकते हैं : अंडे

रोजाना अंडे खाना अच्छी आदत है। ऐसा नियमित करने पर यह आदत आपकी आंखों की सेहत को सबसे अच्छी स्थिति में रखने में मदद कर सकती है।

अंडे हाई क्वालिटी वाले एमिनो एसिड के स्रोत के रूप में जाने जाते हैं। इसमें ल्यूटिन (lutein) और ज़ेक्सैंथिन (zeaxanthin) की भरपूर मात्रा है। उम्र के असर से आपकी आंखों की सुरक्षा के लिए ये दो प्रमुख तत्व हैं।

  • इस लक्ष्य के साथ हम एग येलो के साथ अंडे खाने की सलाह देते हैं। यह वह भाग है जिसमें आपको अधिकांश लाभदायक पदार्थ मिलेंगे।
  • पर आपको इसे ज्यादा मात्रा में नहीं खाना चाहिए, क्योंकि इसमें फैट ज्यादा होता है।

इसे भी पढ़ें: 4 सुपरफूड : आँखों की सेहत के लिए

2. कद्दू के बीज ( Pumpkin seeds)

कद्दू के बीज में ज़िंक और एसेंशियल फैटी एसिड होते हैं। ये नज़र के रोगों की रोकथाम में महत्वपूर्ण हैं।

कद्दू के बीज को कई रेसिपी में डाला जा सकता है। यह मैक्युलर डीजेनेरेशन और असमय बूढ़ा होने के जोखिम को भी कम करता है।

  • इसे अपने फ्रूट स्मूदी और सलाद में डालें।
  • यदि आप उन्हें हर दिन खायें तो वजन बढ़ने की चिंता नहीं करनी पड़ेगी। इसमें बहुत कम कैलोरी होती है।
3. मैक्युलर डीजेनेरेशन को रोक सकती है तैलीय मछली
मैक्युलर डीजेनेरेशन को रोक सकती है तैलीय मछली

ऑयली फिश की सभी किस्मों में ओमेगा 3 फैटी एसिड की प्रचुर मात्रा होती है। इनमें एंटीऑक्सिडेंट कम्पाउंड भी होते हैं। इन तत्वों को पचा लेने पर वे सूजन असमय सेलुलर एजिंग को रोका जा सकता है।

ये पोषक तत्व अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल से छुटकारा पाने में योगदान करते हैं। साथ ही ये आपके ब्लड सर्कुलेशन और रक्तचाप को बढ़ाते हैं।

सामान्य रूप से अपनी आंखों की सेहत के लिए आपको उन्हें नियमित खाना चाहिए। अगर आपका विजन प्रॉब्लम की फैमिली हिस्ट्री है आपको उन्हें निश्चय ही रेगुलर कहानी चाहिए

  • हर हफ्ते कम से कम दो से तीन बार खाएं।

इसे भी पढ़ें : बातें जो एक डिटैच्ड रेटिना के बारे में आपको जाननी चाहिए

4. समुद्री खाद्य (Seafood)

सीफूड भी खाद्य पदार्थों के उस ग्रुप का हिस्सा है जो आँखों की मैक्युलर डीजेनेरेशन को रोकता है। इनमें जिंक होता है। यह उस झिल्ली की सुरक्षा के लिए ज़रूरी मिनरल में से एक है जो आपकी आंखों को कवर किये हुए है

वे आपको एमिनो एसिड और एसेंशियल फैटी एसिड भी देते हैं। ये टिशू के पुनर्जनन में भूमिका निभाते हैं।

  • उन्हें अपने सलाद या ऐपेटाइज़र में मिलाएं।
5. आँखों की मैक्युलर डीजेनेरेशन से मुकाबले के लिए पियें ग्रीन टी

ग्रीन टी सबसे लोकप्रिय हेल्दी ड्रिंक में से एक है। क्योंकि इसके गुण आपको वजन कम करने में मदद करते हैं और कोलेस्ट्रॉल पर काबू लाते हैं।

अपने एंटीऑक्सीडेंट कम्पाउंड के कारण ग्रीन टी सबसे अलग है। ये मॉलिक्यूल फ्री रेडिक्लस और विषाक्त पदार्थों के कारण होने वाली क्षति को रोकते हैं।

वे कोशिकाओं के दुबारा बनने की प्रक्रिया को उत्तेजित करते हैं। इसके अलावा वे आपकी सूजन प्रक्रियाओं में संतुलन बनाए रखते हैं और आँखों की मैक्युलर डीजेनेरेशन जैसी बीमारियों के विकास का जोखिम कम करते हैं।

  • हर हफ्ते कम से कम तीन बार एक कप ग्रीन टी पियें।

यह भी पढ़ें : 5 लक्षण जो बताते हैं, आपकी आँखें खराब हैं

6. टमाटर

टमाटर लाइकोपीन (lycopene) की ऊँची मात्रा वाली सब्ज़ी है। यह ऐसा एंटीऑक्सीडेंट है जो डीजेनेरेटिव रोगों को रोकता है। बीटा-केराटिन  और मिनरल के साथ मिलकर यह फ्री रेडिकल्स और सोलर रेडिएशन के खिलाफ एक प्रोटेक्टिव बैरियर बनाता है।

इसे नियमित खाने से आपकी आँखों की हिफ़ाजत होती है। यह बुढ़ापे में नज़र के रोगों का शिकार होने का जोखिम भी कम करता है

  • अपने सभी सलाद और स्मूदी में कच्चे टमाटर खाएं।
  • एक गिलास टमाटर का जूस बनाएं और इसे नाश्ते में हर हफ्ते कम से कम तीन बार पिएं।
7. पालक
मैक्युलर डीजेनेरेशन को रोक सकती है पालक

पालक और दूसरी हरी सब्जियां फोलिक एसिड, विटामिन A और ज़िंक जैसे पोषक तत्वों से भरी होती हैं। ये सभी नेत्र रोगों को रोकने के लिए जरूरी हैं। ये पोषक तत्व आँखों की मैक्युलर डीजेनेरेशन की रफ़्तार को धीमा कर देते हैं। वे आपको ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस के खिलाफ एक सुरक्षात्मक बैरियर भी देते हैं।

इसमें मौजूद गुण सूजन और उससे जुड़ी बीमारियों पर कंट्रोल करने में सहायक हैं।

  • पालक को अपने खाने में जरूर शामिल करें। इसे स्मूदी, सलाद या सूप में भी लिया जा सकता है।

क्या आप इन सभी खाद्य पदार्थों को शामिल कर रहे हैं जो आपके रेगुलर डाइट में मिलने पर आँखों की मैक्युलर डीजेनेरेशन को रोकते हैं? अगर नहीं, तो सुनिश्चित करें कि आपको हर हफ्ते इनकी कुछ मात्रा मिले। ध्यान रखें कि आपकी आंखों की देखभाल के अलावा, ये प्रचुर पोषक तत्वों से भरे हुए हैं जो आपकी सेहत को आम तौर पर दुरुस्त करते हैं।