एप्पल साइडर विनेगर और बेकिंग सोडा से नाखूनों के फंगस का इलाज करें

18 सितम्बर, 2019
क्या आप जानते हैं, नाखूनों के फंगस का इलाज एप्पल साइडर विनेगर और बेकिंग सोडा से किया जा सकता है। इस आर्टिकल में जानिये कैसे!

कई ट्रीटमेंट हैं, जो जटिल होने से पहले ही नाखूनों के फंगस से लड़ने में मदद करते हैं। डर्मोफाइट्स या यीस्ट की अत्यधिक ग्रोथ इस समस्या का कारण बन सकती है।

आमतौर पर नाखूनों के फंगस  बहुत गंभीर नहीं होते हैं, लेकिन ये नाखूनों के रूप-रंग और आकार को बदल सकते हैं। नेल फंगस का मुख्य कारण गंदे फर्श या जूते जैसी गंदी चीजों के संपर्क में आना होता है।

लेकिन यह कमजोर रोग प्रतिरोधी क्षमता और अत्यधिक पसीने के कारण भी हो सकता है। हालांकि शुरू में किसी का ध्यान इधर नहीं जा सकता, पर फंगल इन्फेक्शन नाखूनों को कुछ दिनों के भीतर पीली रंगत दे सकता है। इसके साथ ही नाखून लगभग हमेशा ही कमजोर और टूटने लगते हैं।

इन विकल्पों में से एक है नेचुरल एप्पल साइडर विनेगर और बेकिंग सोडा। ये दो एंटी फंगल एजेंट बिना किसी अवांछित साइड इफ़ेक्ट के बिना रिकवरी तेज कर सकते हैं

आगे हम आपको इस ट्रीटमेंट के फायदों के बारे में बताएंगे और आप इसे घर पर आसानी से कैसे बना सकते हैं।

एप्पल साइडर विनेगर और बेकिंग सोडा : नाखूनों के फंगस का इलाज करने के लिए एक नेचुरल ट्रीटमेंट

एप्पल साइडर विनेगर और बेकिंग सोडा नाखूनों के फंगस का इलाज करने के लिए एक नेचुरल ट्रीटमेंट है। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह ट्रीटमेंट माइक्रोऑर्गनिज्म के विकास को रोकता है। यह नाखून को कमजोर पड़ने, पीले पड़ने या बेरंग होने से भी रोकता है।

किसी भी फंगल इन्फेक्शन को रात भर में ठीक नहीं किया जा सकता है, लेकिन इस ट्रीटमेंट का उपयोग रेगुलर करने से आपके नाखून टूटने से बचेंगे।

साफ़-सफ़ाई की अच्छी आदतों को बनाए रखने के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है। साफ़-सुथरा स्वच्छ शरीर उस एनवायरनमेंट को खत्म करता है जो फंगस की बढ़त के लिए ज़रूरी है

एप्पल साइडर विनेगर के फायदे

एप्पल साइडर विनेगर से नाखूनों के फंगस का इलाज

सेब फर्मेंट होकर एप्पल साइडर विनेगर बनाता है। इस प्रक्रिया में वे स्वस्थ बैक्टीरिया और यीस्ट छोड़ते हैं, जिनका विशेष रूप से अम्लीय स्वाद होता है। वे एंटी-फंगल और एंटी बैक्टीरियल गुण भी पैदा करते हैं जो आपके शरीर की रक्षा करने में मददगार है।

  • इसमें मैलिक एसिड (malic acid) और एसिटिक एसिड, दो एल्केलाइन पदार्थ होते हैं जो यीस्ट इन्फेक्शन को रोकने में मदद करते हैं।
  • नियमित लगाने से यह उस वातावरण को खत्म करता है जिसकी ज़रूरत फंगस को बढ़ने के लिए ज़रूरत होती है। इस तरह यह इन्फेक्शन को समाप्त करता है।
  • इसमें बायोफ्लेवोनॉइड्स, विटामिन, मिनरल और फाइबर की अच्छी मात्रा भी मौजूद है। ये तत्व आपकी त्वचा की सेहत को फायदा पहुंचाते हैं।

इसे भी पढ़ें : नेचुरल रेसिपी जो ख़त्म करेगी नाखूनों की फंगस

बेकिंग सोडा के फायदे

बेकिंग सोडा एक नेचुरल प्रोडक्ट है जो कुकिंग, घर और औषधीय ज़रूरतों के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

  • इसके एंटीसेप्टिक, एल्केलाइन और एंटीमायोटिक (antimycotic) गुण कई तरह के बाहरी और अंदरूनी इन्फेक्शन पर काबू पाने की सुविधा देते हैं।
  • इसे ऊपरी तौर पर लगाने से यह स्किन पर जमी मृत कोशिकाओं को हटाता है। यह नाखूनों को संक्रमित करने वाले फंगस की बढ़त को भी रोकता है।
  • यह त्वचा के पीएच लेवल को रेगुलेट करने के लिए आदर्श है। यह अत्यधिक पसीना और अन्य स्थितियों को भी कम करता है जो फंगस और बैक्टीरिया की बढ़त को सुविधाजनक बनाते हैं
  • इसके चमकाने वाले गुण नाखूनों के प्राकृतिक रंग को बहाल करने और उस अवांछित पीले या भूरे रंग की आभा को कम करने में मदद करते हैं।

इसे भी पढ़ें : 5 तरीके: बेकिंग सोडा से अपना pH लेवल कंट्रोल करने के

नाखूनों के फंगस से मुकाबले के लिए नुस्खा कैसे तैयार करें

नाखूनों के फंगस से मुकाबले के लिए नुस्खा कैसे तैयार करें

आप दो आसान स्टेप में एप्पल साइडर विनेगर और बेकिंग सोडा का नुस्खा बना सकते हैं:

  • सबसे पहले सिरके को सीधे नाखूनों पर लगाएं
  • फिर कुछ मिनट बाद एंटी-फंगल ट्रीटमेंट का असर बढ़ाने के लिए बेकिंग सोडा लगाएं।

सामग्री

  • 6 कप पानी (1.5 लीटर)
  • ½ कप एप्पल साइडर विनेगर (125 मिलीलीटर)
  • 7 ½ बड़े चम्मच बेकिंग सोडा (75 ग्राम)

तैयारी

  • पानी को तब तक गर्म करें जब तक कि यह आपकी त्वचा के लिए एक सहनीय तापमान तक न पहुँच जाए। फिर एप्पल साइडर विनेगर डालें।
  • अपने पैरों को लिक्विड में डुबोएं और 15 मिनट तक रहने दें। बाद में इन्हें अच्छे से सुखा लें।
  • एक्सफोलिएटिंग मसाज करते हुए बेकिंग सोडा को लगाएं
  • बेकिंग सोडा को सीधे अपने नाखूनों पर रगड़ें। इसे 15 मिनट के लिए काम करने के लिए छोड़ दें।
  • पैरों को गर्म पानी से धोकर सूखा लें।
  • प्रभावित नाखूनों के रंग-रूप में सुधार करने के लिए यह ट्रीटमेंट हर रात दोहराएं।

याद रखें, भले ही यह नुस्खा नाखूनों के फंगस से लड़ सकता है, पर इसे महज एक बार लगाने से आपको कोई परिणाम नहीं मिलेगा

इस नुस्ख़े के मामले में रेगुलर होना ज़रूरी है। यह फंगस को एक एसिड एनवायरनमेंट उपलब्ध कराता है और पूरी तरह उन्हें नष्ट करने की सुविधा देता है।

  • Piraccini BM, Alessandrini A. Onychomycosis: A Review. J Fungi (Basel). 2015;1(1):30–43. Published 2015 Mar 27. doi:10.3390/jof1010030
  • Elewski BE. Onychomycosis: pathogenesis, diagnosis, and management. Clin Microbiol Rev. 1998;11(3):415–429.
  • Mas, A., Troncoso, A. M., García-Parrilla, M. C., & Torija, M. J. (2015). Vinegar. In Encyclopedia of Food and Health. https://doi.org/10.1016/B978-0-12-384947-2.00726-1
  • Lookabill, S. K., Dulaney, A. R., Shepherd, G., & Kerns, W. P. (2017). Sodium bicarbonate. In Critical Care Toxicology: Diagnosis and Management of the Critically Poisoned Patient. https://doi.org/10.1007/978-3-319-17900-1_169