गैस्ट्राइटिस के लिए घरेलू इलाज

नवम्बर 2, 2019
गैस्ट्राइटिस के हर अलग-अलग केस के ट्रिगर्स को जानने के अलावा आप अपने सिम्पटम से राहत पाने और स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए इनमें से कुछ नुस्खों को आजमा सकते हैं।

गैस्ट्राइटिस की तकलीफ बहुत असुविधाजनक होती है। पेट के ऊपरी हिस्से में आप जो दर्द और जलन महसूस करते हैं, वह बहुत तकलीफ देती है। भले ही यह खतरनाक न हो पर इसके लक्षण असहज और अनचाहे दोनों हैं। इस कारण आज हम आपको गैस्ट्राइटिस के कुछ बेहतरीन घरेलू इलाज बता रहे हैं।

गैस्ट्राइटिस क्या है?

गैस्ट्राइटिस गैस्ट्रिक म्यूकस की सूजन है। यह वह टिशू है जो पेट के एसिड से पेट की भीतरी दीवारों की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार है। जब यह प्रभावित होता है, तो इर्रिटेशन आपके शरीर में कई प्रतिक्रियाएं पैदा कर सकता है।

इस बीमारी के कई ट्रिगर हैं। उनमें से निम्नलिखित हैं:

गैस्ट्राइटिस की जटिलतायें

गैस्ट्राइटिस की जटिलतायें

इस रोग को आमतौर पर रोगियों में कुछ सामान्य या समान लक्षणों से चिन्हित किया जाता है। पर गैस्ट्राइटिस हर व्यक्ति में अलग-अलग होती है। गंभीरता के अनुसार गैस्ट्रोस्कोपी की ज़रूरत हो सकती है।

सबसे आम लक्षण हैं:

  • डकार आना (burps)
  • स्टमक पेन
  • पेट में या हार्ट बर्न
  • पेट फूलना (Flatulence)
  • पेट में दर्द
  • उल्टी
  • और, अंत में, मल में खून

इसे भी पढ़ें : 5 चाय जो गैस्ट्राइटिस का इलाज कर सकती हैं

जठरशोथ के लिए असरदार घरेलू इलाज

गैस्ट्राइटिस में घरेलू इलाज बहुत असरदार हो सकते हैं। अब हम उनमें से कुछ की जानकारी आपसे शेयर करेंगे।

आलू का रस (Potato juice)

गैस्ट्राइटिस के लिए घरेलू इलाज : आलू का रस (Potato juice)

गैस्ट्राइटिस के इलाज के लिए कच्चा आलू एक उम्दा विकल्प है। अगर आप इसके जूस का इस्तेमाल करें तो यह विशेष रूप से सच है। इसमें एंटासिड गुण होते हैं। इसके गुण पेट की सूजन और गैस बनने में कमी लाते हैं।

सामग्री

  • 2 आलू

निर्देश

  • सबसे पहले दो आलू छीलकर उन्हें ग्रेट कर लें।
  • फिर उन्हें कोलंडर में डालें और जूस पाने के लिए निचोड़ें।

इसे कैसे पीना है

  • इस जूस को गर्म पानी में पतला कर लेना चाहिए।
  • हम इसे रोजाना कम से कम तीन बार पीने की सलाह देंगे। यह हर बार खाने से पहले किया जा सकता है (नाश्ता, लंचऔर डिनर)।

चावल का पानी (Rice water)

यह आलू के रस की तरह ही काम करता है। इस वजह से यह गैस्ट्राइटिस जैसी बीमारियों के इलाज के लिए बहुत असरदार है। यह सबसे आसान घरेलू विकल्पों में से एक है।

सामग्री

  • 4 कप पानी
  • 1/2 कप चावल

निर्देश

  • सबसे पहले पानी को उबाल आने तक गर्म करें। फिर चावल डालें।
  • इसे 8 मिनट तक पकने दें और फिर इसे आँच से उतार लें।
  • अंत में चावल को छान लें और पानी को स्टोर करें।
  • ठंडा होने तक इंतज़ार करें। इसे रोज दो बार पियें।

इसे भी पढ़ें : अपच, मन्दाग्नि (फंशनल डिस्पेप्सिया) : कारण, लक्षण और इलाज

प्राकृतिक दही (Natural yogurt)

गैस्ट्राइटिस के लिए घरेलू इलाज : प्राकृतिक दही (Natural yogurt)

दही के गुण आपके गैस्ट्रिक म्यूकस की सूजन को रोकने में मदद कर सकते हैं। इसमें प्रोबायोटिक्स और लैक्टोबैसिलस हैं। इससे यह हेलिकोबैक्टर पाइलोरी बैक्टीरिया की कॉलोनी बनाने की क्षमता को कम कर देता है।

  • खरीदने के बजाय दही को आप घर पर बना सकते हैं। इस तरह हम इसे पूरी तरह से प्राकृतिक बना सकते हैं। इससे आप निश्चित कर पायेंगे कि यह
  • गैस्ट्राइटिस को रोकने या इसका इलाज करने के लिए आपको दिन में सिर्फ 3 कप दही की ज़रूरत होती है।

जई (Oats)

ओट्स आसानी से उस सूजन और हार्ट बर्न का इलाज कर सकता है जो गैस्ट्राइटिस से होती है। इसके अलावा उनके घुलनशील फाइबर की बदौलत आपके शरीर के लिए इसके दूसरे कई लाभ भी हैं।

सामग्री

  • 1 कप ओट्स
  • 2 कप पानी

निर्देश

  • पानी को गर्म करें और फिर ओट्स को छह मिनट तक पकाएं
  • चीनी मिलाकर मीठा न करें
  • इसे सुबह नाश्ते के दौरान पीना चाहिए

इसे भी देखें: 3 अद्भुत स्वादिष्ट ओट्स रेसिपी

ऑर्गनिक शहद

गैस्ट्राइटिस के लिए हमारे इलाज की लिस्ट में आख़िरी नुस्खा ऑर्गनिक शहद है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इसमें ऐसे गुण होते हैं जो हार्ट बर्न को कम करने में मदद करते हैं। इसके अलावा यह आपके गैस्ट्रिक म्यूकस को ठीक करने और उसके लक्षणों को रोकने में मदद करता है

सामग्री

  • 1 कप पानी
  • 2 या 3 टेबल स्पून ऑर्गनिक शहद

निर्देश

  • एक कप पानी गर्म करें, लेकिन उतना ही जिससे यह पीने लायक रहे।
  • शहद डालें, अच्छी तरह मिलाएं और इसे पियें।

हम नाश्ते के समय के इलाज के रूप में इसकी सिफारिश करेंगे।

  • Rugge, M., Pennelli, G., Pilozzi, E., Fassan, M., Ingravallo, G., Russo, V. M., & Di Mario, F. (2011). Gastritis: The histology report. Digestive and Liver Disease. https://doi.org/10.1016/S1590-8658(11)60593-8
  • Lane, E. P., Miller, S., Lobetti, R., Caldwell, P., Bertschinger, H. J., Burroughs, R., … van Dyk, A. (2012). Effect of diet on the incidence of and mortality owing to gastritis and renal disease in captive cheetahs (Acinonyx jubatus) in South Africa. Zoo Biology. https://doi.org/10.1002/zoo.20431
  • Vieth, M., Neumann, H., & Falkeis, C. (2014). The diagnosis of gastritis. Diagnostic Histopathology. https://doi.org/10.1016/j.mpdhp.2014.03.011
  • Wilcox, C. M., Muñoz-Navas, M., & Sung, J. J. Y. (2010). Estómago. In Atlas de Endoscopia Gastrointestinal. https://doi.org/10.1016/b978-84-8086-327-8.50003-3