6 प्रभाव जो चिंता और एंग्जायटी से आपके शरीर पर पड़ते हैं

10 फ़रवरी, 2019
क्या आप नियमित रूप से चिंता और एंग्जायटी से पीड़ित रहते हैं? यदि इससे ठीक से नहीं निपटा गया तो यह जीवन पर गहरा असर डालने वाले शारीरिक लक्षण पैदा कर सकता है। यह ज़रूरी है कि समस्या की जड़ पर चोट की जाए और अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखा जाए।

वैसी चिंता या एंग्जायटी का आपके शरीर पर कोई गंभीर असर नहीं होता है, जो कुछ घंटों या दिनों तक चलती है और किसी किस्म की विशेष चिंता या थोड़े समय की तनावपूर्ण चुनौती का नतीज़ा होती है।

हालांकि जब यह एंग्जायटी लम्बे समय तक बनी रहती है और इसका कोई सही प्रबंध नहीं किया जाता है, तो इसका मनोवैज्ञानिक असर होता है। इसका आपकी सेहत पर ऐसा असर हो सकता है जिनके बारे में शायद आप अनजान हों।

आज हम आपकी छिपी हुई एंग्जायटी को नजरअंदाज करने से होने वाले हानिकारक स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में बात करना चाहते हैं।

1. फ़ैली हुई पुतलियाँ (Dilated pupils)

यह पुतलियों का वह फैलाव है जो रोशनी के रिएक्शन में नहीं है। यदि आप गंभीर एंग्जायटी से पीड़ित हैं, तो यह लक्षण किसी छिपी हुई समस्या का संकेत है जिसे समझने और इलाज करने की ज़रूरत है।

फ़ैली हुई पुतलियों का अर्थ है कि आप अलर्ट की स्थिति में हैं।

जब आपकी एंग्जायटी काफी बड़ी हुई हो तो इस असामान्य लक्षण का अनुभव करना आम बात है। इस कारण आपको चक्कर आने से लेकर आस-पास अजीबोगरीब रोशनी देखने तक कुछ भी अनुभव हो सकता है।

2. निगलने में तकलीफ़

खाने या पीने के दौरान भोजन को निगलने में होने वाली परेशानी एक अन्य आम लक्षण है।

इस लक्षण को डिस्फैजिया (dysphagia) कहते हैं। यह एंग्जायटी का साफ़ संकेत है। यह आपकी लार पैदा करने वाली ग्रंथियों से जुड़ा है।

यह न भूलें कि चिंता का एक बहुत ही ठोस उद्देश्य है: आपको पलायन करने के लिए तैयार करना।

इसलिए आपके शरीर का प्राथमिक लक्ष्य आपकी मांसपेशियों को सहयोग देने के लिए तरल पदार्थों को शरीर में रोके रखना है, क्योंकि आपकी मांसपेशियां ही आपको भागने में मदद करेंगी। इसके अलावा, पसीना तैयार करने के लिए तरल पदार्थ की आवश्यकता होगी।

अगर एंग्जायटी के कारण आपके मुंह में लार नहीं है, तो भोजन को चबाना और इसे निगल पाना मुश्किल हो जाता है।

3. सिरदर्द

चिंता आपके शरीर की सभी नसों और धमनियों को एक बहुत ही विशिष्ट कारण से सिकुड़ने के लिए तैयार करती है: आपकी मांसपेशियों में ज्यादा खून भेजने के लिए।

आपका ब्लड सर्कुलेशन तब तेज हो जाता है और इससे वाहिका संकीर्णन (vasoconstriction) को बढ़ावा मिलता है, जिससे आपको आम सिरदर्द का अनुभव होता है

इस तरह का सिरदर्द दिन के शुरुआती कुछ घंटों और दोपहर बाद होना सबसे आम है।

इसे भी पढ़ें: हमें सिरदर्द के बारे में चिंता कब शुरू करनी चाहिए?

4. जबड़े का दर्द (Jaw pain)

एंग्जायटी और स्ट्रेस शरीर के कुछ ख़ास हिस्सों में दूसरे अंगों के मुकाबले ज्यादा उभरते हैं। बेशक हम गर्दन, कंधे, पीठ और जबड़े की बात कर रहे हैं।

यदि आप जबड़े में दर्द महसूस करते हैं जो सुबह सबसे ज्यादा होता है और आपके कानों तक जाता है, तो आप शायद स्ट्रेस से पैदा हुए ब्रक्सिज्म से पीड़ित हैं। दूसरे शब्दों में, आप रात को तनाव और चिंता के कारण अपने दांत पीस रहे होते हैं।

आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए, क्योंकि जहाँ एक माउथपीस से मदद मिल सकती है, तो भी आपकी चिंता के मूल कारणों में जाना सबसे अच्छा है, जिससे आप इसे ठीक से प्रबंधित कर सकें

5. सामान्य से ज्यादा बार बाथरूम जाना

यह कभी न कभी हम सबके साथ होता है: आप ऐसी स्थिति में आते हैं जब चिंता होती है, जैसे किसी परीक्षा या नौकरी का इन्टरव्यू और आपको कई बार बाथरूम जाना पड़ता है

यह आम है, लेकिन दिलचस्प तथ्य यह है कि जब आप चिंतित होते हैं, तो आपके गुर्दे वास्तव में कम यूरिन तैयार करते हैं। क्यों? जिस कारण से हमने अभी उल्लेख किया है: आपका शरीर आपकी मांसपेशियों के लिए तरल पदार्थ को बचा कर रखने की कोशिश कर रहा है।

लेकिन ज्यादा तेजी से पलायन कर पाने में सक्षम बनाने की कोशिश में आपका ब्रेन आपके शरीर को बाथरूम जाने और यूरिन का त्याग करने के लिए कहता है कहता है, भले ही आप पर्याप्त रूप से बाथरूम जा चुके हैं, और अब जाने पर महज “कुछ बूँदें” ही निकलती हैं।

6. एक स्वप्निल, सरीअल अहसास (surreal feeling) : यह अहसास कि आपके चारों ओर मौजूद तमाम चीजें वास्तविक नहीं हैं, या आप जो कुछ देख रहे हैं, आप उसके अंग नहीं हैं

यह अजीब लग सकता है, लेकिन यदि आप गहरी एंग्जायटी या स्ट्रेस के दौर से गुज़रे हैं तो आपको पता चल जाएगा कि हम किस बारे में बात कर रहे हैं।

जब आपको यह साफ़ अनुभव होता है कि आपके आसपास जो कुछ है, वह वास्तविक नहीं है। यह दुनिया को बाहर से देखने जैसा है और महसूस करना है जैसे आप उसमें नहीं हैं।

यह क्यों होता है? खैर सबसे पहले, यदि आपके साथ ऐसा होता है, तो आपको अपने डॉक्टर को बताना चाहिए।

गहरी चिंता आपके फेफड़ों पर असर डालती है। आप तेजी से सांस लेते हैं, और जब बहुत अधिक ऑक्सीजन इकठ्ठा होता है, तो आप आमतौर पर आप दो बातों का अनुभव करते हैं: पहला हाइपरवेंटिलेशन है, और दूसरा इस वास्तविक भावना को

आपका मस्तिष्क स्थिति को ठीक से विश्लेषण नहीं कर रहा है और सनसनी का कारण बनता है।

निष्कर्ष के तौर पर, आपने शायद पहले भी इनमें से कम से कम एक लक्षण का अनुभव किया हो। अगर यह एक या दो बार हो तो इसमें कोई समस्या नहीं है, लेकिन यदि वे आम तौर पर और बार-बार हो रहे हैं तो यह खतरनाक हो सकता है।

मदद लें, अपने डॉक्टर से बात करें और अपनी एंग्जायटी से निपटें

  •  Gray, J. A. (1985). The neuropsychology of anxiety. Issues in Mental Health Nursing7(1–4), 201–228. https://doi.org/10.3109/01612848509009455
  • Keil V, Hepach R, Vierrath S, Caffier D, Tuschen-Caffier B, Klein C, et al. Children with social anxiety disorder show blunted pupillary reactivity and altered eye contact processing in response to emotional faces: Insights from pupillometry and eye movements. J Anxiety Disord. 2018;
  • Martínez Lemus H, Núñez Orozco L. Manifestaciones pseudoneurológicas de los trastornos somatomorfos. Rev Mex Neurocienc. 2005;
  • Lai HH, Rawal A, Shen B, Vetter J. The Relationship Between Anxiety and Overactive Bladder or Urinary Incontinence Symptoms in the Clinical Population. Urology. 2016;98:50–57. doi:10.1016/j.urology.2016.07.013