9 हैरतंगेज़ फायदे, इनके लिए ज़्यादा मात्रा में सेलरी का सेवन करें

9 हैरतंगेज़ फायदे, इनके लिए ज़्यादा मात्रा में सेलरी का सेवन करें

आखिरी अपडेट: 23 अक्टूबर, 2018

अपने थोड़े ‘अलग’ स्वाद के बावजूद, सेलरी को अपनी खुराक में शामिल कर लेने से आपकी सेहत तो सुधर ही जायेगी, आप कई बीमारियों से भी बचे रहते हैं।

हम सभी को ज़्यादा से ज़्यादा सेलरी खानी चाहिए। इस सब्जी का स्वाद तरोताज़ा कर देने वाला है, और इसके इतने पौष्टिक फायदे हैं कि हमें इसे अपने रोजमर्रा की डाइट में ज़रूर शामिल करना चाहिए।

अच्छी बात यह है कि सेलरी को कई तरह से खाया जा सकता है। आप उसका सलाद भी बना सकते हैं, उसे जूस की तरह भी पी सकते हैं और क्रीम की तरह खा भी सकते हैं। यह स्वादिष्ट भी होता है और इसे खाकर आपका पेट भी भर जाता है।

पुराने ज़माने में इस सब्ज़ी का इस्तेमाल कई बीमारियों के इलाज में दवा के रूप में भी किया जाता था। लीवर, दिल, पाचन तंत्र आदि की समस्यायों में।

भले ही अकेले अपने दम पर यह आपको अपने दर्द से छुटकारा न दिला सके, पर यह आपके पूरे स्वास्थ्य के लिए यह बहुत फायदेमंद हो सकता है। इसे अपनी खुराक में ज़रूर शामिल करना चाहिए।

हम आपको अजमोद खाने के 9 फायदों के बारे में बताने जा रहे हैं। उनकी झलक आप अपनी सेहत में भी देख पाएंगे!

1. सेलरी में कम कैलोरी पर भरपूर पोषण

वज़न घटाना चाहते हैं तो सेलरी को अपने आहार में ज़रूर शामिल करें। इतनी कम कैलोरी वाली कोई और सब्ज़ी आपको शायद ही कोई मिलेगी।

  • इसमें पानी के अलावा कैल्शियम, सोडियम और मैग्नीशियम जैसे मिनरल भी  बड़ी मात्रा में मौजूद होते हैं।
  • इसमें विटामिन A, C, E, D, B6, B12 और K समेत कई विटामिन होते हैं।
  • इसमें एसेंशियल ऑयल, फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट भी होते हैं।

इन सभी चीज़ों की बदौलत सेलरी हमारे दिल की हिफाजत करने वाला एक कमाल का एंटीबैक्टीरियल, मूत्रवर्धक और गला साफ़ करने वाला टॉनिक होता है।

सेलरी से आप अपना वज़न भी कम कर सकते हैं

2. सूजन कम करने के लिए सेलरी का सेवन करें

हो सकता है, आप जोड़ों के दर्द से परेशान हो। आर्थराइटिस या फिर मांसपेशियों की आम ऐंठन से पैदा होने वाली सूजन काफ़ी असुविधा का सबब बनती है।

ऐसे में आपकी सेहत का अजमोद से अच्छा दोस्त और कोई नहीं होता

  • पौलीसेटायलीन (polyacetylene) की बदौलत अजमोद सूजन घटाकर हमारी मांसपेशियों के टिशू को आराम देता है। यह तत्व टॉक्सिन को बाहर करके रूमेटाइड आर्थराइटिस, ओस्टियोआर्थराइटिस और ओस्टियोपोरोसिस, गठिया, दमा और ब्रोंकाइटिस जैसी बीमारियों का इलाज करता है।

3. अजमोद आपको शांत करने में मददगार होता है

एक दिलचस्प, मगर कारगर बात तो यह है कि सेलरी में मौजूद सभी मिनरल्स में सबसे अहम मैग्नीशियम है। एसेंशियल ऑयल के साथ मिलकर यह मिनरल आपके नर्वस सिस्टम को रिलैक्स करके ट्रीटमेंट प्रक्रिया के दौरान आपको ज़्यादा आराम देता है

तो आज डिनर में स्वादिष्ट सेलरी सूप लेने के बारे में आपका क्या ख्याल है?

4. लजीज़ एल्केलाइन खाद्य (alkaline food)

निचोड़े जाने पर अजमोद में मौजूद कमाल के एल्केलाइन पोषक तत्व बाहर आ जाते हैं। यहाँ यह ध्यान रखना ज़रूरी है कि पकाते समय उनमें से ज़्यादातर खूबियाँ गायब हो जाती हैं।

इसलिए अजमोद की सभी खूबियों का फायदा उठाने के लिए या तो उसे कच्चा खाएं या फ़िर उसका जूस बनाकर लें।

सेलरी के पौष्टिक गुण

5. सेलरी से पाचन में सुधार

अपनी पाचन प्रक्रिया को आरामदायक बनाकर कब्ज़ से बचे रहने का एक अच्छा तरीका है सेलरी और गोभी का जूस बना लेना।

उनमें मौजूद मिनरल्स समेत कई एसिड और फाइटोन्यूट्रीएंट पेट में बनने वाली गैस को कम करने में सक्षम व पाचन-क्रिया में सहायक टॉनिक होते हैं।

6. आपकी नज़रों के लिए फायदेमंद

अजमोद खाने का एक और फायदा यह है कि आपकी आँखों के लिए यह बेहद फायदेमंद है।

इसका श्रेय उसके अंदर छिपे जादुई विटामिन, यानी विटामिन A को जाता है। रोज़ाना अजमोद का एक डंठल खा लेने से आपको इस विटामिन की अपनी रोज की ज़रूरत का 5% मिल जाएगा।

7. घातक कोलेस्ट्रॉल में कमी

अंग्रेज़ी में एल.डी.एल. के नाम से जाने जाने वाले “घातक” कोलेस्ट्रॉल को कम करने में अजमोद मददगार होता है। अजमोद में मौजूद 3-N-butylphthalide नाम का ख़ास फाइटोकेमिकल इसके लिए ज़िम्मेदार होता है।

अजमोद को उसकी ख़ास महक देने वाले इस पदार्थ की पहचान आसानी से की जा सकती है। तो मौका मिलते ही अजमोद पर टूट पड़ें। ऐसा करने का आपको कोई पछतावा नहीं होगा!

8. ब्लड प्रेशर कम करने वाला

अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर की परेशानी है और आपको समझ नहीं आ रहा कि उसे संतुलित कैसे रखें तो आपके लिए अपनी खुराक का ध्यान रखना बहुत ज़रूरी होता है। अजमोद ब्लड प्रेशर को कम करने में कारगर होता है। इसका श्रेय भी कोलेस्ट्रॉल को कम करने वाले 3-N-butylphthalide को ही जाता है।

बेहतरीन नतीजों के लिए न्यूट्रीशनिस्ट हर रोज़ सेलरी के दो डंठल खाने की सलाह देते हैं।

सेलरी खाकर अपने ब्लड प्रेशर को कम करें

9. कारगर एंटी-कार्सिनोजेन है अजमोद

हम सभी जानते हैं, आज की तारीख में ऐसी कोई चीज़ नहीं है जो कैंसर के विकास पर लगाम लगा सके। हाँ, एक पौष्टिक आहार लेकर आप उसके खतरे को कम ज़रूर कर सकते हैं।

अजमोद में दो तरह के बेहद ख़ास फ्लैवोनॉइड एपिजेनिन (apigenin) और लुटेओलिन (luteolin) होते हैं।

जर्नल ऑफ़ एक्सपेरिमेंटल एंड क्लिनिकल कैंसर रिसर्च  में छपे एक लेख के मुताबिक़ फेफड़ों पर असर डालने वाली कैंसर की कोशिकाओं का मुकाबला करने में ये दोनों एंटीऑक्सीडेंट एक दिलचस्प भूमिका निभाते हैं।

सेलरी का सेवन कर कैंसर के जोखिम को कम करें

अंत में, आपने देख लिया कि अजमोद का ज़्यादा से ज़्यादा मात्रा में सेवन करना किस तरह हमारे लिए फायदेमंद होता है

लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि अपना वज़न या कोलेस्ट्रॉल लेवल कम करने के लिए महज चुनिन्दा कुछ सब्ज़ियों, फलों और फाइबर पर आधारित डाइट का सेवन शुरू कर दें।

ज़रूरी यह है कि आप अपनी खुराक को सोच-समझकर संतुलित ढंग से बनाएं। जैतून के तेल और नट्स में मौजूद प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और फायदेमंद फैट से मुंह न मोड़ें।

यह आपकी रुचि हो सकती है ...
8 जादुई पौधे, ये घटाते हैं हाई ब्लड शुगर लेवल
स्वास्थ्य की ओरइसमें पढ़ें स्वास्थ्य की ओर
8 जादुई पौधे, ये घटाते हैं हाई ब्लड शुगर लेवल

आजकल हाई ब्लड शुगर से ग्रस्त होना आम है। इसका कारण अक्सर मीठे खाद्य पदार्थों का अत्यधिक सेवन और सामान्यतः एक असंतुलित आहार होता है।



  • Lee GY, Han SN. The Role of Vitamin E in Immunity. Nutrients. 2018 Nov 1;10(11):1614
  • Hedayati N, Bemani Naeini M, Mohammadinejad A, Mohajeri SA. Beneficial effects of celery (Apium graveolens) on metabolic syndrome: A review of the existing evidences. Phytother Res. 2019 Dec;33(12):3040-3053
  • Christodoulides S, Dimidi E, Fragkos KC, Farmer AD, Whelan K, Scott SM. Systematic review with meta-analysis: effect of fibre supplementation on chronic idiopathic constipation in adults. Aliment Pharmacol Ther. 2016 Jul;44(2):103-16.
  • Pan X, Yang Z, Yang Z, Zhou S, Zhang H, Zang L. [Effect of apigenin on proliferation and apoptosis of human lung cancer NCI-H460 cells]. Nan Fang Yi Ke Da Xue Xue Bao. 2013 Aug;33(8):1137-40.