मैकेनिकल वेंटिलेशन ट्रीटमेंट

10 अक्टूबर, 2019
गंभीरता से जले मरीजों में साँसनली के जख्म के प्रति चिकित्सीय दृष्टिकोण में इंटूबेशन और मैकेनिकल वेंटिलेशन के जरिये वायुमार्ग की पर्मेअबिलिटी को बनाए रखना है।

मैकेनिकल वेंटिलेशन ट्रीटमेंट उन बर्न पेशेंट के लिए इलाज का एक ऑप्शन है जिन्हें साँसनली की गंभीर चोट लगी है। अक्सर जले हुए पेशेंट में साँस की चोटें आम हैं। मूल रूप से इसमें जलन श्वसन तंत्र में होती है।

आमतौर पर साँस की चोट ट्रॉमा के कारण होती हैं जो शरीर के कई ऑर्गन सिस्टम को प्रभावित करती हैं। इस ट्रॉमा में जलने के साथ-साथ कार्बन मोनोऑक्साइड और साइनाइड पाइजनिंग भी हो सकता हैं। दरअसल यह बहुत गर्म गैस में साँस लेने की वजह से होता है जो आग लगने के दौरान होती है।

कुल मिलाकर 2% जले हुए रोगियों में इन्हेलेशन इंजरी होती है। जितना ज्यादा बॉडी सरफेस एरिया जलेगा इंहेलेशन इंजरी होने की संभावना उतनी ही ज्यादा होगी।

इन्हेलेशन इंजरी जलने वाले रोगियों में जीवन या मृत्यु का फैसला करने वाली एक अहम फैक्टर है। दुर्भाग्य से, लगभग आधे जले हुए रोगियों की मौत इन्हेलेशन इंजरी के कारण होती है।

वायुमार्ग और फेफड़ों को होने वाली क्षति साँस के धुएं में मिले केमिकल, एक्सपोज़र की मात्रा और उस ओर शरीर की प्रतिक्रिया पर निर्भर करती है

रेस्पिरेटरी ट्रॉमा (Respiratory Trauma)

मैकेनिकल वेंटिलेशन ट्रीटमेंट : रेस्पिरेटरी ट्रॉमा (Respiratory Trauma)

कुल मिलाकर, गर्मी और जहरीली गैसों से होने वाला ट्रॉमा ऊपरी एयरवे की चोट और रुकावट का कारण बनता है

रोगी जितना कम उम्र का होता उसके लक्षण उतने गंभीर होते हैं। इसके अलावा, लक्षण आमतौर पर पहले 12-18 घंटों में दिखाई देते हैं, हालांकि शुरुआत में 72 घंटे तक लग सकते हैं

सांस की चोट जलने वाले पीड़ितों में तत्काल मौत का प्रमुख कारण है।

बर्लन के कई प्रकार हैं:

  • थर्मल इंजरी : आमतौर पर हाई टेम्परेचर के कारण होने वाली चोट ऑरोफेरीनक्स तक सीमित होती है।
  • इन्हेलेशन इंजरी : इस मामले में पानी में घुलनशील गैसें म्यूकस मेम्ब्रेन में मौजूद पानी से रिएक्शन करती हैं। यह तेज एसिड रिलीज़ करता है और रेस्पिरेटरी एल्केलॉइड, एडिमा और ब्रोन्कोस्पास्म पैदा करता है। इसके अलावा कम घुलनशील गैसें रेस्पिरेटरी सिस्टम के सबसे दूर के हिस्सों तक पहुंच सकती हैं और वहां इंजरी पैदा कर सकती हैं। आमतौर पर दहन का मुख्य जहर कार्बन मोनोऑक्साइड है। हालांकि, एक और जहरीली गैस जो बर्न ट्रॉमा में योगदान देती है, वह है हाइड्रोजन साइनाइड।
  • फेफड़ों की इंजरी : व्यापक जलन वाले मरीजों में प्रारंभिक चरणों के बाद प्रोग्रेसिव रेस्पिरेटरी फेल्योर हो सकती है। यह तब भी हो सकता है जब साँस के कारण वायुमार्ग को सीधा नुकसान न हुआ हो।

इसे भी पढ़ें : अपने बच्चे को हग करने के लिए कैसे प्रोत्साहित करें

डायग्नोसिस

  • इन्हेलेशन इंजरी की डायग्नोसिस क्लिनिकल होती ​​है। कुल मिलाकर, डॉक्टरों को उस मामले में इसकी उम्मीद करनी चाहिए जब मरीज बंद जगह पर बेहोश हुआ हो, और जहां आग लगी हो या गर्म गैस का रिसाव हुआ हो
  • शारीरिक जांच के दौरान इन्हेलेशन इंजरी के वार्निंग संकेत में नाक के जले हुए बाल, काले रंग की थूक, नोस्ट्रिल और चेहरे में जलन, खांसी, आवाज बैठना और घरघराहट शामिल हैं।
  • इसके अलावा म्यूकोसल बदलाव का आकलन करने के लिए ऑरोफरीनक्स की जांच करना अहम है। कॉम्प्लीमेंटरी डायग्नोस्टिक मेथड फेफड़ों और सिस्टमिक डैमेज का आकलन करने में मदद कर सकती हैं।

मैकेनिकल वेंटिलेशन ट्रीटमेंट

आमतौर पर लुंग्स इंजरी के लक्षण आमतौर पर कई घंटों के बाद उभरते हैं। इस कारण यह महत्वपूर्ण है कि यदि एक जले हुए पीड़ित में इन्हेलेशन इंजरी का संदेह है, तो डॉक्टरों को तुरंत मैकेनिकल वेंटिलेशन ट्रीटमेंट करना होगा

हालांकि, गंभीर चोट वाले रोगियों में इन्हेलेशन इंजरी के लिए कोई विशिष्ट इलाज नहीं है। आमतौर पर, डॉक्टर इंटुवेशन और मैकेनिकल वेंटिलेशन के जरिये वायुमार्ग की पेर्मेअबिलिटी बनाए रखने पर फोकस करते हैं

गंभीर मामलों में, डॉक्टर रोगी के फेफड़ों को साफ करेंगे और संक्रमण होने पर एंटीबायोटिक दवायें डालेंगे।

इसे भी पढ़ें : हीट एग्जॉशन के चार प्राकृतिक इलाज

इंटुवेशन और मैकेनिकल वेंटिलेशन ट्रीटमेंट

कुल मिलाकर, 50% से ज्यादा रोगियों के लिए इंटुवेशन ज़रूरी है। जैसा कि आप देख सकते हैं, गंभीर मामलों में एक बड़ी कैलिबर ट्यूब के साथ जल्दी इंटुवेशन की ज़रूरत होती है:

  • एयरवे पेर्मेअबिलिटी को बनाए रखना
  • एस्पिरेशन रोकना
  • सेक्रेशन और म्यूकस कंजेशन को खत्म करने की अनुमति देना
  • एड वेंटिलेशन

हालांकि, गंभीर एडिमा वाले रोगियों में अगर इंटुवेशन वक्त पर नहीं किया जाए तो यह संभव नहीं हो सकता है। इस मामले में ट्रेकियोटॉमी ही आख़िरी उपाय है।

मैकेनिकल वेंटिलेशन ट्रीटमेंट का उद्देश्य ऑक्सीजन और वेंटिलेशन को बनाए रखना है। इसलिए यह वेंटिलेशन-प्रेरित क्षति को रोकने में मदद करता है।

डॉक्टरों द्वारा उपयोग किए जाने वाले वेंटिलेशन की टाइप फेफड़ों की क्षति की मात्रा पर निर्भर करेगा। विभिन्न प्रकारों में पारम्परिक हाइपरकेनिया, नाइट्रिक ऑक्साइड इनहेलेशन, हाई-फ्रीक्वेंसी वेंटिलेशन और एक्स्ट्राकोर्पोरियल मेम्ब्रेन ऑक्सीडेशन के साथ पारंपरिक वेंटिलेशन शामिल हैं।

अन्य इलाज

दुर्भाग्य से प्रिवेंटिव उपाय जैसे कॉर्टिकोइड्स और एंटीबायोटिक्स उपयोगी नहीं है। इसके अलावा, कुछ स्टडी कॉर्टिकोइड्स को फेफड़ों के संक्रमण और मौत के जोखिम से जोड़ते हैं।

दूसरी ओर, गंभीर स्थिति में रोगियों में इन्हेलेशन इंजरी फ्लूइड एक्सपेंशन की ज़रूरत को बढ़ा देती है।

  • Gutiérrez Muñoz, F. (2011). Ventilación mecánica. Acta Médica Peruana.
  • González-Cavero, J., Arévalo, J. M., & Lorente, J. A. (1999). Tratamiento prehospitalario del paciente quemado crítico Revisión. emergencias.
  • Cachafeiro Fuciños, L., Sánchez Sánchez, M., & García de Lorenzo y Mateos, A. (2019). Ventilación mecánica en el paciente quemado crítico con inhalación: ¿podemos evitarla? Medicina Intensiva. https://doi.org/10.1016/j.medin.2019.02.008