हेज़लनट मिल्क के गुण

23 नवम्बर, 2020
क्या आप हेज़लनट मिल्क के फायदे जानते हैं? स्वादिष्ट ड्रिंक होने के साथ-साथ यह तंदरुस्ती में योगदान देता है। इसके बारे में यहां हम विस्तार से बताएँगे!

अगर आप वेगन या वेजिटेरियन हैं, या लैक्टोज इन्टॉलरेंस का शिकार हैं, तो हेज़लनट मिल्क के गुण फायदेमंद हैं। हालाँकि ज्यादातर लोग इसे इसी नाम से जानते हैं, पर हम कह सकते हैं कि यह वास्तव में हेज़लनट और पानी से बना एक वेजिटेबल ड्रिंक है जिसमें अखरोट के पोषक तत्व होते हैं।

क्या आप इसके फायदे जानते हैं? जानने के लिए पढ़ते रहे!

हेज़लनट मिल्क के गुण

वैसे तो इसका केमिकल कम्पोजीशन एनीमल मिल्क की तरह नहीं है, फिर भी हेज़लनट मिल्क कई तरह से शरीर को फायदा पहुंचाता है। पर एक बैलेंस डाइट अपनाने पर ही ये फायदे सबसे ज्यादा दिखाई देते हैं।

दरअसल हेज़लनट दूसरे नट्स की तरह एनर्जी से भरपूर और पौष्टिक होते हैं। इनमें विटामिन, मिनरल, प्रोटीन और अनसेचुरेटेड फैटी एसिड होते हैं, साथ ही फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट भी होते हैं। इस तरह जिन ड्रिंक में हेज़लनट होते हैं उनमें भी ये गुण होते हैं।

आइए इस ड्रिक के फायदेमंद गुणों पर करीब से नज़र डालें।

यह टिशू ग्रोथ में योगदान देता है

अर्जेंटीना के राष्ट्रीय खाद्य निदेशालय से निकाले गए आंकड़ों के अनुसार हेज़लनट में ये मिनरल होते हैं: पोटैशियम, कैल्शियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम, जिंक और आयरन। टिशू को बनाने और महत्वपूर्ण प्रक्रियाओं को पूरा करने और ग्रोथ में योगदान के लिए ये आवश्यक होते हैं। दरअसल कोशिकाओं में कुछ मेटाबोलिक  प्रक्रियाओं के लिए इन तत्वों की जरूरत होती है।

हमें ध्यान देना चाहिए कि इस दूध में 100% कैल्शियम शामिल नहीं है, जैसा कि डेयरी उत्पादों के साथ होता है। हालांकि, जो लोग डेयरी प्रोडक्ट खाते हैं, उनके लिए यह कैल्शियम का एक महत्वपूर्ण स्रोत हो सकता है।

वेजिटेबल ड्रिंक खरीदते वक्त वे विकल्प चुनना चाहिए जो कैल्शियम से भरपूर हों।

हेज़लनट मिल्क कार्डियोवैस्कुलर रोगों को रोकने में मदद करता है

हेज़लनट्स में नट्स के गुण होते हैं और इसमें ओमेगा -9 फैटी एसिड होते हैं।

इसे भी पढ़ें : वेजिटेबल मिल्क : गुण और लाभ

हेज़लनट मिल्क कार्डियोवैस्कुलर रोगों को रोकने में मदद करता है

नट्स में पाए जाने वाले फैट दरअसल अनसेचुरेटेड फैटी एसिड होते हैं, विशेष रूप से ओमेगा -9 फैटी एसिड, जो आप बादाम और पिस्ता में भी पा सकते हैं। इनमें ओमेगा -3 फैटी एसिड भी होता है लेकिन थोड़ा कम।

ये लिपिड नर्वस सिस्टम के विकास और कामकाज के लिए महत्वपूर्ण हैं, साथ ही साथ बैड कोलेस्ट्रॉल (LDL) को निचले स्तर पर रखने के लिए ये अच्छे कोलेस्ट्रॉल (HDL) को बढ़ाते हैं और ट्राइग्लिसराइड्स को कम रखते हैं। उपलब्ध वैज्ञानिक अध्ययनों के अनुसार, हेज़लनट दूध हृदय रोगों की रोकथाम में मददगार हो सकता है।

यह एजिंग को धीमा कर सकता है

चूंकि इस वेजिटेबल मिल्क में जिंक, मैग्नीशियम और विटामिन E होता है, हेज़लनट मिल्क में एंटीऑक्सिडेंट असर होता है। इस तरह यह सेलुलर नुकसान को रोकने और उम्र बढ़ने में देरी करने में मदद कर सकता है।

इसके अलावा यह ब्लड वेसेल्स की लोच बनाए रखने में मदद करता है।

यह कब्ज को रोकने और पाचन बेहतर बनाने में मदद करता है

हेज़लनट्स में फाइबर होता है, जो गैस्ट्रोइंटेसटिनल ट्रैक्ट के ठीक-ठाक कामकाज में योगदान देता है, और कब्ज जैसे लक्षणों को रोकता है।

डाइटरी फाइबर पेरिस्टलसिस (peristalsis) का एक नेचुरल रेगुलेटर है, इसलिए यह पुरानी कब्ज वाले लोगों में उपयोगी है। जो भी हो कुल डेली डाइट को पेट में माइक्रोबायोटा की कार्यक्षमता के आधार पर तय किया जाना चाहिए।

यह नर्व सिस्टम हिफाजत करता है

इस नट्स में आयरन, फोलिक एसिड और दूसरे विटामिन B होते हैं, जैसे B 1, B2, B3, और B6। इसलिए इसे पीने से नर्व ग्रोथ और तंत्रिका तंत्र की देखभाल में फायदा हो सकता है। दरअसल बच्चे भी इसे पी सकते हैं।

पढ़ते रहिए: वेजिटेबल मिल्क स्नैक रेसिपी

हेज़लनट मिल्क के गुणों को बनाए रखने के लिए इसे कैसे बनाएं

अगर आप घर पर हेज़लनट मिल्क बनाना चाहते हैं, तो इस रेसिपी पर ध्यान दें! आपको एक-एक लीटर पानी और हेज़लनट्स चाहिए। हालाँकि, यदि चाहें तो इसमें किशमिश, खजूर, वेनिला, या अन्य सामग्री भी डाल सकते हैं जो इसका स्वाद बढ़ाते हैं।

इसके स्टेप हैं:

  • सबसे पहले, आपको हेज़लनट्स को आठ घंटे तक भिगोना चाहिए जिससे वे पानी सोखकर साइज़ में दोगुना हो जाएँ। स्वाभाविक रूप से, ध्यान रखें कि वे कच्चे होने चाहिए। यदि वे रोस्टेड हैं तो असरदार नहीं होते।
  • इसके बाद आपको उन्हें छान लेना होगा और एक प्रोसेसर में रखना होगा।
  • आम तौर पर आप एक कप भीगे हुए हेज़लनट्स के लिए तीन कप पानी का उपयोग कर सकते हैं। हालांकि, पेय को ज्यादा गाढ़ा करना हो तो मात्रा अलग-अलग हो सकती है।
  • आगे तरल को अलग करने के लिए एक कपड़े के फिल्टर से इसे छानें। उसके बाद आपका वेजिटेबल मिल्क तैयार है!
  • अंत में, इसे एक ढक्कन वाले बोतल में स्टोर करें और इच्छानुसार फ्लेवरिंग डालें।

आम तौर पर इंडस्ट्रियल प्रोडक्ट में एडेड शुगर होता है, जिसे आप लेबल पढ़कर जान सकते हैं। कभी-कभी वे एनीमल मिल्क के साथ कैल्शियम से समृद्ध होते हैं। बेशक, प्रिजर्वेटिव डाला होता है और इन पेय के लिए टेक्नोलॉजिकल तरीकों का उपयोग किया जाता है।

हेज़लनट दूध के फायदे

घर पर हेज़लनट दूध बनाना बहुत आसान है।

हेज़लनट दूध के फायदों के बारे में जो याद रखना चाहिए

यह ड्रिंक विविधता से भरा है और हेल्दी डाइट के रूप में उपयोगी कॉम्प्लीमेंट है। हालाँकि यह याद रखना चाहिए कि इसमें गाय के दूध जैसे पोषक तत्व नहीं हैं।

यदि आप डेयरी प्रोडक्ट नहीं खा सकते तो आपको अन्य फूड सोर्स से कैल्शियम और प्रोटीन हासिल करना चाहिए। आदर्श रूप से आपको भविष्य की समस्याओं को रोकने के लिए एक न्यूट्रीशनिस्ट से  सलाह लेनी चाहिए, क्योंकि विटामिन और मिनरल की कमी के गंभीर लॉन्ग टर्म नतीजे होते हैं।

दूसरी ओर यदि आप इसे अपने खाने में रखते हैं, तो आप अपने कार्डियोवैस्कुलर सेहत में योगदान दे रहे हैं और उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा कर रहे हैं। फ़ूड इंडस्ट्री के प्रीजर्वेटिव से बचने के लिए नेचुरल होममेड विकल्प चुनने का प्रयास करें। हालांकि, इसे सुपरमार्केट में खरीदने पर यह जानने के लिए लेबल पढ़ें कि प्रोडक्ट में क्या मिला है।

  • Naranjo García, C. M. (2018). Análisis de las propiedades de la Avellana (Corylus Avellana L.) para la elaboración de una bebida alcohólica artesanal “Cafellana” y su comercialización en la ciudad de Guayaquil (Bachelor’s thesis, Universidad de Guayaquil, Facultad de Ingeniería Química).
  • Dyner, Luis, et al. “Contenido de calcio, fibra dietaria y fitatos en diversas harinas de cereales, pseudocereales y otros.” Acta bioquímica clínica latinoamericana 50.3 (2016): 435-443.
  • Nutricional, Centro Salud. “Diferencias nutricionales de la gama de leches vegetales ALPRO-CAPSA.” (2017).
  • de Campagnaro, Evila Dávila. “Bebidas vegetales y leches de otros mamíferos.” Archivos venezolanos de puericultura y pediatría 80.3 (2017): 96-101.
  • López Uriarte, Patricia Josefina. Efecto del consumo de frutos secos sobre el estrés oxidativo. Diss. Universitat Rovira i Virgili.
  • NUTRICIÓN Y EDUCACIÓN ALIMENTARIA FICHA N° 54 FRUTOS SECOS: Aliados para tus comidas. Disponible en: http://www.alimentosargentinos.gob.ar/HomeAlimentos/Nutricion/fichaspdf/Ficha_54_Frutos_Secos.pdf.
  • de Campagnaro, E. D. (2017). Bebidas vegetales y leches de otros mamíferos. Archivos venezolanos de puericultura y pediatría80(3), 96-101.
  • Herrera, Martha Coronado, et al. “Los ácidos grasos omega-3 y omega-6: nutrición, bioquímica y salud.” Revista de educación bioquímica 25.3 (2006): 72-79.
  • Arós, Fernando, and Ramón Estruch. “Dieta mediterránea y prevención de la enfermedad cardiovascular.” Revista Española de Cardiología 66.10 (2013): 771-774.